सूचनाः ओमेक्स बिल्डर वापस नहीं कर रहा आरडब्लूए को आईएफएमएस मनी

ओमेक्स बिल्डर ने अपनी ओमेक्स हाईट विभूति खण्ड योजना में काफी धांधली की है। बिल्डर यहां की रेजीडेण्ट वेलफेयर एसोसियेशन को आईएफएमएस मनी वापस नहीं कर रहा है। मार्च 2010 से जून 2011 तक उसने मेसर्स सानवी को मेन्टीनेन्स एजेन्सी नियुक्ति किया था। जुलाई 2012 से एसोसियेशन को मेन्टीनेन्स का कार्य सौंप दिया गया था लेकिन आईएफएमएस मनी रूपये 4.5 करोड़ नहीं वापस किये। जुलाई 2012 से अबतक करीब दो वर्ष होने जा रहा है लेकिन ओमेक्स आईएफएमएस मनी वापस करने का नाम नहीं ले रहा है। पहले बिल्डर ने कई शर्तें रखी ऐसोसियेशन ने सारी शर्तें मान ली, एफीडेविट भी साइन कर दिया अब बिल्डर द्वारा नियुक्त एजेन्सी सानवी कम्पनी द्वारा फ्लैटों में गलत पुराने मेन्टीनेन्स बिल भेजे जा रहे हैं। मेसर्स सानवी के श्री अमित बन्सल का मो0नं0 09711800560 है।

    
ओमेक्स हाईट गोमती नगर योजना में 540 फ्लैट है। कई वर्षों से लोग इसमें रह रहे हैं। फ्लैट में रहने वाले लोगों ने ओमेक्स हाईट एपार्टमेन्ट ओनर्स एसोसियेशन के नाम से सोसायटी बना रखी है। फ्लैट खरीदते समय बिल्डर ने लोगों से 85 से 90 हजार रूपये प्रति फ्लैट आईएफएमएस मनी जमा कराया था। एसोसियेशन को मेन्टीनेन्स हैण्डओवर करते समय आईएफएमएस मनी वापस होनी थी।

एसोसियेशन के सचिव डीसी दीक्षित ने बताया कि आईएफएमएस मनी के ब्याज का इस्तेमाल लिफ्टों की एएमसी, फायर फाईटिंग सुरक्षा, ट्रांसफार्मर तथा जेनेरेटर के मेन्टीनेन्स इत्यादि में खर्च किया जाना होता है जिसका बजट सालाना करीब 20 लाख है। रुटीन मेन्टीनेन्स जैसे सफाई, सुरक्षा, जिम, स्वीमिंग पूल, क्लब, हॉर्टीकल्चर इत्यादि के लिए प्रत्येक फ्लैट मालिक एक रूपये प्रति वर्ग फुट के हिसाब से आरडब्लूए को जमा करता है जिससे यह खर्च चलतें हैं। किशोर गोयल जो कि ओमेक्स के रिजलन हेड हैं का फोन नं0 9935092314 है।

बिल्डर ने एसोसियेशन को बिना बताये एपार्टमेन्ट का कई बार नक्शा बदलवाया। यह एपार्टमेन्ट एक्ट 2010 का उल्लंघन है।

डीसी दीक्षित
सचिव,

ओमेक्स हाईट एपार्टमेन्ट ओनर्स एसोसियेशन,
मो. 09918324373, 09415900950
ईमेलः erdcdixit@yahoo.in

 

प्रेस विज्ञप्ति (दिनाकः 23-04-2014)

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *