मीडिया का एक बड़ा तबका नहीं मानता कि केजरीवाल उनसे ज्यादा काबिल हैं

Deepak Choubey : मीडिया का एक बड़ा तबका इस बात को ना तो मानने पर तैयार है और ना ही इसे पचा पा रहा है कि केजरीवाल उनसे ज्यादा काबिल हैं। बमुश्किल पांच फीसदी को छोड़ दीजिए तो सारे गूगल ज्ञान की गंगा में मंदाकिनी बने नहा रहे हैं। खुलासे करने वाले से जिरह ऐसे होती है जैसे क्राइम उसी ने किया है, लेकिन दुनिया की सबसे बड़ी डेमोक्रैटिक सरकार चला रहा सिस्टम उसे गलत नहीं साबित कर पा रहा।

अरविंद केजरीवाल से इंटरव्यू के दौरान सवालों को स्क्रू बनाने में वो जी जान लगा देते हैं, इनमें से किसी पत्रकार का लालू मुलायम मायावती राजा कलमाडी से इस तरह के इंटरव्यू और सवाल नहीं देखे सुने गए। हद तब हो गई जब एक पूर्व इनकम टैक्स कमिश्नर का टेस्ट कुछ चिरकुट सवालों से लिया जा रहा था। माइक-कैमरा ना हुआ बंदर के हाथ में उस्तुरा हो गया, भाई लोग सिविल सर्विसेज का कुछ शरम करो, उसे चोरी और बाप की पैरवी से पास नहीं किया जा सकता। हो सकता है कुछ दोस्तों के पेट में गैस का गोला उठे कि क्या एक परीक्षा ही काबलियत का पैमाना है तो कहना चाहूंगा बेशक नहीं, लेकिन क्या बकैती को पैमाना बना दें, या फिर आपके पास उसे चुनौती देने के लिए कुछ हो, सिवाय इसके कि आप कुछ सालों से खबरों को लिखते पढ़ते रहे हैं।

        Amit Mishra civil services ke alawa us bande ne IIT se B.Tech bhi kiya hai….usko underestimate karne wale khud hi maha bewkoof hai 🙂
 
        Ravi K Vaish 100 feesdee aggredddd…
 
        Mohammad Anas अरविन्द के बोल वचन ने ही आज उन्हें यहाँ ला पटका है ,अरविन्द केजरीवाल की काबिलयत पर कोई शक नही
   
        Ranjan Sahai Deepak sir ji ye padha likha fakeer shayad es baat me biswas rakhta hai ki…..
        खामोश मिज़ाजी तुम्हें जीने नहीं देगी
        इस दौर में जीना है तो कोहराम मचा दो !!!!!
    
        Shubhra Suman Agreed
     
        Chandra Mohan mujhe to hamesha se yeh soch rahi hai ki bandaron ke haath me ustura nahi thamana chahiye. Lekin Kejriwal ki interrogation ke peechhe bike hue patrakaron ki kheejh bhi dikhai deti hai. Subramanyam Swami is genius so he cant be browbeaten, so brilliant Kejri is being intimidated by HMV mediamen.
      
        Dhani Naresh @chandra Mohan – 'HMV mediamen' VERY NICE EXLPLANATION. His Master's Voice.
      
        Dhani Naresh दीपक जी, पत्रकार बिरादरी का मुग़ालता इतनी जल्द जाने वाला नहीं है. अब के दौर में माइक और कैमरा थामने वाले ज़्यादातर लोगों की खाल उतर चुकी है. इस कड़वी सच्चाई को क़बूल करने के लिए उन्हें कुछ और वक्त दिया जाना चाहिए.
      
        Kanika Sharma Deepak Chaubey sir, nothing can b more realistic approach to d typical Indian media than this. ur smwht rustic style adds lustre to d presentation of facts. most of d media persons in India r nothing but silly jerks. these shameless buggers carryin cameras n long roped mikes simply know nothing except being arrogant n nincompoop. i ve yet to see any such journo askin questions after doin prior homework. sm1 knowin them from close quarters in India has told me that many of them sell @rs.1k n a bottle of 'daaru'. there may b sm exaggeration but not much. n sorry to tell u, d gals (though oldish) in this profession ve often been found to be lose by character.
       
        Dinesh Mansera ch o2 ki jamaat hai ye
        
        Ajay N Jha पंडित जी। वो कहावत है न/ खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे/ मुगालता ही महानता का ऐसे नज़ारा उस दिन मैंने भी देखा और हैरान रह गया/
         
        Subodh Mundepi sahi hai deepak ji… again very impressive and very true thought. congrats
         
        Gaurav Arora bahut badiya deepak ji, thookta hoon main un sabhi reporters ke muh par jo kejriwal se aise sawaal karte hain, kya aukaat hai aise reporters ki yeh 10 saal media mein kaam karke pata chal gaya hai, kutta bhi nahi poochata enko agar yeh kahin khade ho j…See More
         
        Deepak Choubey Gaurav Arora,रिएक्शन देना आपका अधिकार है लेकिन शब्दों का चयन संतुलित होना चाहिए, आए दिन सारे लोग अपने बयानों से ही डूब रहे हैं, अगर आप फिट नहीं रहेंगे तो उनका नट कैसे टाइट करेंगे।
         
        Gaurav Arora sawaal bebaak rai dene ka nahi hai sir, mudda hai aise reporters ko aina dikha kar unki aukaat dikhane ka jo bas lunch ya dinner karne k liyai mantriyon k ghar par apni dum hilate rehte hain.


एनडीटीवी में कार्यरत पत्रकार दीपक चौबे के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *