मिस्टर प्राइममिनिस्टर, हम भी आपको ढोने को मजबूर हैं

लोकतांत्रिक सरकारों की अगुवाई करने वाले शक्तिशाली राष्ट्र भारत के प्रधानमंत्री के मजबूरी की दास्तान सुनने के बाद बस यही कहने को दिल करता है कि मिस्टर प्राइम मिनिस्टर हम भी आपको ढोने के लिए मजबूर हैं। जिस तरह से पूरे विश्व के सामने भारत के प्रधानमंत्री ने बड़ी बेशर्मी से स्वीकार किया कि वे देश में हो रहे घोटालों को रोकने का काम गठबंधन की मजबूरी के चलते नहीं कर पाए, तो उससे साफ हो जाता है कि देश के प्रति उनके मन में कोई भी निष्ठा और भावना नहीं है।

राकेश ने लोकदशा और विनीत ने देश लाइव ज्‍वाइन किया

महका भारत, जयपुर से राकेश शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे डिजायनर के पोस्‍ट पर कार्यरत थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी जयपुर से ही डिजायनर के रूप में लोकदशा से शुरू की है. राकेश ने अपने करियर की शुरुआत महका भारत से 2005 में की थी. इसके बाद वे डीएनए के साथ जुड़ गए. कुछ माह पूर्व वे फिर से महका भारत में लौट आए थे.