हिन्दुस्तान, कानपुर प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई का नोटिस

हिन्दुस्तान प्रबंधन कानपुर द्वारा निकाले गए चारों पीड़ित कर्मियों संजय दूबे, पारस नाथ शाह, नवान कुमार एवं अंजनी प्रसाद  के मामले की सुनवाई में लेबर कमिश्नर द्वारा बार-बार बुलाये जाने के बावजूद प्रबंधन की तरफ से किसी के ना आने से लेबर कमिश्नर ने सख्त नाराजगी जताई है. लेबर कमिश्नर ने कर्मचारियों की अपील पर हिन्दुस्तान प्रबंधन को अपना पक्ष रखने के लिए 6 दिसम्बर उपस्थित रहने को कहा था. लेबर कमिश्नर के द्वारा नोटिस भेजने के बाद भी प्रबंधन की तरफ से कोई नहीं आया.
 
लेबर कमिश्नर ने एचटीमीडिया कानपुर प्रबंधन को पत्र लिखकर इस तरह से कर्मचारियों को परेशान करने और श्रम आयुक्त द्वारा बार-बार बुलाये जाने के बावजूद प्रबंधन की तरफ से किसी के उपस्थित ना होने पर सख्त ऐतराज जताया है. श्रम आयुक्त ने पत्र में पूछा है कि बार-बार आदेशों का उल्लंघन करने के लिए क्यूं ना आपके खिलाफ दण्डात्मक कार्रवाई की जाय.
 
लेबर कमिश्नर द्वारा भेजे नोटिस को हिन्दुस्तान प्रबंधन ने लेने से ही इंकार कर दिया था जिसके बाद नोटिस को स्पीड पोस्ट से भेजा गया. उसके बावजूद भी मैनेजमेंट की तरफ से कोई भी अधिकारी श्रम आयुक्त के समक्ष उपस्थित नहीं हुआ था. प्रबंधन द्वारा बार-बार श्रम विभाग के आदेशों की अवहेलना करने के कारण श्रम आयुक्त ने जल्द ही मामले को लेबर कोर्ट में प्रस्तुत करने को कहा है.
 
श्रम आयुक्त द्वारा हिन्दुस्तान को भेजा गया नोटिस-

सम्बन्धित खबरें…

जीएम द्वारा नोटिस ना लेने पर हिन्दुस्तान के पीड़ित कर्मचारियों ने सीईओ को भेजा पत्र

xxx

जब हिन्दुस्तान अखबार चल निकला तो प्रबंधन ने निकाल बाहर कर दिया

xxx

हिन्दुस्तान अखबार ने पीड़ितों के खिलाफ ही जांच बिठा दी

xxx

हिंदुस्तान अखबार के 22 छोटे कर्मियों का दूर-दराज तबादला… (देखें लिस्ट) …उत्पीड़न चालू है…

xxx

सात करोड़ रुपये बचाने के लिए शोभना भरतिया और शशि शेखर ले रहे हैं अपने 22 बुजुर्ग कर्मियों की बलि!

xxx

दो पीड़ित हिंदुस्तानियों ने लेबर कमिश्नर शालिनी प्रसाद से की लिखित कंप्लेन (पढ़ें पत्र)

xxx

हिंदुस्तान, कानपुर के मैनेजर और पीड़ित कर्मियों के बीच श्रम विभाग ने बैठक कराई, कोई नतीजा नहीं

xxx

हिंदुस्तान, कानपुर के चार कर्मियों ने अखबार मैनेजमेंट के खिलाफ श्रम विभाग को लिखा पत्र

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *