हिंदुस्‍तान के क्राइम रिपोर्टर तारिक एक सप्‍ताह से नहीं आ रहे कार्यालय

भ्रष्ट, लापरवाह और गुणवत्ता विहीन लोगों को अमर उजाला बाहर का रास्ता दिखा रहा है। नोटिस पीरियड पर चल रहे ऐसे लोगों को लेकर हिंदुस्तान यह प्रचारित कर रहा है कि उसने अमर उजाला के रिपोर्टर तोड़ कर बहुत बड़ी जंग जीत ली। हिदुस्तान, बरेली के साथ हाल ही में कुछ नए लोग जुड़े हैं, तभी पुराने लोगों को बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। हालांकि कुछ लोगों को हिंदुस्तान से आउट करने पर संपादक की प्रशंसा भी हुई है। फिलहाल पीलीभीत के ब्यूरो चीफ संदीप सिंह और यहीं के तेजतर्रार क्राइम रिपोर्टर तारिक अंसारी को लेकर हिन्दुस्तान के अन्दर की राजनीति गर्म है।

बताया जाता है कि पिछले सप्ताह पूरनपुर स्टेशन की देवर संग भाभी के भागने की एक खबर को लेकर कार्यालय बंद होने के बाद डेस्क प्रभारी ने फोन किया और कई गलतियाँ बताईं, इस पर तारिक अंसारी ने यह कह कर फोन काट दिया कि फाइल सामने नहीं है, इसलिए वह कुछ नहीं बता सकते हैं, इसी बात को लेकर डेस्क प्रभारी, समाचार संपादक वगैरह ने ईगो इश्‍यू बना लिया और अपनी गलती छुपा कर आधी-अधूरी जानकारी देते हुये दोनों के विरुद्ध संपादक से चुगली कर दी। इसके बाद संपादक कुमार अभिमन्यु ने संदीप सिंह और तारिक अंसारी को बरेली बुलाया, तो संदीप सिंह तो आ गए, पर उस दिन के बाद से तारिक अंसारी कार्यालय नहीं आये हैं और न ही बरेली आकर मिले हैं, वहीं संदीप सिंह के बारे में भी अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। सूत्रों के अनुसार जगमोहन शर्मा को पीलीभीत का ब्यूरो चीफ शीघ ही बनाए जाने की चर्चा जोरों पर है।

पत्रकार बीपी गौतम की रिपोर्ट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *