‘मिस्र में क्रांति और प्रतिक्रांति’ विषय पर अमेरिकन साम्राज्यवाद विरोधी एक्टिविस्ट सुजै़न एडली ने दिया व्याख्यान

दिल्ली, 30 जुलाई, 2013। आज हिन्दी भवन में ‘पॉलेमिक’ और ‘बिगुल मज़दूर दस्ता’ ने ‘मिस्र में क्रान्ति और प्रतिक्रान्ति’ विशय पर एक परिचर्चा का आयोजन किया जिसमें मुख्य वक़्ता के रूप में अमेरिका की जानी मानी श्रमिक संगठनकर्ता और साम्राज्यवाद विरोधी एक्टिविस्ट सुजै़न एडली ने भाग लिया। सुज़ैन एडली अरब अमेरिकी समुदाय की संगठनकर्ता भी हैं और वह ‘अरब जनउभार’ को करीबी से देखती आयी हैं। परिचर्चा मुख्य रूप से 2011 की शुरुआत से अरब विश्व और खासकर मिस्र में चल रहे सामाजिक और राजनीतिक आन्दोलनों पर केन्द्रित रही।

लगभग एक घण्टे के अपने वक्तव्य में सुश्री एडली ने न सिर्फ़ इन आन्दोलनों के सकारात्मक पहलुओं पर ज़ोर दिया बल्कि उनकी सीमाओं और उनके सम्मुख चुनौतियों को भी चिन्हित किया। उन्होंने मिस्र के आन्दोलन में सक्रिय तमाम श्रमिक संगठनों की संक्षिप्त विवेचना भी प्रस्तुत की। हलांकि मुख्य रूप से स्वयंस्फूर्त होने की वजह से और एक संगठित नेतृत्व और सोची समझी रणनीति के अभाव में ये आन्दोलन अब तेजी से अपनी ऊर्जा खोते जा रहे हैं।  

मिस्र में मोर्सी समर्थकों पर हालिया हमलों पर भी चर्चा हुई। अन्त में सुश्री एडली ने द्वारा समूचे विश्व में प्रगतिशील आन्दोलनों को कुचलने में अमेरिकी साम्राज्यवाद की भूमिका पर भी बात की। परिचर्चा के बाद श्रोताओं ने अपने प्रश्न पूछे जिनका सुश्री एडली ने धैर्यपूर्वक जवाब दिया। सुश्री एडली भारत में मौजूदा समय में ज़ारी तमाम श्रमिक आन्दोलनों में भी सक्रिय हैं। ‘पोलेमिक’ के मिथिलेश ने कार्यक्रम का संचालन किया जिसमें बीच बीच में विहान सांस्कृतिक टीम ने क्रान्तिकारी गीतों को भी प्रस्तुत किया।

Talk by American intellectual Suzanne Adely

30th July, 2013, Delhi : ‘Polemic’ and ‘Bigul Mazdoor Dasta’ jointly organized a talk ‘Revolution and Counter- Revolution in Egypt’, by noted American Labour activist and Anti-imperialist and Palestine Solidarity activist, Suzanne Adely at Hindi Bhawan today. Ms. Adely is also an Arab American community organizer and has been observing the Arab spring from close quarters.

The talk focused mainly on the social and political movements which had been brewing in the Arab World, and especially Egypt since early 2011. In her one hour long address, Ms. Adely not only highlighted the positives that these movements generated but also pointed out the limitations and challenges they faced. She also gave a brief analysis of the various workers groups that had been and still are active in the Egyptian movement.

However, being largely spontaneous and lacking an organized leadership and well thought-out strategy, these movements are fast losing their steam. The recent crackdown on Morsi supporters by the military was also discussed. Ms. Adely talked about the role US imperialism has been playing to suppress all the progressive movements taking place everywhere in the world. The talk was followed by a question-answer session in which the audiences participated enthusiastically. Ms. Adely who is also active in worker’s struggles taking place in India,

answered all the questions patiently. Mithilesh of ‘Polemic’ conducted the programme which was interspersed with a few revolutionary songs.

Shivani

Convener

Polemic

प्रेस विज्ञप्ति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *