संवाददाताओं से दिहाड़ी मजदूर से बदतर सलूक कर रहा है प्रसार भारती

यशवंत जी, मैं भड़ास4मीडिया के माध्यम से आपको केंद्र सरकार के सरक्षण में चल रहे दूरदर्शन व आकशवाणी के जिला संवाददाताओं के शोषण के बारे में अवगत कराना चाहता हूँ कि किस प्रकार प्रसार भारती अपने वर्षों से काम कर रहे सवांददाताओं से दिहाड़ीदार मजदूर से भी बदतर सलूक कर रहा है। हम कई सालों से प्रसार भारती के अधिकारियों और सम्बंधित मंत्रियों को ज्ञापन व मीटिंग के माध्यम से बार बार अपनी समस्या से अवगत करा चुके हैं, परन्तु अपने ही गर्व में चूर इन लोगों के कानों पर आज तक जूं नहीं रेंगी।

अभी हाल ही में फिर हमारे एक प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली में केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी से मुलाकात कर उन्हें अपनी समस्याओं के विषय में एक ज्ञापन सौपा है, जो आपको भेजा जा रहा है। आप से अनुरोध है कि आप हमारी इस समस्या से पूरे देश के लोगों, नेताओं और नौकरशाहों को अवगत करा कर उन्हें सरकारी स्तर पर हो रहे शोषण का आईना दिखा सकें। अपने विज्ञापनों पर हजारों करोड़ फूंकने वाले, एजेंसियों को खबरों के नाम पर मोटी रकम देने वाले और देशभर में फैले अपने नेटवर्क तंत्र पर बेजा पैसा खर्च करने वाले प्रसार भारती को अपने स्ट्रिंगरों को ही न्यूनतम वेतन देने में कष्ट होता है। ये कहां का न्याय है कि हमसे एक मनरेगा मजदूर से भी कम पैसे में 24 घंटे काम लिया जाता है। यशवंत जी आपसे ये भी अनुरोध है कि सरकारी बदले की आग से बचने के लिए किसी का नाम प्रकाशित ना किया जाए क्योंकि अपनी पोल खुलती देख इनके पेट में एक बार दर्द तो होगा ही। धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *