हिंदुस्तान, देहरादून में स्ट्रिंगर को सीनियर रिपोर्टर बना दिया गया

हिंदुस्तान के देहरादून एडिशन से खबर है कि स्ट्रिंगर विमल पुरवाल को तहसील से उठाकर राजधानी में सीनियर रिपोर्टर बना दिया गया. संपादक गिरीश गुरूरानी के इस फैसले का हिंदुस्तान के कई रिपोर्टरों ने विरोध किया है और प्रबंधन से शिकायत दर्ज कराई है. सूत्रों का कहना है कि देहरादून में उषा रावत, अंशुल दांगी कई साल से स्ट्रिंगर हैं और पैसा भी 5 हज़ार से ज्यादा नहीं मिल रहा लेकिन संपादक ने अचानक विमल पुरवाल को सीनियर रिपोर्टर बना दिया और उषा रावत व अंशुल दांगी की अनदेखी कर दी.

तीन साल पुराने स्ट्रिंगर को स्टाफर न बनाकर सीधे सीनियर रिपोर्टर बनाना चर्चा का विषय बना हुआ है. देहरादून हिंदुस्तान में मनीस भट्ट, सुकांत ममगाईं, घनश्याम, शैलेन्द्र सेमवाल के अलावा कई और लोग अभी भी कार्यालय संवाददाता बने हुए हैं. आरोप है कि गुरूनानी अपने खास लोगों को बढ़ावा दे रहे हैं. भास्कर उप्रेती जैसे रिपोर्टर को डेस्क पर बैठाया गया है और शिमला से सुनील डोभाल को रूड़की का चार्ज दे दिया गया. हरिद्वर में अजय यादव ने गुरूरानी से परेशान होकर नौकरी छोड़ दी. सूत्रों के मुताबिक संपादक से खफा होकर कई लोग दूसरे अखबारों का दरवाजा खटखटा रहे हैं.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *