दिल्ली के 9 और मंबई के 12 दर्शक तय कर देते हैं चैनलों की किस्मत!

: अब ब्लूमबर्ग टीवी ने भी टैम के खिलाफ मोर्चा खोला : पहले एनडीटीवी ने टैम रेटिंग के खिलाफ मुकदमा किया. अब अंग्रेजी बिजनेस चैनल ब्लुमबर्ग टीवी ने भी टैम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. इस चैनल का कहना है कि टैम रेटिंग का सिस्टम और सैंपल साइज सही नहीं है. चैनल के प्रेसिडेंट श्री राम किलांबी ने टैम मैजरमेंट पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि टैम मुंबई जैसे शहरों में केवल 12 दर्शकों को ही सैंपल साइज बनाकर डाटा दे रहा है, क्या केवल 12 लोग ही मुंबई जैसे महानगर में एक चैनल का सैंपल साइज हो सकते हैं?

चैनल कितने लोगों को दिख रहा है और उसकी वास्तविक रेटिंग क्या है, इसमें एक बड़ा गेप है. हमने टैम डाटा को गहराई से अध्ययन किया तो दिल्ली में केवल 9 लोग और मुंबई में केवल 12 लोगों को सैंपल साइज बनाया गया था. इतना छोटा सैंपल साइज जीईसी (जनरल इंटरटेनमेंट चैनल) के लिए तो सही हो सकता है, लेकिन बिजनेस चैनल के लिए नहीं. इस ट्रैंड से नीस अंग्रेजी बिजनेस चैनल को घाटा हो रहा है. किलांबी और उनकी टीम ने टैम को अपनी रेटिंग प्रोसेस में बदलाव को सुझाव देते हुए कहा है कि टैम को अपने रिपोर्टिंग प्रोसेस और नीस चैनल की रेटिंग सिस्टम को बदलना होगा. उन्होंने कहा टैम की जो मौजूदा रेटिंग पद्धति है उस पर हमारे रेपुटेशन और बिजनेस दोनों को नुकसान हो रहा है.

हाल ही में एनडीटीवी, प्रसार भारती ने टैम रेटिंग से मिलने वाले आंकड़ों पर सवाल उठाया था. ‘एनडीटीवी’ ने ‘नीलसन’ कंपनी के खिलाफ उसके गलत रेटिंग के लिए, न्यूयॉर्क स्टेट कोर्ट में मुकदमा दायर करके 26 जुलाई, 2012 को कम से कम 1.3 बिलियन यूएस डॉलर के हर्जाने की मांग की थी. इसमें अन्य मुद्दों के अलावा कानूनी फीस भी शामिल है. एनडीटीवी ने अपनी शिकायत में कहा था कि इनके गलत रेटिंग की वजह से ‘एनडीटीवी’ को काफी नुकसान हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *