मुख्यमंत्री मायावती के इशारे पर प्रो. राय के घर में घुसकर पुलिस ने की गुंडई!

”बसपा सरकार बेलगाम हो गई है. सरकार के इशारे पर काम करने वाली पुलिस निरंकुश हो चुकी है। अपराध और अपराधियों को संरक्षण देने वाली सरकार कानून व्यवस्था को कैसे संभाल सकती है जब वह स्वयं और पुलिस आपराधिक गतिविधियों में लिप्त है। निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे पत्रकारों पर भी बसपा सरकार ने हमला शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री मायावती बौखला गई हैं। डॉ. राय के आवास पर पुलिस की यह हरकत निंदनीय है।” – राजेंद्र चौधरी, प्रवक्ता, सपा, उत्तर प्रदेश

यूपी में फिर एक मां का अपमान, डा. निशीथ राय के घर पुलिसवालों का तांडव

पत्रकारों पर सरकारी और प्रशासनिक दमन का कहर यूपी में लगातार ऊफान पकड़ता जा रहा है। शलभमणि त्रिपाठी पर हुए पुलिसिया हमले पर छीछालेदर के बाद भी पुलिसवालों का रवैया मीडियावालों के प्रति लगातार हमलावर बना हुआ है। ताजा घटना इलाहाबाद में हुई जहां डेली न्‍यूज एक्‍सप्रेस के प्रबंध सम्‍पादक डॉ निशीथ राय के घर छह थानों की पुलिस ने दबिश डाली।

अनुकूलित मानसिकता के पत्रकार न थे आलोक

[caption id="attachment_20039" align="alignnone" width="505"]आलोक तोमर जी की तस्वीर पर फूल अर्पित करतीं उनकी पत्नी सुप्रिया रॉयआलोक तोमर जी की तस्वीर पर फूल अर्पित करतीं उनकी पत्नी सुप्रिया रॉय[/caption]

: इसीलिए उनकी कलम शीत-ताप नियंत्रित भाषा नहीं लिखती थी :

9 करोड़ होते तो नौकरी क्यों तलाशता : पंवार

माफिया भाई और नेताजी के नाम की धमकी देते थे : किसी बिल्डर शमशेर को नहीं जानता : पासवान से एक साल से मुलाकात नहीं : बिना आरएनआई नंबर वित्तपोषण संभव नहीं : लड़की वाली शिकायत मेरे टर्मिनेशन के दिन क्यों?  : डीएनए चेयरमैन ने मेरे बारे में जो लिखा है, उससे साबित हो रहा है कि उनकी बातें व आरोप कितने गलत हैं. वे बाहर से पैसा लाने के मुझ पर दबाव को खुद मान रहे हैं. मेरा सवाल यही है कि क्या खुद का एक पैसा लगाए बिना यूनिट खुल सकती है? ये करिश्मा हो सकता है?