पत्रकार को फर्जी फंसाए जाने के विरोध में मीडियाकर्मी सड़क पर उतरे

फतेहगढ़ साहिब में पुलिस की ओर से एक पत्रकार पर झूठा मामला दर्ज करने के खिलाफ मंगलवार को रोष प्रदर्शन किया गया। पत्रकारों ने पुलिस पर बदसलूकी करने का आरोप लगाते हुए सड़कों पर उतर नारेबाजी की। नाराज पत्रकारों ने एक रोष रैली निकाली। इस दौरान पुलिस प्रशासन का पुतला फूंका और एसपीडी गुरप्रीत सिंह को बदले जाने की मांग की। पत्रकारों ने चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक उन्हें न्‍याय नहीं मिलता तब तक पुलिस का विरोध जारी रहेगा।

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए पत्रकारों ने पुलिस की कार्यशैली पर कड़े सवाल उठाए तथा कहा कि आज पत्रकार भी फतेहगढ़ साहिब जिले में खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं। पुलिया रवैये की ताजा मिसाल देते हुए बताया कि मंडी गोबिंदगढ़ पुलिस ने पक्षपात का रवैया अपनाते हुए एक पत्रकार पर झूठा मामला दर्ज कर उसे फंसाने की साजिश रची है। सरहिंद के पत्रकार मनप्रीत सिंह के स्वर्गीय भाई जुगनू के कत्ल के अढ़ाई वर्ष बाद भी पुलिस कातिलों को गिरफ्तार करने में नाकाम रही है। वहीं कवरेज के लिए गए पत्रकार भिंदर मान के साथ सहायक थानेदार की ओर से की गई बदसलूकी पर भी पत्रकार भाईचारा के सदस्‍यों ने रोष जाहिर किया।

पत्रकारों के पद्रर्शन में शामिल शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की कार्यकारिणी के सदस्य करनैल सिंह पंजोली ने कहा कि लोगों की मुश्किलों को सरकार तक पहुंचाने तथा इंसाफ दिलाने में पत्रकार की भूमिका अहम होती है। अगर पत्रकार को भी रोष प्रदर्शन करना पड़े तो वह सरकार तथा प्रशासन के लिए निदंनीय है। उन्होंने पत्रकारों की मांग तथा पुलिस विभाग की ओर से पेश आ रही परेशानियों को सरकार के ध्यान में लाकर उसे हल करवाने का विश्वास दिलाया।

इस मौके एक मांग पत्र भी पंजाब सरकार तथा प्रशासनिक अधिकारियों के नाम तहसीलदार सुभाष भारद्वाज को सौंपा। इस अवसर पर रामशरण सूद, गुरबचन सिंह रुपाल, रणजोध सिंह ओजला, रणवीर कुमार जज्जी, भूषण सूद, हरप्रीत सिंह प्रिंस, एचएस गौतम, राजेश भाटिया, इकबाल दीप संधू, राजीव सूद, अरुण शर्मा, संजीव मुकार, रविन्द्र मोदगिल, बलविन्द्र मावी, राजकमल शर्मा के अलावा जिले के तमाम पत्रकार मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *