सलमान खान की अवसरवादिता और कौम के साथ गद्दारी ‘जय हो’ को मार गई!

Yashwant Singh : असल में सलमान खान एक बड़ी पावरफुल और एंबिशियस स्ट्रेटजी के तहत नरेंद्र मोदी के साथ पतंगबाजी करने और उनकी तारीफ करने को गए थे… उन्हें अब सौ, दो सौ करोड़ रुपये कमाने वाली फिल्मों से उब हो गई थी और वो इकट्ठे हजार करोड़ रुपये वाली फिल्म बनाकर फिल्म इंडस्ट्री का महारिकार्ड बनाने की तैयारी में थे…

उन्हें लगता था कि मुसलमान तो उन्हें भाई मानता ही है, सो बेचारा मजबूरन आएगा ही देखने… और इधर, मोदी से टांका भिड़ा लिया, उनकी जय जय कर दी तो फिर हिंदू भाई भी टूटकर फिल्म देखने आ जाएंगे और इस प्रकार एक हजार करोड़ की 'जय हो' हो जाएगी…

पर मिस्टर सलमान खान साहब… दुनिया के सबसे समझदार और काबिल इन्सान आप ही नहीं हैं… जनता को आपके अवसरवाद को राइट टू रिजेक्ट करने का अधिकार है, और उसने उसी अधिकार का इस्तेमाल किया… जिस नरेंद्र मोदी को गुजरात में नरसंहार के बाद उन्हीं की पार्टी के बड़े नेता और तत्कालीन प्रधानमंत्री ने राजधर्म सिखाया, उस मोदी को भले ही हर कोई अपने अपने निहित स्वार्थ के तहत माफ कर दे पर वो लोग कतई माफ नहीं कर सकते जो किसी भी प्रकार के राज्य संरक्षित नरसंहार के विरोधी हैं… मैं भी नहीं…

ये अलग बात है कि इस देश में विकल्पहीनता की इस परम बेचारगी भरी अवस्था में ढेरों को मोदी ही अगला पीएम बनता हुआ नजर आ रहा है पर भारत की धरती की एक खास बात है…. ये ऐन मौके पर पासा पलट देने का माद्दा रखती है… देखते जाइए प्रभु… अभी बड़ा वक्त है… फिलहाल तो सलमान खान को होश में आने दीजिए… लोकसभा चुनाव बाद खुद मोदी भी होश में आएंगे..

'जय हो' का मैं भी बहिष्कार करता हूं… आप भी मत जाइएगा… हालांकि सलमान खान 'आजतक' समेत कई न्यूज चैनलों पर पेड इंटरव्यू देकर फिल्म देखने जाने को प्रेरित कर रहा है पर अब जब तीन दिन तक जनता प्रेरित नहीं हुई तो आगे कहां होने वाली… और, मोदी समर्थक फिल्म देखने जाने से रहे क्योंकि उनका कोई आफलाइन वजूद तो है नहीं… वो सिर्फ आनलाइन, फर्जी शकल लगाकर, पेड एजेंट बनकर हुआं हुआं करते रहते हैं….

फिल्मों को मजहब के हिसाब से देखने और न देखने का मैं भी कतई समर्थक नहीं हूं.. पर कष्ट तब होता है जब सलमान खान जैसा स्टार अपने फिल्म के प्रमोशन के वास्ते रणनीतिक तौर पर एक नई लॉबी के पास चला जाता है, पोलिटिकल गेम खेलने लगता है, अच्छे-बुरे का सर्टिफिकेट बांटने लगता है.. अमां यार, जाओ तुम चैनलों पर प्रमोशन करो, इंटरव्यू दो, शोज करो, कामेडी सर्कस में बैठकर हंसो-गाओ, रियल्टीज शोज के मंच पर जय हो करो…

किसने कह दिया कि मोदी साहब को अच्छा होने का सर्टिफिकेट जारी कर दो… यह गुनाह है सलमान…. और तुम्हारी इस चालाकी, कि मुस्लिम भाई तो मेरे गुलाम हैं ही, सो वो देखेंगे ही, और मोदी को अच्छा कह देने से देश भर के हिंदू जय हो जय हो करते हुए चले जाएंगे 'जय हो' को देखने, को बहुत आहिस्ते से समझदार लोगों ने समझ लिया और दिल ही दिल तुझे सबक सिखाने की ठान ली… सो पिट गई 'जय हो'…

पचास या साठ सा सत्तर या अस्सी या नब्बे या सौ करोड़ अब बहुत छोटी राशि हो गई है इन बड़े स्टारों के लिए… इसीलिए तो ये अबकी पांच सौ करोड़ से लेकर हजार करोड़ का सपना पाले बैठा था.. पर बेचारा अपने पुराने आंकड़ों से भी नीचे आ गिरा… जरूरी नहीं कि मेरी हर बात से आप सहमत हों, सो इस पोस्ट से भी सहमत हों. मुंडे मुंडे मतिर्भिन्ना… बात और विचार रखने का सबको अधिकार है… मुझे भी…

मेरा भी दिल उस दिन टूटा था जब मोदी की 'जय हो' करके सलमान खान लौटा था और मैंने तय कर लिया था कि यह फिल्म नहीं देखनी मुझे.. फिल्में सभी मजहब, जाति के लोग देखते हैं और फिल्म को उसके कंटेंट के आधार पर हिट या फ्लाप करते हैं. स्टार लोग अपनी कला में लीन रहते थे. राजनीति नहीं करते थे. लेकिन पहली बार एक खान ने एक मोदी से हाथ मिलाया, मोदी को अच्छा कहा और बेचारा धूल चाट गया….

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.


Mohammad Anas : मैं अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के अंतर्गत आने वाले ‘राईट टू रिजेक्ट ’ के जरिए सलमान खान की फिल्म ‘जय हो’ का बहिष्कार करता हूं. यदि आप चाहे तो ऐसा कर सकते हैं .गुजरात एवं मुज़फ्फरनगर दंगे के कथित ज़िम्मेदारों के मंच और उनके साथ के बाद सलमान खान की आने वाली हर फिल्म का मैं ठीक उसी तरह से विरोध करूँगा जैसे आज तक नरेंद्र मोदी का करता आया हूं. मेरा पैसा है ,मैं उसे तुम्हारे नाच पर नहीं खर्च कर सकता जबकि तब तुमने पैसों के लिए मोदी की पतंग उड़ा उसे गुड मैन कहा हो .

फुटपाथ पर सोये मासूम गरीबों की हत्या करने वाले सलमान खान जैसे लोग न सिर्फ रुपहले पर्दे पर बल्कि आम जिंदगी में भी इंसानियत का रत्ती भर ख्याल नहीं रखते . ह्युमन बीइंग नाम का टोटका चिंकारा और फुटपाथ कांड से बचने की सहानुभूति है . ह्यूमन की टीशर्ट का दाम ही दो हजार रुपए से शुरू है ,ऐसे बिजनेस माइंडेड सो काल्ड हीरो ने गुजरात दंगे के कथित ज़िम्मेदार मोदी की शान में कसीदे गाए और मुज़फ्फरनगर दंगों के बाद नाच नाचा .

इनकी कमर तोड़ने के लिए इनकी फिल्मों का बहिष्कार ही एक मात्र रास्ता है . मोदी ने यदि दस करोड़ दिए थे पतंग उड़ाने के लिए तो आप जनता लोग मिल कर तीस -चालीस करोड़ के बिजनेस का चपत लगा दीजिए . फिर पतंग उड़ाए या बेचे ,अपने से क्या मतलब .

युवा पत्रकार और सोशल एक्टिविस्ट मोहम्मद अनस के फेसबुक वॉल से.


Vikas Mishra : एक गुजारिश है। सलमान को सलमान ही रहने दीजिए मु-सलमान मत बनाइए। फेसबुक पर देख रहा हूं नरेंद्र मोदी के साथ पतंगबाजी को लेकर संग्राम मचा है। विरोधियों और समर्थकों दोनों के खुश होने और दुखी होने की वजह एक है-सलमान के आगे खान लगा हुआ है। ये बात सलमान खान ने आजतक के इंटरव्यू में कही भी थी। बॉलीवुड के तमाम सितारे वैसे भी धर्म-जाति के बंधनों से बहुत ऊपर होते हैं। सलमान के घर में गणेश पूजा होती है। हर साल उनके घर गणपति पधारते हैं। शाहरुख के घर ईद और दीपावली दोनों की धूम रहती है। रिश्ते भी जाति-धर्म से ऊपर उठकर होते हैं। शाहरुख-गौरी, सुनील दत्त-नरगिस, आमिर खान-रीना, किरण राव, ऋतिक रोशन-सुजैन खान, सलीम खान-हेलेन… लंबी फेहरिस्त है। नरेंद्र मोदी के तमाम प्रशंसक खुश हैं कि सलमान ने कह दिया कि मोदी को दंगों के लिए माफी नहीं मांगनी चाहिए, जरूरत पड़ी तो मोदी के लिए वो प्रचार करेंगे और ये भी कि मोदी गुड मैन हैं। सलमान न तो रसूल हैं और न ही इस्लामिक विद्वान जिन्होंने कह दिया और फतवा हो गया। जो लोग सलमान के बयान और मोदी के साथ पतंगबाजी को लेकर बौरा रहे हैं उनसे भी विनम्रता पूर्वक कहना चाहता हूं कि कोटरी की सोच से बाहर निकलिए। हर इंसान पहले इंसान है उसके बाद हिंदू या मुसलमान। एक पोस्ट देखी मैंने.. जो उसमें लिखा है, हूबहू पोस्ट कर रहा हूं।

पोस्ट इस तरह है– 'मोदी की पतंग उड़ाने चला था… ख़ुद की पतंग कटने वाली है.. सल्लू मियां हम मुस्लिम हैं हमने तुम्हें सर पे बैठाया है तो उतारना भी जानता हैं…हम तुम्हे 'भाई' कहते हैं और तुम कहते हो मोदी को माफ़ी मांगने की कोई ज़रुरत नहीं?? जो लोग गुजरात में मरे थे चाहे किसी भी धर्म के हों वो भी तुम्हे भाई कहते होंगे… अगर मोदी के पीछे दुम हिलाना ही तुम्हारी भाईगिरी है तो रहने दो.. हमें ऐसा भाई नहीं चाहिए…।'

अब आप ही फैसला कीजिए क्या इस तरह की पोस्ट को किसी भी तरह से उचित ठहराया जा सकता है।

आजतक न्यूज चैनल में कार्यरत पत्रकार विकास मिश्रा के फेसबुक वॉल से.


Komal Nahta :  Figures prove dat a section of Muslims has boycottd salman's JaiHo coz dey havn't liked his comments on modi.Wil the hero do damage control?

Salman said, main kaun hota hoon modi saab ko bolne wala, after all janata ne unhe elect kiya hai. Where is salman wrong? Kuchh bhi?!?!

And what salman said was quite different frm what some fanatics wud hav us believe. He DID NOT say modi shd not apologise

फिल्म समीक्षक कोमल नाहटा के फेसबुक वॉल से.


इसे भी पढ़ सकते हैं:

सलमान खान के धमकाने पर ब्लागर ने पोस्ट हटाई, माफी मांगी!

xxx

 

सलमान खान ने ब्लागर सौम्यदीप्त बनर्जी को धमका कर इन दो आर्टिकल्स को हटवाया, अब भड़ास पर पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *