मैं सुधीर चौधरी को रेपकांड के पीड़ित और गवाह के इंटरव्यू पर बधाई देता हूं : दीपक शर्मा

Deepak Sharma : सच का सामना… पत्रकारिता की गरिमा और साख गिराने के आरोप सुधीर चौधरी पर लगते रहे हैं. मर्यादाओं को टेलिविज़न स्टूडियो के ताक पर रख कर उन्होंने कई ख़बरों को स्क्रीन पर उतारा है, ऐसे इलज़ाम भी उनके सर हुए हैं. कुछ लोग जो उनकी भव्यता और ऊँचे ओहदे से जलते हैं वो उनका नाम पत्रकारिता की दलाल सूची में भी शुमार करते हैं. कुछ तो लोग कहेंगे. लेकिन मैं सुधीर चौधरी को बलात्कार कांड के पीड़ित और गवाह के इंटरव्यू पर उन्हें बधाई देता हूँ.

ज़मानत पर तिहाड़ से लौटे सुधीर ये जानते थे कि इस चश्मदीद का इंटरव्यू अगर वो ब्राडकास्ट करेंगे तो उन पर कानूनन एक और मुकदमा ठोका जायेगा. लेकिन इस बार उन्होंने सच को सामने लाने के लिए कानून को ताक पर रख दिया. सच के साथ आखिरकार खड़े होने पर सुधीर का कद बड़ा है. बहरहाल एक बहस छिड गयी है बाजार में. क्या मर्यादाएं भंग करने के पीछे TRP का खेल है? तो कुछ सवाल शिष्टाचार और संवेदनाओं से बिंधे गए है?

बड़े पत्रकारों का कहना है कि मीडिया संस्थानों के दिशा-निर्देश और बलात्कार के मामलों पर रिपोर्टिंग के नियम तोड़कर सुधीर ने दुस्साहस किया है. पर मेरी नजर में ये दु्स्साहस सच को सामने लाने के लिए वाजिब है. पीड़ित के इंटरव्यू से सुधीर ने ये ज़ाहिर कर दिया है कि हादसे की रात पुलिस ने भी बलात्कार की शिकार लड़की के साथ कोताही बरती. लड़की का इलाज़ भी शुरुआती दिनों में ठीक नही हुआ. सुधीर की इस जोखिम भरी कोशिश ने दिल्ली पुलिस को नंगा कर दिया है. वो जोखिम जिससे बाहर निकलने के लिए शायद बाकी पत्रकार तैयार नही थे. बहरहाल सुधीर साहब की बदली हुई शख्सियत पर एक शेर अर्ज है… फूल तो फूल कांटो से भी खुशबू जागे.. तुम कभी अपने ख्यालात बदलकर देखो..

Yogesh Bajpai Sudhir Jee, please continue we are with you.

Harishankar Shahi इस बार के मुक़दमे में मोमबत्तीबाज़ भी साथ में होंगे और हाथ मलते हुए लोकतंत्र पर हमला बताने पर भी कोई विरोध नहीं होगा.
 
शशांक शेखर उमा खुराना फर्जी स्टिंग…पर क्या कहना है…
 
Nirmal Kumar हिंदुस्तान के "हीरो" को zee news पर जनता के सामने लाने के लिए इस चैनल को साधुवाद, आशा है कि हिंदुस्तान के "विलेन" को भी बेपर्दा करेंगे …मेरा "विलेन" से तात्पर्य उन बलात्कारियों से नहीं बल्कि मानसिकता और व्यवस्था तथा सरकार से है …
 
आदर्श तिवारी waaaaaaaaaaaah क्या खूब फरमाएं हैं हजूर —-फूल तो फूल कांटो से भी खुशबू जागे ………/तुम कभी अपने ख्यालात बदलकर देखो……
 
शिशिर जैन आपने हमारी भावनायों को सटीक शब्द दिए है दीपक जी,सुधीर जी बधाई के पात्र हैं।
 
Vandana Jha best of luck to him
 
Yogesh Bajpai Corrupt Congress/ Fake Gandhies ne Late prime Minister Lal Bahdur Shasti jee ko bhi unke Dehant/murder ke bad defame karne ki koshish ki thi, Sudhirr je to bahut chhote hai shastri jee ki banisbat. Corrupt congress ka 1 principle hai "desh par raj karna" kisi bhi kimat par' such ka gala ghot karke.
 
Shyam Sunder Singh शशांक शेखर जी कुछ खबरों को हम सिर्फ विश्वाश पर चलाते है ऐसे में अगर कोई…तो आप क्या कर सकेंगे उमा खुराना कांड में सुधीर सर की कोई गलती नहीं थी …दूसरों पर दोषा रोपन वहुत आसान काम हैं…
 
माधवेन्द्र सिंह तोमर sach saamne laana hi chahiye.. bahut sadhuwaad sudhirji ko
 
Amit Kumar Misra Jab Jaago..Tabh savera..Marishi Valmiki bhi kabhi Dacaiot they..Umeed karte hain ki sudhir chaudry aisa Sahaas dobara bhi karengey.Jai Hind..
 
Ashish Johari सुधीर जी ने सच मेँ एक साहसी कार्य किया वो भी विपरीत परिस्थितियोँ मेँ।
 
Neeraj Nakhate kuch galat nahi kiya ….?bas rajniti ke shkar ho gaye hai…
 
Sanjay Arora deepak ji very true, sudhirji looks bravehearted
 
Ashish Singh sudhir bhai ne kaafi prashsney kaam kiya hai par jo victim ladka hai wo kaafi dhire bol rha hai bina kisi josh*
khud ke sath aur ladki ke sath jo hua usse jyada chinta usko dusro ki hai*
netagiri type baat karta hai*
sidha demand kar ki CAPITAL PUNISHMENT do*
 
Sandeep Rawat Apni image sahi karne ki koshish ho sakti he jisme koi burai nahi. Unhone niyam tod ke interview dikhaya jis se desh ko sach pata chala. is se kuchh to asar hoga. sir sath me pidit ladke ki bhi prashansa karni chahiye. itna kuchh sahne k baad aur sahte hue bhi wo sab ke samne aaya, apni baat rakhi desh ka aam aadmi bhi kitna samjhdar he use dekh k pata chalta her
 
Mukul Shrivastava TRP का खेल…!!!
 
Pankaj Yadav SACHCHAI KO AGAR UNHON NE DUNIYAN KE SAMNE LAYA HAI TO ISME GALAT KUCHH V NAHIN HAI. AAM JANTA KI BHAVANAON KO BINA THES PAHUNCHAYE SACHCHAI DIKHANA YA BATANA KOI GALAT NAHIN.
 
Vijay Raaj Singh जो काम दूसरे छुप्पे रूप में करते है अगर सुधीर वो काम डंके की चोट पर करता है तो ग़लत क्या करता है, ग़लत तो वो है जो करते तो हर काम है लेकिन चोरी चुप्पे । सुधीर का कल का काम काबिले तारीफ़ है।
 
Pandit M K Upadhyay ये सरकार नग्न हो चुकी हैं और कहते हैं "नगों के नो गृह बलवान " इस मायने मैं कृपया सिधांतों, नैतिकता , मर्यादा ,मानवता इन सब बातों का अर्थ जनता के लिए हैं ! सरकार का इस से कोई सम्बन्ध नहीं हैं !
 
Sunil Sourabh sahi step
 
Mukul Shrivastava पुण्य प्रसून वाजपेयी कहाँ हैं..क्या इन दोनों पत्रकारों के जेल जाने के बाद जी न्यूज़ छोड़ दिया है…???
 
Ajay Sharma Deepak ji, Kudos
 
Pankaj Yadav SUDHIR JI KI TARAH AGAR HAR PATRAKAR SAHAS DIKHAYE AUR UN TAMAM JURM KO DUNIYAN KE SAMNE LAYE TO DESH KO SAHI DISA ME JANE SE KOI NAHIN ROK SAKTA.
 
Mani Printers मैं पहले से इस बात का पक्षधर हूँ की मीडिया अपना काम सही ढंग से करे तो देश तो देश देशवासी भी बदलेंगे उनके विचार बदलेंगे और लोग एक दुसरे की मदद को तत्पर रहा करेंगे बशर्ते मीडिया अपना काम बखूबी करे। इस बार ये काम चोधरी जी ने किया है निश्चित ही वे लाखों लाख बधाई के पात्र हैं जिन्होंने देश को एक कडवी सच्चाई से रूबरू करवाया। दिल्ली वासी भी अपने को पहचान पा रहे होंगे जो उस दिन उन बच्चों की मदद नहीं कर रहे थे और सिर्फ तमाशबीन बनकर चले गए वहां से और अब मोमबत्ती हाथ में लेकर प्रदर्शन मैं बाद चदकर हिस्सा ले रहे हैं … विशाल
 
Rajshekhar Malaviya नैतिकता और मर्यादा – इनकी नयी परिभाषा होनी चाहिए; क्यूंकि आज की पत्रकारिता बदलती चुकी है, न सिर्फ उसकी शक्ल और सूरत, बल्कि उसका पूरा वातावरण. ये इंटरव्यू होना आवश्यक था, और उसे दिखाना और भी आवश्यक.
 
Bhawna Chand जब फूल चुनने जाते है तो कुछ कांटे भी चुभते है …….फिर ये तो कांटो भरे सच में से फूल चुनने गए थे चोट लगनी तो लाज़मी है ……..heads of 2u sir…
 
Sunil Shukla Bahut Umda
 
Praveen Shrivastava सुधीर चौधरी बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई बधाई
 
Sc Mudgal khyaalaat badalne se kya unke vo sabhi aib khatm ho jaayenge jinhein log pasand nahin karte aur unki burai karte rahte hian arthaat inke karmon mein koi khot naihn sirf inki soch mein khot hai?? kyon deepak ji??
 
Ratno Rudra Congratulations to Sudhir Chaudary for bring this interview in public domain. Sacchai dab nahi sakti taqatwaron ki khauf se…
 
Praveen Shrivastava हम इंसान ढूंढ़ रहे हैं , दुनिया के बाजारों में , झाँकने की जुर्रत तक नहीं करते, अपने दिल के गलियारों में ,
एक चीर तक तो दे न सके , अपनी लाडली बेटी के उघडे बदन को, दोष दे रहे है सिस्टम को और खुद को बिठा रहे हैं खुद्दारों में ……प्रवीण श्रीवास्तव ' सोम्य '
 
Rajeev Saxena sach hai shaandar,jaandar kam
 
Budhi Prakash biki hui indian midia ka fir bhi kuch nahi ho sakata
 
DrPraveenkumar Jha Marketing ho raha hai sir TRP badhane ke liye, In fact SOCIAL MARKETING ki jarooratm hai ye communication sectors me
 
Akhouri Ashok पत्रकारिता-धर्म के निर्वहन मेँ श्री सुधीर चौधरी को जेल-यात्रा करनी पड़ी,इस बात से पीड़ा तो होती है लेकिन इस बात की ख़ुशी भी होती है कि अब भी ये तीसरा स्तम्भ पूर्णरुपेण क्षत विक्षत नहीँ हुआ है।सुधीर जी ऐसे लोग अपनी ज़िँदादिली,बहादुरी और साहस के साथ, चरमरा गये इस स्तम्भ को अपने कँधोँ पर उठाये खड़े हैँ।हम सुधीर बाबू के साथ उन तमाम पत्रकार बंधुओँ के प्रति ह्रदय से आभार व्यक्त करते हैँ जिन्होने पत्रकारिता धर्म का मान बचा रखा हैँ ।
 
Daljit Singh Sudhir ji, aap isi tarah honsale ke sath patrkarita jaari rakho , bilkul befikar hokar chahe wo Sonia ki aulad Naveen Jindal ki sachai logo ke samne lani pade, dabaav mein nahi aaiyega. Good job, keep it up.
 
Sudeep Shrivastava all ths fr TRP,nt be cnfsd,he ws nt behnd d bars fr his brvery,bt fr blckmlng,n ths is true tht mst of d jrnlsts r dng so,
N if he is a daring jrnlst why all r silent on Obaisi…
 
Guri Chauhan पत्रकारिता-धर्म के निर्वहन मेँ श्री सुधीर चौधरी को जेल-यात्रा करनी पड़ी,इस बात से पीड़ा तो होती है लेकिन इस बात की ख़ुशी भी होती है कि अब भी ये तीसरा स्तम्भ पूर्णरुपेण क्षत विक्षत नहीँ हुआ है।
 
Devendra Singh Rawat सर सबसे पहले BEA को बंद करवाइये… ये वो लोग हैं जो मीडिया की मंडी लगा रहे हैं… और तोम मोल करके क़ीमत लगाते हैं… इनकी मान्यता रद्द होनी चाहिए… कोई भी गुट मीडिया को अपनी तरह से मैनेज नहीं कर सकता… ये पूरी तरह से दलाली है…

आजतक में वरिष्ठ पद पर कार्यरत चर्चित पत्रकार दीपक शर्मा के फेसबुक वॉल से.


जी-जिंदल प्रकरण की सभी खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें-

zee jindal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *