रहिए अब ऐसी जगह चलकर जहां कोई न हो… (सुनें)

रहिए अब ऐसी जगह चलकर जहां कोई न हो…

हम-सुख़न कोई न हो और हमज़बां कोई न हो…

पडि़ए गर बीमार तो कोई न हो तीमारदार…

और अगर मर जाइए तो नौहा-ख़्वां कोई न हो…

बे दर-ओ-दीवार सा इक घर बनाया चाहिए…

कोई हमसाया न हो ओर पासबां कोई न हो…


rahiye ab aisi jagah chalakar jahaan koi na ho

hamasuKhan koi na ho aur hamazabaan koi na ho

bedar-o-deevaar sa ik ghar banaaya chaahiye

koi hamasaaya na ho aur paasabaan koi na ho

rahiye ab aisi jagah chalakar ……………..

padiye gar beemaar to koi na ho teemaar-daar

aur agar mar jaaiye to, nauha-Khvaan koi na ho

rahiye ab aisi jagah chalakar ……………..


मिर्ज़ा ग़ालिब साहब की उपरोक्त रचना को सुरैया और अजीत वाडेकर की आवाजों में अलग-अलग सुनिए. सुरैया ने इसे मिर्ज़ा ग़ालिब फिल्म के लिए गाया है. नीचे आडियो प्लेयर में साउंड फुल कर प्ले कर दें…


(सुनें)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *