क्‍या कांग्रेस के एजेंट हैं जस्टिस काटजू?

नई दिल्‍ली : जस्टिस काटजू-बीजेपी विवाद में कांग्रेस खुलकर काटजू के साथ खड़ी हो गई है. प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष जस्टिस मारकण्डेय काटजू ने अपने एक लेख में गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना हिटलर से की थी. इसके बाद से काटजू बीजेपी नेताओं के निशाने पर हैं. कांग्रेस ने कहा है कि दंगों को लेकर मोदी का विरोध हर वर्ग करता है तो क्या सभी कांग्रेस के एजेंट हैं? कांग्रेस प्रवक्‍ता अभिषेक मनु सिंघवी के मुताबिक, 'नरेंद्र मोदी की तो कई लोगों ने आलोचना की है तो क्या वो सभी कांग्रेसी हैं. क्‍या वे सभी कांग्रेस के एजेंट हैं?'

उधर, कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने अरुण जेटली पर निशाना साधने के लिए उनके गुजरात से राज्यसभा सांसद होने का मुद्दा उठाया इस तर्क के साथ कि वो मोदी का बचाव करके उनका एहसान चुका रहे हैं. गौरतलब है कि काटजू ने 15 फरवरी को 'द हिंदू अखबार' में लिखे अपने लेख में मोदी पर निशाना साधते हुए लोगों को जर्मनी के इतिहास से सीख लेने की सलाह दी थी.

काटजू के मुताबिक, 'जो लोग ये कहते हैं कि 2002 में गोधरा कांड की प्रतिक्रिया में मुस्लिमों का कत्ल हुआ उन्हें जर्मनी में नवंबर 1938 में हुए वाकये को याद रखना चाहिए. तब जर्मनी में सभी यहूदी लोगों पर हमला हुआ था. नाजी सरकार ने दावा किया था कि एक यहूदी युवक ने पेरिस में जर्मन राजनयिक की जो हत्या की थी उसी की प्रतिक्रिया में यहूदियों पर हमला हुआ है. लेकिन सच तो ये है कि नाजी सरकार ने साजिश के तहत लोगों की भावनाओं को भड़काया और यहूदियों पर हमले करवाए.'

काटजू के इसी लेख के बाद अरुण जेटली ने उनसे इस्तीफा मांगते हुए उनके बारे में लिखा, 'जस्टिस काटजू की अपील पूरी तरह से राजनीतिक है. वो किसी कांग्रेसी से ज्यादा कांग्रेसी दिख रहे हैं.'

वहीं, बीजेपी मांग कर रही है कि जस्टिस काटजू प्रेस काउंसिल के अध्यक्ष पद से इस्‍तीफा दें, लेकिन देश के मशहूर कानूनविद फली एस नरीमन ने इस विवाद के शुरू होने से पहले ही जस्टिस काटजू को भेजे ईमेल में उनकी तारीफ करते हुए लिखा था, 'मैं आपको फोन पर पहले ही बता चुका हूं कि 'द हिंदू' में छपे आपके लेख से हम कितने खुश हैं. मैं एक बार फिर से कहना चाहता हूं कि ये एक शानदार लेख है. ऐसा लेख वही शख्स लिख सकता है, जो मानवाधिकारों के समर्थन का सिर्फ दिखावा नहीं करता, बल्कि अपने जीवन के हर क्षण में उसे जीता है'. (एबीपी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *