जागरण भूल गया पत्रकारिता और कानून : बलात्‍कार पीडिता का नाम व पता तक छाप डाला

अब तो सही में लग रहा है कि जागरण समूह अपने पतनकाल की तरफ चल पड़ा है। नंबर एक होने का दावा करने वाला जागरण अपनी गलतियों के लिए तो जाना ही जाता है पर ताजा मामले में जागरण ने एसी घटिया हरकत की है, जिसे भूल तो कतई नहीं कहा जा सकता। जागरण के पंजाब संस्करण में होशियारपुर से एक ऐसी घिनौनी हरकत की गई है जो न तो कानून की नजर में सही है और न ही किसी भी तरह से पत्रकारिता के उसूलों के अनुरूप है।

अखबार में बलात्कार की पीड़िता से पुलिस के बदसलूकी की खबर छपी है। यही खबर अखबार के इंटरनेट संस्करण पर भी है। खबर में लिखने वाले ने न सिर्फ बलात्कार पीड़िता का नाम बल्कि उसके पिता का नाम और घर का पता गांव तक लिख डाला है। यही नहीं पिता की मौत के बाद से वह अपने ननिहाल में कहां रह रही है उस गांव तक का भी पता अखबार ने बड़े चाव से छापा है। माना कि खबर भेजने वाला रिपोर्टर भांग खाए बैठा होगा लेकिन ब्यूरो में इस खबर को एडिट करने वाले जुगाड़ू क्या भाड़ झोंक रहे थे कि पीड़िता को इस तरह सरे बाजार शर्मसार करने में उन्हें रत्ती भर भी गुरेज नहीं हुआ।

इसके बाद खबर जब डेस्क पर पहुंची तो डेस्क पर बैठे जुगाड़ू क्या नींद में खबरें देखते हैं कि किसी को यह दिखा नहीं। उस पर से दूसरों को बिना जान पहचान के ही 'अच्छे आदमी नहीं हैं' बताने वाला खुद टेस्ट फेल संपादक क्या कर रहा था जिसके नाक के नीचे से यह सब गुजर गया। इंटरनेट संस्करण पर भी जागरण के बेवकूफाना हरकत को देखा जा सकता है। अब तो सच में लगने लगा है कि समूह जितनी तेजी से ऊचाई की तरफ चढ़ा था अब उतनी ही तेजी के साथ नीचे आने को भी बेकरार है। आप भी पढिए इस खबर को।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *