IRS 2012 Q4 : प्रभात खबर के औसत पाठक 31 फीसदी बढ़े

: धनराज में मजबूती से पहले नंबर पर बरकरार : मुंबई : इंडियन रीडरशिप सर्वे (आइआरएस) की ताजा रिपोर्ट में देश के शीर्ष 10 हिंदी अखबारों में प्रभात खबर ने 2012 की चौथी तिमाही में सबसे ज्यादा औसत पाठक संख्या वृद्धि दर दर्ज की है.

पिछले एक साल की अवधि को देखा जाये, तो 2011 की चौथी तिमाही के मुकाबले 2012 की चौथी तिमाही में प्रभात खबर की औसत पाठक संख्या में 31 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है, जबकि हिंदुस्तान ने मात्र दो फीसदी वृद्धि दर्ज की और दैनिक भास्कर के औसत पाठकों व कुल पाठकों में एक-एक फीसदी की कमी आयी. इसी तरह प्रप्रभात खबर की कुल पाठक संख्या भी 20 फीसदी बढ़ी, जबकि हिंदुस्तान ने मात्र दो फीसदी, दैनिक जागरण ने मात्र एक फीसदी की वृद्धि ही दर्ज की.

इंडियन रीडरशिप सर्वे 2012 की चौथी तिमाही की रिपोर्ट के मुताबिक शीर्ष 10 हिंदी अखबारों में से दैनिक जागरण व दैनिक भास्कर समेत छह अखबारों की औसत पाठक संख्या में कमी आयी है, हिंदुस्तान समेत तीन अखबारों ने नाममात्र की वृद्धि दर्ज की है, जबकि प्रभात खबर ने इस अवधि में 98,000 नये पाठक जोड़. कर 3.55 फीसदी की वृद्धि दर्ज की. देश के शीर्ष 10 हिंदी अखबारों में प्रभात खबर मजबूती से सातवें स्थान पर बना हुआ है और तेजी से छठे स्थान की ओर बढ. रहा है. प्रभात खबर के इस सूची में नवभारत टाइम्स आठवें स्थान पर है और उसकी औसत पाठक संख्या में गिरावट दर्ज की जा रही है. झारखंड के तीन प्रमुख शहरों धनबाद, रांची व जमशेदपुर (धनराज) में कुल मिला कर प्रभात खबर औसत पाठक संख्या में मजबूती के साथ पहले स्थान पर बना हुआ है. पिछले एक साल के दौरान इन शहरों में कुल मिला कर प्रभात खबर की औसत पाठक संख्या बढ़ी है.

बिहार में तीसरी तिमाही के मुकाबले 2012 की चौथी तिमाही में प्रभात खबर की औसत पाठक संख्या वृद्धि दर सबसे ज्यादा 6.47 फीसदी रही, जबकि हिंदुस्तान मात्र 0.17 फीसदी की अति मामूली वृद्धि ही दर्ज कर पाया. दैनिक जागरण की औसत पाठक संख्या में तो 1.39 फीसदी की गिरावट आयी. इसके अलावा, बिहार के चारों क्षेत्रों, पटना, मिथिला, भोजपुर व मगध में सिर्फ प्रभात खबर ने ही अपनी औसत पाठक संख्या में वृद्धि दर्ज की. भोजपुर में प्रभात खबर की वृद्धि दर 34.68 फीसदी रही जबकि हिंदुस्तान की वृद्धि दर इसके आधे से भी काफी कम रही और जागरण की वृद्धि दर मात्र 2.97 फीसदी ही रही. मगध में तो हिंदुस्तान के 11.23 फीसदी और जागरण के 2.81 फीसदी औसत पाठक कम हुए जबकि प्रभात खबर की औसत पाठक संख्या बढ़ी. 2011 की चौथी तिमाही से तुलना में 2012 की चौथी तिमाही में बिहार में प्रभात खबर की औसत पाठक संख्या 95 फीसदी बढ़ी है, जबकि हिंदुस्तान में कोई वृद्धि नहीं हुई और जागरण की औसत पाठक संख्या एक फीसदी कम हो गयी.

इस अवधि में मिथिला में प्रभात खबर ने 111 फीसदी, भोजपुर में 59 फीसदी, मगध में 97 फीसदी और पटना में 14 फीसदी नये पाठक जोडे.. मिथिला में हिंदुस्तान की औसत पाठक संख्या में आठ फीसदी और जागरण की औसत पाठक संख्या में 11 फीसदी की कमी आयी. अगर कुल पाठक संख्या को लें तो इस अवधि के दौरान बिहार में प्रभात खबर ने 53 फीसदी की वृद्धि दर्ज की. भोजपुर में यह वृद्धि 75 फीसदी, मिथिला में 65 फीसदी, मगध में 29 फीसदी और पटना में 23 फीसदी रही. हिंदुस्तान सिर्फ भोजपुर में ही कुल पाठक संख्या में वृद्धि दर्ज कर पाया और वह भी सिर्फ नौ फीसदी. इसके अलावा, कोलकाता में भी एक साल के दौरान प्रभात खबर की कुल पाठक संख्या छह फीसदी बढ़ी. (प्रभात खबर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *