सरकारी एडवाइजरी के बाद चीनी घुसपैठ पर अब नहीं बोलेंगे न्यूज चैनल वाले!

Shravan Kumar Shukla : चीन की सेना अपने भारत देश में घुसकर 20 किलोमीटर अन्दर आकर बैठ गई है. मीडिया चैनेल्स को सरकार की ऐडवायजरी नोटिस मिली हुई है कि चीनी घुसपैठ से सम्बंधित कोई खबर ना दिखाई जाए. अब मैं आप लोगों से पूछना चाहता हूं कि क्या ऐसी कोई एडवायजरी नोटिस हम फेसबुकियो को भी मिली है जो हम शांत होकर बैठे हैं, और शेरो-शायरी पोस्ट व शेयर कर रहे हैं?  माना कि हमारी पहुंच सीमित है और हम बार्डर पर लड़ने नहीं जा सकते पर अपनी कलम में तो बारूद भर सकते हैं…

मित्रों प्यार के अफ़साने भी गायेंगे, श्रृंगार और प्रेम रस के तराने भी गायेंगे… मगर आज देश मुश्किल में है… जरूरत है कलम में बारूद भरने की… अपनी वाल से लेकर मीडियाकर्मियों तक की वाल तक तेज़ाब भर दो… ऐसी हुंकार लगाओ कि गद्दी हिल जाए… सोते हुए की नींद टूट जाए… क्योंकि हमारी मां खतरे में हैं… चंद्रशेखर और भगत सिंह की कुरबानिया खतरे में है… लगाओ नारा— ''या तो चीनी फौज भगाओ या तो अपनी गद्दी छोड़ो''. मां भारती बहुत आशापूर्ण नेत्रों से अपनी करुण गाथा सुना रही हैं अपनी संतानों को… क्या अब हमसे इतना भी नहीं हो पायेगा की सरकार को हम मजबूर करें कि वो हमें जवाब दे कि वो हमारी मां की आजादी के लिए क्या कर रही है?

युवा पत्रकार श्रवण कुमार शुक्ला के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *