Fraud Nirmal Baba (65) : निर्मल को चोर बताने के लिए चैनलों ने चोरों को बिठाया

Anand Pradhan :  निर्मल बाबा के ढोंग और लूट की पोल खुल चुकी है…लेकिन चैनलों पर ये क्या हो रहा है? निर्मल बाबा को ढोंगी और फरेबी बताने के लिए चैनलों पर वैसे ही संदिग्ध बाबा, योगाचार्य, धर्मगुरु और ज्योतिषाचार्य बैठे हैं जो खुद भी इसी फरेबी नेटवर्क के हिस्से हैं. क्या चोर पकड़ने के लिए चोर से ही पहचान करवाना जरूरी है? लेकिन “फिसल पड़े तो हर गंगे” की तर्ज पर निर्मल बाबा से तौबा करने वाले चैनलों को उनके प्रतिरूपों से कोई शिकायत नहीं है…मजा यह कि ये सब फरेबी, ढोंगी और ठग अपनी कथित ‘सिद्धियों और विद्या’ के बढ़-चढ़कर दावे कर रहे हैं और चैनलों पर विज्ञान और तार्किकता की बात करनेवालों से भिडे पड़े हैं..यह इन बहुरूपियों का महिमामंडन नहीं तो और क्या है? अरे भाई, ये सब निर्मल बाबा के छोटे-बड़े प्रतिरूप हैं..मौके के इंतज़ार में हैं..कल के निर्मल बाबा हैं..लेकिन वैज्ञानिकों और ढोंगियों की महाबहस करवाने वाले चैनलों से और अपेक्षा भी क्या की जा सकती है? इससे ज्यादा एब्सर्डिटी और स्टुपिडीटी और क्या हो सकती है? जागो ग्राहक, जागो !!!!

        Rp Singh Pahale gandagi kariye fir safai abhiyan.ye hamari media bhi ajeeb hai.
 
        Binit Sinha papi pet ka sawal hai sir…
 
        Sanjeev Prabhaker Lekin ramdev ko koi kyo nahi bol raha wo to cancer or aids ka ilaz batata tha
   
        Shahnawaz Malik कहीं ये बहसें भी प्रायोजित तो नहीं? ये मार्केटिंग फंडा मालूम पड़ता है
    
        Siddharth Rai Sir what was made by media is now being demolished, however the system remains the same..
 
        Anil Kumar Shukla Channelon ka dhandha bharat mein kaafi ful fool raha hai.Jo patrkar nahi wo satta ki dalali kar bhar pet khaate hain.Nirmal baba jaise dhongi neta bhee hain.
 
        Asha Kiran Indian media has totally diff. siddhant. News ke alawa wo sare content dikhate hai jo TRP ke liye zaroori hai.news to sirf bahana hai maksad to paisa aur rutaba banana hai.
   
        Nimesh Rai sorry sir …mujhe aapki baat pe hansi aa rahi hai…mujhe hansane dijiye……mai to kahoonga ki aap bhi hansiye…..!
    
        Dinesh Vashist baba digdarshi mahatma banne ka prapanch rachte hai… lekin in dhongiyo ke is makkadjal ke liye hum log bhi jimmedal hai… hum inke dhon ko tabhi dekh pate hai, jab koi news channel ya paper hame yah dikhlata hai……… aakhir hum us vakt palat kar jawab kyo nhi dete jab jab ye dhongi bat tak katne ke paise vasulate hai…. jab hum fat se apni jebe dhili karte vakt nhi hichakte, jab agnivesh jaise log madhyasta ke naam par apne mathe par chandal ka tilak laga lete hai………. in ponge pandito aur dhongiyo ka benakab karne ke liye sakash bhartiyon ko to isme dakhal dena hoga………….
      
        Sanjay Sharma Sahi baat hai.
       
        Vipin Niraj ye channel to khud hi bade dhongi baba hai pahle to babao ko upar chadhate hai fir niche utarte hai.
        
        Avinash Kumar Chanchal सर, जिस देश में धर्म का क्लोरोफॉर्म सूंघ कर लोग बेहोश पड़े हैं वैसे में निर्मल बाबा जैसे ठोंगियों का पोल खोलने के लिए दूसरे बाबाओं की मदद लेना चैनलों की मजबूरी है।

पत्रकारिता शिक्षक आनंद प्रधान के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *