श्रीनिवासन का दामाद गुरु फिक्सिंग में अरेस्‍ट, आज होगी कोर्ट में पेशी

मुंबई : बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के दामाद और चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के मालिक गुरुनाथ मयप्पन को आईपीएल सट्टेबाजी मामले में उनकी कथित भूमिका के लिए कल देर रात यहां गिरफ्तार कर लिया गया। आज मयप्पन की कोर्ट में पेशी होगी। इस सारे प्रकरण से बीसीसीआई प्रमुख श्रीनिवासन पर इस्तीफे का दबाव बढ़ गया है। आईपीएल के सबसे लोकप्रिय टीम चेन्नई सुपर किंग्स की फ्रेंचाइजी जारी रहने पर गंभीर शंकाएं उभरने लगी हैं।

मुंबई पुलिस के संयुक्त आयुक्त (अपराध) हिमांशु राय ने संवाददाताओं से कहा, हमारे पास जो सूचनाएं थीं उनके आधार पर हमने मयप्पन से पूछताछ की। आईपीएल सट्टेबाजी के मामले में हमें उनकी संलिप्तता का पता चला है। हमने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। अभिनेता विंदु दारा सिंह द्वारा सट्टेबाजी को लेकर मयप्पन का नाम लिए के बाद मुंबई पुलिस ने 35 वर्षीय मयप्पन को सम्मन भेजा था। मयप्पन मदुरै से एक चार्टर्ड विमान में यहां आए थे। उन्हें पुलिस ने पूछताछ के लिए शाम पांच बजे बुलाया था लेकिन मयप्पन समय पर नहीं पहुंचे। मयप्प्पन देर शाम मुंबई पहुंचे। उनके साथ चेन्नई के जाने माने वकील पीएस रमन भी आए। उन्हें मुंबई हवाईअड्डे से अपराध शाखा मुख्यालय लाया गया और गिरफ्तार किए जाने से पहले उनसे पूछताछ की गयी।

मयप्पन को लगभग तीन घंटों की पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया। पूछताछ रात साढ़े नौ बजे शुरू हुई। राय ने बताया कि मयप्पन को कल मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा। अभिनेता और टीवी रियेलिटी शो के विजेता विंदू दारा सिंह की सट्टेबाजों के साथ कथित संबंधों को लेकर हुई गिरफ्तारी के बाद से ही दो बार की आईपीएल चैम्पियन टीम सीएसके के मालिक 35 वर्षीय मयप्पन विवादों के केंद्र में थे। विंदू ने यह स्वीकार किया था कि मयप्पन की ओर से उसने सट्टेबाजी की।

रियेलिटी टीवी शो बिग बॉस तीन के विजेता और दिवंगत अभिनेता दारा सिंह के पुत्र विंदू कथित रूप से आईपीएल मैचों के दौरान मयप्पन के ‘‘लगातार संपर्क’’ में थे और दावा किया गया है कि उन्होंने मुंबई अपराध शाखा को यह बताया था कि सीएसके का मालिक सट्टेबाजी के जरिए एक करोड़ रूपया गंवा चुका था।

सूत्रों के अनुसार, अपराध शाखा के पास विंदू तथा मयप्पन के बीच की बातचीत का कॉल डेटा रिकार्ड मौजूद था और माना जा रहा है कि उसने दोनों की बातचीत के रिकार्र्ड उनके सामने रखकर उनसे पूछताछ की। हालांकि राय ने मयप्पन की गिरफ्तारी के बाद मीडिया से बात करते हुए मयप्पन के आईपीएल मैचों के स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने की बात नहीं कही लेकिन उन्होंने पहले कहा था कि उन्हें इसका गहरा संदेह है। मयप्पन से पूछताछ किए जाने से पहले राय ने संवाददाताओं से कहा था, ‘‘हमें संदेह है कि मयप्पन ने अंदर की सूचनाएं गिरफ्तार अभिनेता विंदू रंधावा को दीं जिन्होंने इसे सट्टेबाजों तक पहुंचाया।’’ मयप्पन की गिरफ्तारी के बाद श्रीनिवासन के इस्तीफे की मांग और गरमा सकती है क्योंकि पहले से ही क्रिकेट संगठनों के उनके विरोधियों ने उनके इस्तीफे की मांग करनी शुरू कर दी थी।

अपराधा शाखा की मांग के बाद एक मेट्रोपॉलिटन अदालत ने आज विंदू की पुलिस हिरासत 28 मई तक के लिए बढ़ा दी ताकि उसे मयप्पन के आमने-सामने पेश कर पूछताछ की जा सके। विंदू पर फरार सट्टेबाज ज्यूपिटर, पवन जयपुर और संजय जयुपर के माध्यम से सट्टेबाजी करने के आरोप हैं। विंदू खुद भी सट्टेबाजी करता था। अपराध शाखा के अनुसार सट्टेबाजी कांड के मुख्य आरोपी के रूप में उभरे विंदू ने पवन और संजय को दुबई भागने में मदद की क्योंकि एस श्रीसंत समेत राजस्थान रॉयल्स के तीन खिलाड़ियों की गिरफ्तारी के बाद सट्टेबाजी के खिलाफ मामले ने तूल पकड़ लिया था।

विंदू पर पवन जयपुर की तरफ से पाकिस्तान के विवादित अंपायर असद राउफ को एक पार्सल भेजने का भी आरोप है जिसके बारे में अपराध शाखा अभी पता कर रही है। नुकसान की भरपाई के प्रयासों के तहत इंडिया सीमेंट्स ने मयप्पन से यह कहते हुए दूरी बनाने का प्रयास किया कि न तो वह सीएसके के मालिक हैं और न ही सीईओ या सीएसके के टीम प्रिंसीपल है। इंडिया सीमेंट्स सीएसके की मालिक है और इसका संचालन श्रीनिवासन द्वारा किया जा रहा है।

कंपनी के कार्यकारी अध्यक्ष टी एस रघपुति द्वारा जारी बयान में कहा गया है , ‘‘मयप्पन सीएसके के प्रबंधन दल के सदस्यों :मानद: में से एक हैं। इंडिया सीमेंट्स कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति का अनुसरण करती है और यदि कोई दोषी साबित होता है तो तत्काल कड़ी कार्रवाई की जाएगी।’’ बयान में उन्होंने कहा, ‘‘इंडिया सीमेंट्स बीसीसीआई तथा कानून प्रवर्तन एजेंसियों के साथ पूर्ण सहयोग का आश्वासन देती है।’’ हालांकि श्रीनिवासन के इस्तीफे की मांग के जोर पकड़ने के साथ उनकी मुश्किलें भी बढ़ती दिख रही हैं।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख तथा बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष शरद पवार ने कहा है कि ‘‘यदि उनमें नैतिकता और सार्वजनिक जवाबदेही की कोई भावना है’’ तो श्रीनिवासन को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए। कुछ ही दिन पहले आईपीएल से बाहर होने वाली पुणे वारियर्स टीम के मालिक सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत राय ने भी श्रीनिवासन के इस्तीफे की मांग की और उनके स्थान पर शरद पवार को लाए जाने को कहा। खेल में श्रीनिवासन के हितों के टकराव पर सवाल उठाते हुए राय ने कहा कि स्पॉट फिक्सिंग कांड में सीएसके के मालिक मयप्पन का नाम सामने आने के बाद सीएसके का कांट्रेक्ट तुरंत खत्म किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘यदि कोई फ्रेंचाइजी सट्टेबाजी में शामिल है तो उनका कांट्रेक्ट तुरंत रद्द किया जाना चाहिए। यदि कोई मालिक सट्टेबाजी में शामिल है तो यह गलत है।’’ वहीं पूर्व आईपीएल प्रमुख ललित मोदी ने मांग की कि मयप्पन की गिरफ्तारी के बाद सीएसके को आईपीएल से बाहर किया जाए। मोदी ने सुझाव दिया कि इस मामले में आईपीएल के लिए सबसे बेहतर यही है कि टीमों के मालिक अदालत का रूख करें और आईपीएल को चलाने के लिए अदालत से आदेश लें।

उन्होंने कहा कि यदि आईपीएल खत्म हो जाता है कि टीम मालिकों का हीं सबसे अधिक नुकसान होगा और यदि वह आगे नहीं आए और जिम्मेदारी नहीं संभाली तो इसे खत्म ही होना है। विश्लेषकों ने टीमों के लिए आईपीएल कांट्रेक्ट के एक नियम का हवाला दिया है जो, किसी फ्रेंचाइजी, किसी भी फ्रेंचाइजी ग्रुप कंपनी, या किसी भी मालिक के किसी भी तरीके से ऐसी गतिविधि में शामिल पाए जाने पर जिससे बीसीसीआई-आईपीएल लीग या क्रिकेट के खेल की प्रतिष्ठा गलत तरीके से प्रभावित होती है, उसका कांट्रेक्ट रद्द करने का प्रावधान करता है। (जी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *