हमारे महंत पत्रकार इसी तरह जूरी के सदस्य बनकर पत्रकार के बजाय अखबार मालिक को सम्मानित करते रहेंगे!

Vineet Kumar : पिछले दिनों दैनिक भास्कर ने अपने यहां छंटनी की और जबरदस्ती मीडियाकर्मियों से इस्तीफा देने का दवाब बनाया. उसके कुछ दिनों बाद मीडिया इन्डस्ट्री में हल्ला हुआ कि यहां भारी पैमाने पर भर्ती हो रही है. एक तरफ रातोंरात लोगों को सड़क पर लाने का काम और दूसरी तरफ भारी पैमाने पर अवसर होने की खबर..

क्या मीडिया इन्डस्ट्री के भीतर की बर्बरता इसी तरह चलती रहेगी और हमारे महंत पत्रकार इसी तरह जूरी के सदस्य बनकर पत्रकार के बजाय अखबार मालिक को सम्मानित करते रहेंगे. महंतों ने पूछा नहीं भास्कर से कि आपने ऐसा क्यों किया ? मीडिया इन्डस्ट्री दुनियाभर के लोगों से जितनी नैतिकता और मानवता की बात करता है, वो खुद उतना ही अनैतिक और क्रूर है.

मीडिया विश्लेषक विनीत कुमार के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *