सुधीर चौधरी ‘जी न्यूज’ को ले डूबे, आईबीएन7 पतन के गर्त में

दो बड़े न्यूज चैनलों का इन दिनों बुरा हाल हुआ पड़ा है. जी न्यूज कभी देश का जाना-माना चैनल हुआ करता था, लेकिन आजकल इसके दिन गर्दिश में चल रहे हैं. जिंदल ने जी ग्रुप के संपादकों का पैसे मांगते हुए स्टिंग क्या कर लिया, इस ग्रुप के चैनल देखते ही देखते बदनाम चैनल में शुमार होते चले गए. कितनी भी कोशिश की गई पर चैनल नहीं उठा तो नहीं उठा.

इन दिनों तो हालत और ज्यादा खराब हो चुकी है. सुधीर चौधरी को जी न्यूज का फेस बनाकर पेश करना और इन पर दांव खेलना जी समूह को भारी पड़ने लगा है. चैनल की टीआरपी दिनोंदिन धड़ाम होती जा रही है. ताजे आंकड़े बताते हैं कि जी न्यूज अब छठें नंबर का चैनल होकर रह गया है. जी न्यूज से ज्यादा टीआरपी इंडिया न्यूज और न्यूज24 को मिल रही है.

उधर, आईबीएन7 चैनल इन दिनों अपने पतन के चरम पर चल रहा है. आशुतोष के जाने के बाद चैनल चेहराविहीन हो चुका है. जो चेहरे दिखते हैं, उसमें ज्यादातर मिसफिट, बूढ़े, कांतिहीन दिखते हैं जिन्हें दर्शक कुबूल नहीं कर पा रहा. चैनल के पास कोई नया विजन और कांसेप्ट नहीं है. लाखों की सेलरी पाने वाले दर्जनों लोग अपनी अपनी सीट तोड़ रहे हैं और चैनल दिनोंदिन गर्त में जा रहा है.

जिन लोगों की वाकई छंटनी होनी चाहिए थी, वो जुगाड़, चापलूसी और शब्दाडंबर के बल पर चैनल के भीतर मौजूद रहकर चैनल की बैंड बजा रहे हैं. छंटनी उन युवाओं की हुई जो वाकई ऊर्जावान और उत्साही लोग थे, साथ ही कम सेलरी में ज्यादा प्रभावशाली तरीके से काम कर रहे थे. असल में आईबीएन7 में एक काकस काम करता है. उस काकस के बाहर के लोगों की नौकरी चैनल में ज्यादा दिन तक नहीं चल पाती. लगता है कि चैनल का उद्धार तभी होगा जब इस काकस को किक और फायर किया जाएगा.

हां, सबसे जोरदार अगर कोई चैनल लगातार चल रहा है तो वो है आजतक. सुप्रिय प्रसाद ने चैनल को वहां पहुंचा दिया है जिसके आसपास नंबर दो वाला चैनल भी नहीं है. आजतक 20.6 के जरिए नंबर एक पर है तो नंबर दो पर मौजूद एबीपी न्यूज 14.0 पर है. यानि एक नंबर और दो नंबर के चैनल के बीच इतना फासला है कि आजतक का प्रतिस्पर्धी कोई भी चैनल नहीं है. लड़ाई दो नंबर के लिए इन दिनों एबीपी न्यूज और इंडिया टीवी में चल रही है. कापड़ी के काकस से इंडिया टीवी के मुक्त होने के बाद चैनल न्यूज कंटेंट पर खेल रहा है. इसके कारण कई हफ्तों तक चैनल का आडियेंस, व्यूवर कनफ्यूज रहा. अब लग रहा है कि चैनल को एक नए किस्म का सीरियस व्यूवर मिल रहा है, जिसके कारण चैनल स्थायित्व की ओर अग्रसर है.

इस साल के चौथे हफ्ते की टीआरपी इस प्रकार है….

WK 04 2013, (0600-2400)
Tg CS 15+, HSM:
Aaj Tak 20.6 up 0.6
ABP News 14.0 dn 0.3
India TV 11.0 dn 0.9
News24 9.0 up 0.8
India news 8.6 dn 0.2
ZN 8.1 dn 1.0
News Nation 8.1 up 1.5
NDTV 6.9 dn 0.2
IBN 6.4 dn 0.1
Samay 2.7 dn 0.4
Tez 2.7 dn 0.1
DD 1.7 up 0.3

Tg CS M 25+ABC
Aaj Tak 21.1 up 1.1
ABP News 14.3 up 0.1
India TV 11.2 dn 0.9
News24 8.6 up 1.2
India news 8.3 dn 0.5
ZN 8.2 dn 1.3
NDTV 8.0 same
News Nation 7.6 up 0.9
IBN 6.7 up 0.1
Samay 2.8 dn 0.3
Tez 1.8 dn 0.4
DD 1.5 up 0.1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *