ब्रिटेन में हिंदी को बढ़ावा देने के लिए तीन प्रवासी भारतीय सम्मानित

लंदन। ब्रिटेन में हिंदी भाषा को बढ़ावा देने के लिए तीन अप्रवासी भारतीयों और नॉटिंघम की एक संस्था को भारतीय उच्चायोग ने सम्मानित किया है। विश्व हिंदी दिवस 2013 के अवसर पर मंगलवार को भारतीय उच्चायुक्त जैमिनी भगवती ने सम्मानित जनों को स्मृति चिन्ह, शॉल और प्रशस्ति पत्र भेंट किए।

हिंदी भाषा के विकास में सराहनीय योगदान देने वाले यॉर्क यूनिवर्सिटी के महेंद्र किशोर वर्मा, गीतांजलि मल्टीलिंगुवल लिट्रररी सर्किल बर्मिघम के अध्यक्ष डॉक्टर कृष्ण कुमार, विश्वविख्यात लेखिका व ब्लॉगर कविता वाचक्नवी और नॉटिंघम स्थित कवियों और लेखकों की वैश्विक संस्था काव्य रंग को इस मौके पर सम्मानित किया गया।

जॉन गिलक्रिस्ट यूके हिंदी शिक्षण सम्मान प्राप्त करने वाले महेंद्र ने कहा कि यह सम्मान पाकर वह काफी खुश हैं। वहीं आइआइटी मद्रास से स्नातक डॉक्टर कृष्ण ने संस्कृत, हिंदी और दूसरी क्षेत्रीय भाषाओं को बढ़ावा देने की बात कही। उन्हें डॉक्टर हरिवंश राय बच्चन यूके हिंदी साहित्य सम्मान से नवाजा गया है। पत्रकारिता के लिए आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी सम्मान पाने वाली वाचक्नवी ने इस मौके पर उच्चायोग को अपनी वेबसाइट द्विभाषी बनाने की सलाह दी।

काव्य रंग के अध्यक्ष जय वर्मा को हिंदी के प्रसार के लिए फ्रेडरिक पिनकॉट यूके सम्मान से नवाजा गया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में भी हिंदी को मान्यता देने की बात कही। इनके अलावा ऊषा वर्मा और कृष्ण कन्हैया को उनकी पुस्तकों सिम कार्ड तथा अन्य कहानियां और किताब जिंदगी की के लिए नकद पुरस्कार दिया गया। इस अवसर पर भगवती ने कहा कि ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों में भी हिंदी पढ़ाई जा रही है। यह काफी खुशी की बात है। इस मौके पर उप-उच्चायुक्त डॉक्टर विरेंद्र पॉल और उच्चायोग मंत्री एसएस सिद्धू भी मौजूद थे।(जागरण)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *