इलाहाबाद में विजय भैया जैसा कोई नहीं

: श्रद्धांजलि : मेरी विजय भैया से मुलाकात २००० में हुई. तब मैंने पत्रकारिता की दहलीज पर कदम रखा ही था. मैंने इलाहाबाद में यूनाइटेड भारत ज्वाइन किया.