‘स्वतंत्र चेतना’ अखबार की गुलाम चेतना

नूतन ठाकुर बेशक एक आईपीएस की पत्नी हैं, लेकिन वे स्वतंत्र व्यक्तित्व व सोच-समझ की स्वामिनी हैं, इसी कारण वे ज्यादा सक्रिय और संघर्षशील दिखाई पड़ती हैं. ऐसे में कई बार लोगों को भ्रम होता है कि उनकी सक्रियता के पीछे उनके आईपीएस पति हैं पर जिन लोगों ने उन्हें नजदीक से नहीं देखा उन्हें नहीं पता होगा कि नूतन ठाकुर बाकी आईपीएस पत्नियों की तरह सोने, गहने, कपड़े-लत्ते, गाड़ी, बंगले, नौकर-चाकरों के सलाम ठोंकने वाली सड़ियल दुनिया में जीने-मरने की बजाय समाज और सिस्टम के सुखों-दुखों के साथ जीना, संघर्ष करना, सुधार की संभावना तलाशना, न्याय और अधिकारों के लिए लड़ते रहना ज्यादा पसंद करती हैं.