मोदी को नसीहत

भाजपा के ‘पिृत पुरुष’ लालकृष्ण आडवाणी ने अपनी पार्टी के ‘ऊर्जावान’ नेता को नसीहत धर्म पढ़ाने की कोशिश की है। बुजुर्ग नेता ने यही कह दिया है कि उन्हें (नरेंद्र मोदी) कम से कम स्वतंत्रता दिवस के मौके पर व्यक्तिगत टीका-टिप्पणियों से बचना चाहिए था। हुआ यह कि प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने स्वतंत्रता दिवस पर लालकिले से भाषण दिया था। वे लालकिले से लगातार 10वें साल भाषण देकर एक रिकॉर्ड बना चुके हैं। लेकिन, इस भाषण के महज कुछ मिनटों बाद गुजरात के भुज से मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का एक जवाबी भाषण आ गया।

ऐसा भी नहीं है कि इन दोनों भाषणों का कोई महज संयोग रहा हो। भाजपा की तरफ से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बनने के लिए उतावले हो चुके मोदी ने इसकी पहले से तैयारी कर ली थी। उन्होंने एक दिन पहले ही मीडिया को बता दिया था कि लोग स्वतंत्रता दिवस पर दो भाषणों की तुलना करेंगे। एक भाषण लालकिले से होगा। जबकि, इस भाषण के कुछ देर बाद ही दूसरा भाषण भुज के लालन कॉलेज से होगा। ऐसा हुआ भी। प्रधानमंत्री ने यह बताया कि वैश्विक मंदी के बावजूद कैसे भारत की आर्थिक नीति संभल पाई है? उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि प्रगति की रफ्तार यही रही, तो अगले 10 सालों में देश तरक्की की लंबी छलांग लगा लेगा। यह जरूर है कि उन्होंने महंगाई और भ्रष्टाचार जैसे ज्वलंत मुद्दों का जिक्र नहीं किया।

दरअसल, यही दोनों मुद्दे मनमोहन सरकार की दुखती नस बन गए हैं। ऐसे में, शायद इन मुद्दों पर उनके पास कुछ कहने के लिए खास रहा भी न हो। प्रधानमंत्री का भाषण एक तरह से रस्मी था। दूसरी ओर, मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बाजीगीरी राजनीति के हुनर जमकर दिखाए। कई मुद्दों पर उन्होंने प्रधानमंत्री पर तीखे कटाक्ष कर डाले। एक खास परिवार (नेहरू-गांधी) की गणेश परिक्रमा के लिए उन्हें खूब कोसा। 2001 में गुजरात दंगों के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने मुख्यमंत्री मोदी को राजधर्म निभाने की नसीहत दी थी। अब 12 साल बाद भाजपा के दूसरे दिग्गज नेता ने नसीहतधर्म का पाठ पढ़ाया है। लेकिन, यहां तो ‘गुरुजी’ की नीयत पर ही पार्टी के अंदर सवाल उठने लगे हैं। भाजपा के लिए ये शुभ संकेत नहीं हैं।

लेखक वीरेंद्र सेंगर डीएलए (दिल्ली) के संपादक हैं। इनसे संपर्क virendrasengardelhi@gmail.com के जरिए किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *