हे आप बाहर वालों… सुनो अब हम jnu वालों की…

Tara Shanker : बाहर वालों को बड़ी जलन होती है JNU से… खासकर यहाँ की 'लेफ्ट' विचारधारा से! हर बहस में बस एक ही रट कि "jnu वाले अपने 'कम्फर्ट जोन' से बाहर निकलो सिर्फ वहीं क्रान्ति करते रहते हो"…….तो आपके कूपमंडूक सोच के लिए बता दूं कि कौन है जो हर तीसरे दिन कभी जंतर मंतर, कभी पार्लियामेंट, कभी मण्डी हाउस, कभी पुलिस हेडक्वार्टर्स, कभी बिहार भवन तो कभी मुख्यमंत्री आवास पे प्रदर्शन करते हैं या धरने पे बैठे होते हैं…आप या हम jnu वाले?….और आप हमें कहते हैं कि 'कम्फर्ट जोन' से बाहर निकलें!

कोसी के बाढ़ पीड़ितों की मदद हो या मारुति वर्कर्स के हितों के लिए लड़ाई हो, कुडानकुलम परमाणु संयंत्र का विरोध हो या झारखण्ड-छत्तीसगढ़ आदिवासियों के हितों की लड़ाई हो…कौन है जो वहां जाकर लड़ाई लड़ता है?….अल्संख्यक हितों का दमन हो या AFSPA का विरोध हो, दिल्ली में गैंग रेप का विरोध हो या सोनी सोरी के न्याय की लड़ाई हो……कौन आवाज़ उठाता है…तुम या हम jnu वाले?…..और कहते हो jnu से बाहर क्रान्ति करके दिखाओ! तुम कहते हो हम फिलिस्तीन, अमेरिका, रूस की बात करते हैं……हाँ करते हैं!…..जहां भी मानवाधिकारों का हनन होता है वहाँ की बात करते हैं….हम इंसानियत को सरहदों में बांटकर नहीं देखते! और ये ही नहीं हम अपने देश के बारे में भी तुमसे ज्यादा फिक्रमंद हैं और बात भी करते है…….

अगर यहाँ jnu में पूरी दुनिया की सबसे कम खर्चीली पढ़ाई होती है और देश के सभी वर्गों एवं क्षेत्रों के छात्रों की भागीदारी है….तो किसकी बदौलत? तुम्हारी नहीं, यहाँ के छात्रों के संघर्ष के बदौलत! और तुम कहते हो हम यूटोपिया में रहते हैं! हम UPSC में जाएं या एकेडेमिक्स में…बेहतर ही करेंगे! यहाँ स्टूडेंट लेफ्ट हो राईट हो या आम्बेडकराइट हो……निकलता है एक बेहतर इंसान बनके ही! जहां जाएगा कुछ अच्छा ही करेगा क्योंकि हम लड़ते हैं पढ़ाई करने को और पढ़ते हैं समाज बदलने को! मानते हैं कि हम परफेक्ट नहीं लेकिन आप साथ दो तो एक बेहतर समाज बना सकते हैं नहीं तो वैसे भी 'हर जोर-ज़ुल्म के टक्कर में संघर्ष हमारा नारा है!'
 
             शशांक शेखर संघर्ष हमारा नारा है
 
        Samar Anarya कामरेड Tara को लाल सलाम.. जेनयू की जनवादी परम्परा को लाल सलाम..
   
        Wasim Akram kya bat hai tara shankar bhai, jo baten ham bahut dino se chah rahe the par likh nahi pae lekin ap ne likhj dia, bahut bahut shukriya sir……..
    
        Gaurav Kabeer lado samaj badalne ko
     
        Shafaq Khan aaj UP bhawan chalna hai……?
      
        Sajid Ahmad awesome piece of writing…salute nd respect!!
       
        Miken Desai jnu walo gau mans k party to kar rhe he kbi suvar k party b rakho fir manu koi dam he ya fatati he?
        
        Census Data Centre PIG hi kah sakte hai jo jnu ko khokhla kar rahe hai yeha illegal rah kar…
       
        Miken Desai adivasioka paschim bngal me jo hal aus se pta chal jata he ke kya kiya left vichardhara ne unka.
        
        Rahul Arya Tara Shanker…Well said bhaiya..
         
        Ila Joshi Tara & Samar…No hard feelings, but honestly I myself do not think very high for a number of JNU students, that can be a result of the kind of people I have come across, but again I have felt a kind of superiority complex among students at JNU, wherein they boast of getting through the rigorous selection procedure, mentored by great brains, getting everything at a much subsidized price and yeah sometimes doing their bit towards society(which a number of them do not even think of). But by just making other person feel belittle you are simply wiping away this illusion that “yeah JNU is the place to be”, a place which of course has got a glorious (or may be glorified) past. Moreover you cannot simply overrule my point because considering JNU a worthy place without including its people is certainly not permitted, as we have read and most of us believe too that “both success and failure are collective”, so if people lack so does JNU.
         
        Niharika Neelkamal Arora hehehehehe joke of the day. Bechaare kejriwal ka bhi saara credit le liya
         
        Niharika Neelkamal Arora right saying ila joshi. they have superiority complex.
         
        Jaseem Mallick हम लड़ते हैं पढ़ाई करने को और पढ़ते हैं समाज बदलने को! ,i agree wd dis,
         
        Samar Anarya You don't need to be apologetic for writing all this Ila Joshi. I so completely understand your point but let me tell you two things- One, Tara's post is not addressed to friends and comrades like you, he is speaking to those like Togadiyas who term JNU as a Madrasa and try to rubbish all that JNU stand for. They won't understand a language other than this dost, Second, this is no one's case that others are not fighting.. They are and at times much more spiritedly than JNU. Yet the fact that JNU has given much more activists per capita than any other university is a fact. About the JNUites suffering with superiority complex- they are hardly JNUites. Shame on them.
         
        Ila Joshi @Niharika…no matter what I wrote in my previous comment I do not think the same for all JNU folks, a number of them are my very close friends, my only objection was with generalization of the thought in terms of all communists in JNU…so do not think that I might be matching frequency of your thoughts for this post!!
         
        Samar Anarya See Ila- Niharika Neelakam Arora (a rabid communal, check her posts) and people like her are the ones Tara was referring to. Me too.. See how cunningly she tried to usurp your reply for her ulterior motives.
         
        Ila Joshi Its a fake profile Samar, who gives a damn to such people!!
         
        Samar Anarya Ye bhi!!!!!!!!!!! Sach me?
         
        Shailendra Mohan Khubsurat vicharwalo ka khubsurat line….!!
         
        Naveen Pandey जियो जे.एन.यू. के शेर…इतना सब करते हो तब तो देश नहीं तो कम से कम दिल्ली तो ठीक हो ही जाती या ये भी कहोगे कि जो थोड़ी बहोत दिल्ली ठीक है जे.एन.यू. वालो की बदौलत….
         
        Sumit Kr Patel hats off ,…. Ham padte h samaj badalne ko….
         
        Tara Shanker जिन्हें भी लगता है कि हमें superiority काम्प्लेक्स है वो एक बार फिर पोस्ट पढ़ें! साफ़-साफ़ लिखा गया है कि
"मानते हैं कि हम परफेक्ट नहीं"…..
और आगे ये भी लिखा है कि
"आप साथ दो तो एक बेहतर समाज बना सकते हैं"
इन दोनों बातों का सीधा सा मतलब है कि ज़रूरी नहीं कि हर कोई jnu में अच्छा ही हो…दूसरे हम लड़ाई मिलकर लड़ने की बात कर रहे हैं!
और आखिरी लाइन हमारे जुझारूपन की बात करता है हर किस्म के ज़ुल्मों के खिलाफ वो भी अगर कोई भी साथ न दे तो भी 'एकला चलो रे' की नीति पर! Ila Joshi, Naveen
         
        Ila Joshi Tara Shanker…I guess you should reread my comment!!
         
        Tara Shanker yeah right…now i got your point!
         
        Chandan Upadhyaya Lekin pahale ke mukable marxbad ki kitabe padna gahan bichar bimars karna kam ho gaya hai
         
        Tara Shanker Naveen bhai! dilli theek hone ka kya matlab? hame milkar ladna hai……kabhi-kabhi ham galat cheezen theek nahi kar paate lekin usko kamzor zaroor karte hain….uske liye ek mushkil zaroor ban jaate hain!…
         

Shravan Kumar Shukla इतना भी फेंकने की जरूरत नहीं थी. खैर. जो लिखा है काफी हद तक सही है लेकिन पूरा नहीं! लाल सलाम
 
Samar Anarya क्या फेंका है Shravan Kumar Shukla? कुछ गलत कहा हो तो हमारा ज्ञान बढ़ायें. तर्कों से लेकिन, ये फेंकने तेंकने से नहीं.
 
Shravan Kumar Shukla अगर यहाँ jnu में पूरी दुनिया की सबसे कम खर्चीली पढ़ाई होती है और देश के सभी वर्गों एवं क्षेत्रों के छात्रों की भागीदारी है….तो किसकी बदौलत? तुम्हारी नहीं, यहाँ के छात्रों के संघर्ष के बदौलत! और तुम कहते हो हम यूटोपिया में रहते हैं! हम UPSC में जाएं या एकेडेमिक्स में…बेहतर ही करेंगे! यहाँ स्टूडेंट लेफ्ट हो राईट हो या आम्बेडकराइट हो……निकलता है एक बेहतर इंसान बनके ही! जहां जाएगा कुछ अच्छा ही करेगा क्योंकि हम लड़ते हैं पढ़ाई करने को और पढ़ते हैं समाज बदलने को! मानते हैं कि हम परफेक्ट नहीं लेकिन आप साथ दो तो एक बेहतर समाज बना सकते हैं नहीं तो वैसे भी 'हर जोर-ज़ुल्म के टक्कर में संघर्ष हमारा नारा है!'
 
Samar Anarya तो इसमें क्या गलत लिखा है यह तो बता दो भाई. ऐसे थोड़े ही चलेगा कि आपको गलत लग गया तो गलत हो गया.
 
Shravan Kumar Shukla मैंने सिर्फ अपनी राय कही है. ! और गलत साबित करने की जरुरत नहीं है! मैंने भी न.. (जो लिखा है काफी हद तक सही है लेकिन पूरा नहीं! लाल सलाम)
 
Parmanand Arya ये लालिमा बनी रहे,,,,अन्धेरे के खत्म होने तक…
 
Ila Joshi No hard feelings, but honestly I myself do not think very high for a number of JNU students, that can be a result of the kind of people I have come across, but again I have felt a kind of superiority complex among students at JNU, wherein they boast of getting through the rigorous selection procedure, mentored by great brains, getting everything at a much subsidized price and yeah sometimes doing their bit towards society(which a number of them do not even think of). But by just making other person feel belittle you are simply wiping away this illusion that “yeah JNU is the place to be”, a place which of course has got a glorious (or may be glorified) past. Moreover you cannot simply overrule my point because considering JNU a worthy place without including its people is certainly not permitted, as we have read and most of us believe too that “both success and failure are collective”, so if people lack so does JNU.
 
Samar Anarya You don't need to be apologetic for writing all this Ila. I so completely understand your point but let me tell you two things- One, Tara's post is not addressed to friends and comrades like you, he is speaking to those like Togadiyas who term JNU as a Madrasa and try to rubbish all that JNU stand for. They won't understand a language other than this dost, Second, this is no one's case that others are not fighting.. They are and at times much more spiritedly than JNU. Yet the fact that JNU has given much more activists per capita than any other university is a fact.
About the JNUites suffering with superiority complex- they are hardly JNUites. Shame on them.
 
Mayank Saxena आप किन लोगों की बात कर रहे हैं Tara Shanker आप सिर्फ खुद और अपने कुछ वाकई जनवादी साथियों को अगर पूरे जेएनयू का प्रतिनिधि मान रहे हैं तो अलग बात है….जेएयू से किसी को कोई जलन नहीं है, क्यों आप लोग तार्किक आलोचना को आलोचना की तरह नहीं ले सकते…माना कि वहां लाल ज़िंदा है, लेकिन बहुत जगह ज़िंदा है…और आपकी या समर की बात न करूं…कुछ और लोगों की बात न करूं तो ज़्यादातर लोग वहां सस्ती पढ़ाई के लिए आते हैं, और कम्फर्ट ज़ोन में रह कर क्रांति की बात करते हैं, मतलब सधते ही निकल जाते हैं…जेएयू के बाहर लाल रहना और बात करना ज़्यादा मुश्किल है कामरेड…आप 100 साथी वहीं से लेकर आते हो…जहां पहले से हैं…हम यहां बिना साथियों के अकेले लड़ रहे हैं…मैं कभी जेएनयू में नहीं पढ़ा, लेकिन वहां के तमाम लालों से ज़्यादा लाल होने का दावा कर सकता हूं….और आप लोगों से कम होने की बात नहीं मान सकता…बहुत आसान होता है घेट्टो में ही रहना और वहीं लड़ना…बहुत आसान होता है बौद्धिक ट्रेनिंग के लिए आए छात्रों और प्रोफेसरों के बीच प्रेसीडेंशियल डिबेट देना…मुश्किल होता है शहर और गांव की भीड़ को साथ लेना…उनके बीच बोलना…वाकई अगर जेएनयू पूरी विचारधारा को बचाने और बढ़ाने के लिए गरीबों की लड़ाई के लिए, बाहर आता…डिग्री के बाद भी गांव और कूचों में उतर जाता…तो आज हालात अलग होते…पर ऐसा किया ही नहीं…अब जाने दीजिए कई को जानता हूं जो सिर्फ वक्त काट रहे हैं जेएनयू में बुढ़ापे में कई कई पीएचडी करते हुए…गरीबों की बात करें, लेकिन उनके बीच न जाएं…और फिर लाहौर नहीं वेख्या वाली बात…माफ़ कर दें तो ठीक न करें तो ठीक…लाल हम भी हैं…खूब लाल हैं…
 
Sushant Manu ye jo left vichaar dhara ko all pervasive maante hain jnu mein wo galat hai…superiority complex ka kuch to bhaav sahi mein aa hi jaata hai.but can't disagree with the whole statement.
 
Mahipal Sarswat Myank bilkul sahi…..100% sahmat……samar da is bat par gaur kijiye, jo mayank ne kahi h…
 
Samar Anarya Mayank फिर से वही जवाब कि तारा और लोगों से बात कर रहा है.. तुम्हारे जैसे करीबी दोस्तों, संघर्षों के साथियों से नहीं भाई. बाकी देखो न.. मैं हूँ, या Ravi Prakash या अवधेश.. या तमाम और कामरेड.. हम तमाम लोग हैं जो जेनयू आके कामरेड नहीं हुए, कामरेड हो के जेनयू आये थे. (कवर पिक्चर गवाह है अभी तो)… यह भी कि होशंगाबाद में सुनील भाई से लेकर बिनायक सेन तक.. उड़ीसा में समरेन्द्र भाई से लेकर कुदाकनाल में Kumar Sundaram तक.. जेनयू ने एक्टिविस्ट बहुत दिए हैं दोस्त यह तो मानना पड़ेगा. (अपनी बात करना अच्छा नहीं लगेगा पर हम आज भी बडवानी जाके पिट आते हैं इसमें जेनयू का भी उतना ही हिस्सा है जितना इलाहाबाद का). और फिर वही बात… इसमें से कुछ भी कैसा भी काम्प्लेक्स नहीं है (मैं हमेशा खुद को इलाहाबादी कहता हूँ, जनता भी वही मानती है).. बाकी किसी काबुल में सब घोड़े नहीं होते न… उनको माफ़ कर दिया जाय कामरेड.
 
Samar Anarya और हाँ सबसे बड़ी बात जो जेनयू सिखाता है उसका सबूत Sushant भाई ने यहाँ आके दे दिया है. हम लोग कभी वैचारिकी में साथ नहीं रहे.. सीधे तो नहीं पर सुशांत दक्षिणपंथ के काफी करीब जाते हैं और फिर भी हमेशा बहुत अच्छे दोस्त रहे. संवाद की जो जमीन जेनयू में है वह भी ऐसे ही बनाई गयी है. और Mayank हवा में थोड़े बना था जेनयू दोस्त. मेरे तुम्हारे जैसे लोगों ने ही बनाया था. उसी इलाहाबाद लखनऊ पटना कोलकता से आकर.
 
Mayank Saxena एक कहानी है…झूठ भी हो सकती है…गुरु नानक से जुड़ी है…लेकिन कहे का सार समझिएगा…
गुरू नानक घूमते रहते थे। एक मरतबा घूमते हुए वह एक गांव में ठहरे। वहां के लोगों ने उनकी खूब खातिर की, सब तरह का आराम पहुंचाया। जब वह वहां से चलने लगे तो तो गांव वालो को आर्शीवाद देते हुए उन्होने कहा, "यह गांव उजड़ जाय।"

गांव वाले यह आर्शीवाद सुनकर हैरान रह गये। सोचने लगे, क्या उनकी सेवा में कोई कसर रह गई? लेकिन उन्होने कहा कुछ नहीं।

गांव के कुछ लोग उनके साथ हो गये।

नानक दूसरे गांव में पहुंचे, वहां रुके, लेकिन वहां के लोगों ने उनकीं और ध्यान नहीं दिया। उनकी खातिरदारी तो दूर खाने-पीने के लिए भी नहीं पूछा। वहां से विदा होते समय नानक ने आर्शीवाद देते हुए कहा, "यह गांव आबाद रहे।"

पीछे के गांव के लोगों से अब नहीं रहा गया। उन्होने कहा, "गुरूजी, यह क्या बात है? जिन्होने आप की खूब सेवा की, अपको अच्छी तरह रक्खा, उन्हें आपने उजड़ जाने का आर्शीवाद दिया और जिन्होने आपको पूछा तक नहीं, उन्हें बस जाने का आर्शीवाद दिया!"

नानक ने जबाब दिया, "जहां हमारी खूब मेहमानबाजी हुई, वह गॉँव फूलो की बस्ती है। मैंने कहा, वह उजड़ जाय तो इसका मतलब था कि वहां के लोग बिखर जायं। वे जहां जायंगें, अपने साथ अपनी मोहब्बत की, अपनी सेवा की, महक ले जायंगें; लेकिन जिस गांव के लोगों ने हमारी पूछताछ नहीं की, वहां कांटों का ढेर था। हमने कहा, वह बस जांय, तो उसका मतलब था कि कांटे एक ही जगह रहें। फैल कर लोगों को दुखी न करें।"

काश जेएनयू उजड़ता और कई जगह फैलता…लेकिन आप में से बहुत नौकरशाह बन कर वही कर रहे हैं जिसका विरोध करते रहे…कई जेएनयू में ही प्रोफेसर हो गए…कई बाकी सरकारी नौकरियों और विश्वविद्यालयों में नौकरी कर रहे हैं…कई लेखक हो गए…उन्होंने क्या किया बताऊंगा नहीं…कई पार्टी में नेता हो गए…कई लोग फोर्सेस में एसपी बन कर छत्तीसगढ़-उड़ीसा-झारखंड में क्या कर रहे हैं कैसे कह दूं…बाकी या तो एनजीओस में काम करते हैं या चलाते हैं…वो भी हैं जो अभी जेएनयू में ही पड़े हैं, नौकरी मिलने तक…आप करिए न बाहर आ कर काम…गरीब और वंचित जेएनयू के बाहर हैं, अदर नहीं…अंदर रह कर जो होता है वो विशुद्ध *&^% है… Samar Anarya औरों से बात करने या उनकी भर्त्सना करने का हक़ उनको होता है जो लड़ रहे होते हैं…आपस में बैठ कर चार दिन तक ट्रॉटस्की-लेनिन-माओ पर भाषण देना क्षमता नहीं है…ज़मीनी काम करना क्षमता है….अपनी बात मत कीजिएगा, उन हज़ारों जेएनयूआईट में से कितनों ने किया काम…बस हर वक्त जेएनयू का महिमामंडन….ये भी एक तरह का कट्टरपंथ है…वैसा ही जैसा यूपी-बिहार-महाराष्ट्र-बंगाल या गुजरात का हो सकता है कि हम महानतम हैं…सस्ती पढ़ाई आपकी महानता नहीं है…जेएनयू पहुंचने की तैयारी कितने लोग जनवादी लड़ाई के लिए करते हैं ज़रा बताइए तो…मैं इस तरह की बातों पर भयंकर आक्रोशित होता हूं…जिनको आप कह रहे हैं वो भी आप में से बहुसंख्य से बेहतर हैं…कम से कम ज़िंदगी की लड़ाई तो लड़ रहे हैं…आप लोग तो उससे भी भागे हुए हैं…भिल्कुल भागे हुए…काम कीजिए…अच्छा लिखिए…लड़िए…ज़मीन पर उतरिए…वरना अंदर जो करना है करिए…बंद कीजिए बाहर ये जेएनयू एंथम गाना…

Mayank Saxena और हां, काबुल में चार घोड़ें हो और बाकी गधे तो क़ाबुल को घोड़ों के लिए मशहूर कहना बंद कीजिए…वो गधों के लिए ही जाना जाएगा…

Sushant Manu i agree…a university's character is made by its students…and to reassure other people (who may may not agree with JNU style or who think that whatever happens in jnu is because of the ease that it enjoys) i must say that institution building is a constant and dynamic process…jnu ki achhai declare kar ke aankh mund ke aaraam se baith nahi sakte…isko constantly gurad aur nurture karte rehna padta hai…people who are working outside JNU are doing commendable job and comparing them and JNU activists would be a futile exercise…har vyakti apni capabilities aur environment ke context mein kaam karta hai. no offence intended whatsoever.

Sushant Manu upar likhi mayank ji ki baatein sochne ke liye majboor karti hain…aapka aakrosh samajhne laayak hai…one must think over it…but one cannot excessively rely on one thought or an aggressive outburst should not dominate the scene kyonki logic upar diya hua hai and i quote- 'महिमामंडन….ये भी एक तरह का कट्टरपंथ है'.

Mayank Saxena कौन है जो हर तीसरे दिन कभी जंतर मंतर, कभी पार्लियामेंट, कभी मण्डी हाउस, कभी पुलिस हेडक्वार्टर्स, कभी बिहार भवन तो कभी मुख्यमंत्री आवास पे प्रदर्शन करते हैं या धरने पे बैठे होते हैं

बताइए Tara Shanker भाई, मेरे लिखे के बाद जो धमकियां आती हैं आपको अंदाज़ा होगा…ख़ैर
वो केवल जेएनयू के लोग नहीं हैं जो कभी जंतर मंतर, कभी पार्लियामेंट, कभी मण्डी हाउस, कभी पुलिस हेडक्वार्टर्स, कभी बिहार भवन तो कभी मुख्यमंत्री आवास पे प्रदर्शन करते हैं…

वो भोपाल से भी आते हैं गैस त्रासदी के पीड़ित…वो मिर्चपुर से भी आते हैं…वो छत्तीसगढ़ से भी आते हैं…वो मणिपुर से भी आते हैं…और न जाने कहां कहां से…आप गए आगरा के पीड़ित दलितों के अनशन पर…आप गए थे इरोम के के समर्थन में बैठे मणिपुरी छात्रों के साथ…आप गए कितनी बार…जेएनयू सिर्फ तब निकलता है, जब आइसा को लगता है कि हां निकला जाए…रात 8 बजे लौट लेता है कैम्पस….बिना ये सोचे कि उसके जाने के बाद जंतर मंतर पर बैठे वो लोग जिनको दिन भर आपने जोड़ा था साथ…उनको पुलिस उठा लेगी या बुरी तरह पीटेगी…या वहां बैठे संघी भेड़ियों का शिकार हो सकते हैं वो लोग…राष्ट्रपति भवन के गेट की वो रात गवाह है, जब मैं अपने साथियों के साथ वहां बैठा जेएनयू के साथियों का इंतज़ार करता रहा…राष्ट्रपति भवन के गेट पर हमारा अलाव बुझते ही लाठियां चली थीं…बुरी तरह महिलाओं को पीटा गया था…जेएनयू के साथ प्रदर्शन की दैनिक ज़िम्मेदारी निभा वापस कैम्पस में थे…सुबह तक वादा होता रहा आने का…कोई नहीं आया…हां पुलिस आई, हम कम पड़े…दमन हुआ…और बाद में जवाब मिला कि वो कामरेड ठंड बहुत थी, कहां बैठते…और फिर रात को थोड़ा ज़्यादा रम हो गई थी तो सुबह आंख नहीं खुल पाई…

रहने दीजिए साथी…कोई उम्मीद नहीं है जेएनयू मार्का कामरेडों से…हां, चाहते हैं कि उम्मीद फिर से बंधे…कीजिए कुछ ऐसा…ये मुगालता मत पालिए कि आप ही बैठ रहे हैं…उठ रहे हैं…लड़ रहे हैं…आप ज़्यादातर सिर्फ अपने एजेंडों के लिए लड़ रहे हैं…आप वाकई ईमानदारी से लड़ पाते, तो तेजिंदर पाल सिंह बग्गा जैसे लोग उस जगह और मौके का फ़ायदा न उठा पाते…जाने दीजिए…बहुत कष्ट होता है ये सब लिखने में…मत उकसाइए आप लोग Samar Anarya

Shravan Kumar Shukla मयंक जी की बात से सौ फीसदी सहमत! कोई जवाब है?

Mayank Saxena और हां लेफ्टिस्ट होने के बावजूद एक बात कहूंगा…लेफ्ट से अब किसी को जलन नहीं होती…अब हमारी वो हैसियत नहीं बची कि लोग हमसे जलें…उसके लिए हमको समाज, गांव, शहर में काम करना होगा…बहुत काम…
 
Monty Thanesar तारा शंकर जी की बात सोलह आने सच.
 
Vimal Kumar is desh me ab bade dharne pradrashan ki jaroorat hai.kewal tokenism se kaam nahi chalega.ye nizam bahri hai.is tarah ke pradarshan se kuchh bhee nahee hoga….jnu ke log is baat ko samjhe…..ek badi ladayee ki jaroorat hai..jab tak is desh ki janta nahi jagegi ,kuchh nahi hoga….10 lakh log sansad ko ghere…pm president ko ghere …tab unki neend tootegi….janter manter per saalon se hota hi rahta hai..
 
Ravi Prakash पता नहीं इतने अतिरेक का शिकार होना ठीक है या नहीं ? लेकिन जनता की लड़ाई जो भी है जहाँ भी है हम सब उसके भागीदार हैं,चाहे जे.एन.यू.हो या देश के अन्य दूसरे हिस्से में.ना कोई लड़ाई बड़ी है ना कोई छोटी, लड़ाई-लड़ाई है. भले से लोगों को जे.एन.यू.कोई खतरे का केन्द्र ना दिख रहा हो लेकिन राज्यसत्ता के लिए खतरा तो है और वो उसे मानता भी है और हमले भी करता है .लिंगदोह इसका एक उदहारण है और अभी कुछ दिनों पहले आई.बी.द्वारा भारत सरकार को पेश की गई रिपोर्ट इसका उदहारण है जिसमे मारुती से लेकर रेप आन्दोलन के संधर्भ में ये बात कही गई की ये बाहर फैल रहे हैं और काफी खतरनाक है. रही बात लेखक,कवी,अध्यापक बनने की तो मार्क्सवाद पे हमले हर जगह है, हर जगह से हैं और उसका प्रतिरोध उतनी ही जगहों से, उतने ही छेत्रों अनिवार्य है.मेरे लिए मार्क्सवाद के समर्थन में लिखा एक लेख भी उतना ही महत्वपूण लगता है जितना मोर्चे पर किसी मजदूर की लड़ाई.और उसके समर्थन में लिखी एक कविता भी.हाँ प्रवित्तियां दोनों तरह की हैं संघर्ष करने वालों की भी और समझौता करने वालों की भी इसके खिलाफ भी लड़ाई मैं मार्क्सवाद का ही हिस्सा मानता हूँ और लोग भी मानते होंगे. Tara Shanker ने ये बात एक दुष्प्रचार के सिलसिले में कही है मैं उन्हें समझौता करने वालों की ही एक जमात मानता हूँ.
 
Samar Anarya अब आप की बात खीज में लिखी गयी मालूम हो रही है Mayank भाई. मिर्चपुर भी गए थे जेनयू वाले शायद Mrityunjay Yadvendu के नेतृत्व में, पोस्को भी, दुलीना भी. सिर्फ जंतर मंतर नहीं, इन जगहों तक. इनकी असली लड़ाइयों में शरीक होने. बिलकुल एकाध घटनाएं हो सकती हैं, जैसी आपने बताई की लोग न पंहुचे हों. पर उन घटनाओं का क्या जहाँ वाटर कैनन के सामने जेनयू वाले ही खड़े मिले? कामरेड अभिषेक यादव की खून से लथपथ तस्वीर दिखाऊँ तो आप राय बदल लेंगे? एक घटना से राय नहीं बनाई जाती साथी. बाकी आप देखना ही न चाहें कि महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित शहर में सबसे सुरक्षित जगह जेनयू क्यों है, और किसने बनाई है (प्रशासन ने तो नहीं बनाई होगी न) क्यों वहां आज भी फासीवादी ताकतों को रोक के रखा गया..क्यों वहां की कविता कृष्णन हों या अलबीना शकील सड़कों पर नजर आती हैं, या फिर संदीप सिंह, रोहित आज़ाद, असित दास, आज भी संघर्षों में मिलते हैं. क्यों वहां से निकले हमारे जैसे लोग दिल्ली भोपाल नहीं रीवा बडवानी में मिलते हैं, काठमांडू नहीं मुगू में मिलते हैं. फिर से कह रहा हूँ सर.. प्रतिशत देख लीजिये कि इस मुल्क में किस संस्था ने कितने एक्टिविस्ट दिए हैं. जवाब मिल जायेंगे साथी.
 
Samar Anarya बिलकुल ठीक बात Ravi Prakash. और उसमे भी यह कि यह जो जेनयू है बनाया भी हमीं ने है. इलाहाबाद पटना जैसे छोटे छोटे शहरों से आके. Mayank भाई बताइये तो कि संसद में हर साल एक बार भाजपा जेनयू के खिलाफ सवाल क्यों उठाती है, क्यों तोगड़िया इसे बंद करने की मांग करते हैं?
 
Mayank Saxena आप कब से आंकड़ों में बात करने लगे समर…एक्टिविस्टों के आंकड़े संख्या से हमेशा अलग रहे हैं…मुझे जेएनयू से कोई खीझ नहीं है…बिल्कुल नहीं…कम से कम निराधार और निजी हमलों से बचें…लेकिन हां, इस प्रवृत्ति से खीझ है कि मैं ही महान हूं…मैं सबसे महान हूं…मैं बहुत काम कर रहा हूं…रहने दीजिए…आप एक्टिविस्टों की संख्या गिना कर खुश हैं…मरते रहें आदिवासी आपकी बला से…क्यों है न…एक्टिविज़्म के आंकड़े में तो आपका नाम दर्ज होना चाहिए… आप तोगड़िया के जेएनयू बंद करने की मांग से इतने खुश हैं…फिर तो इन्ही लोगों ने न जाने कितने मदरसों को बंद करने की बात कही…तो उससे ये तय हो गया कि मदरसे मुसलमानों को प्रोग्रेसिव बना रहे हैं और ये डर रहे हैं…किस तरह का तर्क…किन लोगों के लिए…आपको लगता है बीजेपी या विहिप आप से डरती है…मुग़ालते में मत रहिएगा…हां, अगर डरती है तो इस बात पर इतराइए मत…बल्कि काम कीजिए…और काम कीजिए कि वो और डरे…और ये कहने की हिम्मत न कर पाए कि इसे बंद करो…मैं जेएनयू के साथ हूं…लड़ने वाली जेएनयू के…न कि केवल अपनी महिमा गाने वाली जेएनयू के…बंद कर दीजिए ये एंथम प्लीज़….ये मेरे कान में वंदे मातरम सरीखा चुभता है अब….
बात को समझिए…क्या जेएनयू के इतने बुरे दिन आ गए हैं कि तोगड़िया के कुछ कहने से वो अपने को महान मानने लगे….कहां हैं आप…असलियत आप सब को पता है…आपस में बैठ कर चर्चा भी होती है…जेएनयू के साथी कामरेड एक दूसरे को फूटी आंख नहीं सुहाते हैं…क्यों और कितना कहलवाना चाहते हैं आप…सिर्फ इतना कहूंगा कि अगर आप लोग आलोचना बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं…तो करना भी बंद कर दीजिए…क्योंकि ये वही रवैया है, जिसके लिए दक्षिणपंथियों और परम्परावादियों की आलोचना होती है…

लाल सलाम….(अब नहीं लिखूंगा, क्योंकि समझ चुका हूं कि आप आलोचना सुनने के मूड में नहीं रहते…एक बार और निराश हुआ आप लोगों के जेएनयू वाले अहम से…रहिए कुंएं में ताकते रहिए सिर्फ अपने हिस्से का आसमान…दुखी मन से विदा लेता हूं Samar Anarya, Tara Shanker संभवतः आप लोग कभी लड़ाई में साथ नहीं आएंगे…कभी नहीं…नाउम्मीदी बहुत ख़तरनाक होती है, क्योंकि वो मेरे जैसे तमाम नाउम्मीदों से विचारधारा भी छीन लेती है…माफ़ कर पाएंगे आप लोग कभी मेरे जैसे साथियों के हार मान लेने के लिए खुद को…. अगर ऐसा हुआ तो…)
 
Samar Anarya यही फर्क है आपमें और हममे Mayank भाई. हम हारे हुए लग नहीं हैं, न ही हार मानने को तैयार हैं. और हाँ मोर्चों की लड़ाइयाँ इमोशनल होके नहीं लड़ी जातीं, इमोशनल होके सिर्फ मैदान में आया जाता है. रही बात आंकड़ों की तो साहब, आप ही लगातार पीछे पड़े हुए हैं कि कितने लोग हैं जेनयू में ज्यादा कौन हैं एक्टिविस्ट या गैर एक्टिविस्ट.. जवाब तो देने पड़ेंगे न. रही बात आपस में न सुहाने की बेशक जेनयू में ये दिक्कत है पर कहाँ नहीं है? थियेटर में (अभी आपने खुद देखा है), बाहर? दिल्ली यूनिवर्सिटी में? और साहब सवाल पूछ के उनके जवाबों को खुशफहमी बता देना ठीक नहीं है.. यह न तर्क का तरीका है न कुतर्क का साथी. बस यह और कहूँगा कि आँखे खुली रखेंगे तो हमको हर लड़ाई में साथ पायेंगे, नहीं तो फिर कोई बात नहीं.
 
Ravi Prakash अब तो एक ही उपाय बचता है कि कम्युनिस्ट पार्टियां अपने जन-संगठनो को बंद कर दे. खास तौर पर छात्र संगठनो को तो पहले …
 
Samar Anarya सही बात Ravi Prakash.. इ ससुरे सब मध्य वर्गीय घरों से आते हैं और फेलोशिप लेके क्रान्ति क्रान्ति खेलते हैं.. इन्ही की वजह से क्रान्ति नहीं होती.
 
Ila Joshi Samar….too much of self-obsession, this superiority complex I was talking about, and unfortunately even you did behave the same!! Pretty disappointed.
 
Samar Anarya Its not any complex Ila, superiority or otherwise. Let me tell you what I was hiding all along.. We are the perennial outsiders in 'elite-english' ambience of JNU.. perennial outsiders.. So if any complex we can have, that wud be inferiority and not superiority. Yet, the openness of JNU lives in that this does not outcast you and/or label you as Bhaiyas/behenjis. Forget all this, in JNU I have always been known as Allahabadi and not JNUite, even you know that. Why was this? See, however painful it might seem but the only possible answer to an emotional outburst is a scathing defense.. what to do there? I was telling both of you that Tara is talking to a different group, not comrades.. sunate hi nahi ho dono.
 
Ila Joshi And yeah neither I am from JNU nor a communist so don't have so called statistics to argue with you, my problem had always been behavior of jnu people, that superiority complex attitude and don't know why you too are behaving like them
 
Tara Shanker जिन्हें भी लगता है कि हमें superiority काम्प्लेक्स है वो एक बार फिर पोस्ट पढ़ें! साफ़-साफ़ लिखा गया है कि
"मानते हैं कि हम परफेक्ट नहीं"…..
और आगे ये भी लिखा है कि
"आप साथ दो तो एक बेहतर समाज बना सकते हैं"
इन दोनों बातों का सीधा सा मतलब है कि ज़रूरी नहीं कि हर कोई jnu में अच्छा ही हो…दूसरे हम लड़ाई मिलकर लड़ने की बात कर रहे हैं!
और आखिरी लाइन हमारे जुझारूपन की बात करता है हर किस्म के ज़ुल्मों के खिलाफ वो भी अगर कोई भी साथ न दे तो भी 'एकला चलो रे' की नीति पर!
 
Samar Anarya No Ila, I am not. If you let me repeat, I, and also Tara Shanker are the perennial outsiders in JNU of Presidency Stephens and Loyola passouts. Think of a JNU where all political discourse takes place in English, a language we had hardly any access to before coming to JNU. Also, arrogance is a characteristic of Indo-gangetic barbarians like us… JNU has nothing to do with it if it does not lessen it.
 
Tara Shanker अरे भाई पोस्ट में किस जगह लिखा गया है 'मैं ही महान हूँ'….आप भी Mayank भाई! साफ़-साफ़ लिखा गया है कि "मानते हैं कि हम परफेक्ट नहीं"…..
और आगे ये भी लिखा है कि
"आप साथ दो तो एक बेहतर समाज बना सकते हैं"
इन दोनों बातों का सीधा सा मतलब है कि ज़रूरी नहीं कि हर कोई jnu में अच्छा ही हो…दूसरे हम लड़ाई मिलकर लड़ने की बात कर रहे हैं!
और आखिरी लाइन जुझारूपन की बात करता है हर किस्म के ज़ुल्मों से लड़ने के लिए लेकिन अगर कोई साथ न दे तो 'एकला चलो रे' की नीति पर!
 
Tara Shanker भाई ये पोस्ट उन बाहरी लोगों के बेसिर पैर के चुभते कटाक्ष पर लिखी गयी है जिसमे अक्सर ये इलज़ाम लगाया जाता है कि jnu वाले सिर्फ jnu आइलैंड में ही क्रान्ति करते हैं……कभी बाहर आकर ज़मीनी लड़ाई नहीं लड़ते! आप ही बताओ जब साल के कम से कम सौ दिन धरने और प्रदर्शन में बीतें तो ये इलज़ाम चुभता है भाई! हमने इसमें सिर्फ लेफ्ट को ही नहीं वरन सारी पार्टियों के योगदान को तवज्जो दी है! आपकी बात और आलोचना सिरोधार्य है और हम आलोचनाओं से सीखते हैं! अब इतनी छोटी यूनिवर्सिटी होकर अगर कोशिश करती है कि देश में हो रहे हर जोर-ज़ुल्म पे हरसंभव आवाज़ उठे तो कोई इलज़ाम लगाये तो खलता है भाई!
 
Tara Shanker पिछले एक साल से जैसे ही किसी मुद्दे पे बहस शुरू हुयी लोग तर्क कि बजाय सिर्फ ये कहके चुटकी लेने लगते कि 'JNU के कम्फर्ट जोन से बाहर आओ तब बात करो' या फिर ये मजे लेते कि 'यूटोपिया से बाहर निकल कर ज़मीनी लड़ाई लड़ो'……माना कि बाहर लड़ाई कठिन है लेकिन हम आधे समय बाहर ही तो रहकर लड़ते हैं! अब आपही बताओ JNU से ज्यादा और किस यूनिवर्सिटी के बच्चे सडको पे उतरते हैं……हमने हमेशा JNU as a whole कि बात की! मैं मानता हूँ सारे JNU वाले क्रांतिकारी नहीं हैं तभी मैंने लिखा कि हम परफेक्ट नहीं हैं! साथ में मिलकर लड़ने कि बात कहने का मतलब है Mayank bhai आप जैसे जुझारू लोग देश में जो भी हैं जहां भी हैं ज़मीनी लड़ाई लड़ रहे हैं उनका साथ!
 
Tara Shanker हमने ये तो कहा नहीं कि बाहर कोई जोर-ज़ुल्म से लड़ने वाला नहीं……ज़रूर हैं और न सिर्फ लाल बल्कि दूसरे रंगों के लोग भी हैं…..हमें आँख मूदकर गाली देने से बेहतर है कि हम साथ मिलकर लड़ें! और ऐसा भी नहीं कि हर बाहर वाला JNU से ईर्ष्या करता है! लेकिन बहुत से लोग हैं ऐसे जो खुद तो कुछ नहीं करेंगे, कम्फर्ट जोन में खुद रहेंगे और गाली हमें देंगे! अरे भाई संघर्ष करने वाला आलोचना करे तो समझ में आता है! हम नहीं मानते कि हम परफेक्ट हैं और हमारी आलोचना नहीं हो सकती…..लेकिन आलोचना तार्किक होनी चाहिए! ऐसे ही लोगों के कारण ये पोस्ट लिखना पड़ा! अब आप इसका गलत अर्थ लगाएं तो मैं क्या करूँ!

तारा शंकर के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *