रमन सिंह रिश्वत कांड : बैंक मैनेजर ने नार्को टेस्ट में क्या-क्या कहा, पढ़िए यहां

: NORCO TEST:  VERBATIM TRANSCRICTION : (Total Length of the video – 54.49 Minutes) : अस्पताल जैसा दृश्य. उमेश लेटे हुए हैं. उनके चारों ओर मशीन दिख रही है… कुछ लोग दिखाई पड़ रहे हैं. महिला जाँच अधिकारी की आवाज़ — नो ..डोन्ड वरी…वी डोन्ट एक्ज़र्ट एनी एक्टर्नल फ़ोर्स

… नाम

उमेश का जवाब — उमेश सिंह (अस्पष्ट)

…..उमेश सिंह .. उमेश सिंह आप कहां का रहने वाला?

– रायपुर

….कहां से काम करते थे तुम?

–  इंदिरा प्रियदर्शनी महिला नागरिक सहकारी बैंक

…कब से?

– 1995 से

…. क्या काम क्या है आपका?

– बहुत सा काम देखता था मैं चार महीने से मैनेजर के इंचार्ज में था मैं मैनेजर के रिटायर होने के बाद से ( अस्पष्ट)

 ….कब वह रिटायर हो चुका था?

– जनवरी 96 … जनवरी 2006

…. कितना बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स था उधर?

– 14 बोर्ड ऑफ डायरेक्टर था लेडिस

… 14 कितना लेडिस था डायरेक्टर

– 14 लेडिस

…. कितने लोग काम करते थे उधर बैंक में?

– 25 स्टाफ था मैडम

…. सब लोग औरत थे क्या

– नहीं 50-50 वूमन?

…. आपका क्या काम था, नेचर जॉब क्या था आपका उधर?

– मैं वाचिंग करता था और कोई भी कस्टमर को काम रहता था उसको फारवर्ड करता था

….हूं …2003 तक तो सब कुछ अच्छा था न, ठीक था

– जी मैडम नया मैडम आया उसके बाद से ही… नया चेयरमैन आया उसके बाद से ही…. सब चालू हो गया

… नया चेयरमैन आने के बाद क्या हुआ

– नीरज जैन से मिलके…?

…. जोर से बोलो?

– नीरज जैन आया उस…

… हां

– उसके बाद में

… हूं

– ?? उसके साथ मिलके…(अस्पष्ट)

… उसके साथ मिलके आपने किया?

– लोन दिए उसको

… आपने दिया नीरज जैन को

– नहीं, बोर्ड ने दिया

… बोर्ड ने दिया, कितना पैसा दिया नीरज जैन को

– 21 करोड़ रुपये

… सिर्फ नीरज जैन को दिया था

– जी

… बाकी पैसे को क्या हुआ था?

– बाकी लोन बंटा हुआ है

… हूं

– बाकी एक्स्ट्रा पांच-छह करोड़ रुपया बंटा हुआ है

… किसको बंटा किसको दिया?

– पता नहीं नाम ध्यान में नहीं आ रहा है मैडम पांच सौ लोग हैं

… हां

– फाईव हंड्रेड ( अस्पष्ट ?????)

.. किसलिए दिया था उसको?

– बोर्ड ऑफ डायरेक्टर से इंस्ट्रक्शन था…उसके आधार पर

… कुछ एंट्री है क्या?

– पूरी एंट्री है सारा

… कहां पे है एंट्री?

– बैंक के रिकार्ड में

… बुक ऑफ अकाउंट में एंट्री किया है क्या आपने?

– जी

….किया है क्या

– जी

… पूरा 500 पीपुल आपने दिया?

– बोर्ड ऑफ डायरेक्टर … (अस्पष्ट) काटते थे उसके बाद हमने दिया (अस्पष्ट)

… नीरज जैन ने कुछ सिक्योरिटी भी दिया था क्या इतना पैसा लेने के लिए

– सिक्योरिटी का पता नहीं ध्यान में नहीं मैडम… जो भी होगा बैंक के रिकार्ड में होगा

… ये प्रमोद कापसे और मनीष अग्रवाल ये कौन है प्रमोद कापसे कौन..

– कांट्रेक्टर है मैडम

… प्रमोद कापसे को कितना पैसा दिया था

– पैसा नहीं मैडम…

…. कितना पैसा जमा किया?

– पैसा नहीं

…. वो प्रमोद कापसे ने कोई पैसा नहीं दिया था फिर भी आपने उसको क्यों उसको एफडीआर दिया था?

– नहीं पैंसठ लाख का दिया है

… हैं

– पैंसठ लाख का दिया है पूरे एफडीआर का अमाउंट

… कितना?

– पूरा एफडीआर का अमाउंट

… कितना था एफडीआर का अमाउंट?

– वो था डेढ़ करोड़ का

… क्या

– डेढ़ करोड़ के आसपास

…. किसको दिया आपने, बैंक में नहीं जमा किया आपने…. कहां हैं पैसे किसको दिया था आपने

– (अस्पष्ट)…रीता तिवारी को दिया था

…. कौन है वो रीता

– चेयरमैन है

… कितना पैसा दिया था आपने डॉ. रीता को?

– नौ करोड़ दिया है मैडम..रीता तिवारी चेयरमैन है

…. इसलिए आपने पैसा दिया था उसको?

– हां

…. मनीष अग्रवाल ने कुछ एफडीआर के लिए पैसा दिया था ना, हां कितना पैसा दिया मनीष अग्रवाल ने एफडीआर के लिए कितना पैसा जमा किया वो?

– पूरे ड्राफ्ट (अस्पष्ट)

…. पूरा ड्राफ्ट कितना पैसा?

– एक दिन दो दिन (अस्पष्ट)

…. कितना?

– … एफडीआर बना के देता था पैसा निकालने के बाद में .पांच करोड़ रहा होगा…(अस्पष्ट)

… आपने बुक ऑफ अकाउंट में एंट्री किया था

– पूरा एंट्री किया (अस्पष्ट) ….पैसा दिया नहीं था.

…नहीं जो एफडीआर आपने रिसीव किया था ना

– एंट्री है. मैं पैसा दिया नहीं था, पूरा जो है कंप्यूटर में एंट्री किया हुआ है

… कंप्यूटर में भी  है वो 29.11.04 से 24.10.05 तक आपने ओरियंट पेपर मिल के 43 पे आर्डर आपने इश्यू आपने प्रिपेयर किया था ना.. कहां है पैसा?
कौन प्रिपेयर किया था ये?

– पैसा आता है केश जमा करने के बाद में ड्राफ्ट पे आर्डर काउंटर में जाता है उसके बाद वहां से पे आर्डर जमा होता है. पे आर्डर का पैसा पूरा मिला हुआ था (कुछ अस्पष्ट) बुक्स अकाउंट में एंट्री किया हूं..(अस्पष्ट)
… क्या

– उसके बाद पुलिस वाले कहीं पकड़ लिए होंगे या डायरेक्टर लोग कहीं छुपा दिए होंगे तो..मुझे नहीं मालूम जितना भी पे आर्डर जारी हुआ है सारे के पैसे बैंक में आए हैं उसके बाद उस पैसे को तिवारी मैडम लेकर गया..

… कौन है तिवारी मैडम?

– चेयरमैन है बैंक की

… वो भी तिवारी है, रीता तिवारी वो चेयरमैन है. क्यों वो लेकर गए थे पैसा, तुमने दिया था क्या उसको पैसा?

– उसने मांगा था कि ये पैसे मुझे चाहिए।

…. ओरिएंट पेपर मिल का?

– क्योंकि मुझे पैसा यहां से मिलता नहीं है आज तक तनख्वाह कुछ मिलता नहीं है … इसको मैनेज करवाउंगी है

… फोन में बात हुई या पर्सनली आपके पास बोली

– पर्सनली आके। सेकंड हाफ में आते थे

… आप उसका घर गए थे क्या?

– मैं जाते रहता हूं पैसा पहुंचाने घर जाता था

… आपको कितना पैसा मिला

– मेरे को कुछ नहीं मिला मैडम मैं तो सिंगल परिवार हूं कुछ है नहीं किसी चीज का …मेरे नाम से 15 सौ फुट का प्लाट है बस और कुछ नहीं…( अस्पष्ट).. नहीं मैडम 12 साल से नौकरी कर रहे हैं इसलिए थोड़ा मोड़ा रखते हैं, बाकी उनके साथ उनके साथ किसी प्रकार का नहीं…( अस्पष्ट)

… कुछ उसके नाम से इन्वेस्ट किया है क्या आपने

– नहीं मैडम

…. कितना पैसा दिया था उन लोगों को?

– अस्पष्ट

…. हां

– कोई प्रापर्टी नहीं मेरे पास…

… आज तक ( यह पुरुष की आवाज है) कितना लाख?

– आपसी हम लोग उठते बैठते थे पैसे का लेन-देन कुछ नहीं हुआ था… प्लाट है

…. तुमने कितने में खरीदा था तुमने?

– पचहत्तर हजार रुपये में

… कितना लाख?

– पचहत्तर हजार

… कहां है ये प्लाट?

– कोटा में

….कब खरीदा था आपने?

– 2004 में

…. प्लाट के अलावा क्या है?

– और प्रापर्टी नहीं मैडम

… कितना पैसा जमा किया है तुम्हारा पत्नी के नाम में

– मेरी पत्नी का डायवर्स हो गया…गाँव चली गई है दस साल से.. (अस्पष्ट) मेरी जानकारी में है कि रायपुर में

…. हां

– मैं रायपुर में ही रह रहा था, गांव में कभी गया नहीं.. खर्चा… उन लोग अपने से खरीदे होंगे

… आपने कितना पैसा दिया था उसको… खेत खरीदने के लिए, उनका नाम क्या है जहां तुम्हारा खेत है

– गांव का नाम छुहिया है

…. छुहिया, रायपुर से कितना दूर है?

– रायपुर से जो है… अं…साठ किलोमीटर

….2003 के बाद हां?

– खरीदा था, बेच दिया था

….कितना पैसे के लिए तुमने खरीदा था

– एकाध लाख रुपये का होगा.. मेरा 15 सौ फुट का प्लाट है

… कहां पे?

– कोटा में

… और उसके अलावा?

-कोई प्रापर्टी नहीं है मेरे पास

…किसके ऊपर तुमने इंवेस्ट किया है, पैसा मिला था न तुमको बैंक का पैसा कहां इंवेस्ट किया है तुमने

-….(अस्पष्ट)

… बोलो उमेश कहां लगाए हैं तुमने पैसे?

(Counter – 11.30)

– मैडम (अस्पष्ट)… जी मैडम

…कहां लगाया है तुमने पैसे?

-मेरा पैसा मैडम कहीं है नहीं मेरे पास, पैसा था नहीं मेरे पास

…. इतना करोड़ रुपये कहां इंवेस्ट किया तुमने

– तिवारी मैडम को दिया नौ करोड़ रुपया, दो करोड़ रुपया रामविचार नेताम को

.. हां

– दो करोड़ रुपया एक करोड़ रुपया दिया हूँ…रमन सिंह को, एक करोड़ रुपया दिया अअंअं… बृजमोहन अग्रवाल को

.. किसको?

– बृजमोहन अग्रवाल को

…हां और?

– एक करोड़ रुपया दिया राजेश मूणत को..

… किसको?

– डीजीपी को दिया था

… कितना पैसा दिया था

– एक करोड़ रुपये दिया था … तिवारी मैडम के कहने पर दिया, रमन सिंह को एक करोड़ दिया हूं, मैंने नहीं दिया लेकिन मेरी जानकारी में है

… कौन जाकर उधर दिया

– तिवारी मैडम ने जाकर दिया

… खुद जाकर दिये था क्या उसको?

– नहीं तिवारी मैडम ने दिया

… नहीं तिवारी मैडम के कहने पर तुमने जाकर उसको पैसा दिया था क्या

– मैंने नहीं दिया, तिवारी मैडम ने दिया.. वहां तक ले गई गेट तक तिवारी मैडम ने नौ करोड़ का वो किया है…(अस्पष्ट)

…. तिवारी मैडम ने और किसको दिया डीजीपी के अलावा

– राम विचार नेताम को दिया है एक करोड़ रुपया

…. कौन?

– राम विचार नेताम गृह, सहकारिता और जेल मंत्री है उसको मैं दिया हूं

… और?

– एक करोड़ रुपया राम विचार नेताम को

… तुमने खुद जाकर दिया था?

– मैडम के कहने पर दिया हूं न एक करोड़ रुपये राजेश मूणत को दिया..

… और….बोलो उमेश

– एक करोड़ रुपया अमर अग्रवाल को दिया पहले जो है फाइनेंस मिनिस्टर थे अभी शायद उनको हटा दिया गया है

….और?

– तिवारी मैडम के कहने पर ऐसा किया

… और बोलो?

– एक करोड़ रुपये रमन सिंह को दिया मुख्यमंत्री हैं उसको, एक करोड़ रुपये राम विचार नेताम को, सहकारिता मंत्री हैं उसको, एक करोड़ रुपये जो है ओपी राठौर जो अभी मर गया है एक करोड़ रुपये बालकृष्ण अं.. बृजमोहन अग्रवाल वहां का विधायक है को.. एक करोड़ रुपये राजेश मूणत को दिया हूं

… और कुछ रिकार्ड है क्या?

 -जी..

… आपने कुछ एंट्री किया है जब आपने रीता मैडम के कहने पे… वो तिवारी मैडम के कहने पे तुमने दिया है न सब कुछ बांटा है तुमने सब लोगों को… कुछ रिकार्ड्स है क्या आपके पास?

– फोन में बात करते थे मैडम

…. फोन में बात करते थे वो. कुछ एंट्री भी किया है क्या आपने कुछ बुक में या बैंक ऑफ अकाउंट में कुछ एंट्री किया है क्या आपने?

– नहीं मैडम बैंक में … (अस्पष्ट) उसके बाद फिर पुलिस यहां आ गई … तिवारी मैडम कहा वहां वहां जाके दे दो, हमारे चेयरमैन है…सीधा उनके हाथ में दिया….तिवारी मैडम ने, चेयरमैन है हमारे बैंक के…उसने दिया मैंने वहाँ पहुँचा दिया.. तिवारी मैडम चेयरमैन बैग में दिया..(अस्पष्ट)

…. पूरा बैग ही दिया क्या तुमने?

– जी

…कौन सा कलर का बैग इस्तेमाल किया?

– लोकल दिया मैडम…एडीडास…

…क्या?

– एडीडास..(अस्पष्ट)

…. डीजीपी का हाथ को दिया था क्या पैसा या उसके पीए को दिया था?

– डीजीपी को दिया, तिवारी मैडम बोला कि डीजीपी को एक करोड़ पहुंचा के आ जाओ

…. तुमने खुद जाकर उसको हाथ में दिया क्या पैसा?

– हाँ…रमन सिंह को डायरेक्ट एक करोड़ रुपए पैसे मैं दिया हूँ…पैसा निकला है बैंक से…..(अस्पष्ट)…बोर्ड आफ डायरेक्टर्स का…(अस्पष्ट) चेयरमैन रीता तिवारी फारेन में… अमेरिका में ऐश कर रही होगी, चेयरमैन रीता तिवारी अमरीका में है…एक झने को बलि का बकरा बना के बाकी एश कर रही है। मैं जब चार्ज लिया हूं तब 22 करोड़… उसी समय  मैंने तिवारी मैडम बैंक का जो चेयरमैन है उसको लिखित में दिया कि मैडम बैंक में ऐसे-ऐसे गड़बड़ी हो रही है। मैं नौकरी नहीं करना चाहता हूं चंद्राकर रीता तिवारी एमएल चंद्राकर 96 से दस साल तक मैनेजर रहे। पूरा पैसा उन्हीं लोगों ने लिया.. (अस्पष्ट) जो बता रहे हैं 18 करोड़ की है करके

… 18 करोड़ का उनका हुआ है, उनने पैसा किस-किस को दिया है?
 
(Counter – 16.47)
 
– प्रापर्टी वगैरह खरीदे हैं, मेरी जानकारी में नहीं है। … 18 करोड़ रुपए… मैं पूरा-पूरा पैसा बैंक की तिवारी मैडम चेयरमैन को दे देता था। उसके बाद वो जो है..पहुंचा दो (अस्पष्ट)

… फोन पर देती था या खुद?

– फोन पे या जनरली वो बैंक आती थी सेकंड हाफ में

…. और कौन शामिल है बैंक के स्टाफ?

– बैंक के स्टाफ मैडम छोटे छोटे कर्मचारी हैं

… क्या नाम है उसका

– छोटे-छोटे कर्मचारी कल्पना शर्मा, तरिंदर कौर, मनेंद्र पाल सिहं, देवाशीष लाल गुप्ता, देवीदयाल

…. उन लोगों को कितना पैसा मिला है? छोटे-छोटे कर्मचारियों को?

– उन लोगों को तनख्वाह मिलती थी मैडम

… नहीं ये पैसा बंटवाने के लिए तिवारी मैडम ने कुछ पैसा भी दिया था क्या उन लोगों को

– उनको नहीं मालूम मैडम। पैसा जो भी सेविंग होता था मेरे को बोलते थे,मैं तिवारी मैडम को देता था तिवारी मैडम जहां बोलती थी मैं वहां पहुंचाता था मेरे को कोई पैसा नहीं दिया मैं तो अपनी तनख्वाह.. (अस्पष्ट) दस साल मेरी फेमिली में डिस्टर्ब है. बाहर में रहती है. वहीं रहती है उनकी सिस्टर जो है उनकी लड़की उनकी डाटर

… क्या नाम है उसका

– सुजाता शुक्ला

…. सुजाता शुक्ला बोलते थे क्या आपको?

– जी…सुजाता शुक्ला जो है अमेरिका में शादी करके गई है। उनका एक बड़ा भाई है इंदौर में सेल्स टैक्स में आफिसर है।

… क्या नाम था उसका?

– राजू तिवारी है

….एसी भमरा को कितना पैसा दिया था तुमने इंस्पेक्टर है

– भामरा साहब मेरे यहां से सन 96-97 से लोन लिए हुए थे इसलिए मेरे से पहचान बढ़ा था. उसने धीरे धीरे लोन पटा दिया है…मेरा उससे किसी प्रकार लेनदेन नहीं है। ( अस्पष्ट)…तिवारी मैडम और नीरज जो बैंक से 21 करोड़ रुपए का लोन लिए हैं..उसने दिया…करोड़ों में दिया…

…. आपके एडवोकेट को कौन पैसे दे रहे हैं। तिवारी मैडम ने?

– मेरे एडवोकेट को… मेरा पुराना मित्र है। मैं उसको सिर्फ यह बोलता हूं….

… क्या नाम है उसका?

– एस के फरहान है उसका नाम

… क्या काम करता है वो?

– कंस्लटेंसी करता है, वकील है उसको बोला हुआ है किसी प्रकार के मेरे से फीस मत लीजिएगा, मैं बेगुनाह हूं मुझे फंसा रहे है चारों तरफ से, मेरे को कैसे भी करके बचाइए.

….. नीरज जैन मैडम को कितना पैसा दिया था तुमने?

– नीरज जैन ने 21 करोड़ का लोन लिया था

… वो किसको बांटा है

– उसने इंडस्ट्रियल एरिया में फाइनेंस किया हुआ है

… कौन सी इंडस्ट्री को फाइनेंस किया है वो

– एंडएग्रो है,

… और

– और बजरंग एलाएज है

… उसके अलावा

– नाम ध्यान में नहीं आ रहा है.. लेकिन उसने वहाँ पैसा.. (अस्पष्ट)

… आपने पूरा 144 एफडीआर उसको दिया था क्या

– मेरे को उससे कोई मतलब नहीं.. रीता तिवारी जो है उसका ब्रदर जो है जगदलपुर में रहता है नीरज जैन भी जगदलपुर का रहने वाला है, उसने मेरे को … मेरे हिसाब से उसने उसको दिया.. 2003 में जबसे चेयरमैन बनी है तबसे उन लोगों की कंस्लटेंसी (अस्पष्ट)

… 144 एफडीआर तुमने दिया था क्या नीरज जैन को? एफ़डीआर से जो पैसा कलेक्ट किया था वो दिया क्या नीरज जैन को?

– नीरज जैन से मेरा कुछ लेना देना नहीं उसकी एफडी कितना है मैं नहीं जानता हूं सिर्फ ये है कि बैंक में कितना नोट है ( अस्पष्ट)…तिवारी मैडम ने एक्सेस लिमिट दिया हुआ है..

….जो एफडीआई नीरज जैन को दिया था न सीसी लिमिट्स क्रास करके दिया था न?

– जी

…. वो अभी एफडीआई किसके पास है कहां पे है?

– नीरज जैन के पास में होगा या तिवारी मैडम के पास. मेरे से तिवारी मैडम जो है बैंक की गड़बड़ी के बारे में मैंने जितनी बार चर्चा किया उसने मेरे को बोल दिया फाइल मेरे को दे दो (अस्पष्ट)…मैंने सारे फाइल दे दिया… मैं संभावना व्यक्त कर रहा हूं कि नीरज जैन और तिवारी मैडम जो है मिलके सब काम किए हैं।

… अच्छा नीरज जैन और तिवारी मैडम मिलके।अच्छा ये ट्रांजेक्शन कहां हुआ था, नीरज जैन के साथ ट्रांजेक्शन कहां हुआ?

– कौन सा ट्रांजेक्शन

… जो आपने 144 एफडीआई जो उसको दिया था न?

– नहीं मेरी जानकारी में नहीं है

… नहीं वो आफिस फाइल उसको दिया न?

– मैं पूरा फाइल तिवारी मैडम को दिया था जांच के लिए

… नीरज जैन को कहां दिया था तुमने?

– मैंने नीरज जैन को नहीं दिया, तिवारी मैडम ने ये कहा कि वो सब फाइलें मेरे दे दो मैं जांच करूंगा। उनका एक एडवोकेट है एक चार्टर्ड एकाउंटेंट कश्यप करके उसने बोला कि लाके दो, मैंने दे दिया उनको …उनके घर में जाके दे दिया।

… किसके घर में जाके दिया था

– तिवारी मैडम के

… कौन सा डील था अपना नीरज जैन के साथ कौन सा डील किया था तुमने?

– नीरज जैन जो है उनकी जितनी एफडी होगी वो है, बाकी जो 16 कंपनियाँ जो है… जो है 16 कंपनियां जो हैं..वो जो है…लोन दिया हुआ है

… कितना?

– 21 करोड़ रुपये लोन दिया हुआ है…. बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की स्वीकृति से।

… नीरज जैन को मदद मांगा था न तुमने, कितना पैसा दिया था तुमने मदद के लिए

– नीरज जैन से नहीं,  तिवारी मैडम का उनसे लेन देन होगा. मैं सिर्फ जो है…नीरज जैन को सिर्फ कस्टमर की तरह ट्रीट करता था चेयरमैन से जो आदेश मिलता था कि उनको फाइनेंस एक्सेस लिमिट दे दो..इनको एक्सेस लिमिट दे दो… तो मैं दिया।

….अच्छा नीरज जी ने एफडीआर प्रीपेयर किया था क्या?

– एफडीआर कुछ बनाए हैं, बाकी तो लिमिट एक्सेस एवेल किए हैं

… सुधीर ने कुछ एफडीआर बनाया क्या?

– नीरज जैन का स्टाफ है, नीरज जैन जो बोलता था सुधीर करता था

… राजा?

– राजा भी उनका स्टाफ है

… वो भी करता था

– आपको कुछ पैसा मिला क्या एफडीआर के अंगेस्ट

….मैं अकेला आदमी हूं किसी प्रकार की जरूरत नहीं है। चार दिन मैंने कंपेल्ट किया था गवर्मेंट आफिस में उस समय जो है मैं अपना पैसा भी नहीं निकाल पाया हूँ। चेयरमैन के इंस्ट्रक्शन से आता था

…. तिवारी का इंस्ट्रक्शन या नीरज जैन का इंस्ट्रक्शन?

– रीता तिवारी का, ऐसा ऐसा कर लो (अस्पष्ट )…बाकी जो


नारको टेस्ट वीडियो देखने के लिए नीचे हेडिंग या तस्वीर पर क्लिक करें…

बैंक मैनेजर उमेश सिन्हा का नारको टेस्ट वीडियो


संबंधित खबरें-

नार्को टेस्ट में बैंक मैनेजर बोला- रमन सिंह और उनके तीन मंत्रियों को एक एक करोड़ रुपये घूस दिए

रमन सिंह और भाजपा आलाकमान के लिए बड़ा सिरदर्द है ये सीडी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *