मूर्ख काटजू को कौन समझाए कि ये तुलसी बाबा ने नहीं बल्कि रहीम खानखाना रचित है

Pankaj Jha : हे भगवान, हे भगवान, हे भगवान. अभी Markandey Katju को एनडीटीवी पर देख रहा हूं. बातचीत की शुरुआत ही उन्होंने इस शब्द से किया कि आज के वकील-पत्रकार पढ़ते ही नहीं हैं. यह बड़ी समस्या है. और इसके तुरंत बाद काटजू के शब्द थे, '' तुलसी ने रामायण में कहा है, क्षमा बड़न को चाहिए…." अब इस मूर्ख न्यायाधीश को कौन समझाए कि ये तुलसी बाबा ने नहीं बल्कि 'रहीम खानखाना' ने कहा है. अगर इसी दोहे को पढ़ लिया होता काटजू ने तो ऐसी मूर्खता करते. दोहा में ही वर्णित है ' क्षमा बड़न को चाहिए, छोटन को उत्पात, का 'रहीम' प्रभु को घट्यो ज्यों भृगु मारहि लात. 🙂 🙂

    Sonali Bose आँख के अंधे….नाम नैनसुख
 
    Madan Tiwary आज हीं मैने उनके ब्लाग पे जाकर के टिपण्णी की । पहले वे खुद तो पढे, उन्होने अनुच्छेद १६१ मे गवर्नर और्र राष्ट्रपति दोनो को एक माफ़ी का अधिकार प्रदान करने वाला बता दिया है। जबकि राष्ट्रपति को अनुच्छेद ७२ मे यह अधिकार है।
 
    Akhilesh Sharma hahahahaha……….जहां तक मुझे लगता है की काटजू की औकात मुन्सी की भी नहीं थी लेकिन किसी पार्टी विशेष के शय में इसने खूब तरक्की की! मैंने कई बार इसको सूना है लेकिन एक बार भी यह मुझे समझदार और वकील नहीं लगा! अगर यह कांग्रेस का पालतू नहीं होता तोह किसी लाइनमैन की तरह आती जाती ट्रेनों को झंडे दिखा रहा होता!
 
    Maithily Gupta मैं तो धूर्तों को मूर्ख कभी भी नहीं कहता,
 
    Dinesh Kumar Bissa Aaqil मौनं मार्कण्डेय{काटजू }स्य भूषणम् .अर्थात् मौन मूर्खों के लिए एक आभूषण है
   
    Sumit Mishra Desh ki vikash pr bahas honi chahiye
    
    Santosh Mishra ha ha ha akhir hai to congressi item………..
     
    Santosh Kr Singh हा… हा ..हा.. इतनी आशा काटजू से… ये अच्छी बात नहीं है
     
    Rajdeep Arya Great Congi A Team member & Co founder of ABhishek manu singhvi
     
    Pankaj Jha Yashwant Singh जी, Anil Singh जी.
     
    Saurabh Tripathi कटजुआ से ऐसी ही गदहपच्चीसी की उम्मीद थी ..
     
    Sheshnarayan Tiwari मनुष्य रूपेण मृगाःचरन्ति
     
    Saurabh Tripathi कटजूआ तो ''जॉली एलएल.बी.'' निकला …
    
    Mohmmad Mushtaq Patel ibn 7 par ii sahab baki sab ko galat aur khud ko logical bata rahe the
    sharm nahi aayi inko mujhe aa gai maine channel hi badal diya
     
    Pankaj Mishra ha ha ha ha !
     
    Vinay Pandey Kya sir ! is aadami ka naam lekar sara mood khrab kar diye ! ye baklol padhayi ke samay kancha khelta hoga aur class ke samay bahana markar school se bhag jata hoga. isane apane samay men na jaane kitane apradhiyon ko chhod bhi diya hoga. Par dhany hai hamare yahan ke electronic media , aise logon ko jutiane ke bajaye bar bar studio bula rahi hai. dono thukane ke layak hain. Chhi !!
     
    Vinay Pandey  Katju ka thethrology ————Katju wrote, I have read the views of those criticizing me for appealing to the Governor of Maharashtra to pardon Sanjay Dutt under Article 161 of the Constitution. While I respect the right of every one to hold his view, I have this to say in response (1) I have never sought popularity, and I have often expressed views which I knew would make me very unpopular. I regard populism as a form of vulgarity, and will say what my conscience tells me.(2) My reasons for appealing for Sanjay Dutt's pardon are given in my letter to the Governor, and hence I am not repeating the same

पंकज झा के फेसबुक वॉल से.


Shambhunath Shukla : एनडीटीवी की कांदबिनी शर्मा से बातचीत करते हुए जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने कहा कि वकीलों ने धारा १६१ पढ़ी ही नहीं होगी। जस्टिस काटजू साहित्य प्रेमी हैं। उन्होंने कानून की पढ़ाई के अलावा साहित्य भी पढ़ा है इसीलिए उन्होंने शेक्सपियर की रचना मर्चेंट ऑफ वेनिस का उदाहरण दिया। इसी के साथ उन्होंने रामचरित मानस का उदाहरण देते हुए कहा कि गोस्वामी तुलसीदास ने लिखा है- क्षमा बडऩ को चाहिए। काटजू साहब से माफी मांगते हुए कहना चाहूंगा, मी लार्ड! यह दोहा तुलसीदास का नहीं अब्दुर्रहीम खानखाना का है। और पूरा दोहा है-
छिमा बडऩ को चाहिए, छोटन को उत्पात।
कहि रहीम हरि का घट्यो जो भृगु मारी लात।।
पढऩे लिखने की परंपरा का नाश हर स्तर पर हुआ है। यूं मी लार्ड मैं कभी भी साहित्य का विद्यार्थी नहीं रहा और न ही मेरी पढ़ाई बहुत एकेडेमिक है।

    Ramesh Bhangi gooooooooooooooooood
 
    Siddharth Manu ha ha ha ha Great mamaji………
 
    Siddharth Manu Vese Mama ji! ek baat batayiye k Chief Medical Officer hone ke liye Doctor hona jaruri hai, to Press council ka chairman hone ke liye Journalist hona kyo nahi?, Disability welfare officer hone ke liye Disability Expert/ Rehab Expert kyo nahi? aise he na jane kite post hai….
   
    Dheeraj Sangat jjitno ko inhhone sazza di h unko vvapas muukt karva sakte h nahi to inke jjutte padna chhahiye
    
    Siddharth Manu me too never like this person, its appearing that he is the agent of Congress Party, n behave like congresy…..
     
    रोहित यादव good ye maara nahle par dahla
     
    Raj Kumar THANK SHAMBU NATH JI
     
    Arun Tripathi katju gyan ke rend hain aur ve yahan isliye pooje ja rahe hain kyonki patrkarita aur visheshkar hindi ko briksh vihin hamin logon ne kiya hai . par shambhuji aap ka javab nahin, aap ne kathit taur par padhe likhe ki niraksharta pakad hi li
 
    Ratnesh Pathak Main Sab comments paddhe aur aapka lekhan ka painapan Bhi dekha . Saadhwaad .
 
    Niranjan Sharma jordar…!!!
   
    Sudhanshu Tripathi gajab,, sir gajab
    
    Arvind Kumar Shukla sir! aapke lekhan ka to mai hamesha kayal raha hu!
    par aapke is vyang vidha se ab vakif hua!

वरिष्ठ पत्रकार शंभूनाथ शुक्ला के फेसबुक वाल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *