​केजरीवाल बोले, मीडिया वालों थोड़ी शर्म करो

: चुनावी रैली में मीडिया पर निकाली खूब भड़ास : अंबानी के बहाने मीडिया रहा निशाने पर : सिर्फ टाइम्स आफ इंडिया को सराहा : रोहतक, 23 फरवरी। अरविंद केजरीवाल को अब मीडिया अपना सबसे बड़ा दुश्मन दिखता है। इसलिए उन्हें जब भी मौका मिलता है तो वे शुरू हो जाते हैं मीडिया के खिलाफ बड़बड़ाना। आज भी उन्हें वह मौका मिल गया। दिल्ली के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद केजरीवाल पहली बार अपनी चुनावी रैली को संबोधित करने हरियाणा पहुंचे। रविवार को वे हरियाणा की राजनीतिक राजधानी कहे जाने वाले रोहतक में थे। उन्होंने लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान की हुड्डा के गढ़ से शुरूआत की। पर यहां केजरीवाल ने राजनीति से ज्यादा मीडिया को कोसने में ज्यादा समय अपना व्यतीत किया।

केजरीवाल ने मुकेश अंबानी के बहाने मीडिया पर खूब भड़ास निकाली। उनका भाषण ज्यादातर अंबानी पर ही केंद्रित रहा। अब अंबानी का जिक्र हो और मीडिया की बात न हो, ऐसा हो नहीं सकता। आजकल हालत यह है कि हर दूसरे-तीसरे मीडिया घराने में अंबानी की हिस्सेदारी है। केजरीवाल एक बार शुरू हुए तो फिर थमे ही नहीं। एक बार तो ऐसा लगा कि जैसे उन्हें दौरा पड़ा हो। बाकी सब भूल वे कभी अंबानी और फिर मीडिया, फिर अंबानी और कभी मीडिया को ही कोसते रहे। पर एक बात और बता दूं, वो ये कि केजरीवाल ने सिर्फ टाइम्स आफ इंडिया यानि टीओआई की तारीफों के ही पुल बांधे। बांधे भी क्यों न, इसी अंग्रेजी अखबार ने जो एक सर्वेक्षण आम आदमी पार्टी के पक्ष में दिखाया था। इसलिए मिस्टर केजरीवाल ने बाकी सबको नहीं बख्शा। पर वे यह भूल गए कि चाहे अन्ना आंदोलन हो या फिर दिल्ली में उनका मुख्यमंत्रित्वकाल, उन्हें जो प्रचार मिला, वह शायद ही किसी को मिला हो और वह भी इसी मीडिया की बदौलत था, जिसे वह पानी पी पी कर कोस रहे हैं।  

अरविंद केजरीवाल मंच पर पहुंचे तो पहले तो इधर-उधर की बातें की लेकिन कुछ ही मिनट बाद सीधे प्वाइंट पर आ गए। बात मुकेश अंबानी से शुरू की और खत्म भी उन्हीं पर हुई। बोले अंबानी की एक जेब में कांग्रेस और दूसरी में भाजपा। दो मुखौटे हैं राहुल और मोदी। इसके बाद तो ताबड़तोड़ मीडिया पर हमला बोलना शुरू कर दिया। जो एक बार शुरू हुए तो फिर रूकने का नाम ही नहीं लिया। वे बोले कि अंबानी ने कई टीवी चैनल्स और अखबार खरीद लिए हैं। कई मीडिया संस्थानों को पैसे दिए हैं, वो इसलिए कि आने वाले तीन माह में जब लोकसभा चुनाव होने हैं, केजरीवाल को बदनाम करो। आगे उन्होंने दिल्ली के अंग्रेजी अखबार का हवाला दिया कि इस अखबार के मालिक के तो खुद गैस के कुंए हैं। फिर बोले मीडियो को भी ठीक करना पड़ेगा। अपनी रैली में मौजूद कार्यकर्ताओं से बोले कि फोन उठाकर मीडिया संस्थान के पास फोन करना कि आप लोग देश के साथ गद्दारी कर रहे हो।

अब बात सर्वेक्षण की केजरीवाल ने की। कहा कि टीवी चैनल्स आजकल सर्वे दिखा रहे हैं कि मोदी की 230 सीट आएंगी, जब चुनाव आएगा तो दिखाएंगे कि 272 का आंकड़ा छू लिया। लेकिन जब दिल्ली में विधानसभा का चुनाव हुआ था तब सभी मीडिया संस्थानों ने कहा था कि तीन या चार सीट ही आएंगी, पर आई 28। ये मीडिया संस्थान पैसे खाकर सर्वे दिखाते हैं। खुद का उदाहरण देकर केजरीवाल बोले कि मेरे से पूछते हैं कि कितने बेडरूम के फ्लैट में रहेंगे, पर क्या कभी मोदी और राहुल से पूछा है यह।

अब बात जब खुद के पक्ष में सर्वेक्षण की आई तो केजरीवाल ने टाइम्स आफ इंडिया का उदाहरण दिया। इस सर्वेक्षण में बताया गया था कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार रहते हुए भ्रष्टाचार में कमी आई। इस सर्वे पर खुशी जताते हुए दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया वाले कहते हैं सरकार चलानी नहीं आती, अरे दिल्ली की जनता खुश है तो फिर उन्हें क्या दिक्कत है। मीडिया वालों थोड़ी शर्म करो। और इसी के साथ केजरी का मीडिया को कोसने का सिलसिला खत्म हुआ। अपने भाषण का समापन उन्होंने हरियाणा में अपने आगामी चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ किया।

रोहतक से पत्रकार दीपक खोखर की रिपोर्ट. संपर्क: 09991680040, khokhar1976@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *