नन्‍हें-मुन्‍ने चलाएंगे ABP समूह का अपकमिंग पंजाबी न्‍यूज चैनल?

चंडीगढ़- खबर है कि ABP समूह का पंजाबी न्यूज़ चैनल कुछ महीने में आने वाला है, जिसके लिए चंडीगढ़ में ट्रेनी स्टाफ की ट्रेनिंग का दौर शुरू कर दिया गया है। यह ट्रेनिंग पिछले करीब एक महीने से चल रहा है, ट्रेनिंग लेने वाले सभी 30 के करीब लोग वो हैं जो अपने कालेज से सीधा ही ABP न्यूज़ के स्टाफ मेम्बर बने हैं। इन सभी का चयन खुद एडिटर इन चीफ शाजी ने किया है और चयन में  पंजाब के ब्यूरो चीफ जगविंदर पटियाल की भी अहम भूमिका रही है। 

ABP न्यूज़ ने अब तक किसी भी सीनियर एव तजुर्बेकार पत्रकार को अपने इस पंजाबी चैनल में जोड़ने की कोशिश तक नहीं की है। यहाँ तक कि अब तक एक भी ऐसा नाम टीम में शामिल नहीं किया गया, जिसके पास कोई एक दो महीने का ही तजुर्बा ही हो। बस कुछ कैमरामैन जरूर हैं जो पहले से मीडिया में काम कर रहे थे। आज कल पंजाब का पूरा मीडिया इसी बात को लेकर चर्चा कर रहा है कि क्या ABP वाले इन्हीं बच्चों की टीम से अपना नया चैनल चलाने की तैयारी में है, जिन्हें फील्ड की ABC तक नहीं पता। शायद चैनल प्रबंधन सस्ते टीम के चक्कर में ही यह दांव खेल रहा है, लेकिन इस दांव का हश्र क्‍या होगा इसका अंदाजा लगान मुश्किल नहीं है।

पता नहीं आज कल ABP समूह किस पालिसी पर काम कर रहा है क्‍योंकि जूनियर टीम का हश्र ABP न्यूज़ (हिंदी) पर सभी देख रहे हैं। स्टार ग्रुप से अलग होने और दीपक चौरसिया के जाने के बाद लगातार सीनियर पत्रकार इस ग्रुप को छोड़ते जा रहे हैं, लेकिन चैनल ने किसी भी सीनियर पत्रकार को अपने साथ जोड़ने की कोशिश नहीं की, जबकि आजतक, इंडिया न्‍यूज के साथ लगातार बड़े नाम जुड़ते जा रहे हैं और इसका सीधा असर चैनल की TRP पर नज़र आ रहा है। हर रोज होने वाली बड़ी बहस के वक़्त भी चैनल पर किसी बड़े नाम की कमी खलती रहती है क्‍योंकि अब चैनल के पास किशोर अजवाणी के इलावा कोई और सीनियर एंकर भी नहीं बचा है।

जब इस चैनल के पास स्टार न्यूज़ नाम का ब्रैंड और दीपक चौरसिया जैसे नामी पत्रकार थे, तो इसकी अलग पहचान थी। अगर मैं सभी का नाम लिखने लगा जो लोग चैनल छोड़ कर गए हैं तो शायद पूरी खबर की जगह नाम ही पूरे आयेंगे, जिन्हें लोग भरोसे के तौर पर देखते थे तो हर कोई इस चैनल को आज तक के मुकाबले में देखता था। लेकिन अब के हालात देख कर लगता है कि शायद आने वाले दिनों में आज तक की मुश्किलें और आसान होने वाली हैं।

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित. अगर उपरोक्त बातों में कोई कमी-बेसी नजर आए तो नीचे दिए गए कमेंट बाक्स के जरिए या फिर भड़ास को मेल bhadas4media@gmail.com करके अपनी बात रख सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *