समर ने भास्कर डाट काम की पोर्नकारिता के खिलाफ सुधीर अग्रवाल को भेजा पत्र

प्रिय श्री अग्रवाल, मुझे उम्‍मीद है कि आप स्वस्थ और सानंद होगे. मैं आपको यह मेल आपकी वेबसाइट bhaskar.com. में प्रकाशित हो रही अश्‍लील और तकरीबन पोर्नोग्राफिक किस्‍म की सामग्री पर घोर विरोध जताते हुए लिख रहा हूँ. साथ ही मैं आपके ध्‍यानार्थ यह बात भी लाना चाहता हूं कि आपके जयपुर ब्‍यूरो के आशीष महर्षि ने बेहद घृणित अभियान चला रखा है. वह यह आरोप लगा रहे हैं कि आपकी वेबसाइट द्वारा पोर्नोग्राफी परोसने के विरोध के पीछे विकास संवाद नाम के एक सम्‍मानित संस्‍थान का हाथ है.

मैं इस घृणित कार्यवाही की कड़े शब्‍दों में भर्त्‍सना करते हुए यह साफ कर देना चाहता हूं कि हमारे सांगठनिक सहयोगी एवं सम्मानित मित्र संगठन के रूप में विकास संवाद का इस अभियान से कोई लेना-देना नहीं है। इसका सीधा सा कारण है कि यह अभियान मैंने अपने निजी स्तर पर शुरू किया था. तब जब जेएनयू में एक छात्रा पर बर्बर हमले के बाद आपकी वेबसाइट में ""बदले के लिए करना चाहता था मर्डर: सेक्‍स तक कर चुकी थी गर्लफ्रेंड, पर बाद में उड़ाने लगी मजाक" जैसे शीर्षक के साथ बेहद घटिया, स्त्रीविरोधी और अपराधी के साथ सहानुभूति रखने वाली 'खबर' देख कर जेएनयू के एक पूर्व छात्र के बतौर मैं बहुत दुखी और क्रोधित हुआ था.

मैं यहाँ यह भी साफ़ कर देना चाहता हूँ कि यह कोई पहला अवसर नहीं था जब मैंने www.bhaskar.com में ऐसी अश्लील, स्त्रीद्वेषी और यौनहिंसा को प्रश्रय देने वाली खबर देखी थी, ऐसी खबरें तो आपकी वेबसाइट पर लगभग रोज प्रकाशित होती हैं. हाँ मुझे तब जरूर आश्चर्य हुआ जब मेरे इस खबर को साझा करते हुए इसके विरोध की मांग के आह्वान पर मेरे इनबॉक्स में तमाम और साथियों के मेल आने लगे जो भास्कर की ऐसी हरकतों से बराबर पर गुस्सा थे.

जरा सोचिये कि आपकी एक स्टोरी का शीर्षक था ‘आरुषी का पायजामा था थोड़ा नीचे’। क्‍या आप समझ सकते हैं कि आपकी वेबसाइट में काम करने वाले पत्रकार उस 13 साल की लड़की के बारे में बात कर रहे हैं, जिसकी निर्दयता से हत्‍या की गई थी? दिलचस्‍प बात यह है कि ये दोनों ही खबरें www.bhaskar.com से तब हटा दी गईं, जब मैंने इन खबरों को उनके लिंक के साथ सार्वजनिक रूप से शेयर किया। (मैंने कुछ और खबरों के लिंक नीचे दिए हैं। कृपया संलग्‍न स्‍क्रीनशॉट्स के साथ इन्‍हें देखें।)

जेएनयू स्टोरी- गर्लफ्रेंड कर चुकी थी सेक्स तक. बाद में उड़ाने लगी मजाक.
http://www.bhaskar.com/article-hc/c-99-152377-NOR.html
भास्कर द्वारा हटाई गयी तस्वीरें.
http://gallery.bhaskar.com/album/GAL-album-16866-30sexiestwagsof2012
इससे हीरोइन्स के ब्रेस्ट साइज़ हटाये गए..
http://bollywood.bhaskar.com/article/ENT-BOL-bollywood-actresses-breast-sizes-list-4342975-PHO.html?seq=5
यह एक विदेशी मॉडल की पूरी नग्न तस्वीर थी. हट गयी.
http://gallery.bhaskar.com/album/GAL-album-16140-valerie-dodds.html?seq=8

मैं आपको सलाह देना चाहता हूं कि इस तरह की सामग्री के विरोध में अभियान चलाने वालों को परेशान करने के बजाय आपके प्रतिष्‍ठित समाचार पत्र को शर्मसार करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।

मैं एक बार फिर यह दोहराना चाहता हूं कि पत्रकारिता की आड़ में शुरू की गई इस तरह की पोर्नोग्राफी के खिलाफ अभियान मैंने शुरू किया है और इससे न तो किसी संस्‍थान और न ही एशियन ह्यूमन राइट कमीशन और विकास संवाद का कोई लेना-देना है। आपसे आग्रह है कि आप अपने पत्रकारों को पोर्नोग्राफी और अफवाह फैलाने से रोकें. इसके बजाय यदि आपके सम्मानित संस्थान के कर्मचारी इस निजी अभियान के बहाने हमारे संगठनों पर हमला करेंगे तो मुझे भी यथोचित कार्यवाही करने पर मजबूर होना पड़ेगा यद्यपि मैं नहीं चाहता कि दैनिक भास्कर जैसे सम्मानित समूह के साथ हमें ऐसा कुछ करना पड़े. आशा है कि इस मुद्दे पर आपका सकारात्मक सहयोग मिलेगा.

सादर,
अविनाश पांडे (समर),
प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर – राइट टू फूड प्रोग्राम,
एशियन ह्यूमन राइट कमीशन,
www.humanrights.asia
यूनिट 701 ए, वेस्‍ले स्‍क्‍वेयर,
48 होई यूवेन रोड, कुन टोंग
हांगकांग एसएआर।


Dear Mr. Agrawal,

I hope this mail finds you well and in the pink of health.

I am writing this to you to express my severest objection to the very obscene, almost pornographic content being published on your website www.bhaskar.com.

I, also, want to bring to your notice a very despicable rumour campaign started by Ashish Maharshi of your Jaipur Bureau accusing Vikas Samvad, a reputed social organisation, of hatching a conspiracy against Dainik Bhaskar.

I very strongly condemn this disgusting act and assert that Vikas Samvad, a partner organisation of ours neither had anything to do with this campaign. The reason behind this is simple. Disgusted with a very misogynist story titled, ""बदले के लिए करना चाहता था मर्डर: सेक्‍स तक कर चुकी थी गर्लफ्रेंड, पर बाद में उड़ाने लगी मजाक" I started this
campaign in my personal capacity. It is just that the anger with the porn contents dished out almost daily was so high that soon I was inundated with mails giving me links of other such stories including one titled, आरुषी का पायजामा था थोड़ा नीचे. Do you even realise that your journalists were talkin about a 13 year old girl who was brutally murdered? Interestingly,both the stories were removed as soon as I shared them in public. Not only that, Bhaskar.com removed many others after we shared them, including four links I am giving below. (Please find the Screenshots attached below)

जेएनयू स्टोरी- गर्लफ्रेंड कर चुकी थी सेक्स तक. बाद में उड़ाने लगी मजाक.
http://www.bhaskar.com/article-hc/c-99-152377-NOR.html
भास्कर द्वारा हटाई गयी तस्वीरें.
http://gallery.bhaskar.com/album/GAL-album-16866-30sexiestwagsof2012
इससे हीरोइन्स के ब्रेस्ट साइज़ हटाये गए..
http://bollywood.bhaskar.com/article/ENT-BOL-bollywood-actresses-breast-sizes-list-4342975-PHO.html?seq=5
यह एक विदेशी मॉडल की पूरी नग्न तस्वीर थी. हट गयी.
http://gallery.bhaskar.com/album/GAL-album-16140-valerie-dodds.html?seq=8

I would, therefore, advise you to take stern action against those bringing shame to your respected newspaper instead of harassing those fighting against that.

I, once again, assert that this is a campaign started by me against pornography masqueraded as journalism and has nothing to with any organisation, neither the Asian Human Rights Commission, nor Vikas Samwad and request you to restrain your journalists both from indulging in pornography and spreading rumours.

Avinash Pandey (Samar)

Programme Coordinator

Asian Human Rights Commission

Tai Wo, Hong Kong


कृपया आप भी अपने बहुमूल्य समय से चंद मिनट निकाल कर भास्कर डाट काम की पोर्नकारिता के खिलाफ भास्कर अखबार के मालिक सुधीर अग्रवाल को पत्र भेजें. उनका इमेल पता md@dainikbhaskargroup.com है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *