रिटायरमेंट की उम्र से कम से कम दो साल पहले ही रिटायरमेंट ले लूंगा : उमाशंकर सिंह

Umashankar Singh : ज़िंदगी के चार दशक पूरे हो गए… स्कूल में 1972 की बजाय 1974 लिख दिया गया था इसलिए सर्टिफिकेट के हिसाब से 38 का ही हुआ हूं। लेकिन असल में 40 का हो गया हूं। वीके सिंह की तरह का कोई उम्र विवाद नहीं चाहूंगा। 🙂 रिटायरमेंट की उम्र से कम से कम दो साल पहले ही रिटायरमेंट ले लूंगा। 🙂 आप सबों ने जिन्होने यहां शुभकानाएं दीं या देने की सोची भी हो उन सबको दिल से शुक्रिया।

for my friends who can't read hindi-

have completed 4th decade of my life… my actual birth year is 1972 but my school record says 1974. wd not fall into any age controversy like former Indian army chief VK Singh 😉 so will opt for retirement 2 years prior to my official age 🙂

who wished me here or even thought of wishing me… a warm thanks to all of you! 🙂

    Piyush Mishra Happy b'day Sir! The point to notice here is that you have friends who can't read hindi, truly international you are! What I said here is with all respect… Hope and wish the best for you…
 
    Pankaj Choudhary Naughty at Forty..
 
    Frank Huzur Life begins at 40 for you….You can exclude the O to suit the whims of the birthday mood…Cheers

    Pranav Sirohi ईमान से कहूं तो आप 40 तो क्या 38 के भी नहीं लगते। और हां इस बात मक्खन या मलाई से कोई वास्ता नहीं। पुनः हार्दिक शुभकामनाएं।

    Vineet Punia Happy Birthday…Umashankar Singh ji..as I was among the second category…Keep Rocking..

    Brij Bhushan Shukla Umr ka 40vaan saavan dekhne par aapko hardik badhayi…Ishwar kare aap umr ke 100 saavan dekhnen.
 
    Sandeep Singh ऐसे ही अपडेट्स करते रहें…न लाग ना लपेट वाली पंक्ति को चरितार्थ करते रहें…सभी को पसंद है ये आपकी ये शैली……जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
 
    Ashok Kr bahut accha laga ki aap ne apni sacchi baat itne zabardast tareekey se sarvjanik kiya, Wish you HAPPY BIRTH DAY
 
    Rajesh Kumar Gupta 38 saal k pure hone ki mubarakbaad. just chill with ur family and frndz
 
    Ravish Kumar रिटायर होना ही आधुनिक दफ्तरीय जीवन का लक्ष्य है । मैं भी रोज़ साठ साल होने का इंतज़ार करता हूं
 
    Dinesh Mansera kash aisa neta bhi sochte/
 
    Ajit Anjum हिम्मत की दाद देनी पड़ेगी रवीश ….साल साल तक टीवी की नौकरी झेलने का दम तो है आपमें ………हमें तो कोई एक्जिट रूट ही नहीं मिल रहा है ………………….

पत्रकार उमाशंकर सिंह काफी समय से एनडीटीवी से जुड़े हुए हैं. उनके फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *