राहुल गांधी ने कैंब्रिज की अपनी एमफिल डिग्री फर्जी होने का तथ्य के साथ खंडन किया

Sheetal P Singh : इस मशहूर साक्षात्कार में एक बात राहुल गांधी ने मेरे हिसाब से score की और मेरी ज़िम्मेदारी बनती है कि उसे दर्ज किया जाय, क्योंकि मैंने राहुल की आलोचना भी की है। राहुल ने कैम्ब्रिज की अपनी M Phil की डिग्री के फ़र्ज़ी होने का तथ्य के साथ खंडन किया, सुब्रमण्यम स्वामी का पुराना आरोप है कि यह डिग्री जाली है।

Mukesh Kumar : राहुल गाँधी ने अपने पहले इंटरव्यू में इतनी बार सिस्टम को कोसा और व्यवस्था बदलने की बात कही कि किसी को भी ये भ्रम हो सकता है कि अगर उनका बस चले तो काँग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी या किसी कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल हो जाएंगे। व्यवस्था परिवर्तन के नारे का पेटेंट अभी उन्हीं के पास है। लेकिन ये सचाई नहीं है। ये छद्म क्रांतिकारिता या पप्पू विद्रोह उनके खुद के भ्रमों का नतीजा है। वे समझ नहीं पाए हैं कि उनकी पार्टी और सरकार व्यवस्था को कायम रखने वाले सबसे बड़े औज़ार हैं। बीजेपी की तरह वे अतीतवादी भले न हों मगर उनके यथास्थितिवादी होने में कोई संदेह नहीं होना चाहिए। अगर वे सचमुच में व्यवस्था परिवर्तन को लेकर ईमानदार हैं तो सबसे पहले उन्हें उन आर्थिक नीतियों को पलटना चाहिए जो देश का बेड़ा गर्क कर रही हैं।

वरिष्ठ पत्रकार शीतल पी. सिंह और मुकेश कुमार के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *