सीएम अखिलेश के बर्ताव पर एनडीटीवी के अनंत जनाने ने लिखकर दिया जवाब

यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव के चेहरे में लोगों ने एक सौम्य, समझदार और प्रगतिशील युवा देखा. इसके कारण अखिलेश को अच्छा खासा सपोर्ट व वोट मिला. डीपी यादव के आपराधिक बैकग्राउंड के कारण सपा में लेने से अखिलेश यादव ने मना कर दिया तो सबने अखिलेश को सराहा. पर अब सीन उलट चुका है. गद्दी मिलने के बाद अखिलेश के नेतृत्व में यूपी में जिस किस्म का जंगलराज प्रारंभ हुआ है, उसे देखकर लोग अब मायावती के शासन को ज्यादा बेहतर बताने कहने लगे हैं.

सपा वाले पूरे गर्व से माफिया अतीक अहमद को लोकसभा टिकट दे रहे हैं और पत्रकार जब मुजफ्फरनगर में ठंढ से बच्चों के करने से संबंधित सवाल पूछते हैं तो अखिलेश यादव डांटने डपटने के अंदाज में पत्रकार को पीछे जाकर खड़े होने और चुप रहने की नसीहत देने लगते हैं. लखनऊ में एनडीटीवी के पत्रकार अनंत जनाने के साथ अखिलेश ने जो सुलूक किया, उसकी चहुंओर निंदा की जा रही है. खुद अनंत जनाने ने एक पत्रकार के नाते अपने साथ अखिलेश के बर्ताव का जवाब कलम के जरिए दिया है और सब कुछ विस्तार से बताया है. आप भी पढ़िए. -यशवंत, एडिटर, भड़ास4मीडिया


Akhilesh Yadav upset with NDTV over Muzaffarnagar coverage

Written by Anant Zanane

Lucknow:  Akhilesh Yadav, the chief minister of Uttar Pradesh, nettled by a series of NDTV reports on the grim conditions in Muzaffarnagar's relief camps, today said at a press conference in Lucknow that he would not take any questions from me.

"I won't take your questions," the 40-year-old said. When I tried to ask him another question, he said, "You please return to the rear of the room. You appear best when you are there."

In September, nearly 60 people were killed in Hindu-Muslim violence in Muzaffarnagar in the worst riots in Mr Yadav's state in over a decade. 40,000 people were displaced from their homes.

NDTV's coverage has focused on the conditions of the refugee camps which mushroomed to accommodate the homeless. When NGOs reported on children falling sick from the extreme cold, we launched a blanket donation drive. Viewers have sent over 6,000 blankets for Muzaffarnagar's relief camps.

Mr Yadav seemed especially irked by a report over the weekend in which NDTV highlighted the fact that while those still living in camps are complaining of being forcibly evicted by government officials, ministers were present in expensive celebrations at an annual festival in Saifai, the chief minister's village. (Read)

NDTV's coverage of Muzaffarnagar has included stories that looked at how politicians from different parties appear to have done their part in fanning the communal violence in September by delivering provocative speeches. (साभार- एनडीटीवी)


अखिलेश यादव ने पत्रकार के साथ कैसा किया बर्ताव… इससे संबंधित वीडियो देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें…

Shame Shame Akhilesh Yadav
https://www.youtube.com/watch?v=FQf6hv7CX0U


संबंधित खबर…

लखनऊ के पत्रकारों की ऐसी बेइज्जती तो मायावती ने भी नहीं की जैसी आज अखिलेश न कर दी

xxx

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *