”जिस तरह छीछालेदर लाइव हो रही है उससे लगता है बाकी चैनल दूध के धुले हैं”

 

कल रात जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी और सीनियर समीर आहलूवालिया को गिरफ्तार किया गया.. आज जी न्यूज़ सफाई दे रहा है … और जिस तरीके से छीछालेदर लाइव हो रही है उससे लगता है बाकी सभी चैनल दूध के धुले हैं.. आजतक, एनडीटीवी, एबीपी न्यूज़ २४, आईबीएऩ ७. …और न जाने कौन कौन .. जैसे इस खबर को दिखा रहे हैं लगता है सबने जो इतने पैसे कमाए हैं .. साफ-सुथरे तरीके से ही कमाए हैं। 
 
सुना है- प्रणव रॉय पर दूरदर्शन को चूना लगाने का आरोप है, अरुण पुरी ने पैसे के हेरफेर में अपनी बहन को कंपनी से बाहर किया… आईबीएऩ ने वोट के बदले पैसे वाला स्टिंग करने के बाद भी प्रसारित क्यों नहीं किया था … न्यूज़ २४ का तो पूछना ही नहीं … देश की दो सबसे बड़ी पार्टियों के नेता मिलकर इसे चलाते हैं इसका चरित्र क्या हो सकता है … सब मिलकर जी न्यूज़ को कोस रहे हैं … अरे ठीक है भाई चावल के व्यापार से इतना बड़ा कारोबार इन्होंने भी खड़ा किया है … सब एक जैसे हैं । सच दिखाने की सच बोलने की किसी में ताकत नहीं है .. नीरा राडिया मामला में सब साफ हो चुका है। और हां जो लोग भी चाहे वो मीडिया के किसी धड़े के हैं उन्हें आरोप लगाने से पहले अपने गिरेबान में झांकना चाहिए।
 
Ashish Maharishi : सर आप किस साइड हैं। क्‍या आप जी न्‍यूज को सपोर्ट कर रहे हैं
 
Prashant Pathak : मर्द मूंछों से नहीं अपने काम से कहलाता है बिना मूंछ के बहुत ऊंची पूंछ के जिंदल की कारोबारी उपलब्धि …….बेहद सस्ती दरों पर कोयला ब्लॉक लेकर करीब 55 हजार करोड़ रुपए कमाए और सौ करोड़ मांगने वाले संपादको को बिना लेनदेन के ही जेल पहुंचाया …….ऐसे नाजायज़ सम्पादक देश को नहीं चाहिए लेकिन ऐसे राजनीतिक धनपशु देश की जायज़ माँग है
 
Deepak Singh : I asked Rajdeep Sardesai, when is his turn to see the world from behind the bars.
 
Alok Kumar : लेकिन शुरुआत हुई है ये तो अच्छी बात है न..कल किसी और का कारनामा कोई और दिखाएगा..पहले ऐसा बिरले होता था..ये पत्रकारिता के लिहाज से अच्छी चीज है..अगर सब नंगे हैं तो ऐसा दिख जाए…ये अच्छा है
 
Prakash K Ray : Anuranjan sir, really nice comment….. kudos
 
Hasan Jawed : Bawal..himmat dikhaye h aap n
 
Anuranjan Jha : आलोक सब नंगे है और यह कहने की जरुरत नहीं है … तकलीफ उनसे है जो शराफत का चोला पहने हुए हैं और नंगई कर रहे हैं
 
Sunil Kumar : Sir, it like wo kahte hain na ki jinke ghar shishe ke hote hain wo dusaron ke ghar me pathar nahi feka karte. ZEE ne feka, ab bhog raha hai. The day journalism become business, the fate of media houses were slipped into wrong hands. No surprise at the recent case.
 
Kumar Prakash : Sir,kanun ne himat ka kam kiya…patrakaro ka jo charitra ban gaya tha logo ke bichh "dalal" ka oh badlega..or wayese patrakar v sambhal jaye jo sirf dalali karte hay..
 
Prakash K Ray : I still remember how a channel totally blacked out the Vadra expose by the Kejriwal Team. Ironically someone related to the channel has updated dozens of status on facebook since the last night expressing his joy in utterly bad taste.
 
Minnat Rahmani : kuch jyada hi pareshan horahe he ZEE group wale. are bhai 24 ghante ki custody to facebook pe comment keliye bhi ki jati he, saikro log bewajah arrest hote he, five star hotel me meeting karne k kya jarurat thi editor sb ko, media pe lagam jaruri he, warna wo out of control hojaega, hamne dekha arop lagne pe media wale neta se fauran istifa mangte he lekin barkha dutta ko to aur increment dedi gayi, Anuranjan Jha ji sahi kaha ke sab nange he……
 
Kamalendra Jha : बिल्कुल सही कहा सर आपने ………..
 
Vijay Kumar Jha : नंगई करना ही है तो खुल कर हो तो ज्‍यादा अच्‍छा है। आवरण के साथ नंगई करेंगे तो कत्‍ल-ए-आम भी हो सकता है। यह भारत महान है।
 
Krishna Kumar Kanhaiya : मीडिया की परिभाषा, काम करने का तरीका और संचालन के लिए रकम… इसपर भारत के मंजे हुए और जनहितैषी पत्रकार राय दें…
 
Rakesh Narayan Dwivedi : inki giraftari to huyee par jindalon ka kya…
 
Raju Yadav : very good sir
 
SK Chaudhary Sonu : सर ये आपकी हिम्मत हैं, जो खुलकर इन सब लोगों के बारे मे बोला हैं,,, लेकिन चौधरी साहब के बचाव में कुछ लोग अपनी साख भी गिरा रहे हैं… वैसे अच्छा हैं शुरुआत तो हुई कम से कम।
 
Mahesh Jaiswal : सम्पादक की गिरफ्तारी के बाद एक ओर चैनल सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहा था और दूसरी ओर हर ब्रेक में कांग्रेस के विज्ञापन चल रहे थे!  ये शहर है ……. यहाँ पर सब ………….
 
Pankaj Jha : अभी जो गिरफ्त में आया है उसकी बात की जा रही है. जब दूसरा मामला सामने था तब उसकी बात हुई ही थी. हां ये ज़रूर है कि नीरा राडिया के टेपों के बाद भी किसी पत्रकार का न नपना दुखद था.
 
Alok Vani : सर बात तो सही है कि हमाम में सारे नंगे हैं लेकिन ये एक अच्छी शुरुआत है, कल जब कोई दूसरा संपादक/मालिक फंसेगा तो जी भी उन्हें नहीं छोड़ेगा और सब नंगो की असलियत सामने आ जायेगी
 
Manmohan Kiran Gupta : sahi hai HAMAM mein sabhi Nangey hai aur Nanga Nangey ko kya Nanga karega 🙂
 
क्षत्रिय आयुष आवारा : ab tathakathit "news" to dikhani h…aur fir apne pratispardhi ke khilaf kuch chal rha ho to us mauke ko y kaise chhod sakte h….
 
Vijay Raaj Singh : Agree 100 %
 
Vinay Dipu Dwivedi : bahut khub sir…sir aapne ek jhatke me hi wab saaf kar diya …
 
बी.पी. गौतम : इंडिया टीवी रह गया सर
 
वरिष्‍ठ पत्रकार अनुरंजन झा के फेसबुक वॉल से साभार. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *