कोयलांचल के मिजाज को समझ पाने में फेल रहा दैनिक भास्कर धनबाद

17 अप्रैल से धनबाद कोयलांचल के बाजार में पूरे ताम-झाम के साथ दैनिक भास्कर उतरा और पूरी तरह से फ्लॉप हो गया. यह एकदम सही है. इसकी  एक बड़ी वजह यह है कि दैनिक भास्कर धनबाद कोयलांचल के मिजाज को समझ पाने में एकदम फेल रहा. न तो पहले दिन और न ही अंतिम दिन भास्कर की जो टीम बनी है, वह भी एकदम डी ग्रेड की है. हिंदुस्तान और प्रभात खबर से जो लोग भास्कर में गये, वे एक तरह से दोनों अखबारों में रिजेक्‍ट श्रेणी में थे.

एक संपादक का अलविदा पत्र

[caption id="attachment_17258" align="alignleft" width="127"]दीपक अंबष्ठदीपक अंबष्ठ[/caption]प्रभात खबर, धनबाद के संपादक दीपक अंबष्ठ ने प्रबंधन को पत्र भेजकर अखबार से मुक्ति की अपील की है. ऐसा उन्होंने स्वास्थ्य कारणों के चलते किया है. किडनी, डायबिटीज, सुगर की बीमारियों से पीड़ित दीपक अंबष्ठ की उम्र पचास के आसपास है. उन्होंने जीवन में शराब तो छोड़िए, चाय तक नहीं पी. सादा जीवन जीते रहे. सादा खाना खाते रहे.