पुलिस वालों पर हिंदी में दो वेबसाइटें

वेब पर हिंदी की दुनिया तेजी से बढ़ती जा रही है. भड़ास निकालने का दौर तेज हो रहा है. वेब के लोगों ने जनरलाइज न्यूज की बजाय अब स्पेशफिक न्यूज सेक्शन्स को पकड़ा है. मीडिया पर केंद्रित खबरों के कई पोर्टल लांच हो जाने के बाद अब पुलिस-प्रशासन पर केंद्रित पोर्टलों का दौर शुरू हुआ है. भड़ास4मीडिया की बेहद सफलता से प्रभावित होकर एनएनआई वाले उमेश कुमार ने भड़ास शब्द का इस्तेमाल करते हुए भड़ास4पुलिस डॉट कॉम नामक पोर्टल की शुरुआत की है.

‘पत्रकार’ के पीछे पड़ा ‘पत्रकार मुख्यमंत्री’

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री निशंक पत्रकार रहे हैं. उन्हें पत्रकारिता के दांवपेंच खूब पता हैं. पटाना-डराना-मनाना उन्हें अच्छी तरह आता है. इसीलिए उत्तराखंड में पत्रकारों के बीच उनकी जय-जय रहती है क्योंकि वे ज्यादातर को खुश रखते हैं. अमर उजाला, हिंदुस्तान, राष्ट्रीय सहारा, दैनिक जागरण में निशंक की जय-जय छपती रहती है.

आसिफ अंसारी ने एनएनआई न्यूज़ से किनारा किया

: शुरू की लाइव न्यूज : 3 सालों में अपनी टीम और अपनी मेहनत पर एनएनआई को एक मुकाम पर पहुंचाने के बाद उत्तर प्रदेश के इंचार्ज आसिफ अंसारी ने अपनी खुद की न्यूज एलर्ट सर्विस शुरू की है. इसमें उनके साथ काम कर रही उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की पूरी टीम साथ आ गई है. आसिफ का दावा है कि 9 लाख से अधिक लोग इस नई सेवा का फायदा ले रहे है.