सात दिनों से धमकी और प्रलोभन दोनों झेल रहा हूं

Sanjay Sharma : देश भर के सैकड़ो आईएएस गायब हैं . कुछ स्टडी लीव पर जाकर नहीं लौटे तो कुछ दूसरी तरह तरह की छुट्टी से गायब हैं . सूर्य प्रताप सिंह 9 साल बाद लौटे तो तुरंत सबसे प्रमुख जगह तैनात हो गए . मैंने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की जिसकी कल चीफ जस्टिस के सामने सुनवाई है …सात दिनों से धमकी और प्रलोभन दोनों झेल रहा हूँ ..अफसरों को बुरा लगे तो समझ आता हैं पर कुछ पत्रकारों को ही बुरा लगना मेरे लिए हैरत भरा था ..नवभारत टाइम्स पांच कॉलम में खबर छाप सकता है तो कुछ को मैन स्ट्रीम मीडिया कहने बालों को यह एक लाइन लायक भी खबर नहीं लगती..

खैर मुझ पर इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन क्यों नहीं छापता ..अब कुछ नहीं छुपता ..लोग सब समझते है ..अफसरों की चाटुकारिता भी और पेड न्यूज़ भी ..बस आप सबसे अनुरोध है कि दुआ कीजिए अदालत से वही फैसला हो जो उचित हो ..साथ ही सोचिये भी उन लोगो के बारे में जो बेचारे इतने महतवपूर्ण मुद्दों पर भी खबर नहीं लिख पाते ..और हाँ सरकार ने एलआईयू की पूरी टीम मेरी पड़ताल में लगाई थी ..मैं तो इन्तजार ही कर रहा हूँ कि मेरे कौन से मामले कब बताये जायेगे ? इन नौकरशाहों को पता नहीं क्यों यह बात समझ नहीं आती कि ना तो हर पत्रकार बिकाऊ होता है और ना ही इतना डरपोक कि अफसरों की धमकी से डर जाये ..

लखनऊ के पत्रकार संजय शर्मा के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *