कुलीन गुप्ता की बकवास चुपचाप सुनती रहीं टीवी100 में कार्यरत लड़कियां

: कानाफूसी : बीते दिन टीवी100 में अजीबोगरीब वाकया पेश आया। वहां सभी लड़कियो को टीवी100 के एडिटर इन चीफ और मालिक कुलीन गुप्ता ने अपने केबिन में बुलाकर जलील किया। सभी महिलाओं को आधे घंटे अपमानित किया गया। उन्हें उनकी औकात बताई गई। कुलीन गुप्ता का कहना था कि चैनल के खिलाफ अगर किसी ने कहीं मुंह खोला तो उसका बुरा हश्र किया जाएगा।

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि सभी लड़कियों को चैनल से निकालकर बाहर कर दूंगा और ऐसी व्यवस्था करूंगा कि उन्हें पूरी जिंदगी मीडिया में नौकरी न मिले। कुलीन गुप्ता यहीं नहीं रुके। उन्होंने  ये भी कहा कि मैं बड़ी हस्ती हूं और तुम सब एक-एक लड़कियां। मैं खुद में एक संस्था हूं। उन्होंने कहा कि एक तो तुम सबको जाब दूं, उस पर तुम लोग मेरी बदनामी करवाओ! इस दौरान उन्होंने एक एक लड़की से पूछा कि क्या मैंने तुम्हें छेड़ा है?

सारी लड़कियां चुप्पी साधे उनकी बकवास सुनती रहीं। मजे की बात तो यह है कि भड़ास के नाम पर किसी ने कुलीन गुप्ता को फेक काल की और कहा कि तुम्हारे यहां से फोन आया है कि तुम लड़कियों को जाब के लिए 'एडजस्ट' करने की बात कहते हो। कुलीन गुप्ता का कहना था कि उन्होंने भड़ास वाले को जमकर डांट लगाई है और अब उसे जेल भिजवाएंगे। ज्ञात हो कि अगर कुलीन गुप्ता के पास इतनी पावर होती तो वह पता लगा चुके होते कि यह फेक काल थी लेकिन उन्होंने यह करने के बजाय वही किया जो अमूमन तथाकथित पावरफुल लोग करते हैं। उन्होंने लड़कियों को धमकाया डराया और चेतावनी देकर छोड़ दिया। अब इस खबर के छपने से कुलीन गुप्ता के भीतर कितनी खलबली मचेगी और वह क्या कदम उठाएंगे, यह देखने वाली बात होगी। शायद अब टीवी100 बिना लड़कियों के चलेगा क्योंकि अब कुलीन गुप्ता के अनुसार- ''करे चाहे जो, लेकिन भरेगा हर कोई''।

((सूचना- भड़ास या भड़ास4मीडिया की तरफ से किसी भी संपादक, मालिक, रिपोर्टर या किसी अन्य से बात करने के लिए सिर्फ दो लोग अधिकृत हैं, एडिटर यशवंत सिंह और कंटेंट एडिटर अनिल सिंह. इन दोनों के अलावा अगर कोई भड़ास की तरफ से किसी को काल कर कोई जानकारी ले या धमकाए तो इसे फेक काल समझा जाए और समुचित कार्रवाई की जाए. कुलीन गुप्ता को भड़ास की तरफ से कोई फोन नहीं किया गया. जिस लैंडलाइन नंबर से उनको फोन किया गया, उसके खिलाफ कुलीन गुप्ता कार्रवाई करा सकते हैं. टीवी100 के बारे में उपर जो खबर प्रकाशित हुई है, वह उत्तराखंड के एक मीडियाकर्मी द्वारा दी गई जानकारी पर आधारित है. इस मीडियाकर्मी को टीवी100 में कार्यरत किसी पत्रकार ने फोन कर पूरे प्रकरण की सूचना दी थी. अगर उपरोक्त खबर पर टीवी100 की तरफ से कोई सफाई या पक्ष पेश किया जाता है तो उसे भड़ास पर ससम्मान प्रकाशित किया जाएगा. यशवंत सिंह, एडिटर, भड़ास4मीडिया))

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *