मैं आप की सपोर्टर नहीं, लेकिन आज बहुत आहत हूं…

Pashyanti Shukla :  मैं आप की सपोर्टर नहीं…लेकिन आज बहुत आहत हूं… वाकई में offence is the best defense… दो हफ्ते बाकी है चुनाव में..ये तो होना ही था..लेकिन गलती किसकी है..कांग्रेस बीजेपी की या फिर इंडिया न्यूज़ की शायद किसी की नहीं ..सब अपना अपना काम कर रहे थे तुम्हारी गलती है कि तुम अपना नहीं दूसरों का काम कर रहे थे…दूसरों के काम में दखलअंदाज़ी कर रहे थे…लो बेटा अब भुगतो.

चले थे राजनीति को साफ करने अपने ही सफाए से बचने की क्या तैयारी की थी…देख रहे थे कैसे स्टिंग का फंडा अपना डंडा बजा रहा था..कभी आज़म पे तो कभी मोदी पे..फिर तुम कैसे बच जाते…? और बीड़ा उठाओ राजनीति की गंदगी साफ करने का ऐसा ही होगा….किसने कहा है कि सिस्टम का हिस्सा बनकर सिस्टम को बदला जा सकता है..ये एक मिथ है ऐसा कुछ नहीं होता…पिताजी की बात याद आ गई जो हमेशा कहा करते हैं कि कोई सिस्टम का हिस्सा बनकर सिस्टम को नहीं बदल सकता….देहरादून की गाड़ी पकड़ोगे तो फिर या तो देहरादून ही जाओ अन्यथा उतर जाओ उसे मोड़कर गुवाहटी नही पहुंचा दोगे…

फिर इसमे नया क्या है…अब तुम अपने लिए रचे गए चक्रव्यूह से निपटो सारी ऊर्जा वहां लगाओ…सफाई देते रहो…unedited tapes मांगते रहो..कौन सुनेगा तुम्हारी…गलाफाड़ एंकरों की आवाज़ों में तुम्हारी आवाज़ कौन सुनेगा..और अगर सुन भी लेगा तो उसे जनता तक कौन पहुंचाएगा..या अब इसके लिए एक नया 'आम आदमी चैनल खोलोगे'?

ये राजनीति है भाई जहां सब जायज़ है…तुम अपने ही दंगल में उलझते रहो तब तक 4 तारीख आ जाएगी…वोटिंग का दिन और हमारे जैसे कुछ लोगों की विचारधारा में जो सेंध मारी है ना तुमने ये बाकी पार्टियां तब तक भर देंगी. ..तुम सच्चे निकले तो फिर दिल टूटेगा कि राजनीति कितनी गंदी हो सकती है..गंदगी का क्या प्रतिमान हो सकता है…और अगर भगवान न करे तुम्हारे में ही कोई खोट हुआ तो फिर उन ऑटो रिक्शा वालों को, उस सब्ज़ी वाले को, उस सड़क किनारे जूते जोडने वाले को या फिर उन युवाओं को कौन समझाएगा उन दांव पेंचों को …जिन्हे तुम खुद ही नहीं समझ पाए..फिर बोलो किसका दिल नहीं टूटेगा..जब मेरा मन मुरझा रहा है..वो मन जो सिर्फ कमल के खिलने से ही आजतक खिलता रहा है.. वाकई में आज बहुत आहत हूं बहुत ज्यादा..

युवा पत्रकार पश्यंती शुक्ला के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *