दिग्विजय सिंह, रमण सिंह एवं अर्जुन मुंडा ने भी खबर रोकने का दबाव डाला : जी न्‍यूज

 

जी न्यूज के सीईओ आलोक अग्रवाल ने जी न्यूज को दोनों संपादकों की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए जल्द ही उनकी रिहाई की मांग की। उन्होंने कहा कि पहले संपादकों को पैसा देने की पेशकश की गई। उन्होंने पैसा नहीं लिया तो ग्रुप को पैसा देने की कोशिश की गई। दिग्विजयसिंह, रमन सिंह, अर्जुन मुंडा जैसे दिग्गज नेताओं के जरिए चैनल पर दबाव डाला गया। 
 
अग्रवाल ने कहा कि कोयला ब्लॉक आवंटन जरिए जिंदल ग्रुप को 45 हजार करोड़ का फायदा पहुंचाया गया। 155 ब्लॉक में से 22 ब्लॉक इस ग्रुप को दिए गए। जिंदल ग्रुप पर जी ने 238 स्टोरियां कर दिखाई है। कैग रिपोर्ट में भी जिंदल ग्रुप पर सवाल उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि जब हाईकोर्ट में इस मामले पर सुनवाई चल रही है, पुलिस पर राजनीतिक दबाव डालकर संपादकों को गिरफ्तार कराया गया है। जिंदल कंपनी के खिलाफ जांच अभी जारी है और इस मामले में संपादकों की गिरफ्तारी गैर कानूनी है। 
 
जी के वकील ने गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए कहा कि 2 अक्टूबर को एफआईआर दर्ज की गई और 27 नवंबर को गिरफ्तारी की गई। संपादक जब पूछताछ में सहयोग कर रहे थे तो उन्हें क्यों गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा कि एक सीडी को आधार बनाकर संपादकों की गिरफ्तारी की गई। सीडी में पांच छह घंटों की बातों को 15 मिनट में कैसे रिकॉर्ड किया गया है। गौरतलब है कि दोनों पत्रकारों को पुलिस ने कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल से कोयला घोटाले से जुड़ी रिपोर्ट प्रकाशित न करने के एवज में 100 करोड़ रुपए मांगने के आरोप में बुधवार को गिरफ्तार किया। (एजेंसी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *