जब ‘खंडूड़ी हैं जरूरी’ तो 2009 में उन्हें हटाया क्यों गया!

देहरादून। कांग्रेस महासचिव व प्रदेश प्रभारी चौधरी वीरेंद्र सिंह ने कहा कि भाजपा के पास कोई चुनावी मुददा नहीं रहा इसलिए ‘खंडूडी हैं जरूरी’ का नारा देकर अपनी मजबूरी दिखा रहे हैं। भाजपा का यह नारा बेअसर हो चुका है क्योंकि मतदाता पूछ रहे हैं कि जब खंडूड़ी जरूरी हैं तो 2009 में उन्हें हटाया क्यों गया? उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जो मुद्दे उठाए हैं उसका व्यापक असर हो रहा है। इससे आम मतदाता कांग्रेस से जुड़ रहा है। शनिवार को वीरेंद्र सिंह ने कहा कि पार्टी ने चुनावों में जो भी मुद्दे उठाए हैं उन्हें मतदाताओं का पूर्ण समर्थन मिल रहा है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता कि कांग्रेस की रैलियों में भारी संख्या में लोगों ने शिरकत की जबकि भाजपा के स्टार प्रचारकों की रैलियों में सन्नाटा रहा।

इसके पीछे सबसे बड़ी वजह यह है कि भाजपा मुद्दाविहीन राजनीति कर रही है। मतदाता परिवर्तन चाहते हैं। यह बात गहराई तक महसूस की जा रही है। इससे तय है कि कांग्रेस 37-42 सीटें जीतकर पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बना रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज्य के विकास के प्रति साफ व स्पष्ट सोच रखती है और उसी के अनुरूप योजना तैयार करेगी। पर्यटन, ऊर्जा , उद्योग, जैविक कृषि व तराई को सीड जोन बनाने के लिए कांग्रेस वचनबद्ध है।

चौधरी वीरेंद्र ने कहा कि चुनाव प्रचार थम जाने के बाद मतदान तक यानी अगले 40 घंटों तक कार्यकर्ताओं का सतर्क किया गया है, क्योंकि विरोधी दल लोगों को गुमराह करने की साजिश कर सकते हैं। कांग्रेस ने कहा कि पर्यवेक्षकों व प्रत्याशियों की रिपोर्ट के आधार पर कुछ शीर्ष पदाधिकारियों का निष्कासन हुआ है। इनमें एक दो नाम ऐसे हैं जिन्हें सूचनाओं के अभाव में नोटिस दिया गया था। इन्हें जारी नोटिस रविवार को वापस ले लिया जाएगा। इनमें पूर्व महामंत्री मेहरसिंह (हरिद्वार) व उनकी पत्नी टीका देवी शामिल हैं। वीरेंद्र सिंह ने कहा कि तीन नए प्रदेश प्रवक्ता नियुक्त किए गए हैं। इनमें मथुरा दत्त जोशी, मोहन पाठक व शिल्पी अरोड़ा शामिल हैं। ये तीनों प्रवक्ता कुमाऊं मंडल से हैं। 

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *