वायस ऑफ़ नेशन का प्रसारण फिर ठप, लगा ताला

देहरादून से प्रसारित वायस आफ नेशन न्यूज चैनल का प्रसारण तीसरी बार बंद हो चुका है. बताया जा रहा है कि एनएसपीटीएल का बकाया न चुका पाने के बाद इस चैनल का लिंक काट दिया गया.  बिजली का बिल पांच लाख से ज्यादा बकाया होने पर बिजली काट दी गई. कर्मचारियों की छह महीनों की तनख्वाह नहीं दी गई है. कई कर्मचारियों के खिलाफ चोरी की झूठी रिपोर्ट लिखा दी गई. कई कर्मियों के साथ बदतमीजी की गई.

वायस ऑफ नेशन से रंधीर और तारिक का इस्‍तीफा

वायस ऑफ नेशन से दो लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया है. इस्‍तीफा देने वालों में रंधीर कुमार ओझा और तारिक अंसारी शामिल हैं. दोनों लोग इनपुट डेस्‍क की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. ये कहां जा रहे हैं इसका पता नहीं चल पाया है. बताया जा रहा है कि दोनों लोगों ने सेलरी नहीं मिलने की वजह से चैनल को बॉय किया है. इन दोनों के पूर्व पिछले कुछ समय में लगभग डेढ़ दर्जन लोगों ने चैनल छोड़ दिया है.

फिर प्रकट हुआ वीओएन

कई महीनों से बंद चल रहा उत्तारखंड का न्यूज चैनल वीओएन उर्फ वायस आफ नेशन फिर से लांच कर दिया गया है. वीओएन की तरफ से भेजी गई जानकारी के मुताबिक 13 सितंबर को वीओएन री-लांच हो गया. चैनल का लुक बदल दिया गया है. कई प्रोग्राम्स को भी बेहतर बनाने की कोशिश की गई है. वीओएन को सिर्फ उत्तराखंड की बजाय अब नेशनल न्यूज चैनल के रूप में पेश किया गया है.

वीओएन के 200 कर्मियों की सांस अटकी

देहरादून से संचालित रीजनल न्यूज चैनल वायस आफ नेशन उर्फ वीओएन में छोटे-बड़े पदों पर कार्यरत करीब 200 कर्मचारियों की सांस इन दिनों अटकी हुई है. वजह है चैनल का प्रसारण पिछले कुछ दिनों से ठप पड़ जाना. सूत्रों के मुताबिक चैनल हेड जे. थामस और उनके लोगों द्वारा बवाल करते हुए चैनल से अलग हो जाने के बाद चैनल कुछ दिनों तक ठीक चला पर अब वीओएन को बंद कराने का अभियान से छेड़ दिया गया है. जिन लोगों ने अभियान छेड़ा है वे सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से लेकर वीओएन को किराये पर चलाने वाले जोश टीवी तक एप्रोच कर रहे हैं.