सामूहिक बलात्‍कार मामले के गवाहों की पुलिस ने दी धमकी

नवी मुंबई :  तुर्भे में दस वर्षीय नाबालिक लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार और इलाज के दौरान मृत मामले की गवाह लड़कियों को धमकाए जाने का आरोप मृत लड़की के घर वालों ने लगाया है। इस के साथ ही गिरफ्तार युवकों में तीन युवकों के बालिग होने की जानकरी लड़की के घर वालों ने देते हुए इस मामले में चारों युवकों का मेडिकल जांच कर फांसी की सजा देने की मांग की है।

बता दें कि तुर्भे की हनुमान नगर में रहने वाली दस वर्षीय लड़की के साथ वही पास में रहने वाले चार युवको ने १६ जून को दस रुपये का लालच दिखाकर उसे पास के ही पहाड़ी पर बारी बारी से बलात्कार किया। इस घटना में पीड़ित लड़की घर आने के बाद बुखार से तपती रही। लड़की को जब उल्टियां होने लगी तो १६ जून को उसे एनएमएमसी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस बीच लड़की का तबीयत बिगड़ने पर 20 जून को ही उसे डीवाई पाटिल अस्पताल में भर्ती कराया गया। जंहा उपचार के दौरान उस की मौत हो गयी। इस के बाद पुलिस ने चारों युवकों के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज कर हिरासत में लिया और भिवंडी स्थित बालसुधार गृह में भेज दिया है।

पुलिस ने आरोपी लड़कों की उम्र नाबालिग होने के कारण बला सुधार गृह में भेजा है। इस के विरोध में पीड़ित लड़की के घर वालों ने पुलिस से मांग किया है कि उक्त युवकों की मेडिकल जांच किया जाना चाहिए। उन्होंने बताया है कि इन युवकों के उम्र १८ साल से अधिक है। इस के लिए उन्हें फांसी की सजा मिलनी चाहिए ताकि मेरी बेटी को न्याय मिल सके।

गवाहों को पुलिस की धमकी : तुर्भे हनुमान नगर की १० वर्षीय लड़की के साथ बलात्कार मामले की गवाह लड़कियों को पुलिस स्टेशन में पूछताछ के लिए बुलाये जाने पर तुर्भे पुलिस स्टेशन के पुलिस द्वारा धमकाए जाने का आरोप पीड़ित लड़की के पिता ने लगाया है। उन्होंने बताया कि बुधवार को पुलिस स्टेशन में गवाह लड़की को बुलाये जाने पर ले गए थे, लेकिन वहां मौजूद चव्हाण नामक पुलिस कर्मचारी ने उस लड़की को कहा कि तू बोलना कि यह गिरने से बीमार थी और उस के सर में मार लगाने से मौत हो गयी है। इस की जानकारी उन्होंने तुर्भे पुलिस को दिया है। सूत्रों के अनुसार उक्त पुलिस कर्मचारी पर कार्रवाई करने की तैयारी पुलिस विभाग कर रहा है।  

नागरिकों ने निकाली श्रद्धांजलि यात्रा : सामूहिक बलात्कार के कारन मृत दस वर्षीय बच्ची को श्रद्धांजलि देने के लिए नागरिकों ने गुरुवार शाम को कैंडल मार्च निकला। इस मार्च ने सैकड़ों नागरिक शामिल होकर श्रद्धांजलि दी। इस के साथ ही मांग किया कि आरोपी लड़कों को कठोर से कठोर सजा होनी चाहिए। इस यात्रा में हनुमान नगर की सर्वाधिक महिलायें शामिल थी। महिलाओं ने आवाज उठाया है कि अगर उक्त लड़की को न्याय नहीं मिला तो हम महिलायें इस के खिलाफ जन आन्दोलन करेंगे।

मुंबई से नागमणि पांडेय की रिपोर्ट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *