युवा पत्रकारों को अपने अधिकार का ज्ञान होना चाहिए : केजरीवाल

नई दिल्‍ली : अगर समाज को परिवर्तित करना है तो हमें राजनीति के अंदर जाना होगा, क्योंकि सिस्टम में रहकर ही सिस्टम को बदला जा सकता है सिस्टम से बाहर आकर नहीं। यह बात बीएलएस तकनीकी एवं प्रबंधन संस्थान (गुरु गोबिंद सिंह इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय से सम्बद्ध) के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग द्वारा आयोजित ‘‘मीडिया कन्क्लेव- मीडिया एज ए केटेलिस्ट ऑफ सोसायटी’’ के दौरान बतौर मुख्य अतिथि अरविन्द केजरीवाल, सामाजिक कार्यकर्ता एवं अध्‍यक्ष आम आदमी पार्टी ने सभी संस्थानों से आए हुए पत्रकारिता के शिक्षकगणों व विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि मीडिया समाज का आईना है। आज मीडिया समाज को समाज का ही रूप तो दिखा रही है, लेकिन कहीं ना कहीं अभी भी सकारात्मकता की जरूरत हैं। मीडिया समाज के चौथे स्तम्भ के रूप में काम कर रही है। हाल ही में मीडिया ने जनता के अधिकारों के लिए आवाज उठाने वाले अन्ना हजारे के आंदोलन को मीडिया रूपी रथ पर ही सवार होकर जनता तक आम आदमी की आवाज को पहुंचाया। उन्होंने पत्रकारिता में आने वाले विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि अगर वो वास्तव में पत्रकारिता करना चाहते है तो उन्हें अपने अधिकारों को ज्ञान होना चाहिए, जिससे कि वो राजनीति की गंदगी को समझकर उसे साफ कर सकें। उन्होंने सभी युवाओं के आह्वान किया कि राजनीति से दूर ना रहें, बल्कि उससे जुडकर सकारात्मक राजनीति दिशा दें।

इस कार्यक्रम में मीडिया जगत से जुडी अन्य हस्तियों विनोद वार्ष्णेय, संम्पादक, लोकायत मैग्जीन, धिरंजन मालवीय, विशिष्ट अधिकारी, प्रसार भारती, और विनोद अरोड़ा, मुख्य अधिकारी, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया मोनिरिटिंग सेल, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने शिरकत की। इस अवसर पर विनोद वार्ष्णेय ने कहा कि मीडिया को अगर समाज परिवर्तित करना है तो सामाजिक मुदों को उठाना होगा और इसी के साथ साथ निष्पक्ष पत्रकारिता करनी होगी। मीडिया को चाहिए कि वह समाज के विकास हेतू समाज में हो रहे भ्रष्टाचार को उजागर करे और जनता को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक बनाए।

इसी के साथ आए हुए अतिथि धिरंजन मालवीय जी ने बताया कि आज के समय में सोशल मीडिया ज्यादा प्रभावी हो रहा है, जिसके चलते सूचना आम आदमी तक एक क्लिक के माध्यम से तुरंत पहुंच जाती है। आज के युवा ज्यादा से ज्यादा तकनीकि का प्रयोग करते है। इसलिए सामाज के लोगों को जागरूक करने के लिए भावी पत्रकारों को तकनीकि का प्रयोग कर जल्द से जल्द सूचना लोगों तक पहुंचानी चाहिए।

इस कार्यक्रम के अन्य अतिथिगणों विनोद अरोड़ा व रतन सिंह ने भावी पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज मीडिया को जरूरत है कि समाज को समझकर समाज की जरूरतों के मुताबिक और निष्पक्ष सूचना लोगों को मुहैया करवानी चाहिए। सरकार द्वारा जनता को अधिकार तो दिए गए है लेकिन उन्हें उनके प्रयोग का ज्ञान न होने के कारण समाज में दिन प्रतिदिन भ्रष्टाचार बढ़ता जा रहा है। इसलिए जरूरी है कि मीडिया लोगों को जागरूक करें, क्योंकि समाज को नई दिशा मीडिया ही दे सकता है।

इस अवसर पर संस्थान के चैयरमेन सुशील अग्रवाल ने कहा कि मीडिया समाज का विशलेषक है। वह समय समय पर समाज को अपने तरीके से परिभाषित करता रहा है। संस्थान के निदेशक डॉ. अजय कुमार ने अतिथियों व विद्यार्थियों को सम्बोधित करने हुए कहा कि बदलते परिवेश में मीडिया की भूमिका भी बदलती जा रही है। जहां समाज मीडिया की उसके सकारत्मक कार्य के लिए सराहना करता है, वहीं दूसरी ओर समय समय पर इसकी आलोचना भी करता आया है। मीडिया भी समाज के बदलते स्वरूप को लोगों का दिखाता है। इसलिए समाज और मीडिया एक ही सिक्के के दो पहलू है।

इस अवसर पर पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के मुख्य समन्वयक सन्नी गुप्ता ने कहा कि मीडिया ने ही एक नये समाज का निर्माण किया है जिसके चलते हुए आज सामाज जागरूक बना और समय समय पर लोगों ने  अपने अधिकारों के लिए आवाज उठाई। दूसरी ओर समाज भी मीडिया को दिशा देता है क्योंकि मीडिया सामाजिक आवश्यक्ताओं को समझ कर ही समाज को उसका आईना दिखाता है। इसी के साथ उन्होने आए हुए अतिथिगणों, विभिन्न संस्थानों से आए हुए सभी शिक्षकों और विद्यार्थियों का धन्यवाद व्यक्त किया। इस अवसर पर कार्यक्रम संयोजक प्रिंयका सरकार, बाल कृष्ण मिश्रा, निवेदिता शर्मा व विनोद कुमार भी उपस्थित रहें। (एजेंसी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *