सुभाष चंद्रा और पुनीत गोयनका ने खुद को और अपने संपादकों सुधीर चौधरी व समीर अहलूवालिया को क्लीन चिट दे दी

आप जांच वगैरह करते-कराते रहिए, जी ग्रुप के मालिकों ने तो खुद को और अपने संपादकों को क्लीन चिट देकर अपने स्तर से मामले को खत्म कर दिया है. इस बारे में समाचार एजेंसी पीटीआई ने एक खबर जारी की है. इसमें जी ग्रुप की तरफ से जीक्यू नामक पहला एजुटेनमेंट (एक से चौदह साल की उम्र के बच्चों के लिए केंद्रित एजुकेशन प्लस इंटरटेनमेंट) चैनल लांच किए जाने के मौके पर पुनीत गोयनका द्वारा सुनाए गए अनमोल वचन को बयान किया गया है. 

जी इंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज के मैनेजिंग डायरेक्टर और चीफ एक्जीक्यूटिव आफिसर पुनीत गोयनका ने कहा कि नवीन जिंदल की कंपनी की तरफ से लगाए गए आरोप बकवास हैं. ऐसे आरोप लगते रहते हैं. आगे भी लगेंगे. यह सब दबाव बनाने की रणनीति है. जी ग्रुप के चेयरमैन सुभाष चंद्रा ने कहा कि उनके चैनल का कोई भी पत्रकार गलत काम में लिप्त नहीं है. उन पर लगाए गए आरोप झूठे हैं. पीटीआई की पूरी खबर इस तरह है…

Zee group denies Jindal allegations

PTI

Mumbai, Oct 15:

Zee Television group today denied the allegation made by the industrialist and Congress MP, Naveen Jindal against the channel that it had sought advertisement commitments worth crores of rupees.

“This kind of allegation has happened in the past and may happen in the future. It doesn’t make any difference to us and we will stick to the truth. These are all pressure tactics,” Punit Goenka, Managing Director and Chief Executive, Zee Entertainment Enterprises said here after launching ZeeQ, the first edutainment channel from the group, aimed at catering to needs of children in the 1-14 age group.

Last week, Naveen Jindal had filed a police complaint against Zee News charging that its senior journalists had demanded “advertisement commitments” worth crores of rupees to block airing a negative story about the company’s alleged involvement in the scam-tainted coal block allocations.

Subsequently, Zee News also alleged that Jindal misbehaved with a team of its reporters after they sought clarifications from him on the allegations levelled against his company for alleged irregularities in allocation of coal bocks. Zee Group Chairman, Subhash Chandra had also said his journalists were not involved in any wrongdoing and asserted that the accusations were false.

इस प्रकरण से संबंधित एफआईआर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें- जी जिंदल एफआईआर


इस प्रकरण से संबंधित संपूर्ण खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें- zee jindal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *