दैनिक जागरण, मेरठ के दफ्तर पहुंचे टीम अन्ना के सदस्य, देखें तस्वीरें

टीम अन्ना कल मेरठ में थी. यूपी में जनसभाओं के क्रम में ये लोग मेरठ पहुंचे थे. टीम अन्ना के सदस्य अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसौदिया, किरण बेदी और कुमार विश्वास शुक्रवार को दैनिक जागरण मेरठ के न्यूज़रूम में पहुंचे. वहां इन लोगों ने अखबार के कामकाज को देखा और दैनिक जागरण की टीम से मुलाकात की. इन लोगों का स्वागत दैनिक जागरण के निदेश तरुण गुप्ता ने किया.

ये वीडियो देखने के बाद भी आप कहेंगे कि भारत में कानूनराज है?

: मुंबई पुलिस की क्रूरता का वीडियो : मुंबई से एक साथी ने यह वीडियो भड़ास4मीडिया के पास भेजा है. कुछ मिनट के इस वीडियो के जरिए आप देखकर जान सकते हैं कि अपनी भारतीय पुलिस कितनी बर्बर और अराजक है. दुनिया भर में पुलिसिंग को जनपक्षधर बनाने और न्यूनतम हिंसा के जरिए संचालित किए जाने के प्रयास जोरों पर है. लेकिन अपने देश में पुलिस ने जैसे तय कर रखा हो कि उसे तो सिर्फ डंडे के जरिए ही पुलिसिंग करनी है, बाकी कोई फंडा नहीं सीखना.

पत्रकारों की सुरक्षा के लिए प्रेस काउंसिल द्वारा छह सदस्यीय उपसमिति गठित

Hyderabad, November 21: The Press Council of India (PCI) has appointed six member Sub-Committee to examine the larger issue of “Safety of Journalists in discharging their duties” with Mr. K Amarnath, Secretary of the Indian Journalists Union (IJU) and member of the Press Council as Convener on a representation of the Indian Journalists Union (IJU) and some others.

Help sought for ailing journalist

Guwahati: A middle aged journalist is suffering from cancer appeals for help from his colleagues. Kishore Kirat, who used to work  for ‘Purbanchal Prahari’  and ‘Dainik Purvoday’ was diagnosed with gland cancer  five year back and he still fighting with the disease. Taking a break for few years, Kishore, 40,  had almost recovered after his prolonged treatment. Six months ago,  he took the responsibility of the editor of Nepali magazine from Guwahati.

जबसे अखबार लोकार्पित हुआ, तबसे सेलरी नहीं मिली!

: टीवी99 में भी तनख्वाह नहीं, कैसे मनेगी दीवाली :  पिछले दिनों राजस्थान में एक समाचार पत्र के दैनिक संस्करण का लोकार्पण समारोह धूमधाम से आयोजित किया गया था. बहुत बड़ी-बड़ी बातें इस अखबार के लिए कही गयी थी. इस समाचारपत्र को लेकर अनुमान लगाए गए थे कि भविष्य में राजस्थान में इस अखबार के जरिये जाट समाज को प्रचारित किया जायेगा.

‘खोज इंडिया’ से टेक्निकल हेड जीएस गौतम और पंकज पांडेय का इस्तीफा

बड़ा सवाल खड़ा हो गया है गुड़गांव सिथत खोज इंडिया न्यूज चैनल के लिए। अव्यवसिथत माहौल और कुप्रबंधन की वजह से चैनल को एक और बड़ा झटका लगा, जब चैनल के टेकिनकल हेड जीएस गौतम ने इस्तीफा दे दिया। इसके साथ साथ चैनल के सीनियर करेस्पांडेंट पंकज पाण्डेय ने भी अपना इस्तीफा सौंप दिया। सीनियर कैमरामैन की तौर पर संस्थान से जुड़े जीएस गौतम ने अपनी मेहनत, लगन और काबिलियत के दम पर चैनल में उस खास मुकाम को पाया था।

एक शार्टफिल्म : सुसाइड करने का नया तरीका- मीडिया ज्वाइन कर लो

सुसाइड…. एक शॉर्ट फिल्म है, जिसे हम मीडियाकर्मियों ने मीडिया में अपने अनुभवों के आधार पर बनाया है। हममें से सभी कुछ ना कुछ ख़्वाब या कुछ मक़सद को लेकर इस क्षेत्र में आते हैं। जब आप कॉलेज में पढ़ते हैं तो वो दुनिया और आदर्श अलग होते हैं, और जब आप फील्ड में उतरते हैं तो ये दुनिया अलग ही होती है। जो आप पढ़कर-सीखकर आते हैं, प्रैक्टिकल करते हुए उन सब बातों के मायने बदल जाते हैं।

हिंदुस्तान, गया एडिशन के संपादकीय प्रभारी बने प्रगति मेहता

प्रगति मेहता: लांचिंग की तैयारियां पूरी : दैनिक हिन्दुस्तान ने बिहार में गया संस्करण निकालने के लिए तकरीबन सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं. गया संस्करण की कमान युवा पत्रकार प्रगति मेहता को सौंपी गई है. प्रगति इससे पहले दैनिक हिन्दुस्तान के पटना संस्करण में प्रिंसिपल कॉरेस्पॉन्डेंट के रूप में काम कर रहे थे. प्रगति मेहता को हिन्दुस्तान के प्रमुख संपादक शशिशेखर का करीबी माना जाता है.

लोकमत समाचार का उत्कृष्ट साहित्य वार्षिकी ‘दीप भव’, लोकार्पण 22 को दिल्ली में

महाराष्ट्र के प्रतिष्ठित समाचार पत्र समूह लोकमत मीडिया लिमिेटेड के हिंदी दैनिक लोकमत समाचार द्वारा प्रकाशित कला साहित्य वार्षिकी दीप भव-2011 का लोकार्पण 22 अक्टूबर को दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के मल्टीपरपस हॉल में शाम 6.30 बजे होगा। लोकार्पण करेंगे प्रख्यात साहित्यकार कृष्णकुमार। कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे कवि और श्रेष्ठ आलोचक अशोक वाजपेयी।

सौरभ मालवीय को पीएचडी की उपाधि

भोपाल : माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल ने सौरभ मालवीय को उनके शोधकार्य ‘हिंदी समाचार-पत्रों में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की प्रस्तुति का अध्ययन’ विषय पर डाक्टर आफ फिलासिफी की उपाधि प्रदान की गयी। श्री मालवीय ने अपना शोधकार्य विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बृजकिशोर कुठियाला के मार्गदर्शन में संपन्न किया है।

लखनऊ में अरविंद केजरीवाल पर चप्पल फेंकने वाला युवक जालौन निवासी जितेंद्र पाठक है

फिर हुआ टीम-अण्‍णा पर हमला। प्रशांत भूषण के बाद अब अरविंद केजरीवाल पर हमला हो गया है। लखनऊ के झूलेलाल पार्क में चल रही एक जनसभा में उन पर चप्‍पल से हमला हुआ। हमलावर जालौन का निवासी जितेंद्र पाठक है। हमलावर जितेंद्र पाठक को पकड़कर लोगों ने धुना और पुलिस के हवाले कर दिया। अरविंद केजरीवाल लखनऊ में देर शाम एक जनसभा में आये थे।

चर्चाएं महज अफवाह, मैं एक प्रोजेक्ट के लिए महीने भर की छुट्टी पर हूं : आशुतोष

आईबीएन7 न्यूज चैनल के मैनेजिंग एडिटर आशुतोष को लेकर दिल्ली की मीडिया में कई तरह की चर्चाएं और अफवाहें फैली हुई हैं. जितने मुंह उतनी बातें सामने आ रही हैं. कोई कह रहा कि आशुतोष को अन्ना हजारे के ज्यादा कवरेज करने के कारण सूचना प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी के इशारे पर राजदीप ने फोर्स लीव पर भेज दिया है. किसी का कहना है कि वह सहारा ग्रुप ज्वाइन करने वाले हैं और उनकी एक मीटिंग सहारा में हो चुकी है.

जी न्यूज के क्राइम रिपोर्टर रहे प्रदीप राय का निधन

प्रदीप रायएक दुखद समाचार है. गाजीपुर जिले के निवासी और जी न्यूज, दिल्ली में क्राइम रिपोर्टर के तौर पर तीन वर्षों तक सेवा देने वाले युवा पत्रकार प्रदीप राय का निधन हो गया है. उन्होंने अंतिम सांस बनारस के एक अस्पताल में ली. बताया जाता है कि प्रदीप की किडनी और लीवर में प्राब्लम थी जिसका इलाज चल रहा था.

अब चुप क्यों हैं सिद्दीकी, हेमंत और प्रभात?

: काहे फट गया यूपी के मुखर पत्रकारों का नगाड़ा : यशवंत सर, नमस्‍ते। आपके भड़ास पर लखनऊ के पत्रकारों की करतूतों पर खूब लिखा गया है। भड़ास पर छपे कई ऐसे महान पत्रकारों ने भी अपनी लेखनी तोड़ी है, जिसमें क्रांति की ज्‍वालाएं भड़कती दिखी हैं। उनके लेखों से साफ लगता था कि अब पत्रकारों की दलाली पर लखनऊ के पत्रकार चुप नहीं रहेंगे और आग लगा कर सारा कुछ स्‍याह-सफेद कर देंगे।

अमिताभ का लग गया काम, बाकी नूतन बताएंगी हाल-ए-धाम

: एक कमरे में चार आईपीएस अफसरों की तैनाती : बिना किसी इंट्रो और भूमिका के, केवल एक बात सूचनार्थ बताना चाहूंगा, उनको जिन्हें नहीं पता है कि ये अमिताभ कौन हैं. अमिताभ एक आईपीएस हैं. यूपी कैडर के हैं. पहले उनका नाम अमिताभ ठाकुर हुआ करता था. लेकिन उन्होंने अपने किसी आदर्शवादी जिद के कारण जाति-उप-नाम को निजी और सरकारी तौर पर त्याग दिया.

मुख्‍यमंत्री के सचिव ने हड़काया तो ‘हुआंहुआं चैनल’ का भौकाल प्रमुख करने लगा भुपभुप

: सचिव ने कहा- बदतमीज कहीं के, लतिया कर बाहर कर दूंगा : इसके पहले यूपी भवन में भी औकात दिखायी जा चुकी है कथित भौकाली को : नई दिल्‍ली : चैनल मार्केट के कबाड़ी बाजार में एक चैनल है, जो अब ‘था’ होने जा रहा है। नाम है, मान लीजिए ”हुआंहुआं” चैनल। यह चैनल अभी कुछ ही दिन पहले तक कई राज्‍यों में अपने जोबन-नचाऊ अंदाज में खूब दिखता था।

”बड़ा घटिया निकला मनोज बाजपेयी और अजय ब्रह्मात्मज”

किन्हीं सज्जन ने खुद को अनाम रखते हुए swarup.raunak@gmail.com मेल आईडी से पिछले दिनों यमुनानगर में हुए फिल्म महोत्सव के बारे में काफी कुछ लिख भेजा है. इस मेल के जरिए उन सज्जन ने अपनी भड़ास कई लोगों के खिलाफ निकाली है. एक्टर मनोज बाजपेयी, फिल्म समीक्षक अजय ब्रह्मात्मज और ब्लाग संचालक अविनाश दास पर कई आरोप लगाए हैं. लंबे शिकायती पत्र के केवल उन अंशों को प्रकाशित किया जा रहा है जिसमें आरोप हैं.

सवाल हिसार में कांग्रेस की गई या बची ज़मानत का नहीं

: हरियाणा को गुजरात हुआ समझिए : सवाल हिसार में कांग्रेस की गई या बची ज़मानत का नहीं, हरियाणा में नेस्तनाबूद हुई अस्मत का है. जैसे उसने कभी महाराष्ट्र में मराठों, यूपी में ब्राह्मणों और पंजाब में सिखों को खोया वैसे ही उसने हरियाणा में जाटों और गैरजाटों दोनों को खो दिया है. हिसार के चुनाव और उसके परिणाम को मतदाताओं के जातिगत तौर पर हुए बंटवारे के रूप में देखिए.

लफंगों की आखिरी शरणस्थली होती है देशभक्ति

आनंद प्रधानदेश में पत्रकारिता छात्रों को तैयार करने वाले प्रीमियर इंस्टीट्यूशन इंडियन इंस्टीट्यूट आफ मास कम्युनिकेशन (आईआईएमसी) के प्रोफेसर आनंद प्रधान की हिम्मत की दाद देनी चाहिए. शिक्षण जैसे पेशे में और खासकर पत्रकारिता जैसे पेशे के लिए नौनिहाल तैयार करने वाले काम में वर्तमान में इस कदर खरी-खरी बोलने और लिखने वाले अध्यापक बेहद कम हैं.

प्रतिष्ठित लेखक श्रीलाल शुक्ल की तबीयत बिगड़ी, लखनऊ के अस्पताल में भर्ती

सिर्फ एक लाइन की सूचना आई है. वो ये कि हिंदी के प्रतिष्ठित लेखक और लखनऊ निवासी श्रीलाल शुक्ल की तबीयत अचानक बहुत बिगड़ गई है. उन्हें अभी लखनऊ में गोमती नगर स्थित सहारा हास्पिटल में भर्ती कराया गया है. उनके जानने-चाहने वाले उनके स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं. लखनऊ के कई साहित्यकारों …

दीवाली के वक्त न्यूज चैनलों में बड़े उठापटक का दौर

एक दूसरे को टीआरपी में पटखनी देने के चक्कर में जुटे न्यूज चैनलों के बीच बेहतर स्टाफ रखने को लेकर उथल-पुथल मची हुई है. कई लोग इधर-उधर आ जा रहे हैं और कई लोगों से बातचीत अंतिम दौर में पहुंच चुकी है. सहारा समय में लंबे समय तक कार्यरत संजय ब्राग्टा को इंडिया टीवी ने अपने यहां ज्वाइन कराया तो आईबीएन7 में कार्यरत प्रबल प्रताप सिंह आजतक न्यूज चैनल में जाने की तैयारी कर चुके हैं.

हरिवंश की कलम से- ‘कहां गइल मोर गांव रे’

पर इस बार 11 अक्तूबर को जेपी के जन्मदिन पर गांववालों ने अनुभव सुनाये. कहा मीडियावाले तो ऐसे-ऐसे सवाल पूछ रहे थे, मानो यूपी-बिहार के गांव ‘भारत-पाक’ जैसे दो देश हों. जेपी का जन्म कहां, घर कहां? वगैरह-वगैरह. गांववालों ने कहा, हमने तो इसके पहले जाना ही नहीं कि हमारा गांव, दो राज्यों और तीन जिलों में है. हम तो एक बस्ती हैं. एक शरीर जैसे. उसे आप बांट रहे हैं, ऊपर से बता या एहसास करा रहे हैं.

न्यूज चैनलों के लिए क्रांतिकारी हो सकता है एनालॉग से डिजिटल की ओर का सफर

केंद्रीय मंत्रिमंडल का यह फैसला न्यूज़ चैनलों के लिए क्रांतिकारी हो सकता है। सरकार ने तय किया है कि वह केबल आपरेटरों को अनिवार्य रूप से डिजिटल तकनीक अपनाने के लिए अध्यादेश लाएगी। हमारे देश में अस्सी फीसदी टीवी उपभोक्ता केबल नेटवर्क के ज़रिये चैनलों को ख़रीदते हैं। जिसके लिए वो महीने में दो सौ से तीन सौ रुपये तक देते हैं। अभी एनालॉग सिस्टम चलन में है।एनालॉग सिस्टम में कई तरह के बैंड होते हैं।

दो बड़े मीडिया संस्थानों के पीछे क्यों पड़ी हुई है केंद्र सरकार

इस वक्त सरकार के निशाने पर देश के दो बड़े मीडिया संस्थान हैं। दोनों संस्थानों को लेकर सरकार के भीतर राय यही है कि यह विपक्ष की राजनीति को हवा दे रहे हैं और सरकार के लिये संकट पैदा कर रहे हैं। वैसे मीडिया की सक्रियता में यह सवाल वाकई अबूझ है कि जिस तरह के हालात देश के भीतर तमाम मुद्दों को लेकर बन रहे हैं उसमें मीडिया का हर संस्थान आम आदमी के सवालों को अगर ना उठाये, तो फिर उस संस्थान की विश्वनीयता पर भी सवाल खड़ा होगा।

अहमदनगर से दैनिक दिव्य मराठी का प्रकाशन शुरू

औरंगाबाद. दैनिक भास्कर समूह के मराठी अखबार दैनिक दिव्य मराठी के महाराष्ट्र में चौथे संस्करण का शनिवार को अहमदनगर में लोकार्पण हुआ। देश के सबसे बड़े समाचार पत्र समूह का यह 64 वां संस्करण है। गौरतलब है कि समूह का विस्तार 13 राज्यों में है और यह चार भाषाओं में समाचार पत्र प्रकाशित करता है। भास्कर समूह ने इसी साल मई में मराठवाड़ा की राजधानी कहे जाने वाले औरंगाबाद से मराठी भाषा में अखबार का प्रकाशन शुरू किया।

क्या पत्रकार जेडे के दाऊद से रिश्ते थे?

मुंबई. वरिष्‍ठ पत्रकार ज्‍योतिर्मय डे (जेडे) की हत्‍या मामले की जांच में जुटी मुंबई पुलिस ने काफी दिनों बाद एक ऐसा बयान दिया है जिससे हत्याकांड की जांच नई दिशा में मुड़ गई है. मुंबई पुलिस के एक सनसनीखेज खुलासे में कहा गया है कि पत्रकार जेडे के माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम से रिश्‍ते हो सकते हैं. पुलिस के मुताबिक संभव है कि जेडे ने बीते अप्रैल में लंदन में दाऊद के सहयोगी इकबाल मिर्ची से मुलाकात की.

दैनिक जागरण से दुखी अरुणेश पठानिया ने अमर उजाला ज्वाइन किया

खबर है कि दैनिक जागरण, मेरठ से दैनिक जागरण, देहरादून के लिए ट्रांसफर किए गए तेजतर्रार पत्रकार अरुणेश पठानिया ने इस्तीफा दे दिया है. अरुणेश के बारे में खबर है कि वे अब अमर उजाला, देहरादून के साथ नई पारी की शुरुआत करेंगे. उन्हें अमर उजाला, देहरादून में स्टेट ब्यूरो में रखे जाने की संभावना है. सूत्रों के मुताबिक दैनिक जागरण, मेरठ में अरुणेश पठानिया की नियुक्ति विजय त्रिपाठी के कार्यकाल के दौरान में हुई थी.

विनोद कापड़ी-साक्षी जोशी प्रकरण : आरोपियों के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी

विनोद कापड़ी-साक्षी जोशी की निजी तस्वीरें व निजी मेल इनकी मेल आईडी हैक करके पब्लिक डोमेन में डालने व प्रकाशित करने के प्रकरण में नया मोड़ आ गया है. सहारनपुर में साक्षी जोशी द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमें की पुलिस जांच पिछले साल कंप्लीट हो गई. फाइनल रिपोर्ट पर कोर्ट में सुनवाई जारी है.

1800 दो, साल भर अखबार लो और फ्री में 3600 का विज्ञापन छपाओ!

: कंपनी बुकिंग से आने वाले पैसे को मार्केट में पांच फीसदी ब्याज पर उठाएगी : देश के बड़े अखबार वालों ध्यान दो. आगरा से जल्द एक अखबार निकलने वाला है जिसका नाम है- द सी एक्सप्रेस. इस अखबार को लाने वाली कंपनी की योजना देख लो. इसका फिलहाल कोई तोड़ नहीं दिख रहा है. शायद इस छोटे ग्रुप से बड़े ग्रुप सीख ले सकते हैं. कंपनी की सभी के लिए एक योजना है.

ईडी अफसर राजेश्वर सिंह नाटक कर रहे हैं : सुबोध जैन

: प्रवर्तन निदेशालय भ्रष्टाचार के आरोपी अफसरों को संरक्षण दे रहा है : राजेश्वर को ईडी में प्रतिनियुक्ति भी नियमों में छूट देकर दी गई : प्रवर्तन निदेशक अरुण माथुर और आईजी राजीव कृष्ण के आफिसों से फोन करके मुझे धमकाया जा रहा है : करप्शन के खिलाफ कंप्लेन करने वाले की नौकरी गई, जिसकी शिकायत की उसके अधिकार बढ़ गए :

एनसीआर के मीडियाकर्मियों के लिये निःशुल्क चिकित्सा कार्यक्रम 19 अक्टूबर को

ओस्टियोपोरोसिस एवं आर्थराइटिस सहित हड्डियों और जोड़ों की बीमारियों के बारे में जागरूकता कायम करने के उददेश्य से भारतीय महिला प्रेस क्लब अर्थात इंडियन वीमेन प्रेस कोर्प्स (आई डव्ल्यू पी सी) में इस सप्ताह बुधवार (19 अक्तूबर) को मीडियाकर्मियों एवं उनके परिवारजनों के लिये निःशुल्क चिकित्सा एवं परामर्श कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

रथी नेताओं के खर्च पर पल-चल रहे पत्रकारों की रिपोर्टिंग उर्फ भांडगिरी

: भांडों के शब्दों का जनता पर कोई असर नहीं होने वाला : मीडियाकर्मियों के चरित्र पर हमेशा चर्चा होती रही है। नेता और अफसर लोग भी मीडियावालों के चाल-चेहरे की आलोचना  करते रहे हैं जिससे कोई खास अंतर पड़ने वाला नहीं। लेकिन दु:खद यह है कि अब आम आदमी भी मीडियाकर्मियों के बारे में नकारात्मक सोचने लगा है। मीडियाकर्मियों ने समय रहते इस ओर ध्यान नहीं दिया, तो आम आदमी उनसे घृणा भी करेगा।

भाकपा (माले) लिबरेशन का दसवां यूपी राज्य सम्मेलन : कुछ गप्प-शप्प

दिनकर कपूरआमतौर पर कम्युनिस्ट पार्टियां अपने सम्मेलन में अपनी उपलब्धियों के साथ अपनी कमी कमजोरियों की शिनाख्त करती हैं और भविष्य के कार्यभार को तय करती हैं। लेकिन कुछ सम्मेलन गप्प शप्प के लिए भी होते हैं। ऐसा ही राज्य सम्मेलन भाकपा (माले) लिबरेशन उत्तर प्रदेश का है, जो 19 से 21 सितम्बर 2011 को गोरखपुर में सम्पन्न हुआ।

भाजपा मीडिया प्रभारी ने लखनवी पत्रकारों को भंडारे में खाना खिलवाया

आडवाणी की जनचेतना यात्रा में पत्रकारों को नोट बांटने और बिजली का अवैध कनेक्शन लेने का मामला जोरों पर मीडिया में उछल रहा है. इसी बीच राजनाथ और कलराज की जनस्वाभिमान यात्रा में हुए एक वाकए ने पत्रकारों में भाजपाइयों की मानसिकता को उजागर कर दिया है. राजनाथ की यात्रा कवर करने गए लखनऊ के पत्रकारों को मीडिया प्रभारी नरेंद्र सिंह राणा ने कृष्ण जन्मभूमि मंदिर में चल रहे भंडारे में खाना खिलवाया.

अमर उजाला से फोटोग्राफर संदीप का इस्तीफा, दैनिक भास्कर में बरूण को प्रमोशन

अमर उजाला, हरिद्वार के फोटोग्राफर संदीप शर्मा नें अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. संदीप शर्मा पिछले 23 सालों से अमर उजाला में इस पद पर कार्यरत थे. उनका प्रेस फोटोग्राफर के रूप मे एकनिष्ठ करियर अमर उजाला में ही रहा है तथा स्थानीय अखबारी दुनिया में उनका सम्मान रहा है. संदीप शर्मा के इस्तीफा देने की वजह ब्यूरो प्रमुख अजय चौहान के साथ उनके मतभेद बताये गये हैं.

वेस्ट बंगाल में पत्रकार भोला पासवान ने आत्महत्या की

जामुड़िया (बर्द्धमान) : पश्चिम बंगाल के बर्द्धमान जिले के अंडाल थाना के बनबहाल फाड़ी अंतर्गत प्योर जामबाद निवासी पत्रकार भोला पासवान 30 ने गुरुवार की रात आत्महत्या कर ली। पोस्टमार्टम किए जाने के बाद पांडेश्वर शमशान घाट पर दाह संस्कार किया गया।

अनिल अब्राहम की सहारा में वापसी से संबंधित सहाराश्री का ‘शासनादेश’ पढ़ें

अनिल अब्राहम की सहारा में वापसी से संबंधित अफवाह सच निकली. सहाराश्री सुब्रत राय के हस्ताक्षरों से जारी एक पत्र सहारा मीडिया के सभी कार्यालयों में चस्पा कर दिया गया है. उसकी एक प्रति भड़ास4मीडिया के पास भी है. इस पत्र के मुताबिक अनिल पर जो आरोप लगे थे, वे झूठे पाए गए. उन पर लगे आरोपों की जांच पूरी होने और आरोप निराधार होने के बाद उन्हें फिर से पुराने पद पर ससम्मान वापस किया जा रहा है. पत्र ये है-

करप्शन विरोधी अभियान को न्यूज चैनलों के समर्थन से डरी सरकार ने निकाला डंडा

: लाइसेंस रिन्यूअल के फंडे को डंडे की तरह इस्तेमाल करने की रणनीति : काटजू ने नई नीति त्यागने की अपील की : केन्द्र सरकार ने न्यूज चैनलों पर अंकुश लगाने की तैयारी कर ली है. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने न्यूज चैनलों के लिए जो नई गाइडलाइन जारी की है उसमें इन अंकुश का उल्लेख है. कहा गया है कि अगर कोई न्यूज चैनल पांच से अधिक बार न्यूज व विज्ञापन के लिए तय नियमावली का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

करियर ग्रोथ मीटर- चेक ह्वेयर यू स्टैंड!

यह भी एक तस्वीर की कहानी है. मेल के जरिए आए दिन दिलचस्प तस्वीरें इधर-उधर बलखाती टहलती रहती हैं. उसी में एक तस्वीर यह भी है. कहानी सिंपल है. गरीब आदमी का पेट नहीं निकलता क्योंकि वह खटने में ज्यादा वक्त गंवाता है, ठीक से खाने-पीने में कम. और बड़े पद पर बैठे साहब सुब्बा लोग खा-पी कर डकार मारते हुए कुर्सी तोड़ते रहते हैं सो उनका लाद (पेट) निकल जाता है.

आईबीएन7 के पत्रकार राजेश बाजपेयी का जलवा देखिए

वैसे तो संतोष भारतीय और राहुल देव जैसे पत्रकार खुद की शक्ल को यदा कदा होर्डिंग्स, विज्ञापनों आदि में प्रकाशित कराते रहते हैं पर जिले स्तर पर किसी पत्रकार द्वारा खुद की तस्वीर मय परचिय होर्डिंग्स पर प्रकाशित कराना नहीं सुना गया है. ऐसा सुकर्म किया है उन्नाव के पत्रकार राजेश बाजपेयी ने. राजेश उन्नाव के दबंग पत्रकार माने जाते हैं. कई अखबारों-चैनलों में काम कर चुके हैं.

गासिप- राज चेंगप्पा लेंगे एमजे अकबर की जगह!

भाई लोग लगता है एमजे अकबर को इंडिया टुडे से विदा करा के ही मानेंगे. एक सज्जन ने भड़ास4मीडिया को एक मेल भेजकर लगभग भविष्यवाणी कर दी है कि एमजे अकबर की जगह इंडिया टुडे के नए एडिटर इन चीफ के रूप में राज चेंगप्पा ज्वाइन करने वाले हैं. राज चेंगप्पा पहले भी इंडिया टुडे में वरिष्ठ पद पर रहे हैं. इन दिनों वे द ट्रिब्यून, चंडीगढ़ के एडिटर हैं.

प्रबल प्रताप सिंह और अनिल अब्राहम के बारे में सूचनानुमा अफवाहें

दो सूचनानुमा अफवाहें हैं. पहली यह कि सहारा मीडिया से भगाए गए अनिल अब्राहम फिर दुल्हन बनाकर इसी विंग में लाए जा रहे हैं. उनसे पहले स्वतंत्र मिश्रा भी भगाए गए थे पर उनकी भी फूलमालाओं के साथ आश्चर्यजनक तरीके से वापसी कराई गई. और, स्वतंत्र मिश्रा के आने के कई माह बाद उसी अंदाज में अनिल को भी सहारा मीडिया में ले आया गया है. कहने वाले कहते हैं कि वापसी से संबंधित सूचनार्थ कागजात सहारा मीडिया के आफिसों में चस्पा हो गए हैं, पर हम यही कहेंगे कि यह तो अफवाह है, पता नहीं सच है या नहीं.

24, पुष्प मिलन, वार्डन रोड, मुंबई-36 के सिरहाने से झांकती ग्यारह अक्टूबर की सुबह

आलोक श्रीवास्तव: मुंबई से लौटकर आलोक श्रीवास्तव की रिपोर्ट : ऐसे भी जाता नहीं कोई… :  जबसे जगजीत गए तब से क़ैफ़ी साहब के मिसरे दिल में अड़े हैं – ‘रहने को सदा दहर में आता नहीं कोई, तुम जैसे गए ऐसे भी जाता नहीं कोई।’ और दिल है कि मानने को तैयार नहीं। कहता है – ‘हम कैसे करें इक़रार, के’ हां तुम चले गए।’

हिसार में खामखा वाहवाही लूटेंगे अन्नावाले

जगमोहन फुटेला: क्योंकि हिसार कभी कांग्रेस का था ही नहीं : मैंने एक न्यूज़ चैनल पे देखा. सी वोटर के एग्जिट पोल के सहारे वो बता रहा था कि हिसार में अन्ना टीम के हक़ में फैसला आता है या कांग्रेस के! ये अन्ना आन्दोलन की प्रशंसा है तो ठीक हैं. भक्ति है तो भी ठीक है और चमचागिरी हो तो तब भी उनकी मर्ज़ी. लेकिन ये व्यावहारिक नहीं है. ये सच नहीं है.

हिसार में अन्ना टीम की जीत तभी मानें जब कांग्रेस की जमानत जाए

विनोद मेहता: अगर कुलदीप हारे तो समझो ट्रक पंचर था : हिसार उपचुनाव के परिणाम से पहले दो बातों की चर्चा खूब है. कुलदीप जीत गए और अन्ना फैक्टर काम कर गया. पहले अन्ना फैक्टर की बात करे. अन्ना फैक्टर का असर उस सूरत में नजर आता है जब कांग्रेस की जमानत जब्त होती है. लेकिन ये नही हो रहा. सीएम कांग्रेस की जमानत बचाने में कामयाब हो गए हैं.

मैंने क़सम ली- मैं फासिस्ट राजनीति और उसके कारिंदों के खिलाफ कुछ नहीं लिखूंगा

शेष नारायण सिंहप्रशांत भूषण की पिटाई के बाद इस देश की राजनीति ने करवट नहीं कई, पल्थे खाए हैं. जिन लोगों को अपना मान कर प्रशांत भूषण क्रान्ति लाने चले थे, उन्होंने उनकी विधिवत कुटम्मस की. टीवी पर उनकी हालत देख कर मैं भी डर गया हूँ. जिन लोगों ने प्रशांत जी की दुर्दशा की, वही लोग तो पोर्टलों पर मेरे लेख पढ़कर गालियाँ लिखते हैं.

शराबी के प्रवचन पर अपुन का प्रवचन

: मृत्यु है क्या, जीवन का अंत, या प्रारंभ, या कि स्वयं शाश्वत जीवन? : हमारे रोने में एक आह थी, एक प्रार्थना थी, जो सभी ईश्वरों से थी : यश जी प्रणाम, आपका आलेख पढ़ा. पढ़ के आनंद हुआ. मैं ये कहूँगा कि दुःख स्थायी भाव नहीं है. सुख भी नहीं. कोई भाव स्थायी हो ही नहीं सकता. सिर्फ वे भाव जो हमारी कल्पना में हैं, वे ही हमारी प्रतीति में स्थायी हो सकते हैं.

राजीव वर्मा और शशि शेखर को टका-सा मुंह लेकर लौटना पड़ा खंडूरी के यहां से!

आजकल जिन मीडिया घरानों के पास कथित रूप से पत्रकारिता का ठेका है, वे पत्रकारों को पत्रकार नहीं बल्कि दलाल बनाने में लगे हुए हैं. वे अपने संपादकों को संपादक कम, लायजनिंग अधिकारी ज्यादा बनाकर रखते हैं. ताजा मामला हिंदुस्तान टाइम्स जैसे बड़े मीडिया हाउस का है. बिड़ला जी के इस मीडिया घराने की मालकिन शोभना भरतिया हैं. उनके हिंदी अखबार के प्रधान संपादक शशि शेखर हैं.

हमले की निंदा लेकिन कश्मीर पर मेरी राय प्रशांत से अलग : डा. कुमार विश्वास

उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता एवं टीम अन्ना के महत्वपूर्ण सदस्य श्री प्रशांत भूषण पर हुए असभ्य शारीरिक हमले की मैं कठोर शब्दों में निंदा करता हूँ. भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था में वैचारिक असहमति प्रकट करने के अनेक समाज-स्वीकृत एवं संविधान प्रदत्त उपकरण उपलब्ध हैं. मैं विचार की विभिन्नता और उसे उचित स्थान दिए जाने का सदैव पक्षधर रहा हूँ.

82 वर्षीय कामरेड पेरिन दाजी की किताब ‘‘यादों की रोशनी में’’ विमोचित

: संघर्षों के रास्ते पर फैलता वामपंथ का उजियारा : इंदौर। आमतौर पर राजनेताओं की स्थिति यह रहती है कि जब तक वे सत्ता में रहते हैं, लोगों की भीड़ उनके इर्द-गिर्द मंडराती रहती है। सत्ता से दूर होकर उनके आसपास का दायरा सिमटकर कुछ चमचों तक सिमट जाता है जो धीरे-धीरे सिकुड़ता जाता है। और यदि राजनेता सक्रिय राजनीति से ही संन्यास ले ले तो उसकी पूछ-परख सिर्फ़ कुछ आयोजनों में अध्यक्षता आदि तक सिमट जाती है।

सुब्रत राय सहारा, आपके मीडियाकर्मियों को भी फोर्स की जरूरत है

सुब्रत राय बड़ा दाव खेलना जानते हैं. वे छोटे मोटे दाव नही लगाते. इसी कारण उन्हें अपने छोटे-मोटे तनख्वाह पाने वाले मीडियाकर्मी याद नहीं रहते. और जिन पर इन मीडियाकर्मियों को याद रखने का दायित्व है, उन स्वतंत्र मिश्रा जैसे लोगों के पास फुर्सत नहीं है कि वे अपनी साजिशों-तिकड़मों से टाइम निकालकर आम सहाराकर्मियों का भला करने के बारे में सोच सकें. इसी कारण मारे जाते हैं बेचारे आम कर्मी.

लाइव इंडिया में सस्पेंस कायम- सुधीर चौधरी का क्या होगा!

लाइव इंडिया न्यूज चैनल में सस्पेंस गहरा हो गया है. लोग बेचैन हैं. कर्मी परेशान हैं. वेंडर हैरान हैं. काम करने वालों को तनख्वाह की प्राब्लम हो रही है तो वेंडर्स को पैसे न मिलने से परेशानी हो रही है. सुधीर चौधरी का रुटीन ब्रेक हो चुका है. वे न प्राइम टाइम पर टीवी में नजर आते हैं और न ही पहले जैसा कामधाम देख रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि चैनल के मालिक दीवान ने चैनल से पिंड छुड़ाने या फिर चैनल को नए हाथों में देने का मन बना लिया है.

मेरठ के दैनिक जागरण और अमर उजाला के तीन पत्रकारों का तबादला

खबर है कि दैनिक जागरण, मेरठ के दो और अमर उजाला, मेरठ के एक पत्रकार का तबादला दूसरे संस्करणों में कर दिया गया है. दैनिक जागरण से राहुल पांडेय और अरुणेश पठानिया का तबादला किया गया है. ये दोनों लोग रिपोर्टिंग में थे और पूर्व संपादक विजय त्रिपाठी के कार्यकाल में भर्ती किए गए थे. राहुल पांडेय को दैनिक जागरण, मुरादाबाद भेजा गया है जबकि अरुणेश पठानिया को दैनिक जागरण, देहरादून.

साध्वी चिदर्पिता का कुबूलनामा- इसलिए मैंने विवाह का निर्णय लिया!

साध्वी चिदर्पिता गौतमबचपन से ही ईश्वर में अटूट आस्था थी. माँ के साथ लगभग रोज़ शाम को मंदिर जाती. बाद में अकेले भी जाना शुरू कर दिया. जल का लोटा लेकर सुबह स्कूल जाने के पहले मेरा मंदिर जाना आज भी कुछ को याद है. दक्षिणी दिल्ली के कुछ-कुछ अमेरिका जैसे माहौल में भी सोमवार के व्रत रखती. इसी बीच माँ की सहेली ने हरिद्वार में भागवत कथा का आयोजन किया.

दुख को स्थायी भाव बना चुके एक शराबी का प्रवचन

यशवंत: एक शराबी मित्र मिला. वो भी दुख को स्थायी भाव मानता है. जगजीत की मौत के बाद साथ बैठे. नोएडा की एक कपड़ा फैक्ट्री की छत पर. पक रहे मांस की भीनी खुशबू के बीच शराबखोरी हो रही थी. उस विद्वान शराबी दोस्त ने जीवन छोड़ने वाली देह के आकार-प्रकार और पोस्ट डेथ इफेक्ट पर जो तर्क पेश किया उसे नए घूंट संग निगल न सका… :

दर्जनों मीडियाकर्मियों की सांस अटकी, करोड़ों रुपये डूबने के आसार

: कई पत्रकारों पर लगे गंभीर आरोप : एक बड़ा प्रकरण सामने आया है. मीडियाकर्मियों वाली एक हाउसिंग सोसायटी के कर्ताधर्ताओं पर गड़बड़-घोटाले के आरोप लग रहे हैं. प्रकरण ग्रेटर नोएडा की एक सोसाइटी का है जिसमें दिल्ली-एनसीआर के छोटे-बड़े करीब 40 मीडियाकर्मी जुड़े हैं और बाकी पिचहत्तर मेंबर नान मीडिया के हैं. सदस्यों की कुल संख्या है 115. सोसायटी का नाम है मीडिया विला सहकारी समिति.

झारखंड में कुख्यात लोग बनेंगे सूचना आयुक्त!

रांची : झारखंड में सूचना आयोग के गठन को लेकर एक विवाद उत्पन्न हो गया है। चयन समिति द्वारा दस अक्तूबर को गुपचुप तरीके से तीन लोगों के नाम तय करने की बात सामने आयी है। लेकिन इन नामों को अब तक रहस्यमय तरीके से गोपनीय रखा जा रहा है। पारदर्शिता के कानून के मामले में ऐसी गोपनीयता से सब हैरान हैं। मीडिया में जिन तीन नामों की चर्चा सामने आयी है, उन नामों से भी सबको हैरानी हो रही है।

अपनी असफलता का ठीकरा पुराने स्टाफ पर फोड़ते हैं एनके सिंह

अभी तक के अपने तीन माह के कार्यकाल में एनके सिंह (पीपुल्स समाचार, भोपाल के एडिटर) ने सिर्फ दो मुद्दों पर विशेष टिप्पणी लिखी. एनके सिंह की दिनचर्या में स्थानीय संपादकों को किसम-किसम के मेल भेजना, नोटिस देना और नौकरी से हटाने की धमकी देना शामिल है. पीपुल्स समाचार पत्र के स्टाफ की ख्वाइश एनके सिंह को काम करते देखने की है.

टाइम्स नाऊ के साथ ही हमलावर चेंबर में दाखिल हुए!

शर्मनाक। प्रशांत भूषण पर हमला। घृणित। सुप्रीम कोर्ट के लायर्स चैम्‍बर्स में घुस कर हुई वारदात। तालिबानीकरण। प्रख्‍यात वकील और टीम-अण्‍णा के सदस्‍य प्रशांत भूषण पर आज शाम हमला हो गया। सुप्रीम कोर्ट के लायर्स चैम्‍बर्स स्थित उनके कार्यालय में दो युवकों ने घुस कर उन्‍हें लात-घूसों से पीटा और जमीन पर गिरा कर मारा। प्रशांत भूषण पर यह हमला तब हुआ जब वे एक न्‍यूज चैनल को बाइट देने जा रहे थे।

न्यूज24 का दीवाली धमाका, आजतक के गले तक पहुंचा

टैम वाले टामियों ने दीवाला धमाका कर दिया है. न्यूज24 टाप पाइव न्यूज चैनल्स की लिस्ट में आ गया है. उसने चौथे पायदान पर पहुंचने में कामयाबी पाई है. उसने यह कामयाबी जी न्यूज को पछाड़ते हुए हासिल की है. न्यूज24 की नजर अब आजतक पर है. न्यूज24 की कोशिश होगी कि वह आजतक को पटकनी दे दे. न्यूज24 का प्रतिद्वंद्वी चैनल आजतक हो गया है क्योंकि नंबर तीन पर आजतक विराजमान है.

प्रशांत भूषण पर हमला, टाइम्स नाऊ के पास एक्सक्लूसिव फुटेज

अभी अभी सूचना मिली है कि टीम अन्ना के महत्वपूर्ण सदस्य और जाने-माने वकील व मानवाधिकारवादी प्रशांत भूषण पर सुप्रीम कोर्ट के उनके चेंबर में कुछ लोगों ने हमला कर दिया और बुरी तरह मारा पीटा. इस दौरान टाइम्स नाऊ न्यूज चैनल का कैमरामैन व रिपोर्टर मौजूद थे जिन्होंने पूरे वाकये को कैमरे में कैद कर लिया. इसका प्रसारण टाइम्स नाऊ चैनल पर किया जा रहा है.

इस बार सच कह रहे थे कमबख्त चैनल वाले!

दिनेश चौधरी: जगजीत सिंह बरास्ते अमिताभ (तीन) : जगजीत साहब के चले जाने की खबर एक चैनल पर देखकर झटका लगा। पर उम्मीद खत्म नहीं हुई थी, यह सोचकर कि ये चैनलवाले तो उल्टी-सीधी सच-झूठ खबरें देते ही रहते हैं, चलो किसी और चैनल पर देखें। चैनल बदल दिया। लेकिन दूसरे-तीसरे हरेक चैनल पर यही खबर। पिछली बार एक मित्र ने कहा था कि जब किसी इंसान के गुजर जाने की झूठी खबर चल जाये तो उसकी उम्र बढ़ जाती है।

मैं एचआर महुआ से बोल रहा हूं, आज से आपकी सेवाएं समाप्त

ट्रिन ट्रिन की घंटी बजी तो मोबाइल स्क्रीन पर महुआ न्यूज़ के नॉएडा ऑफिस के फोन नंबर को देख कर लखनऊ में महुआ की लांचिंग से जुड़े प्रवेश रावत ने फोन रिसीव कर जैसे ही हेलो कहा, उधर से आवाज आई- मैं एचआर महुआ न्यूज़ से बोल रहा हूं. प्रवेश जी, आज से आपकी सेवाएं समाप्त की जाती हैं. इतनी से बातचीत के बाद संवाद खत्म. इसको सुन कर प्रवेश के पैरों तले से जमीन खिसक गयी.

पी7न्यूज में उथल-पुथल तेज, रमन से विवाद के बाद हटे राहिल

पीपी7न्यूज से खबर है कि आउटपुट हेड रमन पांडे से विवाद के बाद सीनियर वीडियो एडिटर राहिल चोपड़ा को दशहरा और दीवाली जैसे त्यौहार से ठीक पहले संस्थान से इस्तीफा देना पड़ा है. राहिल चोपड़ा इसके पहले एनडीटीवी और आजतक जैसे चैनलों में काम कर चुके हैं. खबर है कि पी7न्यूज में कई लोगों पर गाज गिराने की तैयारी है.

राजेंद्र जोशी नहीं दे रहे हैं सेलरी के चौंतीस हजार रुपये

: नए लोग मीडिया में आएं तो हरामियों से निपटना भी सीखकर आएं : सेवा में, संपादक जी, bhadas4media, महोदय, चार महीनो से मैं डिप्रेशन में आ चुका हूँ. मुझे लगता है कि जब तक मैं अपनी पूरी भड़ास न निकाल लूँ, मुझे सुकून नहीं मिलेगा. इसलिए मैं आज अपनी आपबीती आपके पोर्टल के जरिये सबको बताना चाहता हूँ ताकि मेरे साथ साथ मेरे दूसरे साथी भी इस खबर को पढ़ कर हकीकत जान सकें.

संसाधनों के अभाव से जूझ रहे हैं सीएनईबी के ब्यूरो, मयूर जानी का इस्तीफा

: अब न्यूज एक्सप्रेस के लिए अहमदाबाद से रिपोर्टिंग करेंगे मयूर जानी : सीएनईबी के अहमदाबाद ब्यूरो से मयूर जानी ने इस्तीफा दे दिया है. वे न्यूज एक्सप्रेस के ब्यूरोचीफ बनाए गए हैं. मयूर की सीएनईबी में दूसरी पारी थी. मयूर जानी राहुलदेव के समय में अहमदाबाद से सीएनईबी के लिए रिपोर्टिंग करते थे. अनुरंजन झा के सीओओ बनाए जाने के बाद मयूर ने इस्तीफा दे कर पी7 न्यूज चैनल ज्वाइन किया था.

सन टीवी के ठिकानों पर सीबीआई ने की छापेमारी

सीबीआई की कई टीमों ने सन टीवी के आफिसों पर छापे मारे हैं. इस चैनल के मालिक पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री दयानिधि मारन हैं. दयानिधि के घर और दफ्तरों पर भी छापे पड़े हैं. छापे की जद में दयानिधि के भाई कलानिधि मारन भी हैं. सन टीवी पर छापेमारी के कारण इस चैनल के शेयरों में भारी गिरावट दर्ज की गई है. बताया जाता है कि सीबीआई ने रविवार देर रात दोनों मारन बंधुओं के साथ सन टीवी, एस्प्रो और मैक्सिस के खिलाफ एफआईआर दर्ज की.

उस रोज़ जगजीत भाई किसी दूसरे ही जग में थे

: हमेशा आसपास ही कहीं सुनाई देती रहेगी मखमली आवाज़ : बात थोड़ी पुरानी हो गई है। लेकिन बात अगर तारीख़ बन जाए तो धुंधली कहाँ होती है। ठीक वैसे जैसे जगजीत सिंह की यादें कभी धुंधली नहीं होने वालीं। ठीक वैसे ही जैसे एक मखमली आवाज़ शून्य में खोकर भी हमेशा आसपास ही कहीं सुनाई देती रहेगी। जगजीत भाई यूएस में थे, वहीं से फ़ोन किया – ‘आलोक, कश्मीर पर नज़्म लिखो। एक हफ़्ते बाद वहां शो है, गानी है।’

यूपी प्रेस क्‍लब यानी धंधा ठगी और बटमारी का

: के. विक्रमराव के दस्‍तखत से जारी प्रेसनोट पर छिड़ा विवाद : राव बोले- मेरी छवि धूमिल करने के लिए जारी हुआ फर्जी पत्र : मायावती से प्रेसक्‍लब पर रिसीवर बिठाये जाने की मांग : प्रेसनोट में वही तथ्‍य हैं जो विक्रमराव के पत्र में थे : लखनऊ : यूपी प्रेस क्‍लब लगातार विवादों में घिरता जा रहा है। अब तो इसके वर्चस्‍व को लेकर ठगी और बटमारी का धंधा भी खूब फलने-फूलने लगा है।

आठ साल में लिखी किताब का आठ तारीख को आठ संपादकों द्वारा लोकार्पण

टेलीविजन न्यूज चैनलों की भाषा पर सिलसिलेवार और गंभीर तरीके से लिखी गई एक किताब का विमोचन टेलीविजन और प्रिंट जगत के आठ संपादकों ने किया। टीवी के वरिष्ठ पत्रकार और IBN7 में कार्यरत एसोसिएट एक्जिक्यूटिव प्रोड्यूसर हरीश चंद्र बर्णवाल की किताब “टेलीविजन की भाषा” का विमोचन समारोह 8 अक्टूबर को दिल्ली के इंडिया हैबिटेट सेंटर में आयोजित किया गया।

सीवीबी में सेलरी न मिलने के कारण असंतोष, मीडियाकर्मी पुलिस के पास गए

यशवंत देशमुख वाली टीवी न्यूज एजेंसी सी वोटर ब्राडकास्टिंग उर्फ सीवीबी से खबर आ रही है कि इसके इंप्लाइज ने कई महीनों से सेलरी न मिलने के कारण कानूनी कार्रवाई की तरफ रुख कर लिया है. मुंबई से आ रही सूचना के खिलाफ वहां के कैमरामैनों व रिपोर्टरों ने पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी है. मुंबई में सीवीबी स्टाफ में कुल छह लोग हैं. एक ब्यूरो चीफ, तीन रिपोर्टर और दो कैमरामैन.

एसपी मंजिल सैनी की बर्बरता की तस्वीरें : जबरा मारे और रोवे भी न दे

एक कहावत है. भोजपुरी इलाकों में कही जाती है. जबरा मारे और रोवे भी न दे. यही हाल कुछ अभिनव के साथ घटित हो रहा है. एसपी ने उन्हें पीटा. जमकर पिटवाया. जब अभिनव ने पिटाई के खिलाफ शिकायत की तो उन्हें अब फिर से धमकाया जा रहा है और बुरी तरह फंसा देने की धमकियां दी जा रही हैं. माजरा यूपी का ही है. जिला है फिरोजाबाद. पर अभिनव ने लड़ने की ठानी है.

अमी आधार निडर आगरा के नए लांच होने वाले अखबार में फीचर एडिटर बने

आगरा से जल्द लांच होने वाले हिंदी दैनिक द सी एक्सप्रेस के साथ अमी आधार निडर ने नई पारी शुरू की है. उन्हें सी एक्सप्रेस में फीचर एडिटर बनाया गया है. निडर इससे पहले बीपीएन टाइम्स, आगरा के संपादक हुआ करते थे. बीपीएन के बंद होने के बाद निडर समेत डेढ़ दर्जन लोगों ने इस्तीफा …

एमजे अकबर का कांट्रैक्ट खत्म होने वाला है!

एमजे अकबर को लेकर मीडिया में अटकलों का दौर शुरू हो गया है. एमजे अकबर ने जब इंडिया टुडे समूह ज्वाइन किया था, तब भी एक कोने से यह चर्चा उड़ायी गई थी कि वे बस दो तीन महीने के मेहमान हैं. अब फिर उनको लेकर चर्चा फैलाई गई है कि एमजे अकबर का कार्यकाल इस माह खत्म हो रहा है, उनका एक साल का कांट्रैक्ट था, जो इसी अक्टूबर में खत्म हो रहा है.

निधीश त्यागी के भास्कर में लौटने की अटकलें

द ट्रिब्यून के चीफ न्यूज एडिटर निधीश त्यागी को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है. उनके दैनिक भास्कर के साथ फिर जुड़ने की चर्चाएं हैं. पर निधीश त्यागी इन चर्चाओं को फिलहाल गलत बताते हैं. उनका कहना है कि वे भास्कर से जुड़ने की सूचनाओं की पुष्टि नहीं कर रहे हैं. वे जहां थे, अब भी वहीं हैं. ज्ञात हो कि निधीश त्यागी पहले भी दैनिक भास्कर के साथ रहे हैं. तब वे चंडीगढ़ में इस अखबार के संपादक हुआ करते थे.

दैनिक भास्कर, जबलपुर का जमीन हड़पो प्रकरण क्या है?

भड़ास4मीडिया को एक सूचना मिली है. गलत है या सही, यह नहीं पता. इसकी सच्चाई बताएंगे जबलपुर वाले पत्रकार साथी. अपुष्ट सूचना ये है कि दैनिक भास्कर, जबलपुर के एक रिपोर्टर महोदय ने किसी की लंबी चौड़ी जमीन को कब्जाकर उसके एक हिस्से को अपने मालिक के नाम लिख दिया और दूसरे हिस्से को संपादक के नाम. शेष समस्त हिस्से पर खुद काबिज हो बैठे.

आज समाज में ”राडिया के रथ पर सवार आडवाणी” खबर छपने पर बवाल

सूचना है कि दो चार रोज पहले आज समाज हिंदी दैनिक (विनोद शर्मा वाला अखबार) में ”राडिया के रथ पर सवार हो गए आडवाणी” शीर्षक से एक खबर छपने के बाद बवाल हो गया. खबर में बताया गया था कि आडवाणी की रथयात्रा के प्रचार-प्रसार का ठेका राडिया की कंपनी वैष्णवी कम्युनिकेशंस को दिया गया है और इस तरह कई तरह के आरोपों से घिरी राडिया व उनकी कंपनी की सेवाएं आडवाणी ने ली हैं, जिससे भाजपा के कई लोगों में सुगबुगाहट है.

इंडिया टीवी में प्रमोशन, शोषण के लिए नया पद सृजित

इंडिया टीवी से खबर है कि इंक्रीमेंट मिलने के साल भर बाद अब लोगों को प्रमोशन दिया गया है. हालांकि प्रमोशन में भी जमकर भेदभाव किए जाने का आरोप है. शोषण करने के लिए डिप्टी प्रोड्यूसर जैसा एक नया पद सृजित कर दिया गया है. यह पद एसोसिएट प्रोड्यूसर और प्रोड्यूसर के बीच का है. अभी तक आमतौर पर एसोसिएट प्रोड्यूसर को प्रमोशन देकर प्रोड्यूसर बना दिया जाता है पर इंडिया टीवी ने अपने युवा पत्रकारों का शोषम व प्रमोशन लंबा खींचने के लिए डिप्टी प्रोड्यूसर जैसा पद निकाल दिया है.

महुआ न्यूज के पश्चिमी यूपी ब्यूरो चीफ बने लोकेश पंडित

मेरठ से ताजी सूचना ये है कि सिटी से डाक पर भेजे गए पत्रकार लोकेश पंडित ने इस्तीफा दे दिया है. प्रिंट मीडिया में करीब 15 साल गुजारने के बाद लोकेश ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में अपनी दूसरी पारी शुरू की है. लोकेश पंडित ने महुआ न्यूज में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ब्यूरो इंचार्ज के तौर पर मेरठ में ज्वाइन किया है. लोकेश पंडित मेरठ से प्रकाशित हिंदी दैनिक जनवाणी में सिटी इंचार्ज थे.

लाइसेंस किराये पर देने वाले धंधेबाजों का भाव बढ़ा

: लाइसेंस लेकर धंधा करने वाले चैनलों व संचालकों का भड़ास4मीडिया पर जल्द होगा खुलासा : और नया न्यूज चैनल या टीवी चैनल लांच करना आसान नहीं रहा. इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के क्षेत्र में गैर-जिम्मेदार कंपनियों के प्रवेश को रोकने के लिए सरकार ने कई नए कदमों का ऐलान किया है. इसके तहत निजी टीवी चैनलों के अपलिंकिंग-डाउनलिंकिंग नीति में बदलाव से संबंधित सूचना-प्रसारण मंत्रालय के प्रस्ताव को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है.

पत्रकार राकेश को थैंक्यू, दर्ज हुई एफआईआर, ठग हुए गिरफ्तार

झारखण्ड राज्य के देवघर जिले में करियर काउंसिलिंग करने वाले कुछ लोगों ने मथुरा (उत्तर प्रदेश) और बिहार राज्य के तीन चार छात्रों को बीआईटी (देवघर) में एडमिशन कराने के नाम पर 1.8 लाख रुपये ठग लिए. जब तक छात्रों को अपने साथ हुए फर्जीवाड़े की भनक लगी तब तक बहुत देर हो चुकी थी. खैर, छात्र आनन-फानन में देवघर पहुंचे और अपने साथ हुई ठगी की शिकायत करने देवघर नगर थाना पहुंचे. मगर देवघर नगर थाने की पुलिस ने उन्हें उलटे पाँव लौटा दिया.

सहारा समय से मोनालिसा रॉय पहुंचीं पी7 न्यूज

सहारा समय (बिहार-झारखंड) की एंकर मोनालिसा रॉय ने इस्तीफा देकर पी7न्यूज ज्वाइन कर लिया है. मोनालिसा रॉय को सहारा समय की महत्वपूर्ण एंकर्स में शुमार किया जाता है. मधुर व्यवहार और प्रोफेशनल कुशलता जैसी खूबियों वाली मोनालिसा ने 2005 में ईटीवी हैदराबाद से अपने करियर की शुरुआत की. 2008 में उन्होंने वायस आफ इंडिया न्यूज …

स्टीव जॉब्स की जुबानी, उनकी अपनी तीन कहानी

मैं दुनिया की बेहतरीन यूनिवर्सिटियों में से एक आपकी यूनिवर्सिटी में आकर आज खुद को सम्मानित महसूस कर रहा हूं। आज मैं आपको अपनी जिंदगी की तीन कहानियां सुनाना चाहता हूं। बस इतना ही। कोई बड़ी बात नहीं। सिर्फ तीन कहानियां। पहली कहानी कुछ बिंदुओं के मिलन के बारे में है। रीड कॉलेज की पढ़ाई मैंने छह महीने के बाद ही छोड़ दी थी, लेकिन उसके अगले 18 महीनों तक, जब तक कि मैंने वास्तव में पढ़ाई छोड़ न दी, मैं वहां ड्रॉप-इन छात्र के रूप में बना रहा।

पांच साल पहले कत्ल हुई रूसी पत्रकार अना पोलितकोव्स्काया का कौन है कातिल?

: रूस की पत्रकार अना पोलितकोव्स्काया की हत्या को पांच साल हो गए हैं. आज भी इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि उनका कत्ल किसने कराया -पुतिन सरकार ने, या उन लोगों ने जो पुतिन सरकार को नुकसान पहुंचाना चाहते हैं? :

मीनाक्षी मैडम की जय-जय

आजकल दैनिक जागरण वाली मीनाक्षी मैडम की जय जय है. पहले पन्ने पर उनकी तीन-तीन बाइलाइन छप रही है. ऐसे भाग्यशाली पत्रकार कितने हैं जो पहले पन्ने पर एक ही दिन में तीन तीन बाइलाइन पा जाएं. पर जब जिस पर खुदा मेहरबान होता है तो उसकी किस्मत ऐसी ही होती है. मीनाक्षी मैडम चंडीगढ़ में बैठती हैं और पूरे पंजाब हरियाणा पर राज करती हैं. काफी पुराने दिनों से दैनिक जागरण से इनका नाता है.

खण्डूरी थे तो लोस में हारे, खण्डूरी हैं तो विस में हारेंगे!

: उत्तराखण्ड भाजपा में घमासान : बीसी खण्डूरी धनुष-बाण लिये हुए अपने प्रतिद्वंद्वी को ढूंढ रहे हैं : उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री अपनी महान उपलब्धि बताते हुए कह रहे हैं कि शासन व प्रशासन में शुचिता व पारदर्शिता लाने के लिए प्रभावी पहल की गयी है। सुराज, भ्रष्टाचार उन्मूलन व जन सेवा के नाम से अलग विभाग बनाया गया है, लोकायुक्त को और अधिक सशक्त व प्रभावी बनाने के लिए प्राविधान किए जा रहे हैं।

बीबीसी में 2000 नौकरियां सदा के लिए खत्म कर दी जाएंगी

बीबीसी के डायरेक्टर जनरल मार्क थॉम्सन ने घोषणा की है कि बीबीसी के बजट में 20 प्रतिशत की कटौती को पूरा करने के लिए वर्ष 2017 तक लगभग 2000 नौकरियाँ बंद की जाएँगी. ब्रिटेन में टीवी लाइसेंस फ़ीस को 2016-17 तक 145.50 पाउंड प्रति वर्ष प्रति घर रखा गया है. बीबीसी अपना बजट लाइसेंस फ़ीस के ज़रिए एकत्र राशि से चलाती है.  मार्क थॉम्सन ने कहा, “इस प्रक्रिया में बीबीसी के कुल कर्मचारियों में से लगभग दस प्रतिशत की नौकरी जा सकती है.”

सीएनईबी में रात में काम करने वाले कर्मियों की जिंदगी भगवान भरोसे

: तो इसलिए सीएनईबी ने खबर नहीं चलाई? : सीएनईबी तोड़ रहा है दिल्ली और यूपी पुलिस के नियम कायदे को. दिल्ली और यूपी पुलिस ने रात में काम करने वाले कर्मचारियों के नियोक्ता कंपनियों को निर्देश दे रखा है कि वो रात के 9 बजे के बाद ऑफिस आने और जाने वाले महिला कर्मचारियों को पिक और ड्राप उपलब्ध करवाएं. इसके बावजूद सीएनईबी अपने कर्मचारियों के प्रति असंवेदनशील बना हुआ है.

शातिर-खुर्राट दलालों का हाथ और एक संवेदनशील पत्रकार की किताब

यशवंत: एक होने वाले आयोजन के बहाने आज की मीडिया पर भड़ास : आज जो जितना बड़ा दलाल है, वो उतना ही धन-यश से मालामाल है. आज जो जितना बड़ा दलाल है, सत्ता-बाजार में उसका उतना बड़ा रसूख है. आज जो जितना बड़ा दलाल है, लालची-तिकड़मी मिडिल क्लास की नजरों में उतना ही बड़ा विद्वान है.

राज ठाकरे की गुंडई और मीडिया का रोल… देखें वीडियो

मुंबई में राज ठाकरे की गुंडई जारी है. गरीब रिक्शवाले राज के गुंडों के शिकार बन रहे हैं. ये देश का दुर्भाग्य है कि मीडिया में खबरें भी दिखाई जा रही हैं लेकिन राज्य और देश की सरकार नपुंसक बनी हुई है. किसी को भी गरीबों से क्या मतलब. जिस तरह से परप्रांतीयों के नाम पर पेट के लिए मेहनतकश लोगों को पीटा जा रहा है, उस पर देश के प्रधानमंत्री क्यों कुछ नहीं बोल रहे हैं.

सख्त फैसलों के लिए चर्चित काटजू बने प्रेस काउंसिल अध्यक्ष

कुछ दिनों पहले ही रिटायर हुए सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस मार्कंडे काटजू को नई जिम्मेदारी दे दी गई है. उन्हें इंडियन प्रेस काउंसिल का अध्यक्ष बना दिया गया है. यह नियुक्ति सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने की है. अपने कार्यकाल के दौरान हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में कई बड़े फैसले काटजू ने सुनाए.

‘नए समय में मीडिया’ पर लेख आमंत्रित

बदलते वक्त के साथ मीडिया का स्वरूप भी बदलता जा रहा है। भाषा, कंटेंट, प्रजेंटेशन, ले आउट से लेकर विज्ञापन और मार्केटिंग तक में बदलाव आया है। अखबार से लेकर 24X7 समाचार चैनलों तक खबरों से खेलने में माहिर हो गए हैं। आकाशवाणी से लेकर एफएम चैनलों ने संचार माध्यम के विकल्पों को व्यापक किया है तो सीटिजन जर्नलिज्म से लेकर सोशल मीडिया ने तो मीडिया की परिभाषा ही बदलकर रख दी है।

अमर उजाला धर्मशाला के एडिटोरियल इंचार्ज का जम्मू तबादला, कई अन्य बदलाव

: राजेंद्र राज प्रिंसिपल करेस्पांडेंट बने, निशा शर्मा भी अमर उजाला से जुड़ीं, सुमेश ठाकुर का श्रीनगर से चंडीगढ़ तबादला :  चंडीगढ़ अमर उजाला के हरियाणा स्टेट ब्यूरो में राजेंद्र राज ने प्रिंसिपल करेस्पांडेंट के पद पर ज्वाइन किया है. राज पहले भी अमर उजाला में कई जगह काम कर चुके हैं. ये अभी चंडीगढ़ में हरियाणा का स्टेट ब्यूरो संभाल रहे थे. वे दैनिक भास्कर, चंडीगढ़ में और भास्कर के ही हरियाणा ब्यूरो में काम कर चुके हैं.

हिसार चुनाव में दो रीजनल न्यूज चैनलों की राजनीति

जगमोहन फुटेला: टोटल तो एक बहाना है… : टोटल टीवी या उस के मालिकों में इतना दम नहीं है कि हरियाणा में अपना प्रसारण बंद होने पर वे खापों की पंचायत बुलवा कर उन से सरकार के खिलाफ संघर्ष का ऐलान करा सकें. ये मान लेना भी सरासर गलत होगा कि चैनल चौटाला का है या कि टोटल के हक़ में खाप का फतवा उन ने जारी कराया होगा. सहानुभूति हो सकती है.

मुंबई से जोरशोर से शुरू हुए अखबार ”मेट्रो7डेज” का प्रकाशन बंद होने की खबर

मुंबई से खबर है कि बड़े जोर-शोर से शुरू हुआ हिंदी अखबार ”मेट्रो7 डेज” ने पिछले दो दिनों से दम तोड़ रखा है. तीन अक्तूबर से अखबार प्रिंट नहीं हो रहा है. खबर है कि अखबार प्रबंधन रिस्पांस नहीं मिलने से पूरे स्टाफ से बेहद नाराज चल रहा है. अखबार को बाजार में जगह नहीं मिलने व भारी घाटे के चलते प्रबंधन ने प्रकाशन बंद करने का निर्णय लिया है. हालांकि इस बारे में मेट्रो7डेज की ओर से कोई औपचारिक सूचना नहीं दी गई है.

मुंबई मित्र के 7वें वर्षगांठ पर हिंदी, मराठी व उर्दू के रचनाकार सम्मानित

मुंबई : हिंदी व मराठी दैनिक समाचारपत्र मुंबई मित्र के 7वें वर्षगांठ पर मुंबई सहित राज्य के अनेक क्षेत्रों के हिंदी, मराठी व उर्दू के रचनाकारों को सम्मानित किया गया। 2 अक्तूबर को गांधी जयंती के अवसर पर मुंबई के चर्चगेट स्थित यशवंत राव चव्हाण सेंटर में आयोजित विशेष  समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में महाराष्ट्र के सार्वजनिक निर्माण मंत्री छगन भुजबल उपस्थित थे। कार्यक्रम की शुरूआत डॉ. रजनीकांत मिश्र की सरस्वती वंदना से हुई तत्पश्चात सभी अतिथियों का शॉल, श्रीफल व पुष्पगुच्छ से स्वागत किया गया।

इंडिया न्यूज में आंतरिक घमासान, तीन का इस्तीफा

: नरेन्द्र मौर्या, विजय और अरूण कार्यमुक्त, आदिल मतीन का इस्तीफा : इंडिया न्यूज चैनल से खबर है कि सीनियर वाइस प्रेसीडेंट ब्रॉडकास्ट आदिल मतीन ने इस्तीफा दे दिया है. वे पिछले 3 सालों से काम कर रहे थे. सूत्रों का कहना है कि आदिल मतीन ने इंडिया न्यूज़ के पांचों चैनलों को ओखला 2 की जगह ओखला 1 में बनी नई ईमारत में शिफ्ट करने के विवाद के कारण इस्तीफा दिया है. नया आफिस पुरानी जगह से 5 किलोमीटर दूर है.

मेरे बारे में गुंडा-बदमाश जैसे शब्द का इस्तेमाल करना ठीक नहीं : नितिन दुबे

श्री यशवंत जी नमस्कार, आपके कहे अनुसार मैं अपना पक्ष भेज रहा हूं, आशा है कि आप मुङो निराश नहीं करेंगे। आपके भड़ास4मीडिया पोर्टल में प्रदेश टुडे और मुझे (पत्रकार नितिन दुबे) को लेकर जो समाचार प्रकाशित किया गया है, वो पूरी तरह निराधार है। दरअसल, प्रदेश टुडे में जिस संगठन का विज्ञापन देने का उल्लेख किया जा रहा है, उस संस्था ने प्रदेश टुडे को कोई विज्ञापन दिया ही नहीं और न ही ऐसा कोई आरओ प्रदेश टुडे द्वारा जारी किया गया है।

सहारा की गुंडई से त्रस्त ईडी अफसर ने खुद को 2जी जांच से हटाने की मांग की

2जी स्कैम की जांच करने वाले प्रवर्तन निदेशालय (इनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट) के अधिकारियों में से एक सहायक निदेशक राजेश्वर सिंह ने 2जी जांच से खुद को अलग करने की मांग कर डाली है. ऐसा इसलिए कि जबसे उन्होंने सुप्रीम कोर्ट को सहारा के उपेंद्र राय, सुबोध जैन आदि के द्वारा धमकाए जाने की बात सूचित किया है, उनके खिलाफ शिकायतों-आरोपों की बाढ़ आ गई है और वे इनका जवाब देते-देते परेशान हो चुके हैं.

सहारा से रमेश अवस्थी के भाई अजय अवस्थी की छुट्टी, पंकज दीक्षित को जिम्मेदारी

राष्ट्रीय सहारा अखबार से दो महीने पहले साइडलाइन किए गए तत्कालीन कानपुर जीएम रमेश अवस्थी के भाई अजय अवस्थी को सहारा टीवी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. अजय अवस्थी फर्रुखाबाद में सहारा टीवी में रिपोर्टिंग करते थे. रमेश अवस्थी और अजय अवस्थी दोनों सगे भाई है और फर्रुखाबाद के रहने वाले भी. …

प्रेस लिखी गाड़ी से मिले साढ़े तीन करोड़ रुपये

पंजाब पुलिस ने प्रेस लिखी एक गाड़ी से तीन करोड़, 47 लाख और 25 हजार रुपये की राशि बरामद की है। इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लिया है। तीनों पूना के हैं। इनके नाम साहिल, राजकुमार और राहुल हैं। एसपी मनमोहन शर्मा ने बताया कि पुलिस ने यह राशि आयकर विभाग को सौंप दी है। बताया जाता है कि जीटी रोड पर लगाए नाके के दौरान ने फार्च्यून गाड़ी को रोका गया। गाड़ी के शीशे पर प्रेस लिखा हुआ था।

एक अमेरिकी पत्रकार से डर गया महान लोकतांत्रिक देश भारत

कश्मीर भारत के दो युद्ध क्षेत्रों में से एक है, जहां से कोई खबर बाहर नहीं निकल सकती. लेकिन गुमनाम कब्रों में दबी लाशें खामोश नहीं रहेंगी. 23 सितंबर की सुबह 3 बजे दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंचने के कुछ ही घंटों के भीतर अमेरिकी रेडियो पत्रकार डेविड बार्सामियन को वापस भेज दिया गया. पब्लिक रेडियो पर प्रसारण के लिए स्वतंत्र रूप से मुफ्त कार्यक्रम बनाने वाला यह खतरनाक आदमी चालीस वर्षों से भारत आता रहा है.

फिल्में बेचने के लिए महिलाओं का हो रहा इस्तेमाल : गोविंद ठुकराल

यमुनानगर। सिनेमा में महिलाओं को ज्यादातर कमोडिटी की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है। सिर्फ २५ फीसदी फिल्मों में ही महिलाओं को ही सही तरीके से दिखाया जाता है। जबकि बाकी ७५ फीसदी सिनेमा में महिलाओं का इस्तेमाल सिनेमा को बेचने के लिए किया जाता है। यह कहना है वरिष्ठ पत्रकार गोविंद ठुकराल का। ठुकराल चौथे हरियाणा अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समरोह में महिला समाज और सिनेमा विषय पर सेमिनार में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

यूपी चुनाव के चक्कर में कई चैनल-अखबार लांच होने को तैयार

चुनाव के मौसम में मीडिया वालों की चांदी ही चांदी रहती है. सर्वे के नाम पर, प्रचार करने के नाम पर, चुनाव जिताने के नाम पर, ज्यादा कवरेज देने के नाम पर नेताओं से जमकर पैसे लेने के दिन होते हैं ये. इसी कारण जिन राज्यों में चुनाव होने होते हैं वहां चुनाव से ठीक पहले कई अखबार और कई चैनल शुरू हो जाते हैं. ये मौसमी अखबार और चैनल चुनाव में काम भर पैसा कमाकर चुनाव बाद नौ-दो ग्यारह हो जाते हैं.

अमेरिका में ‘कारपोरेट लालच’ के खिलाफ बवाल शुरू, कई सौ लोग गिरफ्तार

: आमदनी में बढ़ते फ़ासले और बेरोजगारी के चलते भड़का गुस्सा : प्रदर्शनकारियों ने वॉल स्ट्रीट पर क़ब्ज़ा की मुहिम शुरू की थी : न्यूयार्क : अमरीका के न्यूयॉर्क में पुलिस ने 700 से भी ज़्यादा गिरफ़्तार लोगों को गिरफ्तार कर लिया. बाद में इनको रिहा कर दिया गया. ये सैकड़ों लोग शनिवार को न्यूयार्क के वित्तीय इलाक़े में ‘वॉल स्ट्रीट पर क़ब्ज़ा करो’ मुहिम के तहत प्रदर्शन कर रहे थे.

हालत विकट है, संस्थानों की प्रतिष्ठा ध्वस्त होने का दौर है

आलोक कुमारहम उस दौर में प्रवेश करते जा रहे हैं जहां समाज में सही-गलत की दिशा तय करने वाले पारंपरिक तंत्र की प्रतिष्ठा बचाए नहीं बच रही। सदैव आपके साथ होने का दंभ भरने वाली दिल्ली पुलिस हो। या सच्चाई सामने लाने के लिए बनी सीबीआई, या फिर भ्रष्टाचार पर निगरानी रखने वाली सीवीसी हो या न्याय के मंदिर का प्रतीक सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट या निचली अदालत।

महुआ ने कोलकाता से अपना बोरिया-बिस्‍तरा बांधा, 80 से ज्‍यादा की नौकरी दांव पर

: अब नोएडा से संचालित होगा महुआ इंटरटेनमेंट : कर्मचारियों को एक महीने की नोटिस : मैनेजमेंट ने कहा- नोएडा पहुंचो या नौकरी छोड़ो : नोएडा। महुआ प्रबंधन ने अपने बांग्‍ला इंटरटेनमेंट चैनल का बोरिया-बिस्‍तरा कोलकाता से बांध लिया है। सामान पैक करके इस चैनल को नोएडा शिफ्ट करने की तैयारियां शुरू हो गयी हैं। इंटरटेनमेंट के कर्मचारियों को एक मास का नोटिस थमाते हुए कह दिया गया है कि वे या तो नोएडा दफ्तर में ज्‍वाइन करें या फिर संस्‍थान से नमस्‍ते कर लें।

थोड़ा सफल हो जाओगे तो मुखबिर, दलाल या रीढ़विहीन बन जाओगे

: 2 अक्टूबर पर विशेष : अपने गांधी जी की शेष यही है पहचान, मुखिया से कलेक्टर तक को घूस का जबरदस्त प्रावधान : बापू को भूलने के कारण और गलत आर्थिक नीतियों को अपनाने से बड़े शहरों, मलिन बस्तियों और उजड़े गाँवों का देश बन गया है भारत :

भोगवादी जीवन से उबे आदमी की आवारगी (भाग तीन)

: अलास्का के आवारा रास्तों पर : रेगिस्तान, समंदर और शहर-दर-शहर आवारगी : ”रेगिस्तान कभी भी सुखदायी जगह नहीं रहा, मगर इसका रूप हमेशा से जोगियों की तरह संवेदनशील साधारणता ओढे हुए, रहस्यों को उजागर करनेवाला और अभीभूत कर देने वाले सौंदर्य का अजनबी सा चेहरा लिए रहता है, जिसे देखने पर ही यह महसूस होता है कि यह जगह धरती पे नहीं, कहीं और है।

संपादक ने कार्टून पर कैंची चलाई, कार्टूनिस्ट ने फेसबुक पर पीड़ा बताई

उत्तराखंड में रमेश पोखरियाल निशंक के पतन और बीसी खंडूड़ी को नया सीएम बनाए जाने की परिघटना को मीडियावाले अपने-अपने तरीके से व्याख्यायित कर रहे हैं. खंडूड़ी को आमतौर पर लोग भाजपा का चुनावी मोहरा मान रहे हैं. लोगों का यह भी कहना है कि अगर भाजपा करप्शन के खात्मे को लेकर सीरियस होती तो निशंक के खिलाफ जांच चल रही होती और निशंक संगठन में बड़ा पद पाने की जगह जेल में होते.

‘देश लाइव’ पर इएसआई का छापा!

रांची से प्रसारित होने वाले चैनल ‘देश लाइव’ पर इएसआई के अधिकारियों ने छापा मारा है. शुक्रवार को इएसआई के अधिकारियों ने देश लाइव के कागजातों को टटोला और कंपनी के बारे में पड़ताल की. इएसआई के अधिकारियों ने जो सवाल देश लाइव के मैनेजमेंट से पूछा है उनके अनुसार, चैनल चलाने वाली कंपनी का नाम, कंपनी का पूर्ण विवरण, कर्मचारियों की संख्या, उनका वेतन, इएसआई रजिस्ट्रेशन जैसे सवाल है.

सीवीबी की जानबूझ कर इमेज खराब करने वालों ये पढ़ो

This is in response to your article on CVB News Service in the ‘Kanafusi’ section of Bhadas4media. Kindly publish it in the interest of your readers to have a balanced and correct view of the happenings in the organization. Let me correct some of the false claims made in the article in a deliberate attempt to tarnish CVB News Service’s image.

जगजीत सिंह बरास्ते अमिताभ (दो)

दिनेश चौधरीजगजीत सिंह साहब की महानता केवल इतने में नहीं है कि वे अच्छा गाते हैं या अच्छा गाते हुए वे बहुत ज्यादा लोकप्रिय भी हुए। बड़ी बात यह है कि उन्होंने ग़ज़ल गायन को एक संस्थागत रूप प्रदान किया और किसी रिले रेस की तरह वे अन्य गायकों को अपने साथ जोड़ते चले गये। दूसरे स्थापित गायकों की तरह उन पर कभी भी यह आरोप नहीं लगा कि उन्होंने किसी नवोदित ग़ज़ल गायक के रास्ते में कोई बाधा खड़ी की हो।

धर्मवीर भारती दफ़्‍तर में ‘डिवाइड एंड रूल’ में विश्‍वास रखते थे

‘धर्मयुग’ का माहौल अत्‍यन्‍त सात्‍विक था। संपादकीय विभाग ऊपर से नीचे तक शाकाहारी था। ‘धर्मयुग’ का चपरासी तक बीड़ी नहीं पीता था। सिगरेट-शराब तो दूर, कोई पान तक नहीं खाता था। कई बार तो एहसास होता यह दफ़्‍तर नहीं कोई जैन धर्मशाला है, जहाँ कायदे-कानून का बड़ा कड़ाई से पालन होता था। दफ़्‍तर में मुफ्‍त की चाय मिलती थी, जिसे लोग बड़े चाव से पीते थे।

उत्तराखंड के दर्जनों धनी पत्रकारों ने सरकारी खजाने को लगाया चूना, देखिए लिस्ट

यशवंत जी, आपको एक जानकारी दे रहा हूं. मेरा नाम न प्रकाशित कीजिएगा. उत्तराखंड सरकार के लोगों ने विवेकाधीन कोष से आर्थिक रूप से संपन्न प्रेस रिपोर्टरों को पैसे बांटे हैं. ऐसा करके सरकार के कुछ नुमाइंदों ने विवेकाधीन कोष का दुरुपयोग किया है. कुछ खास लोगों को निहित स्वार्थों के कारण फायदा पहुंचाया गया है. उधर, कई ऐसे गरीब रिपोर्टर हैं जो वाकई मदद के हकदार हैं पर उन्हें कोई मदद नहीं दी जा रही.

पत्रकारों, खूब दारू पियो क्योंकि त्योहार आगे है और पार्टी अभी बाकी है

देश-दुनिया में चाहे जो हो रहा हो, पर मुंबई प्रेस क्लब त्योहार के नशे में बौराया है. इसीलिए तो इस प्रेस क्लब ने एक मेल जारी कर अपने सभी मेंबर्स को सूचना दी है कि त्योहार कई सारे आगे हैं और ढेर सारी पार्टीज अभी बाकी है. पर टेंशन लेने का नहीं. दारू बहुत सस्ता है. जी हां, मुंबई प्रेस क्लब की तरफ से जारी मेल का अर्थ कुछ कुछ ऐसा ही है. आप आएं, खूब पिएं, त्योहार जो आगे हैं. इसी को देखते हुए दारू के दाम गिरा दिए गए हैं. मुंबई प्रेस क्लब की तरफ से जारी मेल देखें…

चार साल बाद मायावती को पता चला कि जितेंद्र सिंह समाजविरोधी हैं

कुमार सौवीर: अपराधी सुधारने की बसपाई फैक्‍ट्री फेल : रीता का घर फूंकने वाले को सम्‍मानित कर चुकी है बसपा : पीस पार्टी की कलंगी पर सजे बीकापुर के एमएलए जीतेंद्र सिंह : धनंजय की कोशिशों पर पानी फेर थामा पीस पार्टी का झंडा : अपनी पार्टी के डेढ दर्जन के करीब जनप्रतिनिधियों की कारण-बेकारण हत्‍या करने वाली बसपा को आज पार्टी के ही एक विधायक जितेंद्र सिंह ने करारा झटका देते हुए पीस पार्टी ज्वाइन कर लिया।

लखनऊ से शीघ्र छपने वाले बीस पेजी रंगीन हिंदी दैनिक को स्टाफ चाहिए

: …जरूरत है… : एक हिन्दी दैनिक को स्टाफ की. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से शीघ्र ही अपने प्रिंटिंग सेटअप पर प्रकाशित होने वाले बीस पेज के रंगीन हिंदी दैनिक समाचार पत्र के लिए निम्न पदों पर योग्य उम्मीदवारों की आवश्यकता है –

पत्रकार कुमार संजय त्यागी लहराते रहे पिस्तौल! प्रेमी जोड़ों पर मंडराई मौत!!

[caption id="attachment_21227" align="alignleft" width="231"]'पिस्तौल' लहराते कुमार संजय त्यागी‘पिस्तौल’ लहराते कुमार संजय त्गायी[/caption]कैथल (हरियाणा) में अंबाला रोड स्थित पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में रात को एक बजे के करीब कुछ लोग चुपचाप दाखिल होते हैं. इनमें पत्रकार कुमार संजय त्यागी भी हैं. हाथ में है एक ‘पिस्तौल’.

मोदी का कार्टून बनाने वाले से चिढ़े भाजपाई, जेल भिजवाया

: मोदी पर कार्टून बनाना महंगा पड़ा युवा कार्टूनिस्ट को : इंदौर। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी पर कार्टून बनाना एक लोकल कार्टूनिस्ट के लिए सचमुच महंगा साबित हुआ। उसके खिलाफ न सिर्फ सांप्रदायिक तनाव फैलाने का मामला दर्ज हुआ बल्कि उसे गिरफ्तार भी होना पड़ा। बुधवार को उसे जमानत पर छोड़ा गया, लेकिन उसके बाद भी उसे छिप कर रहना पड़ रहा है।

खुशखबरी : ‘भड़ास आनलाइन सोल्यूशन्स’ की शुरुआत

: क्या है bhadas online solutions : क्या-क्या लाभ ले सकते हैं इस सेवा से : वेब मीडिया के बढ़ते असर को देखते हुए और इस राह में आने वाली मुश्किलों को समझते हुए भड़ास4मीडिया की तरफ से एक नई सेवा ‘भड़ास आनलाइन सोल्यूशन्स’ (BOS) शुरू किया जा रहा है. यह सेवा उन लोगों के लिए है जो स्तरीय और क्वालिटी साइट, लेआउट, वर्किंग, टेक्नालोजी और सर्वर को प्रीफर करते हैं.

अमर उजाला, कानपुर के यूनिट हेड भूपेंद्र दुबे से सावधान रहना, फंसा देगा

: एक मीडियाकर्मी को परेशान किए जाने की कहानी, उन्हीं की जुबानी : Unnecessary Harrassement caused by  Ujala to me & my family… Respected Yashwantji, maine Amar Ujala Publication ltd May 2009 ko join kiya tha as a Asst.Manager Chandigarh mein, mere achche kaam ko dekhte hue Amar Ujala ne mera promotion karke mujhe Deputy Manager bana kar Kanpur bhej diya on March 2010.

चिटफंडिये ने यशवंत देशमुख को लूटा या खुद लुट गया? …कानाफूसी जारी आहे

: संपर्कों के धनी, संकटमोचक कहे जाने वाले और लाखों रुपये पाने वाले वरिष्ठ पत्रकार प्रदीप सिंह भी देशमुख की डूबती कंपनी का भला नहीं कर पा रहे : भड़ास वाले यशवंत जी, पता नहीं आपका अपने नाम वाले यशवंत (सी वोटर वाले) से क्या याराना है. यशवंत देशमुख की कंपनी में क्या से क्या हो गया, और आप लोग हैं कि चुप्पी साधे हुए हैं. कोई खबर नहीं छाप रहे. कोई जानकारी नहीं दे रहे.

प्रसिद्ध नाटककार गुरुशरण सिंह नहीं रहे

[caption id="attachment_21222" align="alignleft" width="94"]गुरुशरण सिंहगुरुशरण सिंह[/caption]: हमने जन सांस्कृतिक आंदोलन का सच्चा योद्धा खो दिया है- जसम : लखनऊ । देश के मशहूर नाटककार व रंगकर्मी गुरुशरण सिंह का कल निधन हो गया। वे 82 साल के थे तथा काफी अरसे से बीमार थे। गुरुशरण ने सीमेंट टेक्नालाजी में एमएससी करने के बाद भाखड़ा बांध की प्रयोगशाला में काम शुरू किया। बाद में वे वहीं काम करते हुए वहां के मजदूर आंदोलन से जुड़ गये।

मिस्टर विनीत जैन, आप टीओआई में मित्ता जैसे पत्रकार को कैसे झेल रहे?

: राडिया फेम एनके सिंह ने टीओआई के मालिक को पत्र लिखकर जर्नलिस्ट मनोज मित्ता को निकाल बाहर करने का अनुरोध किया : फेसबुक पर मनोज मित्ता ने एनके सिंह का पत्र और अपनी टिप्पणी डालकर पूरे प्रकरण का खुलासा किया : यूपी कैडर के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अमिताभ ने फेसबुक पर मित्ता के वॉल को देखकर पूरी जानकारी और अपने विचार को भड़ास4मीडिया के पाठकों तक इस रूप में पहुंचाया — :

राजदीप सरदेसाई की करतूत जगजाहिर करने वाली तहलका टीम को बधाई

नूतन ठाकुर: आशीष खेतान को सच लिखने और सिद्धार्थ गौतम को सच बोलने के लिए विशेष तौर पर बधाई : तहलका ने सचमुच देश की पत्रकारिता की गौरवशाली परंपरा को आगे बढ़ाया. एक से बढ़कर एक बड़ी खबरें ब्रेक की. कैमरे के सामने नोटों की गड्डियां लहराते भाजपा के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण का चेहरा सभी को याद होगा.

आगरा के डीएम अजय चौहान को रिश्वत में पचास लाख रुपये चाहिए!

पुण्य प्रसून बाजपेयी: आगरा का ताजमहल, जूता और कलेक्टर : ताजमहल ने अगर आगरा को पहचान दिलायी तो आगरा के जूतों ने आगरा के कलेक्टर को। और आगरा के कलेक्टर का एक मतलब है स्टाम्प ड्यूटी का ऐसा खेल, जिसके शिकंजे में जूतो का जो उघोगपति फंसा तो या तो उसका धंधा चौपट हुआ या फिर करोड़ों रुपये का हार कलेक्टर को पहनाया गया।

मेरी व्यक्तिगत और व्यावसायिक छवि धूमिल करने की कोशिश : अतुल अग्रवाल

प्रिय अनिमेष, मैं न्यूज़ एक्सप्रेस चैनल का एंकर अतुल अग्रवाल हूं। आपने भड़ास4मीडिया पोर्टल पर जगजीत सिंह की मौत वाले अपने लिखे भ्रामक लेख में एंकर अतुल अग्रवाल का नाम लिया है। आपके विचार प्रकाशित भी हुए हैं, जिसके मुताबिक ‘एंकर अतुल अग्रवाल चीख-चीख कर जगजीत सिंह की मौत वाली ख़बर पढ़ रहे थे।’ आपका ये कथन सवर्था सत्य के परे है और मेरी व्यक्तिगत और व्यावसायिक छवि को धूमिल करने वाला है।

जगजीत को ‘मार डालने’ वाला टीवी जर्नलिस्ट सस्पेंड, ब्यूरो चीफ को नोटिस

हाल में ही लांच हुए न्यूज चैनल ‘न्यूज एक्सप्रेस’ की इन दिनों काफी किरकिरी हो रही है. मशहूर गजल गायक जगजीत सिंह के निधन की इस न्यूज चैनल ने परसों झूठी खबर चला दी थी. यह गलत खबर देने वाले न्यूज एक्सप्रेस के मुंबई ब्यूरो के रिपोर्टर नसीम खान को सस्पेंड कर दिया गया है. चर्चा है कि नसीम को बर्खास्त भी किया जा सकता है. मुंबई के ब्यूरो चीफ विवेक अग्रवाल को न्यूज एक्सप्रेस प्रबंधन ने नोटिस जारी किया है.

खुशखबरी, जगजीत सिंह की तबीयत पहसे से बहुत बेहतर है

आलोक श्रीवास्तव: ‘जग जीत’ ने वाले यूं नहीं हारते : तकलीफ़ क्या बांटनी? दुख को क्या सांझा करूं? जगजीत सिंह जी पिछले चार रोज़ से आईसीयू में हैं। एक महफ़िल में गाते हुए ब्रेन हैमरेज हुआ और फिर मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में ऑपरेशन। परसों मुंबई से ही मित्र रीतेश ने मैसेज किया, फ़िक्र जताई – आलोक भाई, जगजीत जी ठीक तो हो जाएंगे न? उनकी आवाज़ में सजा आपका एक शेर कल से ज़हन में मायूस घूम रहा है –

इस पागल, नंगे व खतरनाक शख्स को पुलिस ने मारकर क्या गलत किया?

: देखें सीसीटीवी फुटेज और अन्य वीडियो : सतना (मध्य प्रदेश) की घटना याद होगी. न्यूज चैनलों पर बार-बार दिखाया गया. एक मानसिक रूप से बीमार आदमी को पुलिसवालों द्वारा मिलकर सरेराह पीटा जाना. और इसी के चलते उस आदमी की मौत हो जाना. पिटाई की सीन को जिसने भी देखा, उसने पुलिसवालों को जमकर गालियां दी और देश में अंग्रेजी राज जैसे पुलिस दमन की कल्पना की.

अपनी ही जमात में यूपी के स्पेशल डीजी को मात!

: समीक्षा बैठक में एक आईपीएस ने ही उठाई उंगली : एससी/एसटी के एक केस में भी मंत्री पड़े थे भारी : लखनऊ। कभी मंत्री से टकराव। प्रमुख सचिव गृह से रिश्तों में तल्खी! समीक्षा बैठक में हकीकत बयां करने से नहीं चूके कुछ आईपीएस। आखिर स्पेशल डीजी (अपराध एवं कानून व्यवस्था) बृजलाल की धाक क्यों कम हो रही है? क्यों आईपीएस बेधड़क उनके उन निर्देशों को प्रमुख सचिव के सामने बयां कर रहे हैं जिन पर अमल करने से वो मना कर चुके थे।

विक्रमराव के खत पर सुलगने लगी आग, आरोपों के खिलाफ कमर-कसी शुरू

कुमार सौवीरके. विक्रमराव का आरोप है कि यूपी प्रेस क्‍लब और वहां यूपी वर्किंग जर्नलिस्‍ट एसोसियेशन के कार्यालय पर कुछ लोगों ने कब्‍जा करने की साजिशें रची थी। विक्रमराव के मुताबिक यह करीब तीस साल पहले की बात है। उनका आरोप है कि इसके लिए कुछ लोग फर्जी तौर पर यूपी डब्‍ल्‍यूजेए के पदाधिकारी भी बन गये थे।

यूपी पुलिस में करप्शन के खिलाफ लड़ने वाला कांस्टेबल सुबोध यादव बर्खास्त

Subodh Yadav: पुलिस अधीक्षक, रेलवे, गोरखपुर अमिताभ यश के हस्ताक्षर से जारी हुआ बर्खास्तगी का पत्र : अन्ना के मंच से आईपीएस बृजलाल को भ्रष्टाचारी कहने वाले सुबोध यादव पर अंततः गिरा दी गई गाज : सुबोध यादव ने अंतिम दम तक करप्शन और तानाशाही के खिलाफ लड़ने का ऐलान किया :

हर पत्रकार को पढ़ना चाहिए वीरेंद्र जैन का लिखा यह पत्र

: नभाटा के संपादकीय स्टाफ को भेजा था : (आखिरी भाग) :  हिंदी की यह खूबी मानी जाती है कि यह जिस तरह बोली जाती है उसी तरह लिखी जाती है। इसमें मौन (साइलेंट) वर्णों के लिए कोई स्थान नहीं होता। होनेस्ट लिखा होगा तो होनेस्ट ही बोला जाएगा, ओनेस्ट नहीं। शब्द अस्तित्व में है तो वह ध्वनित भी होगा अन्यथा उसका लोप हो जाएगा। वीइकल में इ का पृथक उच्चारण असंभव तो है ही, व्याकरण का नियम इसके लोप हो जाने की वकालत करता है।

भोगवादी जीवन से उबे आदमी की आवारगी (भाग दो)

अमेरिका के भोगवादी जीवन से ऊबे क्रिस्टोफर ने खुद को जानने के लिए आवारगी का रास्ता चुना। सारे पैसे दानकर, परिचय-पत्र फेंककर और परिवार को बिना कुछ बताए उसने गुमनामी-घुमक्कड़ी का जीवन जीना शुरू किया। दो साल बाद वह अलास्का के निर्जन इलाके में जाकर रहना शुरू कर दिया। वहां जीवन की विपरीत परिस्थितियों से लड़ते हुए जीवन की खोज जारी रखी।

तरुण तेजपाल और तहलका को लेकर मेलबाजी

गूगल पर दो ग्रुप हैं, मीडिया मानिटर और स्टाप करप्शन वर्ल्डवाइड नाम से. इस ग्रुप में सैकड़ों सदस्य हैं. ये लोग मीडिया के मुद्दों पर आपस में चर्चा करते हैं. इन दिनों इस ग्रुप में चर्चा का विषय बने हुए हैं तरुण तेजपाल और उनका तहलका.

जर्नलिस्टों की ब्लैकमेलिंग के विरोध में पूरी तरह बंद रहा एक कस्बा

यशवंत: मीडिया करप्शन के खिलाफ स्थानीय लोगों का ऐतिहासिक विरोध : बाजारू मंडी में रंडी मीडिया के दलालों के कारण ये दिन देखने होंगे : क्या आपने कभी सोचा था कि एक दिन कोई शहर या कस्बा इसलिए बंद रखा जाएगा क्योंकि वहां के लोग पत्रकारों की ब्लैकमेलिंग से पूरी तरह परेशान हो चुके हैं. मीडिया करप्शन इतना बढ़ जाएगा कि इसके खिलाफ बंद तक का आयोजन होने लगेगा, ऐसी कल्पना किसी ने न की होगी.

लखनऊ के मठाधीश पत्रकारों! बताओ तुम्‍हारी औकात क्‍या है

कुमार सौवीर: के. विक्रमराव ने खोली दलालों-मठाधीशों की पोल-पट्टी : माफिया जैसी हरकतें है जोखू और रवींद्र सिंह की : फुटपाथ पर रेस्‍ट्रां का ठेका देकर होती है भारी उगाही : न वेतन और न कोई संस्‍थान, फिर ये लोग कैसे पत्रकार बन कर बैठे हैं प्रेस क्‍लब में : बीस सालों से क्यों नहीं कराया गया प्रेस क्‍लब का नवीनीकरण : लाइब्रेरी की जगह में की जाती है शराबखोरी :

जगजीत सिंह को श्रद्धांजलि देने लगा ‘न्यूज एक्सप्रेस’!

: संशोधित : जगजीत सिंह के लिए जब कल पूरा जग दुआ कर रहा था, तब इलेक्ट्रानिक मीडिया का एक चैनल ‘न्यूज एक्सप्रेस’ उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा था. हाय रे खबरों की होड़. हाय रे हमारे पत्रकार. हाय रे हमारे एंकर. ‘खबर अंदर की’ – ये टैगलाइन है न्यूज एक्सप्रेस का. लेकिन अस्पताल के अंदर की खबर को बाहर तक नहीं ला पाया. तकरीबन 20 मिनट तक चीख चीख कर न्यूज एक्सप्रेस यही बताता रहा- ”जगजीत सिंह इस दुनिया में नहीं रहे”.

चैनल मालिकों के व्यापारिक हित के लिए काम न करें जर्नलिस्ट : जस्टिस ज्ञान सुधा

शेषजी: हर मीडियाकर्मी के अंदर एक मुख्य न्यायाधीश होता है : सुप्रीम कोर्ट की जज न्यायमूर्ति श्रीमती ज्ञान सुधा मिश्रा ने कहा है कि मीडिया में काम करने वालों अपनी अंतरात्मा की आवाज़ को सुनकर ही काम करना चाहिए. उन्होंने ख़ास तौर से टेलिविज़न वालों  को संबोधित करते हुए कहा कि मीडियाकर्मी भी एक तरह के जज हैं.

इन्होंने तो जगजीत सिंह को जीते जी मार दिया

आईबीएन7 के डिप्टी एडिटर समीर चटर्जी ने फेसबुक पर जगजीत सिंह के निधन की सूचना डाल दी है. और, लोगों ने कमेंट करके जगजीत सिंह के गुजरने पर श्रद्धांजलि व्यक्त करने का काम शुरू कर दिया है. समीर ने फेसबुक पर जगजीत के गुजरने की सूचना साढ़े चार घंटे पहले ही डाल दी. मुंबई और दिल्ली के मीडिया के वरिष्ठों का कहना है कि अभी तक कोई मेडिकल और न्यूज बुलेटिन ऐसा जारी नहीं हुआ है जिसमें जगजीत के गुजरने की जानकारी दी गई हो.

अमेरिका में रोबो जर्नलिस्टों ने काम शुरू किया, पुलित्जर भी पाएंगे ये!

: परंपरागत पत्रकारिता बनाम मशीनी पत्रकारिता की बहस : रोबो जर्नलिस्टों से पार पाने के लिए रचनात्मक होना ही विकल्प : अमेरिकी समाचार पत्र न्यूयॉर्क टाइम्स ने हाल में रोबो जर्नलिस्ट से संबंधित एक रिपोर्ट प्रकाशित कर एक बार फिर परंपरागत पत्रकारिता बनाम मशीनी पत्रकारिता की बहस को गरमा दिया है। यह रिपोर्ट मुख्यत: नरेटिव साइंस नाम की कंपनी के बनाए सॉफ्टवेयर पर केंद्रित है।

सरपंच को ब्लैकमेल कर रहे दो टीवी जर्नलिस्ट धरे गए, जमकर पिटाई

[caption id="attachment_21192" align="alignleft"]फर्जी पत्रकारफर्जी पत्रकार[/caption]खबर पंजाब से है. धुरी के नजदीक के एक गाँव के सरपंच को ब्लैकमैल करने वाले दो इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकारों की गाँव वासियों ने जमकर धुनाई की. ये पत्रकार सरपंच से गांव में कराए गए काम में गड़बड़ बताकर उन्हें बार बार फोन कर रहे थे और बदले में दस हजार रुपये मांग रहे थे.

‘लोकमत’ की ईमानदारी, मालिक के पीए की रिश्वतखोरी की खबर प्रकाशित

मुंबई : इसे कहते है ईमानदार पत्रकारिता. मराठी के सबसे बड़े अखबार लोकमत के मालिक और महाराष्ट्र के स्कूली शिक्षा मंत्री राजेंद्र दर्डा का निजी सहायक मंत्रालय में किसी से घूस लेते हुए पकड़ा गया. लोगों को लगा कि मामला अख़बार के मालिक का है इस कारण लोकमत ग्रुप में यह खबर प्रमुखता से नहीं छपेगी. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. सुबह लोकमत (मराठी) सहित लोकमत समाचार (हिंदी)  व लोकमत टाइम (अंग्रेजी) में यह खबर पहले पेज पर प्रमुखता से छापी गयी.

फोकस टीवी से मैनेजिंग एडिटर रश्मि सक्सेना का इस्तीफा

फोकस टीवी की मैनेजिंग एडिटर रश्मि सक्सेना के इस्तीफे की सूचना है. सूत्रों के मुताबिक वरिष्ठ पत्रकार रश्मि ने आज महिला केंद्रित न्यूज चैनल फोकस टीवी से अपना नाता तोड़ लिया. वे आफिस गईं और अपना इस्तीफा देकर लौट गईं. हालांकि रश्मि ने भड़ास4मीडिया के फोन करने पर इस्तीफे की बात से इनकार किया पर चैनल से जुड़े सूत्र बताते हैं कि रश्मि का फोकस से संबंध खत्म हो चुका है और इसकी सूचना चैनल के कर्मियों तक पहुंचा दी गई है.

रिपोर्टिंग न करने देने के कारण फोटोजर्नलिस्ट सुनील शर्मा का अमर उजाला से इस्तीफा

मेरठ से सूचना है कि अमर उजाला के वरिष्ठ फोटो जर्नलिस्ट सुनील शर्मा ने इस्तीफा दे दिया है. बताया जाता है कि सुनील शर्मा उस वक्त अमर उजाला, मेरठ से जुड़े थे जब सूर्यकांत द्विवेदी रेजीडेंट एडिटर हुआ करते थे. सुनील ने हिंदुस्तान से इस्तीफा देकर इस शर्त पर अमर उजाला ज्वाइन किया कि वह फोटोग्राफी के अलावा रिपोर्टिंग का भी काम करेंगे.

राहुल शर्मा ने सीएनईबी के साथ शुरू की नई पारी

एक खबर सीएनईबी न्यूज चैनल से है. इस चैनल के साथ राहुल शर्मा ने नई पारी की शुरुआत की है. वे अभी तक न्यूज़ प्वाइंट टीवी में कार्यरत थे. राहुल सीएनईबी में बतौर प्रोडयूसर जुड़े हैं. न्यूज प्वाइंट टीवी में राहुल डिप्टी एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर थे. राहुल लंदन के ब्रिट एशियन टीवी चैनल और सहारा टीवी …

घोषणाओं का मौसम : अनुराधा प्रसाद और संतोष भारतीय ला रहे नए चैनल

मीडिया में पैसे बनाने का खेल जिन्हें एक बार आ जाता है, वे फिर पीछे मुड़कर नहीं देखते. यह हर कोई कहने-जानने लगा है कि मीडिया का मतलब कभी सरोकार रहा होगा, लेकिन इन दिनों तो इसका मतलब माल बनाना होता है. मीडिया अब उस चिड़िया का नाम है, जिसके जरिए महानता का लबादा ओढकर और सम्मानित माने जाने का भाव धारण कर मुनाफा कमाया जा सकता है.

राजनैतिक खबरची बना मध्य प्रदेश सरकार का दिल्ली स्थित सूचना केंद्र

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश सरकार के जनसंपर्क विभाग के दिल्ली स्थित सूचना केंद्र द्वारा अब रेवडि़यों के बाद पत्रकार वार्ता की सूचना भी चीन्ह चीन्ह कर देना आरंभ कर दिया है। बुधवार को मध्य प्रदेश के मंत्री विजय शाह की पत्रकार वार्ता का आमंत्रण भी सरकार समर्थित पत्रकारों को ही दिया गया। इस पत्रकार वार्ता में विजय शाह पूरी तरह खामोश ही बैठे रहे। सरकार द्वारा पाबंद फोटोग्राफर द्वारा इसकी फोटो तो जारी की गई किन्तु इसकी खबर जारी करने से सूचना केंद्र द्वारा परहेज ही किया गया।

चेयरमैन की मौत के कारण खुलने से पहले बंद हो गया एक मीडिया हाउस

पत्रकारों के लिए एक और बुरी खबर है. एक मीडिया समूह खुलने से पहले ही बंद हो गया. लुधियाना (पंजाब) का “रजित मीडिया हाउस” अब बंद हो गया है. “रजित मीडिया हाउस” लुधियाना के उद्योगपति राकेश मेहरा द्वारा संचालित “रजित पेंट्स लिमिटेड” का उपक्रम था और इस समूह की योजना एक साप्ताहिक अखबार और एक बिजनेस की मासिक पत्रिका लांच करने की थी.

प्रभात खबर, भागलपुर के संपादक का तबादला नहीं, उन्हें निकाला गया

भड़ास पर प्रभात खबर भागलपुर के बारे में जो भी खबर आई है वो सत्य से परे है. मैं भी प्रभात खबर भागलपुर की लांचिंग के समय के साथ इससे जुड़ा हूँ. भागलपुर के संपादक चन्दन शर्मा ने यहाँ का माहौल अत्यंत खराब कर रखा था. उनके कार्यकाल में काम कम, राजनीति ज्यादा होती थी. समाचार पत्र में खबरों को लेकर कोई प्लानिंग नहीं होती थी. एक दूसरे को आपस में लड़ाने में ही संपादक व्यस्त रहते थे.

सीओ ने झूठी सूचना देकर पत्रकार को फंसाना चाहा, सुनें यह टेप

बीती रात मुज़फ्फरनगर के बाबरी थाना क्षेत्र के कासमपुर के जंगल में पूर्व जिला पंचायत मेम्बर एवं राष्ट्रीय लोकदल नेता देशराज भानेडा के साथ अज्ञात बदमाशों ने लूट की वारदात को अंजाम दिया था. इसकी सूचना पर खबरीलाल न्यूज़ नेटवर्क ने न्यूज़ फ्लैश कर दी. न्यूज फ्लैश किए जाने की जानकारी सीओ शामली शशि शेखर तक पहुंची तो उन्होंने खबरीलाल न्यूज़ नेटवर्क के चीफ एडिटर अमित सैनी के पास अपने सरकारी मोबाइल नंबर 9454401614 से फोन किया.

आईआरएस कंवल तनुज ने भी ठुकराया करोड़ों के दहेज का ऑफर

: बोले- यह रिश्‍ता बेच दिया, फिर बिना बिके कुछ नहीं बचेगा : लखनऊ : एक दिन बस यूं ही भाई के घर पर था। भतीजा आया हुआ था नागपुर से। वहीं आयकर अधिकारियों के ट्रेनिंग इंस्‍टीच्‍यूट में ट्रेनिंग पर था। स्‍वाभाविक सी खुशी की बात थी कि वह दूसरे अटेम्‍प्‍ट में आईआरएस हो गया। नाम है कंवल तनुज। पूरे खानदान में सरकारी ओहदे के हिसाब से यह अब तक की सबसे बड़ी पारिवारिक उप‍लब्धि थी।

गर्लफ्रेंड का साथ ना छोड़ा, दो करोड़ दहेज से मुंह फेर लिया

अमिताभ: एक युवा आईपीएस अफसर की सोच ने हम सबका दिल जीत लिया : पिछले दिनों मेरी मुलाकात एक नए, अविवाहित आईपीएस अधिकारी से हुई. बातचीत के क्रम में उनसे पूछ बैठा- ‘शादी हो गयी?’ उत्तर मिला- ‘नहीं, अभी नहीं’. मैं यूँ ही आगे बढ़ा- ‘क्यों, कब तक शादी होनी है?’. उनका जवाब- ‘अभी तीन साल नहीं, वर्ष 2014 में शादी होगी.’

सुनिए, संपादक महोदय के नाम गालियों का पैगाम

मैं यूपी के मऊ जिले का निवासी हूं और पत्रकार हूं. मेरा नाम ब्रह्मानंद पांडेय है. मेरा खुद का अखबार है, ब्रह्मखोज नाम से. एक रात मेरे मोबाइल नंबर 9450437314 पर किसी ने 9450274550 नंबर से काल किया और मुझे धमकाया गया. इस मामले में मैंने जिले के थाना सरायलखंसी में आईपीसी की धारा 504और 507 के तहत मुकदमा पंजीकृत करा दिया है. मैंने धमकी देने वाले की पहचान जानने की गरज से अपने सूत्रों को सक्रिय किया.

प्रभात खबर में काम करने वाले मौका मिलते ही क्यों छोड़ जाते हैं साथ?

: सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है इस अखबार में : बिहार-झारखंड के लीडिंग न्यूजपेपर प्रभात खबर में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. यहां काम करने वाले परेशान हैं. एक तो सेलरी कम, उपर से काम का जबरदस्त बोझ. तीसरे चरम आंतरिक राजनीति. चौथा नौकरी जाने का भय. इन्हीं सब कारणों से प्रभात खबर के कर्मी मौका मिलते ही संस्थान को छोड़ देने में भलाई समझते हैं.

चौदह वर्षीय बालक ने रिश्वतखोर लेखपाल का स्टिंग किया

: भड़ास पर देखें पूरा वीडियो : डीएम-एसपी तक पहुंची सीडी पर कार्रवाई नहीं : अन्ना के आंदोलन का असर सचमुच हरओर दिख रहा है. बड़े-बूढ़े तो क्या, अब बच्चे भी करप्शन को कोढ़ मानकर इसके खिलाफ उठ खड़े हुए हैं. सिटिजन जर्नलिज्म और न्यू मीडिया के ट्रेंड ने अन्नागिरी को बढ़ावा दिया है. तभी तो एक किशोर ने अपने मोबाइल से वो कर दिखाया जिसे करने का साहस बड़े बूढ़े तक नहीं कर पाते.

अलीगढ़ में सहारा के दो-दो स्ट्रिंगर, हर प्रोग्राम में दो-दो माइक आईडी

: इस वीडियो को देखें और पत्रकारिता की हालत पर तरस खाएं : संपादक महोदय, भड़ास4मीडिया डाट कॉम, आपको एक वीडियो क्लिप भेज रहा हूँ. अलीगढ में सहारा समय के दो स्ट्रिंगर हैं. दोनों के बीच आजकल खूब तनातनी चल रही है. खुद को सहारा का दबंग स्ट्रिंगर बताने और दूसरे स्ट्रिंगर को नीचा दिखाने के प्रयास में एक ही खबर पर दोनों अपनी-अपनी माइक आईडी लगा देते हैं.

आजतक पर घंटे भर लहराती रही नागिन

: एनडीटीवी वाले भूंकप में मर चुके लोगों को ही पांच-पांच लाख रुपये दिलवाने पर आमादा : बीबीसी को भी सिक्किम में आए भूकंप में दिखता है ‘नजारा’ : फेसबुक पर पत्रकार साथी सुशांत झा ने अपने जो स्टेटस अपडेट किया है, उसे पढ़कर लोग खूब मजे ले रहे हैं. खबर देने वालों की खबर लेने का काम इन दिनों फेसबुक और ट्विटर पर खूब हो रहा है. सुशांत झा के ताजे स्टेटस के बहाने आजतक, एनडीटीवी इंडिया और बीबीसी हिंदी को कठघरे में खड़ा किया गया है.

खंडूरी ईमानदार हैं तो जरा सारंगी के तार छेड़ कर दिखाएं!

क्या आपको लगता है कि खंडूरी कुछ अलग, कुछ नया कर पाएंगे? यह सवाल उत्तराखंड के एक पत्रकार ने मुझसे पूछा तो मैंने प्रश्नवाचक मुद्रा में सिर हिला दिया. उन्होंने संक्षेप में समझाया- ”सब सेटिंग गेटिंग का खेल है. खंडूरी और निशंक में आपसी गठबंधन है. अंदरखाने डील हो चुकी है. तू मेरी धोती ना खोल, मैं भी तुझे नहीं छेड़ंगूा. निशंक के समय में जो भ्रष्टाचार हुए उसकी किसी भी जांच में निशंक नहीं फंसने वाले, यह पहले से तय हो चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने दी पत्रकारों के पक्ष में राय, श्रममंत्री ने कहा- जल्द जारी होगी अधिसूचना

कोलकाता के बांग्ला समाचार पत्र समूह आनंद बाजार पत्रिका की ओर से जस्टिस मजीठिया की पत्रकारों व गैर पत्रकारों के वेतनमान की सिफारिशों के खिलाफ दायर याचिका पर बुधवार 21 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। इस सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट तौर पर सरकार को अधिसूचना जारी करने की अनुमति दे दी। इसके पहले सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को अधिसूचना जारी करने पर रोक लगा दी थी।

पूर्व गृहमंत्री शिवराज पाटिल और जस्टिस शिवराज वी. पाटिल में इन्हें अंतर नहीं पता!

: कैसे-कैसे लोग चलाने लगे हैं समाचार पोर्टल : कल एक समाचार पोर्टल ने लोकायुक्त शिवराज पाटिल से सम्बंधित एक समाचार का प्रकाशन किया. इस समाचार में जस्टिस शिवराज वी पाटिल की तस्वीर लगाने की जगह कांग्रेसी नेता एवं पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री शिवराज पाटिल के तस्वीर को चस्पा कर दिया गया. इस ब्लंडर की ओर जब समाचार पोर्टल वालों को मेल किया गया तो अब तक कोई भी जवाब नहीं आया है.

‘राष्ट्र चिन्ह’ जितेंद्र के हवाले, आरई बने अमोल, नई जिम्मेदारी मिली रुपेश को

गोरखपुर : हिन्दी दैनिक राष्ट्र चिन्ह के वयोवृद्ध संस्थापक एवं सम्पादक रामवचन प्रसाद ने अपनी बीमारी व उम्र को देखते हुए अपने पौत्र जितेन्द्र कुमार को अखबार की सभी जिम्मेदारियों को बीते 12 सितम्बर को सौंप दिया. इस बाबत उन्होंने लिखित शपथ पत्र उच्चाधिकारियों को भेज दिया है. उल्लेखनीय है कि राष्ट्र चिन्ह का स्वामित्व हथियाने का कुचक्र रामवचन के पुत्रों ने किया. प्रेस पंजीयक नई दिल्ली ने पुत्रों के फर्जी घोषणापत्र को अवैध करार दिया और रामवचन को ही स्वामी माना.

सरकारी बंगलों में रहने वाले दिल्ली के सौ पत्रकारों की लिस्ट छापेगा मिंट!

बिजनेस अखबार मिंट के एडिटर आर. सुकुमार ने अपने एक लेख में दिल्ली के सौ पत्रकारों का जिक्र किया है. इनमें से साठ लुटियन जोन्स के सरकारी बंगलों में रहते हैं और 40 अन्य को सरकार जल्द बंगला देने वाली है. आर. सुकुमार का कहना है कि अगर उन्हें इन सौ लोगों का नाम मिल जाए तो उसे वह मिंट में छाप देंगे. और, नाम पता लगाने के लिए आर. सुकुमार ने खुद के स्तर से भी प्रयास शुरू कर दिया है.

नीतीश राज में बिहार पुलिस के एक जवान के मर्डर के मायने

शशि सागर: पत्रकार साथियों से एक अपील : मेरे बाबू जी वामपंथी विचारधारा के हैं. जाति, गोत्र, धर्म से उन्हें कोई मतलब रखते नहीं देखा. उनका दिया संस्कार है कि मैं सामंती विचारधारा वाले मुहल्ले में पले-बढे होने के बावजूद खुद को इस घटिया मानसिकता से अलग रख सका. पर ऐसा भी नहीं कि मेरा मुहल्ले के कनिष्ठों-वरिष्ठों से कोई सरोकार नहीं.

अपनी पुलिस से ‘डरे’ यूपी के स्पेशल डीजी बृजलाल हाईकोर्ट में मुंह के बल गिरे

वे बृजलाल उत्तर प्रदेश के सर्वाधिक ताकतवर पुलिस अधिकारी माने जाते हैं. मौजूदा सरकार के नाक-कान के बाल माने जाते हैं. संभावित प्रदेश पुलिस महानिदेशक माने जाते हैं. लेकिन इन्ही बृजलाल को अपने खिलाफ मुक़दमा नहीं दर्ज होने देने तथा संभवत इसके बाद अपनी गिरफ़्तारी रुकवाने के लिए हाईकोर्ट जाना पड़ता है और हाईकोर्ट में उनकी याचिका खारिज हो जाती है.

कौन बनेगा पीएम : नहीं जनाब! मोदी बनाम नीतिश में होगी जंग

आलोक कुमारराहुल गांधी बनाम नरेन्द्र मोदी। ना जाने कहां से इस सियासी जुमले का प्रादुर्भाव हो गया। जबकि साफ दिख रहा है कि भावी प्रधानमंत्री के लिए असली लडाई तो गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के बीच छिड़ी है। फिर न जाने क्यों नकली भूत बनाकर राहुल गांधी को खडा कर दिया गया। नरेन्द्र मोदी और नीतिश कुमार अखाड़ा में आमने-सामने हैं।

STOP the coverage of Lalbaugcha Raja

Mumbai : Owing to repetitive instances of misbehaviour and arm-twisting with Electronic Media, Meeting of TVJAs Hon’ble Invited Members has come to an unfortunate conclusion by majority, to STOP the coverage of Lalbaugcha Raja w.e.f. Today.  This decision was taken after a week long discussion through E Mail first & then in today’s One to One meeting held at Mumbai marathi Patrakaar Sangh at 12 30pm…

नभाटा संपादकीय स्टाफ को वीरेंद्र जैन ने भेजा ज्ञानवर्द्धक पत्र (पार्ट एक)

: ‘वीइकल’ और ‘रॉन्ग’ शब्द का सही उच्चारण करने वाले को प्रेस क्लब में ड्रिंक्स और डिनर का आफर : नवभारत टाइम्स के सभी वरिष्ठ संपादनकर्मियों को मुझ कनिष्ठतम संपादनकर्मी वीरेंद्र जैन का नमस्कार। मुझे आप लोगों से जो दो बातें साझा करनी हैं उनकी शुरुआत सकारण अपनी उपलब्धियों से करनी पड़ रही है। मेरा आग्रह है कि इसे अन्यथा न लें।

व्याख्यान में तहलका की प्रबंध संपादक सोमा चौधरी का बिगड़ा सुर-ताल

पटना : ”देश में लोकतंत्र की दशा और दिशा” विषयक 16वें चंद्रशेखर स्मृति व्याख्यानमाला के दौरान तहलका की प्रबंध संपादक सोमा चौधरी का सुर-ताल ऐसा बिग़ड़ा कि वह विषय पर अपनी बात रखने के बजाय तहलका और अन्य कारपोरेट मीडिया की वकालत करती नजर आईं। अपने संबोधन में सुश्री चौधरी ने कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिये यह आवश्यक है कि मिडिल क्लास अपनी जिम्मेवारियों को समझे और उसके अनुरूप पहल करे।

सबक सिखाने के लिए अंबिका सोनी ने अंग्रेजी दैनिक डीएनए का विज्ञापन बंद कराया!

[caption id="attachment_21180" align="alignleft" width="94"]आदित्य सिन्हाआदित्य सिन्हा[/caption]: इस प्रकरण पर डीएनए के एडिटर-इन-चीफ आदित्य सिन्हा का लेख यूं है… Ambika Soni�s adventures in arm-twisting : For about ten days, the Government of India’s Department of Advertising and Visual Publicity stopped advertisements to this newspaper. It’s through the DAVP that ministries and public sector undertakings publicize commercial requirements, i.e. “tender ads”, in newspapers.

हिंदुस्तान में मनीष मिश्र की जगह लेंगे सुनील द्विवेदी? आई-नेक्स्ट से इस्तीफा

गोरखपुर से सूचना आ रही है कि डिप्टी न्यूज एडिटर सुनील द्विवेदी ने आई-नेक्स्ट से इस्तीफा देने की तैयारी कर ली है. वे आई-नेक्स्ट, गोरखपुर यूनिट के संपादकीय प्रभारी भी थे. चर्चा है कि वे हिंदुस्तान, दिल्ली के साथ नई पारी की शुरुआत करेंगे. उन्हें मनीष मिश्र की जगह लाया जा रहा है. मनीष को हिंदुस्तान प्रबंधन ने अपनी मुरादाबाद यूनिट का संपादक बनाकर भेज दिया है. सुनील द्विवेदी का नया पद न्यूज एडिटर का होगा.

‘न्यूज11’ : कभी साधना के लाइसेंस पर चला, अब ‘365 दिन’ के भरोसे

: पुराने लोगों का पलायन शुरू, अभिषेक श्रीवास्तव का इस्तीफा : बिहार-झारखंड का एक न्यूज चैनल है ‘न्यूज11’ नाम से. इसके मालिक (सीईओ के पद पर आसीन) हैं अरुप चटर्जी जो कभी दूसरे न्यूज चैनलों में स्ट्रिंगर हुआ करते थे. इसके प्रधान संपादक हैं हरिनारायण सिंह जो कभी हिंदुस्तान, रांची के संपादक हुआ करते थे. ‘न्यूज11’ के बारे में ताजी सूचना ये है कि इसका अपना खुद का लाइसेंस नहीं है.

सीएनईबी की महिला रिपोर्टर पर हमला, एक धरा गया

: सीएनईबी प्रबंधन ने संवेदनहीनता का परिचय दिया : हमले की खबर का प्रसारण नहीं किया गया : दिल्ली-एनसीआर में जिंदगी कितनी असुरक्षित है, इसका अंदाजा आए दिन लगता रहता है. अभी कुछ रोज पहले ही महुआ के होनहार पत्रकार को बीच सड़क पर एक वाहन ने कुचल डाला. ताजी सूचना ये है कि सीएनईबी न्यूज चैनल की एक महिला रिपोर्टर पर लफंगों ने हमला कर दिया.

जनवरी में लांच होगा ‘सतरंग’ चैनल, राजेश भसीन हेड बने

कई न्यूज चैनलों में प्रमुख पदों पर काम कर चुके राजेश भसीन के बारे में सूचना है कि उन्होंने नए लांच होने जा रहे इंटरटेनमेंट चैनल ‘सतरंग’ में चैनल हेड के पद पर ज्वाइन किया है. यह चैनल सतयुग मल्टीमीडिया प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से लांच किया जा रहा है. इस कंपनी के चेयरमैन अशोक गर्ग हैं और मैनेजिंग डायरेक्टर अंजली गर्ग. चैनल हेड के रूप में ज्वाइन करने वाले राजेश भसीन ने करियर की शुरुआत जी टीवी के साथ बतौर सीनियर प्रोड्यूसर की थी.

‘देलहाइट लड़के के नाम एक खुला खत’ से ब्लागिंग में बवाल, ढाई हजार से ज्यादा कमेंट

शहाना नैयर जोशी नाम की एक लड़की, जो खुद को थोड़ा साउथ इंडियन और थोड़ा महाराष्ट्रियन बताती हैं, ने अपने ब्लाग ब्रोकेन मार्निंग पर देलहाइट लड़के के नाम एक खुला खत लिखा है. इस पोस्ट को लेकर ब्लागिंग की दुनिया में बवाल मचा हुआ है. इस पोस्ट के लिंक को ट्विटर और फेसबुक पर भी शेयर किया गया है जिस पर हजारों कमेंट आए हैं. खुद इस ओरिजनल ब्लाग पोस्ट पर ढाई हजार से ज्यादा कमेंट हैं.

An open letter to Dainik Bhaskar Editors

Dear Editors, This is in reference to the coverage of former flying officer Anjali Gupta’s suicide in your daily news paper; especially about the recent stories filed by the name of Miss Upmita Vajpayee. I just want to draw your attention to a point on which we all will agree. Good journalism is meant for making things less bewildering and more transparent.

चला गया महुआ न्यूज का एक चमकता हुआ सितारा

[caption id="attachment_21169" align="alignleft" width="94"]मुकुंद भाईमुकुंद भाई[/caption]: भयानक सड़क हादसे में पैनल प्रोड्यूसर मुकुंद झा का निधन : रविवार का दिन महुआ परिवार के लिए बहुत बुरी खबर लेकर आया। महुआ न्यूज के होनहार पीसीआर प्रोड्यूसर मुकुंद का निधन हो गया। मुकुंद सुबह 11 बजे बाइक से दफ्तर आ रहे थे। फिल्म सिटी के पास पीछे से आ रहे एक डम्फर ने उन्हें कुचल दिया।

बिल्ली क्यों चली हज को?

मुकेश कुमार: जग बौराना : इन दिनों ये कहावत बहुत चल रही है…. सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली….. इस कहावत को सुनकर जिज्ञासुओं के मन में ये सवाल उठना लाज़िमी है कि आख़िर बिल्ली को हज जाने की जरूरत क्यों पड़ी? क्या उसमें भक्ति भाव जाग गया कि उसने आव देखा न ताव और हज पर जाने का फैसला कर लिया…..

नाबालिग लड़की को भगाने का आरोपी भी बना दिया गया सरकारी वकील

: पश्चिम बंगाल में दर्ज है मुकदमा : गड़बडिय़ों पर समाज कल्याण मंत्री ने भी लिखा था पत्र : लखनऊ। आरोप नाबलिग लड़की भगाने का। मुकदमा चल रहा है कि दूसरे राज्य में। पश्चिम बंगाल के थाना रानीगंज में दर्ज है एफआईआर। यह शख्स हैं मिर्जापुर के मोहनलाल दुबे जिनकी नियुक्ति जिला शासकीय अधिवक्ता (फौजदारी) के पद पर की गई है। मुकदमा पश्चिम बंगाल में और अरेस्ट स्टे करवाया इलाहाबाद हाईकोर्ट से।

केबीसी की अंकगणित

: इसे पढ़ने के बाद रियल्टी शोज में एसएमएस या फोन करने से पहले चार बार सोचेंगे : नए जमाने के धनी और शहरी मदारियों से सावधान रहने की जरूरत : केबीसी से कौन बन रहा है करोड़पति‍? जवाब के लिए चार आप्शन हैं- A) सोनी टीवी. B) मोबाइल कम्‍पनि‍यां. C) बि‍ग बी. D) सि‍द्धार्थ बसु. कनफ्यूज हैं आप? हम बताते हैं. ये चारों ही विकल्प सही हैं.

आलोक तोमर की स्मृति में हर साल पच्चीस हजार रुपये का एवार्ड देने की घोषणा

मध्य प्रदेश की धरती से उपजे जांबाज पत्रकार आलोक तोमर को मध्य प्रदेश के पत्रकारों ने भावभीनी श्रद्धांजलि दी. आइसना (आल इंडिया स्माल न्यूज पेपर्स एसोसिएशन) द्वारा भोपाल के रवींद्र भवन में बीते दिनों आयोजित एक समारोह में संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष अवधेश भार्गव ने आलोक तोमर की स्मृति में हर साल किसी जांबाज पत्रकार को पच्चीस हजार रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की.

बिन अन्ना आजतक हुआ सून, इंडिया टीवी फिर किंग

अन्ना के आंदोलन के दौरान आजतक पूरे फार्म में था. दर्शकों ने सबसे ज्यादा भरोसा इसी चैनल पर किया और सबसे ज्यादा इसी को देखा. इस कारण टीआरपी में यह चैनल अपनी नंबर वन की कुर्सी पर आसीन हो गया. लेकिन अन्ना आंदोलन के शांत होने के बाद अब जो टीआरपी आई है, उससे पता चलता है कि इंडिया टीवी ने फिर से नंबर एक कुर्सी पर कब्जा जमा लिया है. इंडिया टीवी थोड़े ही मार्जिन से नंबर वन बना है लेकिन कहा तो यही जाएगा कि आजतक नंबर दो पर चला गया है.

लाइव इंडिया न्यूज चैनल के लोग मुश्किल में, अफवाहों ने जोर पकड़ा

मुंबई के एक बड़े बिल्डर एचडीआईएल द्वारा अधिकारी ब्रदर्स से खरीदे गए न्यूज चैनल लाइव इंडिया (पहले इसका नाम जनमत था) को लेकर कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गई हैं. बताया जा रहा है कि प्रबंधन ने अब चैनल चलाने पर अपनी तरफ से पैसे खर्च करने से मना कर दिया है. साफ निर्देश दे दिया गया है कि चैनल के लोग अब खुद पैसे जुटाएं और चैनल चलाएं. सूत्रों के मुताबिक इस महीने की तनख्वाह अभी तक चैनल कर्मियों के पास नहीं पहुंचा है.

भारतीय मीडिया में कोई भी खबर आसानी से प्लांट कराई जा सकती है!

सुमंत भट्टाचार्यादेश की मीडिया का हाल वाकई दुखदाई है। खासतौर पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का। कल की बड़ी खबर से साफ था, भारतीय मीडिया में कोई भी खबर आसानी से प्लांट कराई जा सकती है। उदाहरण है कांग्रेसनल रिसर्स सर्विसेस (सीआरएस) की रिपोर्ट। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बाबत सीआरएस की रिपोर्ट में जुटाई गई टिप्पणियों पर खबरिया चैनल्स ने कल दिन भर हंगामा ही बरपा दिया।

News Express captures another 10% in its ever growing market share

: …reports TAM : 148% growth in market share in Bihar : 43.8 % growth in reach in Gujarat : 16.2 % increase in eyeballs in Rajasthan : 17 % growth in reach in Assam : New Delhi : According to the latest report published by TAM, News Express, the first high definition (HD) Hindi news channel has captured yet another 10% market share across the Hindi speaking market (HSM) in the country.

भंवरी के पति का आरोप- कैबिनेट मंत्री करता था मेरी पत्नी को बार-बार फोन

[caption id="attachment_21161" align="alignleft" width="113"]भंवरी देवीभंवरी देवी[/caption]: राजस्थान पुलिस भंवरी देवी का शव जमीन से चुपचाप निकलवा कर ले गई? : राजस्थान के जोधुपर जिले के जालीवाड़ा, उप स्वास्थ्य केंद्र पर ऑक्जीलियरी नर्स एंड मिडवाइफ (एएनएम) भंवरी देवी के कारण राजस्थान की राजनीति सरगर्म है. एएनएम भंवरी देवी ने कई स्थानीय धार्मिक वीडियोज में अभिनय भी किया है.

जगमोहन फुटेला का एक और प्रयोग- बुद्धिजीवी डॉट कॉम

वेब अब विस्तार पाता मीडिया है. संभावनाएं हैं तो नए आयाम और आगमन भी. बुद्धिजीवी.कॉम इस कड़ी में नया प्रयोग है. इसमें लेखन, सृजन और संकलन के अलावा लाइव स्ट्रीमिंग के साथ न्यूज़ चैनल हो सकने की सुविधा भी है. तकनीकी तौर पर इस चैनल में कल को थ्री या  फोर जी पे फीड दे और ले सकने की क्षमता है. फीड शुरू होते ही न्यूज़ चैनल चलने लगेगा.

 

भंवरी देवी की लाश मिलने की झूठी खबर चला दी ईटीवी ने

ईटीवी राजस्थान ने बुधवार रात यानि 14 सितम्बर की रात एक फर्जी समाचार जोरशोर से प्रसारित किया. यह समाचार लापता एएनएम भंवरी देवी का शव मिलने के बारे में था. भंवरी देवी राजस्थान के एक कैबिनेट मंत्री और विधायक के साथ अवैध संबंधों की सीडी के कारण चर्चा में हैं.

गंदी गालियों में लोटती-नहाती-गाती पुलिसिंग और मेरे अनुभव

Amitabh: जिसके पिता ज्ञात नहीं होते, क्या उनके पिता के पिता भी अज्ञात होते हैं? : इन दिनों हम लोग जब भी जीआरपी के संपर्क में आ रहे हैं, कुछ ऐसा हो रहा है जो कहानी बन जा रही है. पिछले दिनों मेरठ-लखनऊ यात्रा में नूतन ने जीआरपी के कुछ सिपाहियों का एक रूप देखा था तो कल जब हम पुनः मेरठ से लखनऊ आ रहे थे तो एक अलग घटना घटी.

भोगवादी जीवन से उबे आदमी की आवारगी (भाग एक)

अमेरिका के भोगवादी जीवन से ऊबकर क्रिस्टोफर ने वापस खुद को जानने के लिए आवारगी का रास्ता चुना। अपने सारे पैसे दानकर और अपने सारे परिचय-पत्र फेंककर अपने परिवार को बिना कुछ बताए उसने गुमनामी और घुमक्कड़ी जीवन जीना शुरू किया। दो साल बाद वह अलास्का के निर्जन इलाके में जाकर रहना शुरू कर दिया।

तीन सूचनाएं- दो अखबारों के रिपोर्टरों को वेतन नहीं, एक पत्रकार ने भड़ास को थैंक्स कहा

: अपडेट : तीन सूचनाएं मेल के जरिए आई हैं. एक मेल में कहा गया है कि जनसंदेश टाइम्स के पत्रकार इन दिनों वेतन ना मिलने से काफी तंगहाली के दौर से गुजरते हुए पत्रकारिता कर रहे हैं. उन्नाव, रायबरेली, कानपुर के रिपोर्टरों को करीब तीन महीने से पैसा नहीं मिला है. इस कारण कई रिपोर्टर अब दूसरे बैनर की तलाश में जुट गए हैं.

क्या जाट समाज को प्रमोट करने के लिए लांच किया गया दैनिक अंबर?

पिछले दिनों राजस्थान में एक समाचार पत्र के दैनिक संस्करण का लोकार्पण समारोह आयोजित किया गया. अखबार का नाम दैनिक अंबर है. कहा जा रहा है कि इस समारोह के जरिये और भविष्य में राजस्थान में इस अखबार के जरिये जाट समाज को प्रचारित प्रसारित किया जायेगा. इसका उदाहरण आप अखबार के लोकार्पण समारोह में आमंत्रित अतिथियों की लिस्ट में देख सकते है जहाँ ज्यादातर उन्हीं महानुभावों को बुलाया गया है जो कि जाट समाज के हैं.

आमिर ने सचिन की चौदह साल की बेटी को एडल्ट फिल्म क्यों दिखाई?

यशवंत जी, गत माह  छह तारीख को मैं यू ही नेट पे समय खोटा कर रहा था. मैंने एक खबर पढ़ी कि सिने अभिनेता आमिर खान ने क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के परिवार के लिए अपनी बहुचर्चित मूवी ‘डेल्ही बेली’ की ख़ास स्क्रीनिंग रखी थी. खबर दो वेब-पेजों पे थी. लिंक नीचे मेल मैं है, आप चाहें तो देखें. पेज अभी भी हैं. चूंकि सचिन इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज हारने में व्यस्त थे, अतः उनकी पत्नी और पुत्री ने उस ख़ास स्क्रीनिंग में शिरकत की.

जी हिमाचल के रिपोर्टर राम भरोसे, चार माह से नहीं हुआ लक्ष्मी का दीदार

शिमला : जी पंजाबी पर आने वाले जी हिमाचल बुलेटिन के रिपोर्टर सेलरी के इंतजार में हैं। रिपोर्टर चार माह से कंपनी से लक्ष्मी आने का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन कंपनी प्रबंधन हर दिन नया नारा देकर रिपोर्टरों को टरका रहा है। जी हिमाचल ने प्रदेश के बुलेटन के लिए रिपोर्टरों की तैनाती प्रति स्टोरी के आधार पर की है लेकिन इस बुलेटिन के शुरू होने के बाद अब तक रिपोर्टरों को कोई पैसा नहीं दिया गया है।

खबरों के बीच गालियां, कई संपादकीयकर्मी नपे

पिछले दिनों राजस्थान पत्रिका के अलवर संस्करण में एडिशन के फाइनल होते समय किसी स्टाफ सदस्य ने एक न्यूज में गालियां छपी होने का पता लगाया और सबको सूचित किया तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पूरा अखबार देखा गया तो कई खबरों में गालियां लिखी हुई मिली। इसके कारण समाचार पत्र के छपने में देरी हो गई। पता चला है किसी संपादकीय स्टाफ ने सिटी चीफ प्रेम पाठक व डेस्क पर कार्यरत नितेश सोनी का कम्प्यूटर खोलकर न्यूज के मध्य में गालियां लिख दी।

प्रज्ञा है या कसाई घर, चिकन खाने पर चार को निकाला

महुआ वाले पीके तिवारी जी का एक चैनल है प्रज्ञा. यह धार्मिक चैनल है. इस चैनल से खबर आ रही है कि यहां आफिस में चिकन खा लेने के कारण चार लोगों को नौकरी से निकाल दिया गया. प्रज्ञा टीवी मैनेजमेंट के इस आचरण पर हर ओर थूथू हो रही है. जिन चार मीडियाकर्मियों को हटाया गया है उनके नाम हैं- देवेश शर्मा (एंकर और प्रोड्यूसर), सौरभ शर्मा (प्रोड्यूसर), सरगम डावर (रिलेशनशिप एक्जीक्यूटिव) और आरिफ (मेकअप डिपार्टमेंट).

‘सारा खेल राजदीप, पुण्य प्रसून और राहुल कंवल ने बिगाड़ा”

यशवंत जी, आप चाहें जो लिखें-कहें, लेकिन सच यही है कि अगर कोई बात लिखित रूप से तय हुई है, इंबारगो के बारे में सब कुछ सबकी सहमति से तैयार हो गया तो फिर इसे तोड़ना न सिर्फ अनैतिक है बल्कि किसी पर भी भरोसा न करने जैसा ट्रेंड पनपाने वाला है. पहले से ही तमाम तरह के आरोपों से घिरी मीडिया को एक बार फिर मीडिया वालों ने ही अनैतिकता के गड्ढे में धक्का दे दिया है. सारा खेल राजदीप चौरसिया, राहुल कंवल और पुण्य प्रसून ने बिगाड़ा.

एक शराबी का अपराधबोध

: मेरी भोपाल यात्रा (1) : भोपाल से आज लौटा. एयरपोर्ट से घर आते आते रात के बारह बज गए. सोने की इच्छा नहीं है. वैसे भी जब पीता नहीं तो नींद भी कम आती है. और आज वही हाल है. सोच रहा हूं छोड़ देने की.

विनोद कापड़ी के भीतर का पत्रकार जगा, कई टीवी संपादकों को पत्र लिख भेजा

अन्ना के गांव में मीडिया वालों के बीच जिस तरह की कुकुरभोंभों मची हुई है, वह लड़ाई दिल्ली तक आ पहुंची है. जिन कुछ न्यूज चैनलों ने इंबारगो का पालन न करते हुए अन्ना के इंटरव्यू को दिखा दिया, उनसे इंडिया टीवी के संपादक विनोद कापड़ी काफी कुपित हैं. उन्होंने सभी न्यूज चैनलों के संपादकों को पत्र लिखा है.

यूपी के दो आईपीएस अफसरों ब्रजलाल और मनोज कुमार पर मुकदमा दर्ज करने के आदेश

: पुलिस कल्‍याण के नाम पर वसूली का मामला : गाजीपुर जिले के सीजेएम ने दिया आदेश : पूर्वी उत्तर प्रदेश के एक छोटे जिले गाजीपुर से बड़ी खबर आई है. यहां के ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट कोर्ट ने उ.प्र के एक सिपाही ब्रिजेन्द्र यादव की याचिका पर उत्तर प्रदेश स्पेशल डीजी (कानून व्यवस्था) बृजलाल व गाजीपुर के एसपी मनोज कुमार व अन्य के खिलाफ 156/3 के तहत मुकदमा दर्ज करने का आदेश दे दिया है.

ओंकारेश्वर पांडेय और अनिल पांडेय ने जीना हराम कर रखा है!

भाई यशवंत जी, नमस्कार. द संडे इंडियन के हिंदी संस्करण में क्या कुछ चल रहा है और कितनी अराजक व्यवस्था है, इसका अंदाजा फारवर्ड किए गए ई मेल से लगा सकते हैं. पूरे आफिस में अराजकता, अनप्रोफेशनलिज्म और चाटुकारिता का माहौल बन गया है. डेस्क पर काम करने वाले लोगों के लिए स्थिति दिन-ब-दिन बदतर होती जा रही है. पत्रिका के वरिष्ठ पदों पर कब्जा जमाए ओंकारेश्वर पांडे और अनिल पांडे की जोड़ी ने काम करने वालों का जीना हराम कर दिया है.

भोपाल में आज 26 पत्रकारों को मिलेगा आइसना सम्मान

: पांच पत्रकारों को राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान, 10 पत्रकारों को राष्ट्रीय पत्रकारिता विशिष्ट सम्मान और 11 पत्रकारों को प्रांतीय पत्रकारिता सम्मान दिया जाएगा : भोपाल : आल इंडिया स्माल न्यूज पेपर्स ऐसोसिएशन ‘आइसना’ का प्रान्तीय सम्मेलन ‘‘संघर्ष 2011’’ एवं राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान समारोह दिनांक 11 सितम्बर 2011 को रवीन्द्र भवन भोपाल में अपरान्ह 3 बजे से सम्पन्न हो रहा है।

विमल कुमार की कुछ कविताएं

पिछले 25 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय विमल कुमार के चार कविता संग्रह आ चुके हैं. उन्हें कई पुरस्कार और सम्मान मिल चुके हैं. विमल फिलहाल यूएनआई, दिल्ली की हिंदी सेवा में विशेष संवाददाता हैं. पेश है उनकी कुछ कविताएं…

जो बाजार के आलोचक हैं, उन्हें कोई संपादक नहीं बनाना चाहता

विमल कुमार

: इंटरव्यू : कवि और पत्रकार विमल कुमार : एसपी ने कम विवेकवान और भक्त शिष्यों की फौज खड़ी की, जिनमें से कई आज चैनल हेड हैं : मैं तब यह नहीं जानता था कि मीडिया का इतना पतन हो जाएगा और वह भी सत्ता-विमर्श का एक हिस्सा बन जाएगा : उर्मिलेश और नीलाभ मिश्र, दोनों मुझसे आज भी योग्य हैं : अज्ञेय जी ने शब्दों की गरिमा को, रघुवीर सहाय ने जनता की संवेदना को और राजेंद्र माथुर ने संपादक पद की गरिमा को बचाए रखा :


उस बिल्डर ने पुष्पेंद्र से पूछा- आप इतने उदास क्यों हैं

विजेंदर त्यागी: पीसीआई और मेरी यादें-  अंतिम : राहुल जलाली और पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ :  चित्रिता और एआर विग दोनों ही चुनाव हार गए. राहुल जलाली और पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ अध्यक्ष और महासचिव बन गए. एक दिन मैं किसी काम से पुष्पेन्द्र के कमरे में जाकर बैठ गया. इतने में वहां देखा कि दो व्यक्ति आ गए.

संजीव आचार्य के कमेंट पर लड़की भयभीत हो गई

विजेंदर त्यागी: पीसीआई और मेरी यादें-  पार्ट पांच : प्रभात डबराल का कार्यकाल : चाँद जोशी के बाद प्रभात डबराल और एके धर की टीम विजयी हुई. क्लब में पहाड़ी यानी उत्तराखंड के पत्रकारों की अच्छी खासी संख्या है. प्रभात डबराल अपने व्यवहार से उत्तराखंडियों और अन्य पत्रकारों में बहुत पापुलर थे.

स्टेट्समैन अखबार के पत्रकार एमएल कोतरू अपने मकान में बार चलाते थे

विजेंदर त्यागी: पीसीआई और मेरी यादें – पार्ट चार : प्रेस क्लब में घपले होते रहे. क्लब लुटता रहा. क्लब के लिए 7 नंबर रायसीना रोड पर एक जगह अलाट हुई. पदाधिकारी गण उसे 25 से 30 हज़ार रुपये रोज़ के रेट से किराए पर देने लगे. एक दिन इस कोठी को सरकार ने सील कर दिया. उसमें जो सामान रखा गया था उसका कहीं कोई पता नहीं है.

अखबारों में गांव-देहात को सिर्फ एक फीसदी स्पेस मिलता है

मीडिया का मतलब सीधे सीधे तो यही होता है कि वह गरीब, अविकसित, आम जन की बात करे, उनके हित को ध्यान में रखते हुए काम करे. भारत के संदर्भ में कहें तो मीडिया को गांवों और वहां के निवासियों की बात को प्रमुखता से उठाना चाहिए. शासन की नीतियों का मकसद जिस आखिरी आदमी को लाभ पहुंचाना होता है, वह आखिरी आदमी गांव में ही रहता है. वो कहते भी हैं, आज भी असली भारत गांवों में ही बसता है, शहरों में नहीं.

अखबार पढ़ने के दौरान हृदयाघात से पत्रकार कौशल मिश्र का निधन

[caption id="attachment_21114" align="alignleft" width="122"]स्व. कौशल मिश्रस्व. कौशल मिश्र[/caption]बिलासपुर से सूचना है कि वरिष्ठ पत्रकार कौशल मिश्र का शुक्रवार (9 सितंबर 2011) को हृदयाघात से निधन हो गया. वे 56 वर्ष के थे. स्वर्गीय मिश्र को सुबह अखबार पढने के दौरान दिल का दौरा आया और तत्काल उनकी मृत्यु हो गयी. वे विगत 25 वर्षों से सक्रिय पत्रकारिता कर रहे थे.

निशंक के पाप का घड़ा भरा, हर कोई विदाई गीत गा रहा

निशंकदेहरादून सरगर्म है. निशंक की विदाई के गीत गाए जाने लगे हैं. खंडूरी के खास लोग खंडूरी को फिर से मुख्यमंत्री बनाए जाने के फैसले पर बधाई लेने लगे हैं. भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस को घेरने की तैयारी कर चुकी भाजपा को पहले अपने घर को साफ करना पड़ रहा है. इसी कारण पिछले महीने कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदुरप्पा को हटाने का फैसला भाजपा आलाकमान को लेना पड़ा.

ग़ज़ब ख़बर है : NBA to move to monthly ratings for news channels

New Delhi: News Broadcasters Association (NBA), an umbrella body of TV news channels, has decided to move from existing weekly ratings to monthly ratings for all national news and business channels in Hindi and English. The NBA board has taken the decision with an aim to improve news broadcasting standards as coverage and reportage of news and programmes cannot always be linked to popularity or audience measurement, a statement issued by NBA Secretary General Annie Joseph said.

स्पेशल सेल को अब बड़ा आपरेशन करने की छूट नहीं है!

आलोक कुमार: रिपोर्टर की कलम से : दहली दिल्ली में क्षत विक्षत है पुलिस : बुधवार सुबह दिल्ली हाईकोर्ट पर बम धमाके की खबर के साथ ही आतंकवाद पर काम करने वाले पुलिस के पुराने घाघ अफसरों को फोन लगाया। पर उनकी प्रतिक्रिया मायूस करने वाली रही। दिल्ली पुलिस अब से पहले कभी इतनी शिथिल और कमजोर नजर नहीं आई।

रेडि‍यो की शक्‍ल अख्‍ति‍यार करता एनडीटीवी इंडि‍या

कुछ वक्‍त पहले तक एनडीटीवी पर ”ज्‍योतिष नहीं जर्नलि‍स्‍ट की टीम के साथ करि‍ए दि‍न की शुरूआत…” जैसे स्‍लोगन सुनने को मि‍लते थे। पर अब खबरों के साथ जर्नलि‍स्‍ट की टीम एनडीटीवी से गायब हो चुकी है। एनडीटीवी इंडि‍या ने रवीश की रि‍पोर्ट, वि‍नोद दुआ लाइव जैसे कई बेहतरीन प्रोग्राम दि‍खाकर एक बहुत बड़े वर्ग को अपना मुरीद बनाया है। झाड़-फूंक और तन्‍त्रमंत्र दि‍खाने वाले चैनलों की भीड़ में एनडीटीवी इंडिया ने अलग रास्ता चुना था।

हिंदुस्तान के खिलाफ मुकदमा : जज ने कहा- अखबार की मर्जी पर नहीं चलता है न्यायालय

भागलपुर : ”न्यायालय अखबार की इच्छा से नहीं चलता है। मुकदमे में स्थानीय स्तर पर अधिवक्ता की सेवा ले प्रबंधन। इस मुकदमे में यूं ही काफी समय बीत चुका है। मैं लंबी तिथि नहीं दे सकता हूं।” इस मौखिक टिप्पणी के साथ श्रम न्यायालय के पीठासीन पदाधिकारी न्यायाधीश अशोक कुमार पांडेय ने 02 सितम्बर 2011 को एचटी मीडिया लिमिटेड के प्रतिनिधि की मुकदमे में लंबी तिथि देने की प्रार्थना को खारिज कर दिया।

बांसवाड़ा के एसपी का मीडिया के खिलाफ तुगलकी आदेश

बांसवाड़ा (राजस्थान) के पुलिस अधीक्षक ने एक ऐसा आदेश जारी किया है जिससे मीडिया के लोग आक्रोशित हैं. मीडिया वालों ने राज्य के गृह विभाग को एक पत्र लिखकर एसपी की हरकत से अवगत कराया है और तुरंत कार्रवाई की मांग की है. राजस्थान के गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव को भेजे पत्र में कहा गया है कि  पुलिस अधीक्षक बांसवाड़ा ने पत्रकारों को खबरों के संकलन से रोक दिया है.

हिंदी विवि में फिरोज अब्‍बास खान ने किया त्रिदिवसीय फिल्‍म समारोह का उद्घाटन

: फिल्‍मोत्‍सव में कई फिल्‍मी हस्तियां थीं मौजूद, गांधी माई फादर रही उद्घाटन फिल्‍म : वर्धा, 06 सितम्‍बर, 2011; महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय, वर्धा में पहली बार आयोजित त्रिदिवसीय (6-8 सितम्‍बर, 2011) महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय फिल्‍म समारोह का उद्घाटन कई फिल्‍मी हस्तियों की मौजूदगी में सुप्रसिद्ध फिल्‍म निर्देशक फिरोज अब्‍बास खान ने किया। फिरोज अब्‍बास खान की फिल्‍म गांधी माई फादर उद्घाटन फिल्‍म रही।

उन्हें भी नहीं पता पं. जसराज व पं. भीमसेन जोशी का फर्क?

दिनेश चौधरीम्यूजिक इंडिया मेरी पसंदीदा साइट है, हालांकि इसने मेरा बहुत बड़ा नुकसान भी किया है। पहले मनपसंद संगीत सुनने के लिये कैसेट-सीडी का सहारा लेना पड़ता था और आमतौर पर शास्त्रीय संगीत के कैसेट छोटे कस्बों में बहुत आसानी से नहीं मिलते। इसलिये कैसेट-सीडी की खोज भी एक समय में बड़ा अभियान हुआ करता था और बेहद मेहनत से ढूंढकर लाये गये अलबम को सुनने में जो आनंद आता था, उसकी बात कुछ और ही होती थी।

सरान ने सीएनईबी से बड़े पैमाने पर छंटनी की

सीएनईबी न्यूज चैनल से खबर है कि यहां करीब दर्जन भर से ज्यादा लोगों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. सूत्रों के मुताबिक सीएनईबी चैनल के मालिक और वर्तमान चैनल हेड अमनदीप सरान ने छंटनी की लिस्ट जो तैयार कराई, उसे एचआर विभाग ने इंप्लीमेंट करना शुरू कर दिया है. करीब 16 लोगों को बता दिया गया है कि उनकी सेवा इस माह के आखिर तक ही है, वे चाहें तो आफिस आ सकते हैं या चाहें तो घर रह सकते हैं, उन्हें 30 सितंबर तक की सेलरी दे दी जाएगी.

सहारा को बैंकिंग लाइसेंस मिल पाना नामुमकिन!

अनिल रघुराज: रिजर्व बैंक ‘घुसपैठ’ रोकने को मुस्तैद : सोमवार को रिजर्व बैंक ने नए बैंकों को लाइसेंस देने के नियमों का खाका पेश किया। मंगलवार को सहारा इंडिया समूह की पैरा-बैंकिंग कंपनी सहारा इंडिया फाइनेंशियल कॉरपोरेशन लिमिटेड ने घोषणा कर दी कि उसके पास जून 2011 तक जमाकर्ताओं के कुल 73,000 करोड़ रुपए जमा है, जिसे वह इसी साल दिसंबर वापस कर देगी।

मुंबई से चप्पल मंगाने के लिए मायावती ने भेजा खाली जहाज

विकीलीक्स के एक ताजे खुलासे के बाद यूपी की राजनीति के गर्माने के आसार हैं. खुद को दलितों की मसीहा बताने वाली मुख्यमंत्री मायावती ने अपने लिए एक जोड़ी चप्पल मुंबई से मंगाने के वास्ते एक निजी जेट विमान भेजा था. भारत में अमेरिकी दूतावस द्वारा वाशिंगटन को भेजे गए कई केबल में मायावती का खूब जिक्र है.

शराबी पत्रकारों के चलते अन्ना के गाँव में नहीं मिली मीडियाकर्मियों को शरण

मुंबई. अन्ना के गाँव में उन्हें कवर करने पहुंची मीडिया को इस बार कुछ खास मजा नहीं आ रहा है. हजारे के दिल्ली अनशन के दौरान उनके गाँव में मीडिया कर्मियों की जो खातिरदारी हुई थी, उसका उन लोगों ने खूब दुरुपयोग किया था. गांववाले मीडिया के लोगों की वह बदतमीजी भूल नहीं पाए हैं. इन मीडियावालों ने हजारे के गांववालों की मेहमानवाजी के दौरान जमकर उसी गाँव में शराब पी, सिगरेट के धुंए उड़ाये.

अन्ना आंदोलन और कामरेडों की दुविधा-सुविधा

अन्ना आंदोलन के भूत ने सत्ता में बैठे लोगों को सताया हो या नहीं, वामपंथ के एक हिस्से को वह खूब सता रहा है. वह वामपंथ के पूरे इतिहास व वर्तमान के गिरेबान में झांककर बोल रहा है कि जैसा अन्ना ने किया वैसा आज तक तुम न कर सके. कि तुम अपनी कमियों से चिपके रहे और देश की जनता की नब्ज को टटोल सकने में आज अक्षम बने रहे. कि यह तुम्हारी ही कमियां हैं जिनके चलते शासक वर्ग और मजबूत होता जा रहा है…

एक दूसरे पर कीचड़ उछालने वाले लखनवी पत्रकारों से सफाई मांगने का फैसला

: पत्रकारों की ईमेलबाजी का मामला गरमाया : लखनऊ : करप्शन को लेकर चली चली जूतमपैजार और ईमेल बाजी को लेकर खफा पत्रकारों ने तय किया है मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के सदस्यों की एक आम सभा बुलाकर एक दूसरे पर कीचड़ उछालने वाले बड़े पत्रकारों से सफाई मांगी जाए। कल राजधानी लखनऊ के जीपीओ स्थित प्रेस रूम में 50 के लगभग पत्रकार जुटे। इनकी जुटान किसी दूसरे मामले को लेकर थी। 

मसूद भाई ही देखेंगे लखनऊ के जीपीओ प्रेस रूम का कामकाज

: कपिल सिब्बल के सामने जाएगा लखनऊ के जीपीओ प्रेस रूम का मामला : लखनऊ : लखनऊ के जीपीओ स्थित प्रेस रूम पर बीएसएनएल के कब्जे के बाद उसके फिर से पत्रकारों के पास वापस आने के बाद अब एक बार फिर से तय किया गया है कि यहां का कामकाज वरिष्ठ पत्रकार मसूद भाई ही देखेंगे। कल जीपीओ प्रेस रूम में हुयी बैठक में मौजूद सभी पत्रकारों ने एक मत होकर यह फैसला लिया।

मेरठ में थमने लगा जनवाणी अखबार का तूफान

: कास्ट कटिंग का काम शुरू : कई सप्लीमेंट बंद : देहात एडिशन खत्म : दाम बढ़ाने से पाठक नाराज : कई लोगों की जा सकती है नौकरी : मेरठ से सूचना है कि हाल में ही लांच हुए गाडविन ग्रुप के हिंदी दैनिक जनवाणी के प्रबंधन ने खर्चे घटाने का काम शुरू कर दिया है. इस क्रम में सबसे पहले अखबार के दो सप्लीमेंट बंद कर दिए गए. सिटी वाणी और आंगन वाणी नाम के दो सप्लीमेंट बंद कर इसे मुख्य अखबार में ही एक पेज में समाहित कर दिया गया है.

वह गर्लफ्रेंड के साथ नाचने लगा तो पत्नी ने चप्पलों की बौछार कर दी

विजेंदर त्यागी: पीसीआई और मेरी यादें – पार्ट तीन : प्रेस क्लब में एक की हत्या हो गई, हत्यारे छूट गए क्योंकि सबने कहा- हत्या होते मैंने नहीं देखा: विजय पाहुजा प्रेस क्लब से मुर्गा-शराब उठाकर उस अड्डे पर ले जाते थे : दक्षिण एशिया के पत्रकारों का संघ बनाकर विनोद शर्मा दूसरा खेल खेल रहे थे : चेतन चड्ढा नामक पत्रकार शहर के जुआरियों का खास आदमी था :

एक रात क्लब सदस्यों ने हल्ला मचाया- शराब में मिट्टी का तेल मिला है

विजेंदर त्यागी: पीसीआई और मेरी यादें – पार्ट दो : 1980 में इंदिरा गांधी दुबारा प्रधानमंत्री बनीं. उसी साल अगस्त में मुरादाबाद में दंगा हो गया. मैंने उस दंगे की तस्वीरें खींची थीं. उनमें से एक तस्‍वीर दुनिया के कई अखबारों में छपी थी. इस तस्वीर में वह घटना थी, जिसमें चार-पांच सूअर ईदगाह के पास एक आदमी की लाश को खाते दिख रहे थे.

इन्हें प्रेस क्लब आफ इंडिया में घुसते हुए डर लगता है

[caption id="attachment_20744" align="alignleft" width="151"]विजेंदर त्यागीविजेंदर त्यागी[/caption]: पीसीआई और मेरी यादें – पार्ट एक : बात 1978 की है. वीएम सलूजा “पाना इंडिया” नाम की एक फोटो एजेंसी चलाते थे. मैं न्यूज़ की तस्वीरें लाकर उनको देता था. एक दिन उन्होंने मुझसे कहा कि 11:30 बजे प्रेस क्लब आ कर मिल लो, कोई ज़रूरी काम है. मैं निर्धारित समय पर प्रेस क्लब पहुंच गया, लेकिन क्लब के अंदर जाने की हिम्मत नहीं बटोर सका.

‘आंखों देखी’ का पत्रकार निकला जिस्म का सौदागर

[caption id="attachment_21074" align="alignleft" width="142"]'आंखों देखी' का पत्रकार शानू‘आंखों देखी’ का पत्रकार शानू[/caption]: जिस्म के सौदागरों को पत्रकार बना दे रहे हैं न्यूज चैनल और अखबार वाले : उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में अपने आप को बड़ी महिला पत्रकार नलिनी सिंह का बेहद करीबी और हरदोई में खुद को ‘आँखों देखी’ का पत्रकार बताने वाले शाहनवाज़ हुसैन उर्फ़ शानू को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

ईटीवी में मनीष, विशाल एवं राजेश की जिम्‍मेदारियां बदली

ईटीवी में कुछ लोगों की जिम्मेवारियों में फेरबदल की गई है. ईटीवी राजस्थान के आउटपुट हेड मनीष उपाध्याय को प्रोन्नति देकर भोपाल ब्यूरो का प्रभारी बनाया गया है जबकि राजस्थान डेस्क पर काम कर रहे वरिष्ठ विशाल सेन को आउटपुट हेड की जिम्मेवारी सौंपी गई है। इसके अलावा ईटीवी के चार हिंदी चैनलों के समन्वय …

दैनिक जागरण ने प्रभात खबर को दिया झटका, यूनिट हेड एसके चौबे को तोड़ा

बिहार में दैनिक जागरण तो लगता है कि प्रभात खबर के पीछे पड़ गया है. दैनिक जागरण प्रबंधन को लगता है कि वह प्रभात खबर के आदमियों को तोड़ करके प्रभात खबर को कमजोर कर देगा लेकिन इतिहास बताता है कि व्यक्तियों के जाने से प्रभात खबर कमजोर कभी नहीं हुआ, बल्कि और आगे बढ़ा है. दरअसल, प्रभात खबर को हमेशा आगे बढ़ाया है प्रबंधन की जनोन्मुख नीतियों ने.

फेसबुक के जरिए हुई थी शेहला मसूद और तरुण विजय की दोस्ती!

शेहला मसूद और तरुण विजयपत्रकार और सांसद तरुण विजय बुरी तरह घिर गए हैं. भोपाल की आरटीआई कार्यकर्ता शेहला मसूद हत्याकांड में जबसे उनका नाम आया है, तबसे उनके बारे में नित नई जानकारियां लीक की जा रही हैं या पता चल रही हैं. ताजी जानकारी ये है कि तरुण विजय और शेहला मसूद में दोस्ती फेसबुक के जरिए हुई थी.

बहन ने पूछा- शेहला के इतने अच्छे दोस्त थे तरुण तो अब तक दुख जताने क्‍यों नहीं आये?

: शेहला केस में तरुण विजय का नाम आने पर संघी दबाव में आ गए सीएम- कांग्रेस का आरोप : तरुण विजय ने शेहला मसदू से दोस्ताना संबंध स्‍वीकारे : भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया का आरोप है कि शेहला मसूद मर्डर मामले में सांसद तरुण विजय का नाम आने पर आरएसएस मामले को दबाना चाहती है.

सांसद और पत्रकार तरुण विजय : हिंदू राष्ट्रवादी का ये इश्क महंगा पड़ा

अपनों पे सितम, गैरों पे रहम। एक मुस्लिम महिला के प्रेमपाश के कैदी हिंदू राष्ट्रवाद के प्रवक्ता श्रीमान तरुण विजय का कच्चा चिट्ठा आखिरकार जनता के सामने आ ही गया। दिल्ली से लेकर भोपाल और यूरोप तक जिस शेहला मसूद के साथ रंगरेलियां मनाई गईं, वो शेहला मसूद किसके हाथों कत्ल हुई, ये सवाल तो बाद का है।

आरटीआई इस पर लगनी चाहिए की न्यूज24 की टीआरपी बढ़ी तो कैसे बढ़ी!

: राजीव शुक्ला और दीपक चौरसिया में नोंकझोंक : नीचे एक वीडियो है. स्टार न्यूज पर प्रसारित एक प्रोग्राम की. दीपक चौरसिया इंटरव्यू कर रहे हैं राजीव शुक्ला का. राजीव शुक्ला जो बीसीसीआई के उपाध्यक्ष हैं और केंद्रीय मंत्री भी हैं. बीसीसीआई को आरटीआई के दायरे में लाए जाने के मुद्दे पर राजीव-दीपक के बीच बातचीत चल रही थी. लेकिन जब राजीव शुक्ला बातचीत को बुद्धि-विवेक और टीआरपी तक ले गए तो दीपक ने भी करारा जवाब देते हुए सरकार के बुद्धि विवेक और न्यूज24 की टीआरपी पर सवाल खड़ा कर दिया.

अन्ना की जीत की खुशी में ये कैसा डांस!

बिहार के कटिहार जिले में अन्ना की जीत की खुशी में ”जश्न -ए-आज़ादी” नामक एक प्रोग्राम रखा गया. कटिहार के राजेंद्र स्टेडियम में आयोजित इस जीत उत्सव में जिला प्रशासन के अफसरों की मौजूदगी में कुछ ऐसा हो गया कि लोगबाग सोचने को मजबूर हो गए. आखिर ये कैसा जश्न-ए-आज़ादी है. मंच पर तो अन्ना के फोटो, बैनर और राष्ट्रीय ध्वज आदि थे. पर जब प्रोग्राम आगे बढ़ा तो कोलकाता से आई एक महिला कलाकार कम कपड़ों में उत्तेजक फिल्मी गानों पर उत्तेजक नृत्य करने लगी.

अफसर की पत्नी और पत्रकार की बीवी के बीच हुई गालीवार्ता सुनें

कुमार सौवीर: एक-दूसरे को सरेआम मां-बहन से तौल डाला, झोंटा-नुचव्‍वल की नौबत : सरकारी कालोनी में मर्दाना गालियों से लैस भिड़ीं दो आधुनिकायें : लखनऊ : यूपी के बदलते माहौल का अंदाजा लगाना हो तो यह टेप सुन लीजिए। यहां राजनीतिक तौर पर तो हालात सड़कछाप हो ही चुके हैं, प्रबुद्ध और जिम्‍मेदार माने जाने वाले वर्ग भी अब सड़कछाप होते जा रहे हैं।

दस दिनी विपश्यना ध्यान शिविर से लौटे अनिल यादव की रिपोर्ट

लखनऊ के जाने-माने और कलम के धनी पत्रकार अनिल यादव दस दिन की विपश्यना ध्यान पद्धति की कक्षा से वापस लौटे हैं. उन्होंने अपने ब्लाग पर अपने अनुभव की पहली किश्त प्रकाशित की है. शिविर में जाने के दौरान उन्होंने एक छोटी सी सूचनात्मक पोस्ट भी डाली थी. इन दोनों पोस्टों को उनके ब्लाग से साभार लेकर यहां प्रकाशित कर रहे हैं. पहले वह सूचना जो उन्होंने ध्यान शिविर में जाने के दौरान दी थी-

लखनऊ के पत्रकारों के 22 मेधावी बच्चे सम्मानित

लखनऊ के महापौर डा. दिनेश शर्मा ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश प्रेस क्लब में पत्रकारों के 22 मेधावी बच्चों को सम्मानित किया. सम्मान समारोह में वर्ष 2011 की हाईस्कूल व इण्टरमीडिएट के सीबीएसई, आईसीएसई व यूपी बोर्ड की परीक्षा में उच्च अंक प्राप्त किए हैं. सम्मानित बच्चों में आठ लड़कियां व 14 लड़के शामिल हैं. महापौर ने इन बच्चों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की और प्रेस क्लब को इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करने की बधाई दी.

मीडियावालों! सावधान!! आ रही है मंदी, नौकरी और पैसा बचाइए

वर्ष 2008 वाली मंदी सभी को याद होगी. उस दुखद दौर ने भारतीय मीडिया सेक्टर के हजारों लोगों को सड़क पर ला दिया. ज्यादातर मीडिया हाउसों ने पागलों की तरह अपने यहां से इंप्लाइज निकाले और नए प्रोजेक्ट्स को पोस्टपोन या कैंसिल कर दिया. वही दौर फिर दुहराने के आसार हैं. इस बारे में विभिन्न मीडिया माध्यमों, समाचार एजेंसियों, न्यूज चैनलों ने खबरों का प्रसारण शुरू कर दिया है. नीचे हम तीन-चार खबरें दे रहे हैं, जिसके आधार पर आप मंदी की आहट को भांप सकते हैं.

दलित हैं, इसलिए आराम से बांध दिए गए सभासद पति मुराहू राम, देखें ये तस्वीरें

इसे अन्नागिरी का असर कह सकते हैं. लोगबाग अपने हक के लिए अपने नेताओं, जनप्रतिनिधियों को घेरने-पकड़ने-बंधक बनाने लगे हैं और यह सब करके अपनी मांग मनवाने को तत्पर दिख रहे हैं. खबर पूर्वी उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले से है. यहां के एक सभासद पति को लोगों ने बड़े प्यार से बंधक बना लिया. और वे खुशी खुशी बंधक बन भी गए. सभासद पति का नाम मुराहू राम है और वे दलित हैं.

‘जजों को मैनेज’ करने संबंधी शांति भूषण उवाच वाली सीडी असली

: दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में पेश की जांच रिपोर्ट : टीम अन्ना के स्तंभ शांति भूषण और प्रशांत भूषण फिर घिर गए सवालों के घेरे में : सीएफएसएल और सीईआरटी को जांच के लिए भेजी गई शांति भूषण वाली सीडी को इन दोनों लैब ने असली बताया है. दिल्ली पुलिस ने इसके बाद जांच रिपोर्ट तीस हजारी कोर्ट में पेश कर दिया है. कुल तीन लैब में दिल्ली पुलिस ने जांच कराई थी जिसमें से दो ने सीडी को असली करार दिया.

क्या वाकई महुआ प्रबंधन अपने स्ट्रिंगरों के साथ बंधुआ मजदूर सरीखा व्यवहार करता है?

नमस्कार, मुझे कुछ कहना है. हम लोग बिहार से महुआ न्यूज़ के लिए काम करते है. हम लोगों का वेतन पिछले छह माह से बंद है. जब कभी भी अपने एकाउंट हेड मनोज से वेतन की बात करते हैं तो यह कह कर टाल देता है कि एक सप्ताह में पहुँच जायेगा. जब 15 दिनों के बाद पूछता हूँ तो कहता है कि अगले सप्ताह में मिल जायेगा या तो फिर कहता है कि महुआ के मालिक पी.के. तिवारी की बहू चेक पर साइन करेगी तो चेक दो-चार दिन में आपके हाथ में रहेगा.

उगाही को प्रमोट करता है चैनल प्रबंधन, कई कर्मियों को पुलिस ने पकड़ा

एक न्यूज चैनल है. कुछ साल पहले लांच हुआ. कई तरह के आरोप इस चैनल पर लगते रहे हैं. ब्लैकमनी और हवाला के भी आरोप चैनल पर लगे. इसी चैनल के बारे में पता चला है कि यहां ब्लैकमेलिंग को बिजनेस माडल बना लिया गया है. रिपोर्टरों को इस काम में लगा दिया गया है कि वे पैसे लाएं और अपनी तनख्वाह ले जाएं.  लेकिन अचानक ऐसा हुआ कि कुछ ही दिनों में कई लोग चैनल छोड़ चुके हैं.

Anna Hazare’s Fast Hogs Prime Time News: Report

Anna Hazare’s movement against corruption received blanket coverage on the prime time of television news channels, according to a study by CMS Media Lab. To understand the coverage of Anna’s movement on television news channels, CMS Media Lab tracked and analyzed the prime time content (7PM to 11PM) of leading two Hindi (Star News & Aaj Tak) and two English (NDTV24x7 & CNN IBN) news channels from 16th to 28th August 2011.

राष्ट्रीय सहारा, लखनऊ में दयाशंकर राय डिमोट, मनोज तोमर नए आरई

सहारा समूह की रीति-नीति को सिर्फ भगवान समझ सकता है या फिर सहाराश्री. दूसरा कोई नहीं जानता. यहां कब किसका क्या कैसे कब तक कहां किधर हो जाए, ये कुछ नहीं कहा जा सकता. उपेंद्र राय जब सहारा मीडिया के हेड बनाकर आए तो पूरे घर को बदल डालूंगा वाले अंदाज में जमकर फेरबदल किया. हर कोने में साफ-सफाई शुरू की. अब जब उनके दिन पूरे हो गए और स्वतंत्र मिश्रा की ताजपोशी कर दी गई तो स्वतंत्र मिश्रा भला अपना पावर दिखाने से कहां चूकेंगे.

महिला पत्रकारों को ब्रा पहनकर पीएम से मिलना जाना मना है!

: इजराइल की घटना : सेक्युरिटी चेक के लिए प्रावधान : समाचार एजेंसी एएफपी द्वारा जारी खबर यूं है– Israel PM guards tell reporters to remove bras : FOREIGN journalists today spoke of their distress after being asked to remove their bras for a security check before being allowed into the offices of Israel’s prime minister.

सच में गद्दारी की स्वामी अग्निवेश ने, बातचीत का वीडियो टेप भी जारी

टीम अन्ना के स्तंभ कहे जाने वाले स्वामी अग्निवेश बुरी तरह फंस गए हैं. उन्होंने फोन पर किपल सिब्बल से जो बातचीत की, वह बातचीत पब्लिक में आ चुकी है. इस बातचीत का आडियो टेप जारी किए जाने के बाद अब वीडियो टेप भी उपलब्ध हो गया है. कपिल से बातचीत में अग्निवेश ने अन्ना और उनकी टीम के लोगों को जमकर कोसा है और सरकार को उकसाया है कि वह इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करे.

रामलीला मैदान में टोटल टीवी के कैमरामैन के साथ पुलिस ने की मारपीट

अन्ना हजारे के अनशन स्थल रामलीला मैदान पर शनिवार को एक कैमरामैन से कथित तौर पर हुई मारपीट के बाद पुलिस और मीडिया में तकरार हो गई। मारपीट की घटना टोटल टीवी के संदीप शर्मा नामक कैमरामैन के साथ हुई। शर्मा के मुताबिक जब वह रामलीला मैदान के द्वार संख्या एक से प्रवेश कर रहे थे तो एक पुलिस अधिकारी से उनका विवाद हो गया।

‘हिंदुस्तान’ अखबार बोला- हम पेड न्यूज के खिलाफ हैं

संसद में कल शरद यादव, लालू यादव, गुरुदास दास गुप्ता आदि ने मीडिया वालों को कटघरे में खड़ा किया. अन्ना के आंदोलन को जबर्दस्त कवरेज दिए जाने से खफा कई नेताओं ने मीडिया में करप्शन का मुद्दा उठाते हुए मीडिया वालों और मीडिया हाउसों को घेरा. पेड न्यूज जैसी बीमारी को भी लोकपाल के दायरे में लाने की मांग की गई. इस प्रकरण को लगभग सभी अखबारों ने कम या ज्यादा प्रकाशित किया है.

लखनवी पत्रकार पुराण : पुरोधा चिखुरी जब चिचिया उठे

कुमार सौवीर: परदेसी से भिड़े चिखुरी ने भांजी आरोपों की गदा : चिखुरी के चीथड़े उधेड़े परदेसी ने : नारद ने झगड़े की दाल में मारा तड़का : मजबूर कनपुरिया रंगबाज ने मामला निपटाया :  लखनऊ : रणभेरी के लिए पिपिहरी की आवाज में शुरुआत चिखुरी ने की:- काहे, बेइमानों के खिलाफ लड़ रहे अण्‍णा के समर्थन में अगर पत्रकार भी आंदोलन करें, तो इसमें गलत क्‍या है।

लालू यादव राजनीति के राखी सावंत हैं!

भूमिका राय: संसद में कहिन- कोई 74 साल का आदमी 12 दि‍न का अनशन कर कैसे सकता है, और कैसे कह सकता है कि‍ अभी मैं 3 कि‍मी तक और दौड़ सकता हूं : बचपन में राजनेताओं के नाम और उनके काम में कोई खास दि‍लचस्‍पी नहीं थी, खेलने-कूदने से फुर्सत ही कब रहती थी कि‍ कुछ और याद रहे। लेकि‍न उस वक्‍त भी लालू प्रसाद यादव का नाम याद था। पता था कि‍ आप बि‍हार के ‘राजा’ हैं।

जय जनता, जय अन्ना : दस बज गए हैं लेकिन पार्टी अभी बाकी है

ये आधी जीत है. आधी लड़ाई बाकी है. अगर आप लोगों की अनुमति हो तो ये अनशन तोड़ दूं. हाथ उठाएं. अन्ना के इतना कहते ही रामलीला मैदान में खड़े हजारों हाथ उठ