इटावा में हिंदुस्तान से तलाक का दौर

: पूर्व जिला प्रतिनिधि के आश्‍वासन पर कई वर्ष से कर रहे थे काम : हिन्‍दुस्‍तान, इटावा में कई क्षेत्रीय प्रतिनिधियों ने काम करना बंद कर दिया है. इनका कहना है कि इन लोगों से किया गया वादा पूरा नहीं किया गया. इसमें से कुछ लोगों ने एजेंसी भी ले रखी थी. ज्‍यादातर का कहना है कि इनको हिन्‍दुस्‍तान, इटावा के पूर्व जिला प्रति‍निधि सुभाष त्रिपाठी ने प्रबंधन के आदेश पर नियुक्‍त कर रखा था. इनसे प्रत्‍येक माह 2500 रूपये देने का वादा भी किया गया था.

हिन्‍दुस्‍तान, इटावा में घमासान, संपादक-प्रबंधक की टीम पहुंची

हिन्‍दुस्‍तान के इटावा ब्‍यूरो में फिलहाल सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. यहां जारी घमासान का असर न्‍यूज और सर्कुलेशन दोनों पर पड़ रहा है. दो दिनों पूर्व हिन्‍दुस्‍तान, कानपुर के संपादक विशेश्‍वर कुमार और महाप्रबंधक नरेश पांडेय की टीम उठापटक शांत कराने तथा सर्कुलेशन को पटरी पर लाने के लिए इटावा पहुंची.

हिन्‍दुस्‍तान, इटावा से सुभाष गए, संतोष नए ब्‍यूरोचीफ

अमर उजाला, औरैया के ब्‍यूरोचीफ संतोष पाठक ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपनी नई पारी हिन्‍दुस्‍तान, इटावा के साथ ब्‍यूरोचीफ के रूप में शुरू की है. वे अगले दो-तीन दिनों में हिन्‍दुस्‍तान, इटावा की जिम्‍मेदारी संभाल लेंगे. संतोष का जाना अमर उजाला के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. संतोष की जगह अमर उजाला प्रबंधन ने अभी किसी को औरैया नहीं भेजा है. संतोष पिछले बारह वर्षों से अमर उजाला के साथ थे.