कौन बनेगा करोड़पति शुरू हो रहा है, तुम वहां ज्‍वाइन करो

सुनकर विश्वास नहीं होता कि आलोक तोमर जी अब हमारे बीच नहीं रहे। उनकी बीमारी के बारे में दो-तीन महीने पहले ही पता चला था, लेकिन दिल्ली में रहते हुए भी उनसे नहीं मिल पाया। इसका मुझे बेहद अफसोस है और अपनी असुरक्षा, भय और अनिश्चितता वाली नौकरी पर खीझ भी कि उनके लिए वक्त नहीं निकाल पाया।